GLIBS
19-07-2021
डेंगू नियंत्रण और रोकथाम के लिए निगम क्षेत्र में हो रही रोज फाॅगिंग, लार्वा नष्ट करने बांटी जा रही टेमीफोस

भिलाई। निगम भिलाई के स्वच्छता कर्मचारी वार्ड क्षेत्रों की संकरी गली, मोहल्लों में हैंड स्प्रे से फॉगिंग कार्य में जुटे हुए हैं। बड़े क्षेत्रों में व्हीकल माउंटेन से फागिंग कर रहे हैं ताकि मच्छरों का उन्मूलन किया जा सके। डेंगू नियंत्रण एवं रोकथाम के लिए साल भर से निगम ने अपनी गतिविधियां जारी रखी है। मच्छर उन्मूलन के तहत हर स्तर पर कार्य किया जा रहा है।निगम क्षेत्र की नालियों व जल जमाव वाले स्थानों में मलेरिया ऑयल का छिड़काव किया जा रहा है। मच्छरों का खात्मा करने के लिए निगम प्रशासन अल सुबह एवं शाम को हैन्ड स्प्रे व व्हीकल माउंटेन वाहन के माध्यम से धुआं छोड़कर फाॅगिंग करा रही है। डेंगू मच्छर के लार्वा को नष्ट करने के लिए टेमीफास् का वितरण एवं रिफिलिंग किया जा रहा है। टीम वार्डों में घर-घर जाकर गमले, टायर व घर में रखे अनुपयोगी पात्रों में जमा पानी का निरीक्षण कर रहे हैं। साथ ही डेंगू जैसी बीमारी से बचाव के लिए जागरूकता प्रसारित कर रहे हैं। 

 

18-07-2021
छत्तीसगढ़ में 1.11 करोड़ से ज्यादा नागरिकों को लगे टीके,20 लाख से अधिक लोगों को दोनों डोज

रायपुर। छत्तीसगढ़ में कोरोना की रोकथाम और नियंत्रण के लिए वैक्सीनेशन जारी है। 17 जुलाई तक प्रदेश में 1,11,09,056 नागरिकों को टीका लगाया जा चुका है। इनमें 90,92,377 लोगों को पहला डोज और 20,16,679 लोगों को दोनों डोज लगाया जा चुका है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से यह जानकारी दी गई है।

10-07-2021
रायपुर जिले में 1 हजार से अधिक स्थानों पर मोहल्ला कक्षाएं, डीईओ ने बढ़ाया शिक्षकों और बच्चों का हौसला  

रायपुर। कोरोना संक्रमण के रोकथाम एवं नियंत्रण और बच्चों की पढ़ाई को ध्यान में रखते हुए रायपुर जिले में 1 हजार से अधिक स्थानों पर मोहल्ला कक्षाएं संचालित की जा रहीं हैं। मोहल्ला कक्षा का संचालन पालकों की सहमति व सहयोग से सामुदायिक भवन परिसर, रंगमंच, हॉल, वृक्षों के नीचे चबूतरा आदि स्थानों में किया जा रहा है। जिला शिक्षा अधिकारी एएन बंजारा ने बताया कि गत वर्ष पहली से आठवीं तक ही के बच्चों के लिए पढ़ाई तुहर दुवार के अंतर्गत मोहल्ला कक्षा संचालित की जा रही थी। इस वर्ष कक्षा नवमी से बारहवीं के लिए भी मोहल्ला कक्षा प्रारंभ कर दी गई है। हाई एवं हायर सेकेंड्री स्कूल के प्राचार्यों की ओर से विषयावर मोहल्ला क्लास की समय सारणी बनाकर मोहल्ला कक्षा संचालित किया जा रहा है। मोहल्ला कक्षा में शिक्षकों की ओर से आमा राइट प्रोजेक्ट, बच्चों से जमा कराया जा रहा है। उनसे फीडबैक लिया जा रहा है।

साथ ही सेतु अभियान अंतर्गत पूर्व कक्षा के 30 प्रतिशत विषयवस्तु का अध्यापान कराया जा रहा है। जिला शिक्षा अधिकारी बंजारा ने पचेड़ा, गोढ़ी, चंदखुरी, बकतरा, परसूलीडीह, भरेंगा, खोरपा आदि ग्रामों के मोहल्ले में चल रहे कक्षाओं का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने शिक्षकों एवं बच्चों का हौसला बढ़ाया। उन्होंने कहा कि ज्यादा से ज्यादा मोहल्ला कक्षा का संचालन किया जाएगा। मोहल्ला कक्षा के अलावा उन्होंने आनलाइन कक्षा ले रहे शिक्षकों के कार्य को भी सराहा। जिला शिक्षा अधिकारी के अतिरिक्त, जिला मिशन समन्वयक, विकासखंड शिक्षा अधिकारी, विकासखंड स्त्रोत समन्वयक, सहायक विकासखंड शिक्षा अधिकारी लगातार मॉनिटरिंग कर रहे हैं। बंजारा ने बताया कि वर्तमान में निशुल्क पाठ्यपुस्तकों को बच्चों के घर पहुंचाया जा रहा है, वहीं हाई-हायर सेकेंडरी स्कूलों में प्रवेश का काम भी चल रहा है।
 

06-07-2021
डेंगू की रोकथाम के लिए नगर निगम ने किया टेमीफॉस का छिड़काव

भिलाई। नगर पालिक निगम भिलाई ने हुडको में डेंगू के संभावित पीड़ित मरीज के घर के 300 मीटर की परिधि क्षेत्र में लार्वा पनपने वाले स्रोत की जांच कराई। किसी भी स्थान पर लार्वा नहीं पाया गया। घर के सदस्यों ने यह जानकारी दी की हैदराबाद में इलाज के दौरान वहां से आने के बाद बुखार आया है। नगर पालिक निगम भिलाई की टीम ने घरों में सर्वे करते हुए कूलर, पानी टंकी, गमला व अनुपयोगी पात्रों की जांच करते हुए डेंगू से रोकथाम के लिए टेमीफाॅस का छिड़काव किया। घर के बाहर नाली तथा जलजमाव वाले स्थानों पर मैलाथियांन का छिड़काव किया जा रहा है।

 

01-07-2021
रायगढ़ का तमनार कोविड टीकाकरण का शत प्रतिशत लक्ष्य पूरा करने वाला प्रदेश का पहला विकासखंड

रायपुर। कोरोना संक्रमण से बचाव और रोकथाम के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश पर प्रदेश में लोगों का तेजी से टीकाकरण किया जा रहा है। इस दिशा में रायगढ़ जिले से उल्लेखनीय परिणाम सामने आए हैं। रायगढ़ जिले का तमनार कोविड टीकाकरण के पहले डोज का शत प्रतिशत लक्ष्य हासिल करने वाला प्रदेश का पहला विकासखंड बन गया है। यहां आबंटित 72 हजार 290 लोगों के टीकाकरण के लक्ष्य के विरुद्ध 72 हजार 331 लोगों का टीकाकरण कर लक्ष्य पूरा कर लिया गया है। इससे पहले भी रायगढ़ जिला हर आयु वर्ग के टीकाकरण में अग्रणी रहा है। 

रायगढ़ में 26 जून को महा टीकाकरण अभियान में प्रदेश में एक दिन में 1 लाख 43 हजार टीके लगाकर सर्वाधिक टीका लगाने का कीर्तिमान रचा गया है। कलेक्टर भीम सिंह के नेतृत्व में रायगढ़ को प्रदेश का सबसे पहला कोविड टीकाकृत जिला बनाने के उद्देश्य से तेजी से टीकाकरण किया जा रहा है। ज्ञात हो कि तमनार विकासखंड में जनसंख्या के आधार पर 18 प्लस और 45 प्लस आयु श्रेणी के टीकाकरण के लिए 72 हजार 290 लोगों को टीके लगाने का लक्ष्य मिला था। 30 जून तक 18 प्लस में 41 हजार 646 और 45 प्लस आयु वर्ग के 30 हजार 685 सहित कुल 72 हजार 331 हितग्राहियों को टीके का पहला डोज लगाया जा चुका है। यह विकासखंड को आबंटित लक्ष्य से अधिक है। 
उल्लेखनीय है रायगढ़ जिले में सभी आयु श्रेणी में अब तक 7 लाख 79 हजार 78 लोगों का वैक्सीनेशन किया जा चुका है। इसमें विकासखंड तमनार में 72 हजार 331, पुसौर में 88 हजार 771, बरमकेला में 89 हजार 687, लोईंग में 93 हजार 349, घरघोड़ा में 43 हजार 648, खरसिया में 76 हजार 552, लोईंग में 60 हजार 816, धरमजयगढ़ में 92 हजार 659, रायगढ़ शहरी में 68 हजार 564 और सारंगढ़ में 92 हजार 701 लोगों को टीकाकृत किया जा चुका है।

30-06-2021
छत्तीसगढ़ में 1 जुलाई से डायरिया नियंत्रण पखवाड़ा का आगाज,सभी स्वास्थ्य केंद्रों में बनाए जाएंगे ओआरएस-जिंक कॉर्नर

रायपुर। बच्चों में डायरिया को रोकने और इसकी रोकथाम के लिए प्रदेश में 1 जुलाई से 15 जुलाई तक गहन डायरिया नियंत्रण पखवाड़ा मनाया जाएगा। इस दौरान प्रदेशभर के सभी स्वास्थ्य केंद्रों में ओआरएस-जिंक कॉर्नर बनाए जाएंगे। साथ ही लोगों को डायरिया के बारे में जागरूक करने कई गतिविधियां संचालित की जाएंगी। राज्य शासन के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग ने सभी जिलों के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों और सिविल सर्जन्स को परिपत्र में विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किए हैं। डायरिया शून्य से पांच वर्ष तक के बच्चों में मृत्यु के मुख्य कारणों में से एक है। इसके शीघ्र उपचार से बाल मृत्यु दर में कमी लाई जा सकती है। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की संचालक डॉ. प्रियंका शुक्ला ने गहन डायरिया नियंत्रण पखवाड़ा के दौरान संचालित किए जाने वाले कार्यक्रमों व गतिविधियों की जानकारी देने और आवश्यक समन्वय के लिए निर्देश पत्र जारी करने कहा है। उन्होंने सभी एएनएम और मितानिनों को डायरिया केस प्रबंधन, उपचार, काउंसलिंग पर प्रशिक्षण और अभियान के दौरान उनके ओर से की जाने वाली गतिविधियों के लिए निर्देशित करने और आईडीसीएफ टूलकिट प्रदान करने कहा है। डॉ. शुक्ला ने सभी स्वास्थ्य केन्द्रों के टंकियों की सफाई के भी निर्देश दिए हैं। उन्होंने अपने-अपने जिलों के लिए ओआरएस और जिंक टेबलेट का उठाव करते हुए इनका वितरण तय करने कहा है।
स्वास्थ्य विभाग ने सीएमएचओ और सिविल सर्जन्स को कोरोना संक्रमण के प्रति सतर्कता बरतते हुए दीवार लेखन, सोशल मीडिया एवं प्रचार-प्रसार के विभिन्न माध्यमों के जरिए डायरिया के रोकथाम एवं नियंत्रण की जानकारी लोगों तक पहुंचाने कहा है। विभाग ने महिला एवं बाल विकास विभाग, पंचायत विभाग, स्थानीय प्रशासन, राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन और विभिन्न विभागों के साथ काम कर रहे डेवलपमेन्ट पार्टनर्स का सहयोग लेने के निर्देश दिए हैं।

साथ ही निजी अस्पतालों व आईएपी, आईएमए जैसी निजी एजेंसियों का भी इनमें शामिल करने कहा है। विभाग ने पखवाड़ा में विभिन्न गतिविधियों के संचालन के दौरान कोविड एप्रोप्रिएट व्यवहार का पूर्णत: पालन करने के निर्देश दिए हैं। अभियान के दौरान घर, कुएं व जल-स्रोतों की साफ-सफाई और पानी को स्वच्छ रखने के लिए क्लोरीन टेबलेट्स का वितरण करने कहा गया है। उच्च जोखिम वाले क्षेत्रों जैसे ईंट-भट्टा, खानाबदोश स्थल, बाढ़ की संभावना वाले क्षेत्रों, ऐसे उप-स्वास्थ्य केंद्र जहां एएनएम उपलब्ध नहीं हैं, प्रवासी मजदूर, सड़क पर रहने वाले बच्चों, मलिन बस्तियों जैसी जगहों पर अधिक ध्यान देने एवं ओआरएस की पूर्व उपलब्धता तय करने के निर्देश दिए गए हैं। अभियान के दौरान मितानिनों की ओर से छह माह से पांच वर्ष तक के बच्चों वाले घरों में ओआरएस पैकेट का वितरण व  इसके उपयोग के संबंध में सलाह प्रदान कर ओआरएस घोल बनाने की विधि का प्रदर्शन किया जाएगा। मितानिनें लोगों को साफ-सफाई के प्रति प्रेरित भी करेंगी। वे लोगों को डायरिया प्रकरणों की पहचान, एएनएम या स्वास्थ्य केन्द्रों पर संदर्भन, डायरिया के लक्षण व खतरों के बारे में भी बताएंगी। स्वास्थ्य विभाग ने सीएमएचओ व सिविल सर्जन्स को सभी संस्थाओं में ओआरएस और जिंक टैबलेट की पर्याप्त उपलब्धता और पोषण पुनर्वास केन्द्रों में भर्ती डायरिया से पीड़ित अति गंभीर कुपोषित बच्चों का प्रबंधन तय करने के निर्देश दिए हैं।

 

29-06-2021
छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण की दर घटकर 1.14 प्रतिशत, आज को-मॉर्बिडिटी से हुई एक मौत

रायपुर। छत्तीसगढ़ शासन की ओर से कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण और रोकथाम के लिए किए गए प्रभावी उपायों से प्रदेश में संक्रमण की स्थिति में लगातार सुधार आ रहा है। 29 जून को प्रदेश में संक्रमण की दर गिरकर मात्र 1.14 प्रतिशत पर पहुंच गई है। राज्य में मंगलवार को  33 हजार 547 सैंपलों की जांच हुई, जिसमें से मात्र 383 व्यक्ति कोरोना संक्रमित पाए गए। राज्य में कोरोना से होने वाली मौतें भी थम सी गई हैं। आज को-मॉर्बिडिटी (अन्य गंभीर बीमारी से भी ग्रसित) से एक मरीज की मौत हुई। राज्य में कोरोना से बचाव के टीकाकरण का अभियान तेजी से जारी है। प्रदेश में अभी संक्रमण की औसत सप्ताहिक पॉजिटिविटी दर 22 जून से 28 जून के मध्य 1.1 प्रतिशत रही है। राज्य के 12 जिलों में पॉजिटिविटी दर एक प्रतिशत से कम है। 13 जिलों में 1 से 2 प्रतिशत के बीच पॉजिटिविटी दर है। केवल सुकमा जिले में 9.66 प्रतिशत एवं बीजापुर जिले में 3.13 और कोंडागांव जिले में 2.70 प्रतिशत संक्रमण दर है, जबकि कबीरधाम जिले में संक्रमण की दर शून्य हो गई है। राज्य में वर्तमान में कुल पॉजिटिव मरीजों की संख्या 5914 है।

26-06-2021
कोरोना टीकाकरण के लिए लोगों में दिख रहा उत्साह,निरंतर आगे आ रहे संस्थाएं और संगठन 

रायपुर। कोरोना संक्रमण के रोकथाम एवं प्रभावी नियंत्रण के लिए कलेक्टर सौरभ कुमार के निर्देश पर रायपुर जिले में कोरोना टीकाकरण के लिए जोर दिया जा रहा है। कलेक्टर ने  समुदाय, समूह या समाज के 100 या इससे अधिक की सूची जिला प्रशासन को उपलब्ध कराने पर,वहां कैम्प कर टीकाकरण टीम को प्राथमिकता से वैक्सीनेशन करने के निर्देश दिए हैं। इसके लिए जिले के औद्योगिक संस्थानों, उच्च शैक्षणिक संस्थानों, होटल और परिवहन संघ जैसी संस्थाओं अपने संगठनों और संस्थानों के लिए टीकाकरण के लिए निरंतर आगे आ रही हैं। रायपुर शहर के प्रधान डाकघर के प्रभारी पोस्टमास्टर, बैंकिग संस्थाए, विश्वविद्यालय से संबद्ध शासकीय एवं अशासकीय महाविद्यालय, परिवहन संघ के अध्यक्ष, औद्यौगिक संघों जैसे उरला, सिलतरा, भनपुरी आदि भी इसके लिए आगे आ रही हैं। कलेक्टर की ओर से  ग्रामीण क्षेत्रों में कलस्टर बनाकर और इस कार्य में विभिन्न विभागों के फील्ड के अधिकरियों और कर्मचारियों को भी लोगों को प्रेरित करने का कार्य किया जा रहा है। इस कार्य में जनप्रतिनिधियों के साथ-साथ आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, मितानिन, पटवारी, कोटवार और बीएलओ आदि घर-घर जाकर लोगों को कोरोना टीकाकरण के लिए प्रेरित कर रहे हैं। इन संस्थाओं में कार्यरत अधिकारी-कर्मचारी की संख्या अधिक होने पर जिला प्रशासन की ओर से कैंप लगाकर कोरोना टीकाकरण का कार्य किया जाएगा।

26-06-2021
Breaking : राज्य में कोरोना टीकाकरण की बढ़ी रफ्तार, 25 प्रतिशत आबादी तक पहुंचा टीका

रायपुर। प्रदेश में कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण और इसकी रोकथाम के लिए सभी आयु वर्ग के टीकाकरण का काम जोरों पर है। प्रदेश में पिछले दो दिनों से दो-दो लाख से अधिक लोगों को टीका लगाया जा रहा है। वहीं बीते पांच दिनों में सात लाख 70 हजार 804 नागरिकों को टीका लगाया गया है। राज्य में 21 जून को 91 हजार 172, 22 जून को एक लाख नौ हजार 353, 23 जून को एक लाख 58 हजार 472, 24 जून को दो लाख दस हजार 034 और 25 जून को दो लाख एक हजार 773 लोगों का टीकाकरण किया गया है। पहली और दूसरी डोज को मिलाकर प्रदेश में अब तक (25 जून तक) 84 लाख 78 हजार टीके लगाए जा चुके हैं। प्रदेश की करीब 25 प्रतिशत आबादी को कोरोना से बचाव का पहला टीका लगाया जा चुका है। छत्तीसगढ़ इस मामले में देश के कई बड़े राज्यों से आगे हैं।

बिहार, उत्तरप्रदेश, तमिलनाडू, पश्चिम बंगाल, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, ओड़िशा, आंध्रप्रदेश और तेलंगाना की तुलना में छत्तीसगढ़ में टीकाकरण का कवरेज ज्यादा है। देश में टीकाकरण का राष्ट्रीय औसत 19 प्रतिशत है। प्रदेश में तीन लाख आठ हजार स्वास्थ्य कर्मियों, तीन लाख 15 हजार फ्रंटलाइन वर्कर्स, 45 वर्ष से अधिक के 46 लाख 53 हजार नागरिकों और 18 से 44 वर्ष आयु वर्ग के 18 लाख 44 हजार 248 युवाओं को कोरोना से बचाव का पहला टीका लगाया जा चुका है। वहीं दो लाख 37 हजार स्वास्थ्य कर्मियों, दो लाख आठ हजार फ्रंटलाइन वर्कर्स, 45 वर्ष से अधिक के आठ लाख 55 हजार तथा 18 से 44 आयु वर्ग के 56 हजार 631 लोगों को दोनों टीके लगाए जा चुके हैं। प्रदेश में अभी 13 लाख 51 हजार 676 टीके उपलब्ध हैं। इनमें नौ लाख टीके कोविशील्ड के और साढ़े चार लाख से अधिक टीके कोवैक्सीन के हैं। राज्य शासन ने कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण और रोकथाम के लिए किए गए प्रभावी उपायों से प्रदेश में संक्रमण की स्थिति में लगातार सुधार आ रहा है। 25 जून की स्थिति में संक्रमण की दर और गिरकर मात्र 1.1 प्रतिशत पर पहुंच गई है। मार्च के आखिरी सप्ताह में प्रदेश की पॉजिविटी दर 8.5 प्रतिशत, अप्रैल में 30 प्रतिशत तथा मई के अंतिम सप्ताह में 4 प्रतिशत थी। चालू जून माह में अब तक औसत पॉजिविटी दर 1.2 प्रतिशत रही है। प्रदेश की रिकवरी दर अभी 98 प्रतिशत और मृत्यु दर 1.4 प्रतिशत है। कोरोना संक्रमण की शुरुआत से लेकर अब तक प्रदेश में नौ लाख 72 हजार 372 लोग कोरोना से स्वस्थ हो चुके हैं। इनमें से आठ लाख छह हजार 983 मरीजों ने होम आइसोलेशन में रहकर और एक लाख 65 हजार 389 मरीजों ने कोविड अस्पतालों और कोविड केयर सेंटर्स में इलाज कराकर कोरोना को मात दी है। प्रदेश में अभी कोविड-19 के सक्रिय मामलों की संख्या केवल 6889 है।

18-06-2021
छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण की दर अब 1.29 प्रतिशत,मौतों का आंकड़ा भी सिमटा,रिकवरी दर 98 प्रतिशत

रायपुर। छत्तीसगढ़ शासन की ओर से कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण और रोकथाम के लिए किए गए प्रभावी उपायों से प्रदेश में संक्रमण की स्थिति में लगातार सुधार आ रहा है। अभी प्रदेश में संक्रमण की दर गिरकर मात्र 1.29 प्रतिशत पर पहुंच गई है। रिकवरी दर बढ़कर अब 98 प्रतिशत हो गई है। कोरोना से होने वाली मौतें भी थम रही हैं। पिछले एक सप्ताह के दौरान 76 लोगों की मृत्यु हुई है, जिनमें कोमोरबिडिटी वाले 34 मरीज भी शामिल हैं। राज्य में कोरोना से बचाव के टीके की पहली और दूसरी खुराक को मिलाकर अब तक (17 जून तक) 74 लाख 33 हजार 759 टीके लगाए जा चुके हैं। प्रदेश में 45 वर्ष से अधिक के नागरिकों के लिए अभी 19 लाख 42 हजार 890 और18 से 44 वर्ष आयु वर्ग के लिए एक लाख 79 हजार 580 टीके उपलब्ध हैं।

प्रदेश के 25 जिलों में अभी संक्रमण दर 0.28 प्रतिशत से लेकर 2.89 प्रतिशत के बीच है। केवल कोरबा में 3.03 प्रतिशत, गरियाबंद में 3.46 प्रतिशत और बीजापुर 4.59 प्रतिशत में ही संक्रमण की दर इससे अधिक है। कोरोना से होने वाली मौतें भी काफी कम हो गई हैं। प्रदेश भर में बीते सप्ताह के दौरान 11 जून को 15, 12 जून को 11, 13 जून को 6, 14 जून को 17, 15 जून को 8, 16 जून को 12 और 17 जून को केवल 7 मौतें हुई हैं।
राज्य में कोरोना से बचाव के टीके की पहली और दूसरी खुराक को मिलाकर अब तक (17 जून तक) 74 लाख 33 हजार 759 टीके लगाए जा चुके हैं। स्वास्थ्य कर्मियों, फ्रंटलाइन वर्कर्स, 45 वर्ष से अधिक और18 से 44 वर्ष आयु वर्ग के कुल 62 लाख 30 हजार 957 लोगों को टीके की पहली खुराक और 12 लाख दो हजार 802 नागरिकों को दूसरी खुराक दी जा चुकी है। केंद्र सरकार से स्वास्थ्य कर्मियों, फ्रंटलाइन वर्कर्स और 45 वर्ष से अधिक के नागरिकों के लिए प्रदेश को कुल 83 लाख 28 हजार 070 टीके प्राप्त हुए हैं। राज्य सरकार की मांग पर 18 से 44 वर्ष आयु वर्ग के लिए टीका निर्माता कंपनियों की ओर से अभी तक 12 लाख 51 हजार 420 टीकों की आपूर्ति की गई है। प्रदेश में 45 वर्ष से अधिक के नागरिकों के लिए अभी 19 लाख 42 हजार 890 और 18 से 44 वर्ष आयु वर्ग के लिए एक लाख 79 हजार 580 टीके उपलब्ध हैं।

17-06-2021
संभावित जलजनित मौसमी रोगों की रोकथाम के लिए कलेक्टर ने दिए निर्देश

धमतरी। आगामी मानसून को देखते हुए संभावित जलजनित बीमारियों की रोकथाम के लिए कलेक्टर पीएस एल्मा ने आवश्यक कार्रवाई सुनिश्चित करने के निर्देश आयुक्त नगर निगम को दिए हैं। उन्होंने कहा है कि दूषित पेयजल के सेवन से विभिन्न प्रकार की बीमारियां फैलती हैं। ऐसी बीमारियों की रोकथाम के लिए आवश्यक सतर्कता एवं सावधानियां बरतना बेहद आवश्यक हो गया है। नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग छत्तीसगढ़ शासन से जारी निर्देश के हवाले से उन्होंने निर्देशित किया है कि जल प्रदाय के लिए निर्मित पानी टंकी का साल में कम से कम दो बार सफाई कराने व टंकियों पर सफाई की तिथि अनिवार्य रूप से अंकित कराएं। जल प्रदाय के लिए बिछाई गई पाइपलाइन में यदि लीकेज या टूट-फूट होती है तो उसका सुधार तत्काल कराएं। सार्वजनिक नलों व हैण्डपम्पों के आसपास पर्याप्त सफाई रखें।

कलेक्टर ने यह भी कहा है कि हैण्डपम्पों के जल को कीटाणुरहित करने के लिए ब्लीचिंग पावडर का घोल या सोडियम हाइपोक्लोराइट निर्धारित मात्रा में डालें तथा अभियान चलाकर लोगों को शुद्ध एवं सुरक्षित पेयजल का उपयोग करने की अपील करें। जब भी कोई नवीन हैण्डपम्प स्थापित किया जाता है तो उसके संधारण के लिए सूचीबद्ध करने के भी निर्देश कलेक्टर ने दिए हैं। इसके अलावा विभाग ने सतही स्त्रोत एवं नलकूपों पर आधारित पेयजल योजनाओं, स्थल पर नलकूपों या हैण्डपम्पों के माध्यम से जलप्रदाय के लिए अलग-अलग निर्देश जारी किए हैं। साथ ही पेयजल की कोलीफार्म बैक्टीरिया के लिए वाॅटर ट्रीटमेंट प्लांट, स्टोरेज टंकी व घरों से सैम्पल लेकर लैब टेस्टिंग अनिवार्य रूप से करने के भी निर्देश आयुक्त नगर निगम तथा मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को दिए गए हैं। इसके लिए लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग तथा स्वास्थ्य विभाग से समन्वय स्थापित कर आवश्यक कार्रवाई सुनिश्चित कर 15 दिनों के भीतर अवगत कराने के निर्देश दिए गए हैं।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804