GLIBS

31-07-2021
भूपेश बघेल पहुंचे अस्पताल, आलोक चंद्राकर के स्वास्थ्य का जाना हालचाल

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शनिवार को राजधानी रायपुर के रामकृष्ण केयर अस्पताल पहुंचकर इलाज के लिए दाखिल आलोक चंद्राकर के स्वास्थ्य के बारे में चिकित्सकों से जानकारी ली। उनके जल्द स्वास्थ्य लाभ की कामना की। आलोक चंद्राकर पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर के बड़े भाई हैं। विधायक बृहस्पत सिंह और मोहितराम केरकेट्टा भी मुख्यमंत्री के साथ थे। मुख्यमंत्री ने अस्पताल के संचालक डॉ संदीप दवे से आलोक चंद्राकर को बेहतर से बेहतर इलाज की सुविधाएं उपलब्ध कराने कहा।

31-07-2021
राजस्व मंडल के अध्यक्ष सीके खेतान हुए सेवानिवृत्त, भूपेश बघेल से की मुलाकात 

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से शनिवार को  उनके निवास कार्यालय में छत्तीसगढ़ राजस्व म्ंडल के अध्यक्ष सीके खेतान ने सौजन्य मुलाकात की। सीके खेतान आज सेवानिवृत्त हुए। मुख्यमंत्री बघेल ने उन्हें स्वस्थ, सुदीर्घ और खुशहाल जीवन के लिए शुभकामनाएं दी।

31-07-2021
भाजयुमो का जिला प्रशिक्षण सत्र हुआ शुरू, रंजना साहू ने कहा- कार्यकर्ताओं के दम पर मिलती है जीत

धमतरी। पार्टी के मजबूती प्रदान करने भारतीय जनता युवा मोर्चा की जिला कार्यसमिति की बैठक भाजपा जिला कार्यालय में शुरू हुई। इसमें युवाओं में जोश भरते विधायक रंजना साहू ने कहा कि लोकतंत्र में विपक्ष की भूमिका बहुत ही महत्वपूर्ण होती है। रंजना साहू ने युवा मोर्चा के सदस्यों से आव्हान करते हुए कहा कि आपका दिया हुआ परिवारिक माहौल तथा सहयोग मेरे जीवन की सबसे बड़ी पूंजी है। चुनाव व्यक्ति नहीं दल लड़ता है। 2023 में भी कमल छाप व भारतीय जनता पार्टी लड़ेगी। बैठक में हम सब शपथ लेकर जाएं कि 2023 में छत्तीसगढ़ में तथा 2024 में केंद्र में नरेंद्र मोदी को सुरक्षित हाथों में राज्य व देश का भविष्य सौंपेंगे। इसमें सर्वाधिक निर्णायक भूमिका सिर्फ और सिर्फ आपकी ही होगी। इस अवसर पर युवा मोर्चा जिला अध्यक्ष विजय मोटवानी, दमयंती साहू, खूबलाल ध्रुव, चेतन हिंदूजा, विजय साहू, जय हिंदूजा, अविनाश दुबे, कैलाश सोनकर, शुभम यदु प्रशिक्षण में प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

 

31-07-2021
जेडीयू के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाए गए ललन सिंह, नीतीश कुमार के हैं करीबी

नई दिल्ली। जनता दल यूनाइडेट (जेडीयू) के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह होंगे। शनिवार को दिल्ली में जेडीयू की कार्यकारिणी की बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की मौजूदगी में केंद्रीय मंत्री आरसीपीसी सिंह ने राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दिया। इसके बाद ललन सिंह को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने की घोषणा की गई। कार्यकारिणी की बैठक में पार्टी के सभी सांसद और करीब दो दर्जन राज्यों के प्रदेश अध्यक्ष शामिल हुए। जेडीयू के अध्यक्ष पद की रेस में राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह का नाम सबसे आगे चल रहा था। ललन सिंह सीएम नीतीश कुमार के बेहद करीबी माने जाते हैं। पिछले साल दिसंबर महीने में ही पार्टी ने प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी पर आरसीपी सिंह को बिठाया था। तमाम सियासी समीकरणों को साधते हुए उनको पार्टी में शीर्ष नेतृत्व का दर्जा दिया गया था लेकिन हाल ही में केंद्रीय मंत्री बनाए गए हैं। मंत्री बनने के बाद वह पार्टी के लिए समय नहीं निकाल पा रहे हैं, ऐसे में पार्टी को एक बार फिर नए अध्यक्ष की तलाश करनी पड़ी। राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह को कर्पूरी ठाकुर का शिष्य माना जाता है। वर्तमान में मुंगेर लोकसभा सीट से जेडीयू के सांसद है। 

 

31-07-2021
भाजपा सांसद बाबुल सुप्रियो ने की राजनीति से संन्यास लेने की घोषणा, एफबी पोस्ट में लिखा- मैं तो जा रहा हूं

कोलकाता। पश्चिम बंगाल के आसनसोल से भाजपा सांसद बाबुल सुप्रियो ने शनिवार को फेसबुक पोस्‍ट लिखकर राजनीति छोड़ने का ऐलान किया। उन्‍होंने लिखा - 'मैं तो जा रहा हूं, अलविदा।' उन्‍होंने कहा कि वह एक महीने के भीतर अपना सरकारी आवास छोड़ देंगे। वह संसद सदस्य पद से भी इस्तीफा दे रहे हैं। बाबुल सुप्रियो राजनीति में आने से पहले प्‍लेबैक सिंगर थे। फेसबुक पर एक लंबा चौड़ा पोस्‍ट कर बाबुल सुप्रियो ने अपने इस्‍तीफे के बारे में सबकुछ बताया है। उन्‍होंने लिखा है,'मैं किसी और पार्टी में नहीं जा रहा हूं। टीएमसी, कांग्रेस या सीपीआईएम, कहीं भी नहीं।  न ही किसी पार्टी ने उन्‍हें फोन किया है और न वे कहीं जा रहे है। मैं सिर्फ एक टीम का खिलाड़ी हूं और हमेशा एक टीम का समर्थन किया है। सिर्फ एक पार्टी की है बीजेपी वेस्‍ट बंगाल। मैंने अमित शाह और जेपी नड्डा के सामने राजनीति छोड़ने की बात की है। मैं उनका आभारी हूं कि उन्होंने मुझे कई मायनों में प्रेरित किया है।' अपने भावुक पोस्‍ट में सुप्रियो लिखते हैं कि मैंने सबकी बात सुनी, माता पिता, पत्‍नी,बेटी सबकी। सामाजिक कार्य करना है तो बिना राजनीति के भी कर सकते हैं - चलो थोड़ा पहले खुद को संगठित करते हैं फिर। लेकिन मुझे एक सवाल का जवाब देना होगा क्योंकि यह सही है! सवाल उठेगा कि मैंने राजनीति क्यों छोड़ी? मंत्रालय के जाने से इनका कोई लेना देना है क्या? हां वहां है - कुछ लोगों के पास होना चाहिए! चिंता नहीं करना चाहते हैं तो अगर वह सवाल का जवाब देगी तो सही होगा-इससे मुझे भी शांति मिलेगी।
सुप्रियो ने लिखा- 'एक और बात.. बंगाल चुनाव से पहले राज्य नेतृत्व के साथ कुछ मुद्दे थे - यह हो सकता है लेकिन उनमें से कुछ सार्वजनिक रूप से आ रहे थे। कहीं न कहीं मैं इसके लिए जिम्मेदार हूं। इसके लिए और नेता भी बहुत जिम्मेदार हैं। हालांकि मैं नहीं बताना चाहता कि कौन जिम्मेदार है, लेकिन पार्टी की असहमति और वरिष्ठ नेताओं की असहमति से नुकसान हो रहा था।'
सुप्रियो ने अपनी पोस्‍ट में स्‍वामी रामदेव का भी जिक्र किया। उन्‍होंने लिखा- आसमान में स्वामी रामदेवजी से फ्लाइट पर छोटी सी बातचीत हुई। जब पता चला कि बंगाल को बीजेपी बहुत गंभीरता से ले रही है, सत्ता से लड़ेगी, लेकिन शायद सीट की उम्मीद नहीं। इस चुनौती को बंगाली के रूप में लेना था उस समय। इसलिए मैंने सबको सुना लेकिन जो महसूस किया वो किया अनिश्चितता से डरे बिना, जो सही सोचा वो किया। स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक की नौकरी छोड़कर मुंबई जाते समय वर्ष 1992 में भी यही किया था, आज फिर वही किया।'

 

31-07-2021
मुख्यमंत्री ने बालगंगाधर तिलक की पुण्यतिथि पर किया नमन

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बधेल ने स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, प्रखर चिंतक एवं समाज सुधारक बाल गंगाधर तिलक की 1 अगस्त को पुण्यतिथि पर उन्हें नमन किया है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि तिलक ने सबसे पहले पूर्ण स्वराज की मांग उठाई। उन्होेंने ‘स्वराज मेरा जन्म्सिद्ध अधिकार है‘ का प्रेरणादायक उद्घोष किया। इससे जन-जन में देश की स्वतंत्रता के प्रति जागरूकता का संचार हुआ। उनके प्रति लोगों के प्यार और विश्वास के कारण उन्हें ’लोकमान्य’ की उपाधि दी गई है। जनता को देश प्रेम एवं अन्याय के विरूद्ध संगठित करने के लिए उन्होंने सार्वजनिक गणेश उत्सव और शिवाजी उत्सव की शुरूआत की। देश के स्वतंत्रता आंदोलन में उनका योगदान सदैव अविस्मरणीय रहेगा।

 

31-07-2021
आर्थिक मामलों पर अपनी वाहवाही लूटने वाली कांग्रेस सरकार की पोल कैग की रिपोर्ट ने खोली: कौशिक

रायपुर। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने छतीसगढ़ विधानसभा में पेश हुए महालेखाकार वर्ष 2019-20 की स्टेट फाइनेंस रिपोर्ट में आये तथ्यों पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि कैग की रिपोर्ट छतीसगढ़ की आर्थिक बदहाली का जीता जागता सबूत है। ऐसी कोई भी पैरामीटर नहीं है,जो नकारात्मक न हो, सभी आंकड़े अपनी तय सीमा से काफी आगे जा चुके है। किसी भी निर्वाचित सरकार का उद्देश्य होता है अपनी आय के स्रोतों को बढ़ाना ताकि जनहित के कार्यो में खर्च बढ़ाया जा सके लेकिन प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने उल्टा किया है आय को घटाकर, व्यय को बढ़ाया है। नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि सरकार का वित्तीय घाटा वर्ष 19-20  में 17,969.55 करोड़ हो गया जो अब तक के इतिहास में सबसे ज्यादा घाटा है। यह घाटा प्रदेश की जीएसडीपी का अधिकतम 3.5 फीसदी होना चाहिए लेकिन यह 5.46 जा पहुंचा है।

इसके दूरगामी परिणाम बहुत घातक है। प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने राजस्व व्यय में एतिहासिक वृद्धि की है, पिछले वर्ष की तुलना में यह व्यय 9066.14 करोड़ ज्यादा है जबकि विकास के लिए किए जाने वाले पूंजीगत व्यय में भारी कमी हुई है जिससे प्रदेश में अधोसंरचना व विकास के काम पूरी तरह बाधित है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की सरकार वित्तीय प्रबंधन पूरी तरह फेल है, जहाँ पैसा लगाया वहाँ के केवल .03 प्रतिशत रिटर्न आया और कर्जे पर सरकार ने औसत 6.83 प्रतिशत ब्याज पटाया है। यह किसी भी सरकार के लिए आर्थिक दिवालिया होने का पहला कदम हो सकता है और कांग्रेस सरकार उसी रास्ते पर अग्रसर है। प्रदेश सरकार का कैश बैलेंस भी पिछले वर्ष की तुलना में 881.28 करोड़ घटा है। जो बेहद चिंताजनक है। नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कोई ऐसा आंकड़ा नहीं है जो प्रदेश के सकारात्मक हो और अगर अब भी कांग्रेस सरकार नहीं जागती है तो प्रदेश को आर्थिक दिवालियापन होने से नहीं बचाया जा सकता है। इसके लिये पूरी तरह से कांग्रेस सरकार की आर्थिक नीति जिम्मेदार होगी।

 

31-07-2021
शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के बीच बेहतर आर्थिक संतुलन के साथ समग्र विकास हमारा लक्ष्य: भूपेश बघेल

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि प्रदेश के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के बीच बेहतर आर्थिक संतुलन के साथ समग्र विकास हमारा लक्ष्य है। बीते ढाई वर्षाें के दौरान छत्तीसगढ़ अपनी नई आर्थिक संरचना के साथ लगातार प्रगति कर रहा है। राज्य में नए आर्थिक स्त्रोतों की पहचान करने के साथ पुराने और परंपरागत आर्थिक स्त्रोतों को पुनर्जीवित करने का काम किया गया है। मुख्यमंत्री शनिवार को अपने निवास कार्यालय से चतुर्थ छत्तीसगढ़ राज्य वित्त आयोग के नवनियुक्त अध्यक्ष सरजियस मिंज के पदभार ग्रहण कार्यक्रम को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सम्बोधित कर रहे थे।


गौरतलब है कि राज्य शासन ने 29 जुलाई को अधिसूचना जारी कर चतुर्थ राज्य वित्त आयोग का गठन करते हुए सरजियस मिंज को अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। सरजियम मिंज ने आज मंत्रालय, महानदी भवन, नवा रायपुर में पदभार ग्रहण किया। इस अवसर पर सरगुजा विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष और विधायक गुलाब कमरो, विधायक द्वय विनय भगत और मोहित केरकेट्टा तथा वित्त विभाग की सचिव शहला निगार भी उपस्थित थीं। मुख्यमंत्री ने सरजियस मिंज को बधाई और शुभकामनाएं देते हुए कहा कि राज्य की वित्तीय व्यवस्थाओं के प्रबंधन में राज्य वित्त आयोग की अनुशंसाएं बड़ी मार्गदर्शक होती हैं। मिंज ने प्रशासनिक अधिकारी के रूप में लम्बे समय तक छत्तीसगढ़ की सेवा की है। वे यहां के सामाजिक और आर्थिक ढांचे तथा राज्य सरकार की प्राथमिकताओं को अच्छी तरह समझते हैं, उनके अनुभवों का लाभ प्रदेश को मिलेगा।

छत्तीसगढ़ राज्य वित्त आयोग के अध्यक्ष सरजियस मिंज ने उन्हें नई जिम्मेदारी सौंपने के लिए मुख्यमंत्री के प्रति आभार प्रकट किया। उन्होंने कहा कि वे राज्य सरकार की मंशा के अनुरूप अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन करेंगे। उनकी कोशिश होगी कि शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के संतुलित विकास के लिए संसाधनों का समुचित प्रवाह हो सके। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों, आदिवासियों और कृषकों के उत्थान के लिए किए जा रहे प्रयासों से उत्साह का वातावरण बना है। इस अवसर पर जे.मिंज, भारत सिंह, बीपीएस नेताम, आनंद टोप्पो, प्रभु किण्डो, विकास भास्कर, प्रिंस लकड़ा, वाल्टर कुजूर, विक्रम सिंह लकड़ा, टी.तिग्गा, डॉ.लक्ष्मण, जीएस धनंजय और जीएल भास्कर मंत्रालय में उपस्थित थे।

 

31-07-2021
छत्तीसगढ़ सरकार समाज के हर वंचित तबके तक न्याय पहुंचाने के लिए संकल्पित: भूपेश बघेल

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि छत्तीसगढ़ सरकार समाज के हर वंचित तबके तक न्याय पहुंचाने के लिए संकल्पित है। हमारी इस मुहिम में शाकम्भरी समाज सर्वोच्च प्राथमिकता में शामिल है। पिछले ढाई वर्षों में छत्तीसगढ़ के कृषि क्षेत्र में बड़े बदलावों की शुरूआत हुई है, जिससे किसानों की आय में वृद्धि होने के साथ-साथ किसानों के जीवन में सकारात्मक बदलाव आया है। मुख्यमंत्री आज यहां अपने निवास कार्यालय से छत्तीसगढ़ राज्य शाकम्भरी बोर्ड के नवनियुक्त पदाधिकारियों के पदभार ग्रहण कार्यक्रम को वर्चुअल माध्यम से संबोधित कर रहे थे।


कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ राज्य शाकम्भरी बोर्ड के अध्यक्ष राजकुमार पटेल, सदस्य दुखवा पटेल, हरी पटेल,अनुराग पटेल और पवन पटेल ने पदभार ग्रहण किया। कार्यक्रम का आयोजन बीज निगम के कार्यालय में किया गया। मुख्यमंत्री बघेल ने कार्यक्रम में कहा कि छत्तीसगढ़ में साग-सब्जी, फल और फूल का उत्पादन करने वाले शाकम्भरी समाज के उत्थान की जिम्मेदारी शाकम्भरी बोर्ड के अध्यक्ष और सदस्यों के कंधों पर है। समाज के लोगों को जागरूक करने, उनकी समस्याओं का समाधान करने और शासन की योजनाओं का लाभ अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाने के लिए बोर्ड के पदाधिकारियों को काम करने की आवश्यकता है।


मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ में साग-सब्जियों और फल-फूलों के उत्पादन की व्यापक संभावनाएं हैं। इसे बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकार द्वारा हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं। वर्तमान में साग-सब्जियों और फल-फूलों के उत्पादन में छत्तीसगढ़ का देश में 13वां स्थान है। नरवा-गरवा-घुरवा-बाड़ी योजना का बाड़ी एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। योजना में पुरानी बाड़ियों के जीर्णोद्धार के लिए किसानों को घेरा करने, भूमि सुधार, पौधों एवं बीज की व्यवस्था के लिए सहायता देने के साथ उत्पादक किसानों को  आवश्यक मार्गदर्शन दिया जा रहा है। गौठानों में भी महिला स्व-सहायता समूह इनका अच्छा उत्पादन कर रहे हैं। नरवा कार्यक्रम के अंतर्गत जगह-जगह नालों को बांध कर सिंचाई की व्यवस्था की जा रही है,जिसका लाभ नाले के किनारों की बाड़ियों को भी मिल रहा है।

नदियों के दोनों किनारों को विद्युत लाइन बिछाने का काम शुरू किया गया है,जिससे सिंचाई व्यवस्था मजबूत होगी और साग-सब्जियों का उत्पादन भी बढ़ेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि उद्यानिकी फसलों पर ज्यादा अनुसंधान और खेती की नवीन तकनीक के प्रचार-प्रसार के लिए दुर्ग जिले के सांकरा में उद्यानिकी विश्वविद्यालय खोला जा रहा है साथ ही बेमेतरा,जशपुर,धमतरी और बालोद जिले में उद्यानिकी महाविद्यालय शुरू किये जा रहे हैं। सीएम बघेल ने कहा कि टपक सिंचाई योजना और सूक्ष्म सिंचाई योजना के तहत किसानों को अनुदान भी दिया जा रहा है। इसका लाभ उठाने के लिए ज्यादा से ज्यादा किसानों को प्रेरित किया जाये। छत्तीसगढ़ राज्य शाकम्भरी बोर्ड के अध्यक्ष  राजकुमार पटेल ने इस अवसर पर मुख्यमंत्री के प्रति आभार प्रकट करते हुए कहा कि शाकम्भरी बोर्ड के माध्यम से प्रदेश में उद्यानिकी फसलों को बढ़ावा देने और मरार-पटेल समाज को योजनाओं का लाभ पहुंचाने का सक्रिय प्रयास किया जाएगा। उद्यानिकी विभाग के संचालक माथेश्वरन व्ही. ने अतिथियों के प्रति आभार प्रकट किया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री बघेल की मंशा के अनुरूप विभाग द्वारा शाकम्भरी बोर्ड के समन्वय से विभागीय योजनाओं का प्रभावी क्रियान्वयन किया जाएगा। इस अवसर पर छत्तीसगढ़ मरार समाज के प्रदेशाध्यक्ष राजेन्द्र नायक, संरक्षक टीआर पटेल, संयोजक पवन पटेल और सलाहकार नंदकुमार पटेल सहित समाज के अनेक पदाधिकारी और सदस्य उपस्थित थे।

 

31-07-2021
मुख्यमंत्री और स्कूल शिक्षा मंत्री ने ओपन स्कूल 12वीं के सफल छात्रों को दी शुभकामनाएं 

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने छत्तीसगढ़ राज्य ओपन स्कूल 12वीं में सफल छात्रों को बधाई और शुभकामनाएं दी है। उन्होंने छात्रों के उज्जवल भविष्य की कामना की है। बता दें कि स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेम साय सिंह टेकाम ने शनिवार को छत्तीसगढ़ राज्य ओपन स्कूल की हायर सेकेंडरी स्कूल सर्टिफिकेट मुख्य परीक्षा वर्ष 2021 का परिणाम आॅनलाइन घोषित किया। घोषित परीक्षाफल 98.20 प्रतिशत रहा। इसमें उत्तीर्ण बालिकाओं का प्रतिशत 98.30 और बालकों का प्रतिशत 98.12 है। इस अवसर पर प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा डॉ. आलोक शुक्ला, राज्य ओपन स्कूल के सचिव प्रोफेसर वीके.गोयल सहित अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे। परीक्षा परिणाम छात्र छत्तीसगढ़ राज्य ओपन स्कूल की वेबसाइट http://www.sos.cg.nic.in पर उपलब्ध है। इस वर्ष नोवेल कोरोना वायरस कोविड 19 के संक्रमण के कारण छात्रों की परीक्षा घर से ली गई। परीक्षा में अनुउत्तीर्ण छात्र आगामी परीक्षा के आवेदन फार्म अपने अध्ययन केन्द्र में जमा कर परीक्षा में सम्मिलित हो सकते हैं।

Please Wait... News Loading