GLIBS
24-06-2021
सुरक्षा बल और आतंकियों के बीच मुठभेड़ में हिजबुल मुजाहिदीन का एक आतंकी ढेर

श्रीनगर/रायपुर। जम्मू कश्मीर के शोपियां जिले में बीते दिन सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में हिजबुल मुजाहिदीन का एक आतंकवादी मारा गया। 
दरअसल मारा गया आतंकी इलाके में लंबे समय से सक्रिय था। पुलिस ने बताया कि दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले के शिरमल क्षेत्र में आतंकवादियों की मौजूदगी की एक गुप्त सूचना पर सुरक्षा बलों ने घेराबंदी और तलाशी अभियान चलाया। उन्होंने बताया कि आतंकवादियों की मौजूदगी का पता चलने के बाद उन्हें आत्मसमर्पण के लिए एक मौका दिया गया। बावजूद इसके आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोलीबारी शुरू कर दी। इसके बाद जवाबी कार्रवाई में एक आतंकवादी मारा गया।

24-06-2021
महिला ने बाबा पर लगाया आरोप, कहा- तांत्रिक ने सपने में किया कई बार दुष्कर्म, मामला दर्ज

औरंगाबाद/रायपुर। जिले की एक महिला ने पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कर आरोप लगाया है कि एक तांत्रिक ने सपने में उसके साथ कई बार दुष्कर्म किया है। दरअसल कुडवा थाने के गांधी मैदान इलाके की रहने वाली महिला ने इस साल जनवरी में तांत्रिक प्रशांत चतुर्वेदी से संपर्क किया था, क्योंकि उसका बेटा गंभीर रूप से बीमार था। महिला ने तांत्रिक के कहने पर अपने बेटे के ठीक होने के लिए तंत्र-मंत्र का अनुष्ठान करवाया था, लेकिन उसके बेटे की 15 दिन बाद मौत हो गई। पूरे मामले में पुलिस ने बताया कि अपने बेटे की मौत के बाद महिला काली बाड़ी मंदिर गई, जहां चतुर्वेदी रहता है और उससे यह स्पष्ट करने के लिए कहा कि उसके बेटे की मौत कैसे हुई। महिला ने आरोप लगाया कि चतुर्वेदी ने उसके साथ दुष्कर्म करने का प्रयास किया, लेकिन उसके बेटे ने उसे बचाया। लेकिन उस समय महिला ने पुलिस में शिकायत नहीं की थी। उसने आरोप लगाया है कि चतुर्वेदी तब से उसके सपने में आ रहा है और बार-बार उसके साथ दुष्कर्म कर रहा है। हालांकि लिखित शिकायत के बाद पुलिस ने तांत्रिक को गिरफ्तार किया था। लेकिन सबूतों के आभाव में बांड पर उसे छोड़ दिया है।

24-06-2021
कबीरदास की जयंती आज, साधना के क्षेत्र में संत कबीर युग-युग के गुरु थे

रायपुर। कबीरदास की गुरुवार को जयंती है। कबीर साहब एवं संत कबीर जैसे रूपों में भी प्रसिद्ध है। ये मध्यकालीन भारत के स्वाधीनचेता महापुरुष थे और इनका परिचय, प्राय: इनके जीवनकाल से ही, इन्हें सफल साधक, भक्त कवि, मतप्रवर्तक अथवा समाज सुधारक मानकर दिया जाता रहा है तथा इनके नाम पर कबीरपंथ नामक संप्रदाय भी प्रचलित है। कबीरपंथी इन्हें एक अलौकिक अवतारी पुरुष मानते हैं और इनके संबंध में बहुत-सी चमत्कारपूर्ण कथाएँ भी सुनी जाती हैं। इनका कोई प्रामाणिक जीवनवृत्त आज तक नहीं मिल सका, जिस कारण इस विषय में निर्णय करते समय, अधिकतर जनश्रुतियों, सांप्रदायिक ग्रंथों और विविध उल्लेखों तथा इनकी अभी तक उपलब्ध कतिपय फुटकल रचनाओं के अंत:साध्य का ही सहारा लिया जाता रहा है। फलत: इस संबंध में तथा इनके मत के भी विषय में बहुत कुछ मतभेद पाया जाता है। संत कबीर दास हिंदी साहित्य के भक्ति काल के इकलौते ऐसे कवि हैं, जो आजीवन समाज और लोगों के बीच व्याप्त आडंबरों पर कुठाराघात करते रहे। वह कर्म प्रधान समाज के पैरोकार थे और इसकी झलक उनकी रचनाओं में साफ़ झलकती है। लोक कल्याण के लिए ही मानो उनका समस्त जीवन था। कबीर को वास्तव में एक सच्चे विश्व-प्रेमी का अनुभव था। कबीर की सबसे बड़ी विशेषता उनकी प्रतिभा में अबाध गति और अदम्य प्रखरता थी। समाज में कबीर को जागरण युग का अग्रदूत कहा जाता है। डॉ. हज़ारी प्रसाद द्विवेदी ने लिखा है कि साधना के क्षेत्र में वे युग-युग के गुरु थे, उन्होंने संत काव्य का पथ प्रदर्शन कर साहित्य क्षेत्र में नव निर्माण किया था।

24-06-2021
Breaking : ट्विटर इंडिया के हेड मनीष माहेश्वरी थाने में होंगे पेश

गाजियाबाद/रायपुर। बुजुर्ग की पिटाई मामले में तथ्यों को जांचे बगैर वीडियो वायरल करने के आरोप में गुरुवार को ट्विटर इंडिया के हेड मनीष माहेश्वरी पुलिस के सामने पेश होंगे। वे गाजियाबाद के लोनी थाने पहुंचेंगे।

24-06-2021
Breaking : 14 कश्मीरी नेताओं के साथ पीएम मोदी का संवाद आज

नई दिल्ली/रायपुर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को जम्मू-कश्मीर में चुनाव कराने को लेकर एक सर्वदलीय बैठक बुलाई है। इस सर्वदलीय बैठक में 8 राजनीतिक पार्टियों के 14 नेता हिस्सा लेंगे।

24-06-2021
भगवान विष्णु को समर्पित होती है ज्येष्ठ पूर्णिमा, शरद पूर्णिमा के बाद सर्वाधिक महत्वपूर्ण

रायपुर। शरद पूर्णिमा के बाद ज्‍येष्‍ठ मास की पूर्णिता बेहद खास होती है। इसको लेकर कई पौराणिक मान्‍यताएं चली आ रही है। आम बोलचाल की भाषा में इसे जेठ पूर्णिमा या जेठ पूर्णमासी भी कहा जाता है। वर्ष भर में पड़ने वाली 12 पूर्णिमा तिथि में से ज्येष्ठ पूर्णिमा का विशेष महत्व माना जाता है। पूर्णिमा तिथि को चंद्र पूजन के साथ भगवान विष्णु की पूजा के लिए भी बहुत खास माना जाता है। इसी के साथ गुरुवार का दिन भी भगवान विष्णु के समर्पित किया जाता है, इसलिए गुरुवार के दिन ज्येष्ठ पूर्णिमा पड़ने के कारण यह तिथि और भी ज्यादा खास मानी जा रही है। हिंदू पंचांग के अनुसार यह ज्येष्ठ मास की अंतिम तिथि होती है। इसके बाद आषाढ़ महीना लग जाता है। मान्यता है कि इस पूर्णिमा के दिन सत्यवान को वट वृक्ष के नीचे जीवनदान मिला था इसलिए इस दिन को वट पूर्णिमा भी कहा जाता है।

24-06-2021
10 हिंदू परिवारों ने कर्नलगंज में घर के बाहर लगाया पलायन की तख्ती, कमिश्नर ने कहा- घबराएं नहीं, हम देंगे सुरक्षा

कानपुर/रायपुर। कर्नलगंज में चार दिन पहले छेड़खानी के विरोध में दो समुदायों के बीच हुए जोरदार हंगामे के बाद अब इलाके में दहशत का माहौल है। दरअसल आरोप है कि यहां रह रहे 10 हिंदू परिवारों पर धर्मांतरण के लिए दबाव बनाया जा रहा है। अब हिंदू परिवारों ने कहा कि वे इलाके में स्थित अपने घरों को बेचकर पलायन करने की योजना बना रहे हैं। बता दें कि हिंदू परिवारों ने घरों पर बिकाऊ की तख्ती लटका दी है। मौके पर पहुंची पुलिस ने परिवार के लोगों को समझाया और सुरक्षा का भरोसा दिया। वहीं दूसरी तरफ अराजक तत्वों को हिदायत देकर उनके घरों के बाहर नोटिस चस्पा दिया गया है। कानपुर के पुलिस कमिश्नर असीम अरुण ने कहा है कि सभी को परिवारों को सुरक्षित रहने का पूरा अधिकार है। आसपास अलग समुदाय के रहने वाले लोगों से कोई फर्क नहीं पड़ना चाहिए। तनाव को देखते हुए इलाके में पुलिस-पीएसी के जवान तैनात कर दिए गए हैं।

Please Wait... News Loading
GLIBS Ads