GLIBS

टीकाकरण रोके जाने पर भाजयुमो ने किया विरोध, मना रहे ब्लैक डे 

अमित कुमार  | 07 May , 2021 02:14 PM
टीकाकरण रोके जाने पर भाजयुमो ने किया विरोध, मना रहे ब्लैक डे 

कोरिया। भाजयुमो प्रदेश अध्यक्ष अमित साहू के निर्देश पर प्रदेशभर के सभी बूथों, मंडलों और जिलों के कार्यकर्ता शुक्रवार को टीकाकरण रोके जाने का विरोध किया और 7 मई को ब्लैक डे के रूप में मनाया। इसके बाद भाजयुमो कार्यकर्ता अमित साहू के निर्देश पर 8 मई से कोरिया जिले के  सभी ग्राम पंचायतों में 18 से 44 वर्ष आयु वर्ग का टीकाकरण रोके जाने और 45 से अधिक उम्र के नागरिकों के टीकाकरण में उदासीनता व अव्यवस्था के खिलाफ पंचायत सचिव को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंप कर जनहित में निर्णय की मांग करेंगे। जिला भाजयुमो नेता शारदा गुप्ता ने बताया कि उन्होंने वीडियो जारी करके सरकार की गलत नीतियों के खिलाफ सोशल मीडिया पर हैश टैग ब्लैक डे ऑफ छत्तीसगढ़ के साथ अभियान चलाने का आग्रह किया था। इसके फलस्वरूप जिले भर के कार्यकर्ताओं ने प्रदेश सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला वहीं कार्यकर्ता अपनी डीपी भी ब्लैक कर सांकेतिक विरोध दर्ज कर रहे हैं। गौरतलब है कि इसके पहले भी भाजयुमो कोरिया ने केंद्रीय स्वास्थ मंत्री को पत्र लिख कर इस मामले में हस्तक्षेप करने का आग्रह किया था, जिसे उन्होंने स्वीकार किया। जिलेभर से बड़ी संख्या में नागरिकों ने विभिन्न सोशल मीडिया एवं समाचार पत्रों में इस बाबत विरोध दर्ज किया था।

भाजयुमो का कहना है कि प्रदेश में कोरोना के विरुद्ध लड़ाई में विफल है। प्रदेश सरकार की गलत नीतियों का ही परिणाम है कि आज पूरा प्रदेश कोरोना की चपेट में हैं। दुर्भाग्यपूर्ण बात यह हैं, जब प्रदेश को सुरक्षित करने युद्ध स्तर पर वैक्सीनेशन अभियान चलाने की आवश्यकता हैं, तब प्रदेश में मुख्यमंत्री की ओर से वैक्सीनेशन पर भी चुनावी राजनीति की जा रही हैं। भाजयुमो ने प्रदेश सरकार से छत्तीसगढ़ में वैक्सीनेशन को लेकर नीति स्पष्ट करने की मांग की है। भाजयुमो का कहना है कि इसके बाद भी यदि वैक्सीनेशन को लेकर सरकार यदि गम्भीरता नहीं दिखाती और जल्द युवाओं का वैक्सीनेशन करने की नीति बना कर कार्य नहीं करती और वैक्सीनेशन में आ रही परेशानी व अव्यवस्था को दूर करने  ठोस कदम नहीं उठाए जाते हैं तो युवा मोर्चा छत्तीसगढ़ की जनता के हित के लिए सड़क पर उतरने मजबूर होगा।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.