GLIBS
27-07-2021
सहायक शिक्षक के निलंबित प्रकरण में विभागीय जांच के लिए नियुक्त किए गए अधिकारी

धमतरी। जिला शिक्षा अधिकारी डॉ.रजनी नेल्सन कुरूद विकासखण्ड के शासकीय प्राथमिक शाला भाठापारा बगदेही के सहायक शिक्षक एलबी लोकेश्वर प्रसाद ध्रुव को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया है। मिली जानकारी के मुताबिक विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी कुरूद ने शासकीय प्राथमिक शाला भाठापारा, बगदेही के सहायक शिक्षक एलबी लोकेश्वर प्रसाद ध्रुव के विरूद्ध अनाधिकृत अनुपस्थिति संबंधी अनुशासनात्मक कार्रवाई के लिए 12 जनवरी को प्रस्ताव जिला शिक्षा अधिकारी को प्रस्तुत किया था। इसके मद्देनजर जिला शिक्षा अधिकारी ने सहायक शिक्षक को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए सात दिनों के भीतर अपने कर्तव्य पर उपस्थित होने के लिए निर्देशित किया। इस संबंध में सहायक शिक्षक एलबी लोकेश्वर प्रसाद ध्रुव ने भविष्य में लापरवाही, अनाधिकृत अनुपस्थिति की पुनरावृत्ति नहीं करने, नियमित रूप से विद्यालय में उपस्थिति और शासन की ओर से दिए गए निर्देशों का पालन करने संबंधी शपथ पत्र प्रस्तुत किया गया।


इसके बावजूद लोकेश्वर प्रसाद ध्रुव के कार्य व्यवहार में सुधार नहीं होने के कारण अध्यक्ष, शाला प्रबंधन समिति, सरपंच ग्राम पंचायत बगदेही एवं अन्य ने 26 जुलाई को कार्यालय में उपस्थित होकर सहायक शिक्षक के विरूद्ध शिकायत दर्ज की। सहायक शिक्षक के विरूद्ध शिकायत में बताया गया कि वे पिछले चार-पांच साल से अनुपस्थित, शाला में शराब के नशे में पहुंचने, अनुपस्थित दिवस में भी उपस्थिति पंजी में हस्ताक्षर करने, शासकीय राशि का दुरूपयोग, पंजियों का संधारण नहीं करना, हलफनामा पंजी एवं दाखिल खारिज पंजी में भी त्रुटिपूर्वक जानकारी अंकित करने इत्यादि कार्य किया जाता रहा है।


शिकायत के आधार पर लोकेश्वर प्रसाद ध्रुव को छत्तीसगढ़ सिविल सेवा (आचरण) नियम 1965 की कंडिका (i,ii,iii ) में प्रावधानित नियमों के उल्लंघन की वजह से तत्काल प्रभाव से निलंबित किया है। निलंबन अवधि में सहायक शिक्षक एलबी का मुख्यालय शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय भखारा रहेगा तथा नियमानुसार जीवन भत्ता की पात्रता होगी। जिला शिक्षा अधिकारी ने इस प्रकरण में विभागीय जांच के लिए शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय झिरिया के प्राचार्य  पीके जोशी को जांच अधिकारी और प्रभारी विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी कुरूद सीके साहू को प्रस्तुतकर्ता अधिकारी नियुक्त किया है। जांच अधिकारी द्वय को 15 दिनों के भीतर जांच पूरी कर अभिमत सहित तथ्यात्मक प्रतिवेदन जिला शिक्षा अधिकारी को प्रस्तुत करने कहा है।

 

25-07-2021
शिक्षक देवनाथ साहू को श्रेष्ठ कार्य के लिए राज्यपाल सम्मान, गांव में हर्ष का माहौल

कुरूद। राज्य शासन की ओर से शिक्षक देवनाथ साहू को श्रेष्ठ कार्य के लिए  राज्यपाल सम्मान की घोषणा की गई है। इससे गांव में हर्ष का माहौल है। बता दें कि देवनाथ साहू नवीन प्राथमिक शाला चर्रा में शिक्षक के पद पर पदस्थ है। शिक्षक देवनाथ साहू को जिलाधीश धमतरी की ओर से पहले भी सम्मान प्राप्त हो चुका है। सम्मान मिलने पर शाला विकास समिति के अध्यक्ष देवानन्द साहू, पूर्व अध्यक्ष रामचन्द साहू, उपाध्यक्ष कन्हैया लाल साहू, रिखी राम साहू, तोरनलाल साहू, रामकुमार साहू, भानुप्रताप बैस, कांसीराम साहू, दाऊलाल साहू ,डॉक्टर कामता प्रसाद सिन्हा, कृष्णकुमार ठाकुर,गोपाल देवांगन, आर डी साहू, शिक्षक ,कुम्भकरण साहू शिक्षक, अर्जुन लाल साहू ,तेजराम सिन्हा, महेश कुमार साहू, द्विज राम सोनकर, शिक्षक ,बलराम साहू ,खूबलाल साहू ,दानेश्वर कुमार साहू ,जितेन्द्र कुमार साहू ,डिहू राम साहू ,भुवन लाल साहू ,मदन लाल पांडे , राकेश कुमार साहू ,बृजलाल नागरची ,आस्था मंच के सभी सदस्य ,ग्राम पंचायत के सरपंचों ने शुभकामनाएं दी है।

 

22-07-2021
जिले के 3 शिक्षकों को मिला शिक्षक सम्मान पुरस्कार

जांजगीर-चांपा। राज्य स्तरीय शिक्षक सम्मान समारोह गुरुवार को वर्चुअल माध्यम से किया गया। राज्यपाल अनुसुईया उइके एवं मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने उल्लेखनीय कार्य करने वाले शिक्षकों को सम्मानित किया। जांजगीर-चांपा कलेक्टर कार्यालय के एनआईसी कक्ष में शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय भड़ेसर के कृष्ण कुमार कश्यप, कोटमीसोनार अशासकीय स्कूल के प्राचार्य डॉ.प्रफुल्ल कुमार शर्मा और शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला जवाली के शिक्षक हेमनारायण पटेल को शिक्षक सम्मान प्रदान किया गया। उन्हें संयुक्त कलेक्टर केएस पैकरा ने शाल, श्रीफल और सम्मान पत्र प्रदान कर सम्मानित किया।

 

22-07-2021
शिक्षक ज्ञान देने के साथ विद्यार्थियों में अच्छे नागरिक के गुण भी विकसित करते हैं : अनुसुईया उइके 

रायपुर। शिक्षक, केवल विभिन्न विषयों का ज्ञान ही नहीं देते बल्कि एक अच्छे नागरिक बनने के गुण भी अपने विद्यार्थियों में विकसित करते हैं। शिक्षक विद्यार्थी के अंदर छुपी प्रतिभा की पहचान कर उन्हें निखारते हैैं और जीवन जीने का सही तरीका सिखाते हैं। चरित्र निर्माण करने के साथ ही नैतिकता का बीजारोपण करते हैं। यह बातें राज्यपाल अनुसुईया उइके ने राज्यस्तरीय शिक्षक सम्मान-2020 समारोह को संबोधित करते हुए कही। राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने उल्लेखनीय कार्य करने वाले शिक्षकों को सम्मानित किया। 

राज्यपाल ने सभी सम्मानित होने वाले शिक्षकों को बधाई एवं शुभकामनाएं दी। राज्यपाल ने कोरोना काल में दिवंगत शिक्षकों को श्रद्धांजलि भी अर्पित की। राज्यपाल ने कहा कि शिक्षक हमारे मार्गदर्शक और हमारे व्यक्तित्व के निर्माता होते हैं। वे जलते हुए दीपक की तरह स्वयं जलकर, हमारी जिंदगियों में उजाला भरते हैं। वे न केवल हमें ज्ञान की रोशनी देते हैं बल्कि सच्चाई के मार्ग पर चलने का हौसला भी देते हैं, क्योंकि शिक्षक अपना पूरा जीवन, इस दुनिया को एक बेहतर जगह बनाने के लिए समर्पित कर देते हैं। उन्होंने कहा कि जब-जब हम पर कोई भी विपदा आई है, शिक्षकों ने कभी हिम्मत नहीं हारी।  पिछले डेढ़ वर्ष से पूरा विश्व कोरोना से जूझ रहा हैं, परंतु शिक्षकों ने इस नए मोर्चे पर भी ऑनलाइन शिक्षण के जरिए पूरी काबिलियत और मेहनत के साथ शिक्षा के मुहिम को जारी रखा। चाहे मोहल्ला क्लासरूम हो या पढ़ई तुंहर द्वार,ऑनलाइन कक्षाओं के माध्यम से प्रदेश के शिक्षकों ने पूरे उत्साह और समर्पण के साथ शिक्षण की निरंतरता में किसी प्रकार की बाधा नहीं आने दी।

राज्यपाल ने नई शिक्षा नीति के संबंध में चर्चा की। उन्होंने कहा कि इसका उद्देश्य बच्चों का समग्र विकास करना और बच्चों को व्यावहारिक जानकारी और विभिन्न कौशल से युक्त करना है ताकि वे पढ़ाई खत्म करने के बाद आत्मनिर्भर बन सके। इस नीति में समावेशी शिक्षा पर भी जोर दिया गया है, जिसमें विशेषकर सामाजिक और आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। इसके अलावा पृथक से ह्यजेंडर इन्क्लूजन फंडह्ण भी बनाया जाएगा, जिससे बालिकाओं को भी निर्बाध रूप से शिक्षा मिलती रहे। 

राज्यपाल ने बदलते परिवेश में शिक्षकों की भूमिका को महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि उनके समक्ष अभी कई चुनौतियां है। प्राथमिक स्तर में बच्चों का प्रवेश दर 90 फीसदी है जो हायर सेकण्डरी स्तर आते तक कम हो जाती है। उन्होंने कहा कि बच्चे पढ़ाई बीच में ना छोड़े इसके लिए शिक्षक, अभिनव उपाय अपनाएं और शिक्षण पद्धति आकर्षक बनाए। साथ ही यह भी प्रयास करें कि शिक्षा गुणवत्ता पूर्वक व रोजगार परक हो।

22-07-2021
कलेक्टर ने शिक्षक जयप्रकाश साहू और परवीन बानो को प्रशस्ति पत्र देकर किया सम्मानित

कोरिया। राज्य स्तरीय शिक्षक सम्मान समारोह में राज्यपाल अनुसुईया उइके तथा मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राज्य शिक्षक सम्मान स्मृति पुरस्कार 2020 के लि चयनित 3 शिक्षकों और राज्य शिक्षक पुरस्कार 2019 के लिए चयनित 47 शिक्षकों का सम्मान किया। वर्चुअल रूप से आयोजित इस कार्यक्रम में कोरिया जिले के दो शिक्षकों परवीन बानो एवं  जयप्रकाश साहू को भी राज्य शिक्षक पुरस्कार 2019 से सम्मानित किया गया। कलेक्टर श्याम धावड़े ने एनआईसी कक्ष में शिक्षकों को श्रीफल, शाल एवं प्रशस्ति पत्र सहित 21 हजार रूपए की राशि चेक प्रदाय किया। परवीन बानो, सहायक शिक्षक(एलबी) प्राथमिक शाला आजाद नगर पूटा तथा जयप्रकाश साहू प्राथमिक शाला महुआपारा में शिक्षण का कार्य कर रहे हैं। कलेक्टर धावड़े ने शिक्षक द्वय को बधाई एवं शुभकामनाएं दी। 

 

14-07-2021
Video: ग्रामीण हुए शिक्षक के खिलाफ लामबंद, कलेक्टर से की शिकायत

कुरूद। धमतरी के कुरुद ब्लॉक में आने वाले गांव बगदेही में ग्रामीण शिक्षक के खिलाफ लामबंद हो गए है। ग्रामीणों ने एकजुट होकर शिक्षक को गांव की शाला से हटाने की मांग कलेक्टर से की है। ग्रामीणों ने बताया कि प्राइमरी स्कूल का शिक्षक लंबे अरसे से नदारद हैं। स्कूल से जुड़े सभी काम अटके पड़े हैं। शिक्षक की पहले भी बीईओ, डीईओ और सीईओ से शिकायत की जा चुकी है लेकिन आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। ग्रामीणों ने अब कलेक्टर से शिकायत की है। कलेक्टर ने मामले में जांच के बाद कार्रवाई की बात कही है। 

 

26-06-2021
शिक्षक पात्रता प्रमाण पत्र की वैधता अब आजीवन, सात वर्ष की वैधता के बंधन को शासन ने किया विलोपित

रायपुर। छत्तीसगढ़ शिक्षक पात्रता परीक्षा प्रमाण पत्र की वैधता अब आजीवन रहेगी। स्कूल शिक्षा विभाग ने शिक्षक पात्रता प्रमाण पत्र की वैधता की सात वर्ष की अवधि को विलोपित करते हुए इसे आजीवन कर दिया है। गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ शिक्षक पात्रता परीक्षा के संबंध में वर्ष 2011 की मार्गदर्शिका में एक बार परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले अभ्यर्थी के लिए प्रमाण पत्र की वैधता अवधि अधिकतम 7 वर्षों तक के लिए निर्धारित थी, जिसे अब शिक्षा विभाग ने विलोपित कर दिया है। राज्य शासन के स्कूल शिक्षा विभाग की ओर से उक्त आशय का आदेश शनिवार को मंत्रालय से जारी कर दिया है। इसमें स्पष्ट रूप से उल्लेखित किया गया है कि यह आदेश 2011 से अब तक समस्त शिक्षक पात्रता परीक्षा प्रमाण पत्र के संबंध में भी मान्य होगा, जिन अभ्यर्थियों के शिक्षक पात्रता परीक्षा प्रमाण पत्र की वैधता समाप्त हो गई है, उनके लिए नया प्रमाण-पत्र जारी किया जाएगा।

19-06-2021
शर्मसार : शादी का प्रलोभन देकर शिक्षक डेढ़ साल तक करता रहा छात्रा का दैहिक शोषण, आरोपी गिरफ्तार

रायपुर। राजधानी से शिक्षक और छात्रा के रिश्ते को शर्मसार कर देने वाली घटना सामने आई है। एक शिक्षक ने छात्रा को शादी का प्रलोभन देकर डेढ़ साल तक उसके साथ दुष्कर्म करता रहा। मिली जानकारी के अनुसार 24 वर्षीय पीड़िता छात्रा ने गंज थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई है कि आरोपी आशीष पांडेय (शिक्षक) से उसका परिचय कोचिंग क्लास में बतौर शिक्षक के रूप में हुआ था। इसके बाद आशीष ने शादी का प्रलोभन देते हुए युवती को डेढ़ साल तक एक होटल में लेजाकर दुष्कर्म करता रहा। अब जब युवती ने शादी की बात कही तो उल्टा आरोपी ने ही युवती के खिलाफ शिकायत प्रस्तुत कर दी। इसकी काउंसिलिंग में उचित परिणाम नहीं निकलने के बाद अब युवती ने दुष्कर्म की धाराओं के तहत आरोपी शिक्षक के खिलाफ अपराध दर्ज करवाया है। पुलिस ने आरोपी शिक्षक को बिलासपुर से गिरफ्तार कर लिया है व उसे रायपुर लेकर पहुंची है।

18-06-2021
पढ़ई तुंहर दुआर : बच्चों की पढ़ाई रहेगी निरंतर जारी,जिला शिक्षा अधिकारियों को निर्देश

रायपुर। स्कूल शिक्षा विभाग की ओर से शिक्षा सत्र 2021-22 में पढ़ई तुंहर दुआर कार्यक्रम के माध्यम से बच्चों की पढ़ाई निरंतर जारी रखने के निर्देश सभी जिला शिक्षा अधिकारियों को दिए हैं।  स्कूल शिक्षा विभाग की ओर से शुक्रवार को मंत्रालय से जिला शिक्षा अधिकारियों को जारी निर्देश में कहा गया है कि कोरोना संक्रमण काल में सम्पूर्ण राज्य में स्कूल बंद है। बच्चों की पढ़ाई निरंतर जारी रखने के लिए छत्तीसगढ़ शासन स्कूल शिक्षा विभाग की ओर से पढ़ई तुंहर दुआर के नाम से आॅनलाइन कक्षा का कार्यक्रम प्रारंभ किया गया था। इसके अलावा मोहल्ला क्लास, लाउड स्पीकर क्लास आदि के माध्यम से भी बच्चों को पढ़ाई से जोड़े रखा गया। पढ़ई तुंहर दुआर कार्यक्रम से बहुत सारे बच्चे लाभान्वित हो रहे है। 
जिला शिक्षा अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि शिक्षा सत्र 2021-22 में भी बच्चों की पढ़ाई निरंतर जारी रखने के लिए पढ़ई तुंहर दुआर को लगातार जारी रखा जाए। कोरोना संक्रमण की स्थिति को ध्यान में रखते हुए शासन की ओर से जारी सुरक्षा मानकों का पालन करते हुए पालकों, समुदाय की सतत निगरानी में, स्वच्छ और सुरक्षित वातावरण में बच्चों की पढ़ाई प्रारंभ की जाए। इस कार्यक्रम के क्रियान्वयन में पालक, शिक्षक, प्रधान पाठक, शाला प्रबंधन समिति, विद्यार्थी, प्रोफेशनल लर्निंग कम्युनिटी के साथ-साथ समुदाय के विभिन्न सेवा क्षेत्रों से जुड़े व्यक्ति को भी सहभागी बनाया जाए। जो शिक्षक इच्छुक हो वे मोहल्ला क्लास, लाउड स्पीकर क्लास आदि के माध्यम से गतिविधियों में भाग ले सकते है। किसी भी स्थिति में कोरोना महामारी के सुरक्षा मानकों का उल्लंघन नहीं किया जाए।

13-06-2021
छात्रा की हो गई थी शादी, प्रेम में पागल शिक्षक ने फिर भी नहीं छोड़ा पीछा, ले गया सुसराल से भगा कर

पटना। गुरु-शिष्य के पवित्र रिश्ते को शिक्षक ने कलंकित किया है। प्रेम में पागल टीचर ने शादीशुदा छात्रा को ससुराल से भगा कर ले आया। मामला बिहार के समस्तीपुर जिले के उजियारपुर का है। यहां छात्रा के प्रेम में पागल शिक्षक ने छात्रा की शादी होने के बाद उसके ससुराल गया और वहां से भगा कर ले आया। बताया जा रहा है कि उजियारपुर थाना क्षेत्र के रामचंद्रपुर अंधैल पंचायत के एक शिक्षक ने अपनी शिष्या को प्रेमजाल में फंसा लिया। इस बात से ग्रामीणों में काफी नाराजगी है। अपनी शिष्या के प्रेम में दिवाने होकर गुरु ने पहले तो छात्रा के ससुराल तक का सफर तय किया और उसके बाद मौका देख कर शिष्या को ही वहां से भगा लाया। गांव के एक निजी कोचिंग संचालक सह शिक्षक की कोचिंग में पढ़ने आनेवाली इसी गांव की एक छात्रा से प्रेमप्रसंग था। शिष्या के परिजनों ने कुछ ही दिन पहले उसकी शादी मुफस्सिल थाना के एक गांव में कर दी। इसके बाद गुरु का प्रेम इतना परवान चढा कि शिष्या को उसके ससुराल से ही भगाकर ले गया। मामला अब महिला थाना तक पहुंच गया है। इस मामले में उजियारपुर थानाध्यक्ष विश्वजीत कुमार ने बताया कि मामले को ग्रामीण स्तर पर ही सलटाने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि यहां आवेदन आने पर जांच की जाएगी।

 

04-06-2021
महापौर ने किया शिक्षक नगर कालोनी का निरीक्षण, समस्याओं के निराकरण के दिए निर्देश

राजनांदगांव। शिक्षक नगर कालोनीवासियों ने पानी भरान, स्ट्रीट लाइट नहीं होने एवं रोड नाली की समस्या के संबंध में महापौर हेमा देशमुख से शिकायत की थी और समस्याओं के हल करने की मांग की थी। इस संबंध में शुक्रवार को महापौर देशमुख अधिकारियों के साथ पहुंच कर कालोनीवासियों से रूबरू हुई। उन्होंने कहा कि कालोनी के जो मकान अवैध रूप से बने है। उन्हें शासन के नियमों के तहत नियमितिकरण करा लिया जाए,जिससे कालोनी वैध हो जायेगी। इसके पश्चात भविष्य में रोड नाली की समस्या का निराकरण किया जायेगा। वर्तमान में पानी भराव की स्थिति से निजात दिलाने, गड्ढा भरने एवं लाइट लगाने के निर्देश तकनीकी अधिकारियों को दिये। निरीक्षण के दौरान वार्ड के पार्षद व जिला योजना समिति के सदस्य सिद्धार्थ डोंगरे, प्र.सहायक अभियंता संदीप तिवारी, उप अभियंता पिंकी खाती व प्र.पटवारी मिलिन्द्र रेड्डी उपस्थित थे।

 

07-05-2021
नगर निगम ने विभिन्न नगरों को किया सैनिटाइज 

दुर्ग। कोरोना वायरस के रोकथाम के लिए शुक्रवार को विधायक अरुण वोरा ने पोलसाय पारा, तमेरपारा, शिक्षक नगर, चंडी मंदिर चौक और गयानगर में सैनिटाइजेशन महाअभियान चलाया। वोरा ने कहा कि मुख्यमंत्री की सजगता से व शहर की जागरुक जनता के कारण संक्रमण दर में लगातार गिरावट आ रही है। आगे भी स्वास्थ्य सुविधा में विस्तार एवं जनता की परेशानियों से शासन- प्रशासन को अवगत कराने का कार्य लगातार जारी रहेगा। महापौर धीरज बाकलीवाल ने कहा कि सोडियम हाइपोक्लोराइड के घोल से निगम की ओर से प्रतिदिन छिड़काव किया जा रहा है। हम अपने शहर को कोरोना मुक्त बनाए रखने में सफल होंगे। उन्होंने आमजन से वैक्सीन लगवाने में तत्परता दिखाए और सावधानी बरतने लोगों से अपील की। इस दौरान पार्षद भोला महोबिया, मनदीप सिंह भाटिया, नासिर खोखर, दुष्यंत देवांगन, भागवत देवांगन, मुरलीधर देशमुख आदि मौजूद थे।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804