GLIBS

30-07-2021
सेना के लिए आज के ही दिन 1909 में राईट बंधुओ ने बनाया था पहला विमान

रायपुर। आज ही के दिन 1909 में राइट भाईयों ने सेना के लिए पहला विमान बनाया था। यूएम आर्मी ने राइट भाइयों से संपर्क किया और उनसे करार किया। साल 1908 में ये करार किया गया जिसके तहत दोनों भाई आर्मी के लिए ये डिजाइन बनाने में जुट गए। आखिरकार 1909 में पहला मिलिट्री फ्लायर सामने आया। उससे बाद से वायुयान बनाने में ढेर सारे बदलाव होते रहे लेकिन मूल सिद्धांत वही रहा जो दशकों पहले दो भाइयों का था।

21-07-2021
Breaking : टिक टॉक की देश में जल्द ही हो सकती है वापसी, मूल कंपनी बाइटडांस कर रही अफसरों से बातचीत

नई दिल्ली/रायपुर। टिक टॉक जल्द ही देश में वापसी कर सकता है, क्योंकि इसकी मूल कंपनी बाइटडांस ने पेटेंट, डिजाइन और ट्रेड मार्क्स के महानियंत्रक के साथ शॉर्ट-फॉर्म वीडियो ऐप के लिए एक ट्रेडमार्क दायर किया है। देश में वापसी के लिए इसका नया नाम 'टिक टॉक' हो सकता है। बाइटडांस ने 'टिक टॉक' ट्रेडमार्क एप्लिकेशन 6 जुलाई को दाखिल की है। इसमें इसकी सर्विस की जानकारी दी गई है। हालांकि इसके अलावा टिक टॉक की संभावित वापसी को लेकर कोई पुख्ता जानकारी नहीं है। खबरों के मुताबिक, टिकटॉक को देश में वापस लाने के लिए बाइटडांस सरकार से बातचीत कर रही है। चीनी कंपनी ने अधिकारियों को यह भी आश्वासन दिया कि वह नए आईटी नियमों का पालन करने के लिए काम करेगी।

30-06-2021
सोशल मीडिया के दुरुपयोग पर फेसबुक और गूगल की स्थायी समिति ने ली क्लास, कहा- सरकार के आईटी नियमों का करना होगा पालन

नई दिल्ली/रायपुर। फेसबुक और गूगल के अधिकारियों ने मंगलवार को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स के दुरुपयोग के मुद्दे पर सूचना प्रौद्योगिकी संबंधी संसद की स्थायी समिति के सामने अपना पक्ष रखा। बता दें कि समिति ने सोशल मीडिया कंपनियों के प्रतिनिधियों से कहा कि वे देश के नए आईटी नियमों, सरकार के दिशानिर्देशों और अदालती आदेशों का पालन करें। 
दरअसल बैठक में फेसबुक के प्रतिनिधियों से पूछा गया कि जैसे ट्विटर ने केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद का अकाउंट ब्लॉक किया, क्या आप लोग भी वैसा कर सकते हो? इस पर फेसबुक के प्रतिनिधि ने कहा कि हमारी ऐसी कोई पॉलिसी नहीं है। बैठक में जम्मू कश्मीर और लद्दाख को भारत के नक्शे से गायब करने पर भी आपत्ति जताई गई। सूत्रों की माने तो ट्विटर को नोटिस भेज कर गलत नक्शा दिखाने के मामले में जवाब देने को कहा जाएगा। आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद और शशि थरूर के ट्विटर एकाउंट को लॉक करने पर समिति ने ट्विटर से दो दिन में जवाब मांगा है। समिति के सदस्यों ने सवाल उठाया कि गूगल की कई चीजें ऐसी हैं, जिन पर संदेह होता है। इनमें से एक है कि गूगल हमें सुन रहा है।

25-06-2021
माइक्रोसॉफ्ट ने लांच किया विंडोज 11, जानिए क्या-क्या फीचर्स है शामिल 

नई दिल्ली। माइक्रोसॉफ्ट ने विंडोज 11 लांच कर दिया है। विंडोज 11 का डिजाइन बाकि वर्जन से काफी अलग है। विंडो 11 को एक नया लुक दिया गया है, जिसमें कई अट्रैक्टिव और एडवांस थीम्स मिल रहे हैं। जब आप इसे अपडेट करेंगे तो आपको हर बार एक अलग तरह का ग्राफिक्स नजर आएगा। विंडो 11 का टास्कबार पहले की तुलना में काफी बदल दिया गया है। इसमें आइकन सेंटर में नजर आएंगे, जो आपका अनुभव काफी रोमांचक बना देंगे, इतना ही नहीं इसका स्टार्ट मेनू भी काफी बदल गया है। सबसे कमाल का फीचर यह है कि इस सिस्टम में आप एक स्क्रीन पर कई विंडो में काम कर सकेंगे। इसे स्नेप लेआउट कहा गया है, कई लोग मल्टीटास्क करते हैं ऐसे में यह काफी फायदेमंद साबित होगा। इस विंडो में आपको टाइपिंग के लिए वॉइस टाइपिंग का फीचर भी दिया गया है, जिससे आप कम समय में तेजी से टाइपिंग कर सकेंगे। विंडो 11 के स्टोर पर आपको तमाम फिल्मों और वेब सीरीज का कलेक्शन मिलेगा। यहां से आप फिल्में या वेब सीरीज खरीद सकते हैं। गेमिंग के शौकीन लोगों के लिए यह विंडो काफी काम की साबित हो सकती है। इसमें कई ऐसे फीचर्स हैं, जो खासतौर पर गेमिंग के लिए बनाए गए हैं। कंपनी का कहना है कि यह गेमिंग के लिए बेस्ट ऑपरेटिंग सिस्टम साबित होगा। इसमें तमाम एंड्राइड एप्स को भी इंस्टॉल किया जा सकेगा, हालांकि इसके लिए कुछ लिमिट रखी गई है।

16-06-2021
माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर को नए आईटी नियमों का पालन नहीं करना पड़ा भारी, कानूनी संरक्षण खत्म

नई दिल्ली/रायपुर। माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर को भारत के नए आईटी नियमों का पालन नहीं करना भारी पड़ गया है। अब उसे कानूनी कार्रवाई का सामना करना होगा। दरअसल नए आईटी नियमों का पालन नहीं करने के कारण ऐसा किया गया है। सूत्रों की माने तो ट्विटर का कानूनी संरक्षण खत्म हो गया है और अब इसको कानूनी कार्रवाई का सामना करना होगा।

12-06-2021
नासा ने अंतरिक्ष में खोज निकाली दूसरी धरती, एक्सोप्लेनेट पर हवा, पानी और बादल की संभावना

वॉशिंगटन। नासा के वैज्ञानिकों ने पृथ्वी से मिलती-जुलती एक नई धरती खोज निकाली है। वैज्ञानिकों ने पृथ्वी से 90 प्रकाश वर्ष की दूरी पर एक नए एक्सोप्लेनेट की खोज की है। इस अद्भुत ग्रह को देखने के बाद अंदाजा लगाया जा रहा है कि इस पर धरती की तरह ही पानी के बादल मिल सकते हैं। यह एक्सोप्लेनेट हमारे सौर मंडल के बाहर स्थित ग्रह हैं। टीओआई-1231 बी नामक यह एक्सोप्लेनेट हर 24 दिनों में अपने तारे की एक परिक्रमा पूरी करता है। जेट प्रोपल्शन लेबोरेटरी और न्यू मेक्सिको यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स ने एक्पोप्लेनेट टीओआई-1231 बी की खोज की।
शोधकर्ताओं का मानना है कि टीओआई-1231 बी का औसत तापमान 140 डिग्री फारेनहाइट (60 डिग्री सेल्सियस) है। इतना तापमान इसे अपने वायुमंडल के भविष्य के अध्ययन के लिए अब तक उपलब्ध छोटे एक्सोप्लेनेट में से सबसे अच्छे में से एक बनाता है। नासा की जेनिफर बर्ट ने कहा कि अब तक पाए गए अधिकांश एक्सोप्लेनेट की तुलना में टीओआई-1231 बी सकारात्मक रूप से ठंडा है। एक्सोप्लेनेट जितना ठंडा होगा, उसके वायुमंडल में बादल होने की संभावना उतनी ही अधिक होगी।
इसके साथ ही रिसर्चर्स ने कहा है कि एक्सोप्लेनेट का घनत्व कम है, जिससे पता चलता है कि यह पृथ्वी जैसा चट्टानी ग्रह नहीं, बल्कि एक गैसिय ग्रह है। हालांकि उन्होंने कहा कि वे अभी तक ठीक प्रकार से ग्रह या उसके वातावरण की संरचना के बारे में नहीं जानते हैं, शोधकर्ताओं ने कहा कि इस बात की संभावना है कि वातावरण में ऊंचे बादल मौजूद हों और पानी के संभावित सबूत हों।

03-06-2021
माइक्रोसाॅफ्ट लाएगा विंडोज का नया वर्जन, जाने क्या होगा बदलाव

वाशिंगटन। माइक्रोसॉफ्ट कार्प विंडोज साॅफ्टवेयर का नया वर्जन लाने वाला है। माइक्रोसॉफ्ट विंडोज का नया वर्जन 24 जून को पेश करेगा। माइक्रोसॉफ्ट के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सत्या नडेला ने यह जानकारी दी। उन्हाेंने बताया कि अपडेट सॉफ्टवेयर में डिज़ाइन में बदलाव समेत क्रियेटर्स एवं डेवलपर्स के लिए ऐप स्टोर और अन्य फीचर्स के जरिए अतिरिक्त सुविधाएं उपलब्ध रहेंगी।

27-05-2021
केंद्र सरकार ने सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स से मांगी रिपोर्ट, कहा- नए डिजिटल नियमों का पालन हुआ या नहीं

नई दिल्ली/रायपुर। सरकार ने सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के लिए  25 फरवरी 2021 को गाइडलाइन जारी की थी और इन्हें लागू करने के लिए 3 महीने का वक्त दिया था। इसके तहत इन्हें भारत में चीफ कॉम्प्लियांस अफसर, नोडल कॉन्टैक्ट पर्सन और रेसिडेंट ग्रेवांस अफसर की नियुक्ति करनी थी। सरकार ने कंपनियों से उनके यहां नियुक्त किए इन अफसरों के बारे में जानकारी मांगी है। मंत्रालय ने अपने नोट में कहा है कि आप अपनी मूल कंपनी या किसी सहायक कंपनी सहित भारत में कई तरह की सर्विस प्रोवाइड कराते हैं। इसी के मद्देनजर इन नियमों के पालन का पता लगाने के लिए आपसे कुछ जानकारी देने का अनुरोध किया जाता है। इसमें ऐप का नाम, वेबसाइट और सर्विस की डिटेल के अलावा, गाइडलाइंस के मुताबिक नियुक्त किए गए तीन अफसरों के नाम-पते की जानकारी शामिल है।

15-05-2021
सफलता : मंगल ग्रह पर चीन ने उतारा अंतरिक्ष यान, ग्रह की कई जानकारियां होगी हासिल

बीजिंग। चीन ने शनिवार को मंगल ग्रह पर अपना अंतरिक्ष यान उतारकर एक बड़ी सफलता हासिल की है। सरकारी मीडिया ने चीनी राष्ट्रीय अंतरिक्ष प्रशासन(सीएनएसए) के हवाले से अपनी रिपोर्ट में यह जानकारी दी। रिपोर्ट के मुताबिक अंतरिक्ष यान तियानवेन-1 मंगल ग्रह के उत्तरी गोलार्द्ध पर यूटोपिया प्लैनिटिया के दक्षिणी भाग में अपने पूर्व-चयनित लैंडिंग क्षेत्र में स्थानीय समयानुसार 07.18 बजे उतरा। मंगल पर लैंडिंग के लिए ग्राउंड कंट्रोलर्स को एक घंटे से अधिक समय लगा। लैंडिंग के बाद सिग्नल भेजने के लिए रोवर को अपने सौर पैनलों और एंटीना को संपर्क स्थापित करने के लिए प्रतीक्षा करनी पड़ी।

पृथ्वी और मंगल के बीच 3200 लाख किलोमीटर की दूरी के कारण इसमें 17 मिनट से अधिक का विलंब हुआ। तियानवेन-1 को 23 जुलाई, 2020 को लॉन्च किया गया था, जिसमें एक ऑर्बिटर, एक लैंडर और एक रोवर जुरोंग शामिल था। तियानवेन-1 ने करीब 10 फरवरी को मंगल की कक्षा में प्रवेश करने के बाद से काफी महत्वपूर्ण जानकारियां एकत्र की हैं। इसके जरिए ही ग्रह पर बर्फीले यूटोपिया का पता लगाया जा सकेगा। नासा के एसोसिएट एडमिनिस्ट्रेटर थॉमस जुर्बुचेन ने सीएनएसए टीम को बधाई दी है। उल्लेखनीय है कि चीन से पहले अमेरिका, रूस, यूरोपीय संघ और भारत मंगल ग्रह पर अपने अंतरिक्ष यान उतार चुके हैं। भारत पहला एशियाई देश है, जिसने 2014 में पहली बार में ही मंगल ग्रह पर अंतरिक्ष यान को उतारने में सफलता हासिल की थी, तब से यह मंगल ग्रह की अहम जानकारियां और तस्वीरें भेज रहा है।

13-05-2021
कोरोना काल में ग्रामीण अर्थव्यवस्था का आधार बना गौठान,स्व-सहायता समूह की महिलाएं बन रहीं आत्मनिर्भर

रायपुर। पहले अपने ही गांव में बेराजगार रहने वाली अनेक महिलाओं को अब गौठान के माध्यम से रोजगार मिल गया है। महिला स्व-सहायता समूह से जुड़कर गौठानों का बखूबी संचालन ही नहीं कर रही है, अपितु अपने आमदनी का जरिया भी बना चुकी है। कोरोना संक्रमण काल से जहां अनेक व्यापार व व्यवसाय प्रभावित हो रहे हैं, वही ग्राम सुराजी योजना के तहत् निर्मित गौठानों से जुड़ी महिला स्व-सहायता समूह की महिलाएं आमदनी अर्जित कर घर का खर्च भी उठा रही है। उत्तर बस्तर कांकेर की स्व-सहायता समूह की महिलाओं द्वारा विभिन्न आर्थिक गतिविधियां जैसे- वर्मीकंपोस्ट उत्पादन, मुर्गी पालन, सब्जी उत्पादन, मशरूम उत्पादन इत्यादि कार्य कर आमदनी प्राप्त की जा रही है। यहां चारामा विकासखण्ड के आंवरी गोठान में वर्मी कम्पोस्ट खाद का उत्पादन, मुर्गी पालन, सब्जी उत्पादन, मक्का एवं अरहर तथा मशरूम उत्पादन कर स्व-सहायता समूह की महिलायें आसपास के गांवों में मुर्गी तथा सब्जी बेचकर अपनी आर्थिक स्थिति मजबूत कर रही है। शासन की ग्राम सुराजी योजना के तहत निर्मित आंवरी गौठान स्थानीय स्वसहायता समूह की महिलाओं को रोजगार दिलाने के साथ उनको आमदनी भी उपलब्ध करा रही है।


जिला पंचायत कांकेर के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ.संजय कन्नौजे ने बताया कि कोराना संक्रमण के इस दौर में राज्य शासन की ग्राम सुराजी योजना के तहत् नरूवा, गरूवा, घुरूवा व बाड़ी ग्रामीणों के लिए वरदान साबित हो रहा है। चारामा विकासखण्ड के ग्राम आंवरी गौठान की गुरू घासीदास महिला स्व-सहायता समूह की महिलाओं द्वारा 33 हजार रूपये का वर्मी विक्रय किया गया है। इसी प्रकार जय अम्बे स्व-सहायता समूह की महिलायें बिहान योजना के तहत बैंक लिंकेज व पशु विभाग के अभिसरण से कड़कनाथ मुर्गी पालन का कार्य कर रही है, उनके द्वारा 1 लाख 22 हजार 500 रूपये का मुर्गी विक्रय किया गया है। जय सफुरा माता समूह के द्वारा सब्जी, मक्का व अरहर उत्पादन कर 1 लाख 32 हजार का सब्जी विक्रय किया गया है। इस प्रकार आंवरी गौठान में स्व-सहायता समूह की महिलाओं द्वारा वर्मी कम्पोस्ट, मुर्गीपालन, सब्जी उत्पादन, मक्का एवं अरहर व मशरूम उत्पादन कर 2 लाख 96 हजार 500 रूपये में विक्रय किया गया, जिसमें उन्हें 2 लाख रूपये की शुद्ध आमदनी हुई। गौठान में काम करने वाली प्रति महिला सदस्यों को 8 से 10 हजार रूपये का फायदा हुआ है। 

03-05-2021
जज्बे को सलाम: संक्रमित हुईं महिला चिकित्सक,कहा- ठीक होने के बाद दोगुनी ऊर्जा से फिर करूंगी काम

रायपुर। विश्व महामारी कोरोना के खिलाफ लड़ाई में स्वास्थ्य महकमा पूरी तरह से मुस्तैद है। लोगों को कहते सुना जा सकता है कि आज के समय में चिकित्सक हमारे तारनहार है, जो कोरोना महामारी के सामने दीवार की तरह खड़े होकर समाज व देश के प्रति अपने कर्तव्यों का बखूबी से निर्वहन कर रहे हैं। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र तिल्दा में पदस्थ डाॅ.पिंकी धृतलहरे अपने कर्तव्यों का निर्वहन करतीं हुईंं स्वयं, इनके एक वर्ष का पुत्र एवं पति डाॅ. भुवनेश्वर तीनों कोरोना पाजिटिव हो गये। डाॅ.पिंकी धृतलहरे कहती है कि चिकित्सा फिल्ङ के होने के बावजूद हम बहुत घबरा गए थे, खासकर एक वर्ष के पुत्र के बारे में ज्यादा चिंता होने लगी परन्तु धैर्य और हिम्मत और सकारात्मक सोच के साथ हम तीनों होम आइसोलेशन में हैं और एक सप्ताह में ही होम आइसोलेशन के गाइडलाइन के सही तरीके से पालन करने से स्वास्थ्य में सुधार हो रहा है। आइसोलेशन की अवधि पूर्ण होते ही फिर से अपनी ड्यूटी पर दोगुनी ऊर्जा के साथ उपस्थित होकर, किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है, कर्तव्य मार्ग से पीछे नहीं हट सकती, भारत को कोरोना मुक्त करने में सहभागी बनूँगी। डॉ.पिंकी कहती है कि मरीजों की सेवा करना हमारा फर्ज है। इनके पति डॉ भुवनेश्वर धृतलहरे होम आइसोलेशन कन्ट्रोल रुम रायपुर में सेवारत हैं। वे कहते है कि जनमानस की सेवा करने का अवसर है। इस कोरोना महामारी को रोकने के लिए यथासंभव जतन करने के लिए सन्कल्पित है। मार्च 2020 से अब तक कोरोना महामारी के रोकथाम एवं बचाव, तथा कोरोना मरीजों को आवश्यक चिकित्सकीय उपचार परामर्श में लगातार लगे हुए हैं। ऐसे है कोरोना योध्दा डॉ.दंपत्ति अपने कर्तव्यों के प्रति ऐसी लगन‌ है‌ कि बच्चों की केयर के लिए मिलने वाली छुट्टी भी नहीं ली और निरन्तर कर्तव्य पथ पर डटे रहे।

 

27-03-2021
तकनीकी खराबी के कारण इसरो ने 'जीआईसैट'-1 का प्रक्षेपण रोका

नई दिल्ली। भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी (इसरो) ने तकनीकी खराबी के कारण जियो इमेजिंग सैटेलाइट (जीआईसैट-1) का प्रक्षेपण रोक दिया है। सैटेलाइट को 28 मार्च को 'जीएसएलवी-एफ10' रॉकेट से लांच किया जाना था। इसमें कुछ तकनीकी गड़बड़ी आ जाने से इस सैटेलाइट को 18 अप्रैल को लांच करने का फैसला लिया गया।

Please Wait... News Loading