GLIBS

एसपी संतोष कुमार सख्त, अपराधियों की खैर नहीं, विशेष अभियान में 170 से अधिक फरार स्थायी वारंटी पकड़े

राहुल चौबे  | 24 Jun , 2021 09:51 AM
एसपी संतोष कुमार सख्त, अपराधियों की खैर नहीं, विशेष अभियान में 170 से अधिक फरार स्थायी वारंटी पकड़े

रायपुर/रायगढ़। एसपी संतोष कुमार की कार्यप्रणाली से रायगढ़वासी बेहद खुश है। बता दें ​कि शुरूआत से अपने हेल्पिंग नेचर और तेज तर्रार छवि के लिए जाने—जाने वाले एसपी संतोष सिंह 170 से अधिक फरार वारंटियों, आरोपियों, गुंडे और बदमाशों की जांच के लिए 16 जून से एक सप्ताह का विशेष अभियान पूरे जिले में चलाया था। जिसमें 156 स्थाई वारंटी, 15 गिरफ्तारी वारंटी और 257 जमानती वारंट व समंस की तामिली की गई है । अभियान दौरान लंबित गंभीर मामलों के फरार आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायालय पेश किया गया है। तामिल किए गए स्थायी वारंटियों की भी अखोनी कहानी है । कई ऐसे वारंटी थे, जिन्हें वारंट जारी होने की जानकारी नहीं थी। कई शातिर आरोपी जिले के अपराध में संलग्न होने से न्यायालय द्वारा वारंट जारी किए जाने पर पहचान छिपाकर सीमावर्ती जिलों में गुजर-बसर करने लगे थे।

दरअसल चौकी कनकबीरा का फरार स्थाई वारंटी पुरूषोत्तम चौहान पर दहेज प्रताड़ना के मामले में जेएमएफसी सारंगढ़ के न्यायालय ने स्थायी वारंट जारी किया गया था। चौकी प्रभारी कनकबीरा गिरधारी साव लगातार वारंटी के घर पर दबिश दे रहे थे। वारंटी फरार था, मुखबिर लगाने पर जानकारी मिली कि वारंटी रायपुर में सिक्योरिटी गार्ड का काम कर रहा है, जिसे गिरफ्तार कर न्यायालय पेश किया गया । चौकी जूटमिल का स्थायी वारंट मुन्ना उर्फ दीपक सिदार जांजगीर के होटल में अपनी पहचान छिपाकर काम कर रहा था । चोरी के मामले का स्थायी वारंटी रंजन गोड़, जूटमिल झोपड़ीपारा पिछले 10 साल से दूसरे राज्य जाकर छिपा था जो अपने परिचितों से यहां की जानकारी लेते रहता था । कुछ दिन पहले रंजन गोड़ सब्जी बेचने के काम में लग गया था,जिसकी जानकारी मिलने पर वारंट की तामिली करते हुए रंजन गोड़ को न्यायालय पेश किया गया। जूटमिल का ही स्थायी वारंटी सुशील चौहान पहचान छिपाकर ऑटो चला रहा था, लॉकडाउन के कारण बाहर रहने से पेशी पर उपस्थित नहीं हो पाना बताया ।

जमानतीय अपराधों के आरोपी भी लंबे समय से न्यायालय उपस्थित नहीं हो रहे थे, वारंट के जारी होने पर पुलिस टीम फरार वारंटियों के सकुनत दबिश देकर परिवारजनों को न्यायालय उपस्थित होने की हिदायत दी जा रही थी, लगातार दबाव बनाने पर कई वारंटी गांव आये,जिन्हें  न्यायालय पेश किया गया है। अभियान दौरान पुलिस कई गंभीर अपराधों के आरोपियों को दिगर प्रांत से पकड़ कर लायी है । लॉकडाउन के दौरान माननीय न्यायालय के आदेश पर जमानती/समंस न्यायालय जमा किया गया था । न्यायालयीन कार्य सुचारू रूप से आरंभ होने से अब लगातार वारंट व समंस थाना, चौकी को प्राप्त हो रहे हैं । अभियान दौरान रिकार्ड 428 स्थायी, गिरफ्तारी, जमानती वारंट और समंस की तामिली कर न्यायालय पेश किया गया है ।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.