GLIBS
26-07-2020
अब समय पर अस्पताल पहुंचेंगे कोरोना पीड़ित, जिला प्रशासन ने किए बेहतर इंतजाम

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के मंशानुरूप जिले में कोरोना पीड़ितों को समय पर चिकित्सा सेवा प्रदान करने के लिए जिला प्रशासन ने बेहतर इंतजाम किए हैं। नई व्यवस्था के तहत वाहनों की संख्या बढ़ाई गई है। इस संबंध में कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन ने कहा कि, जिले में बढ़ते कोरोना संक्रमण को ध्यान में रखते हुए यह व्यवस्था की गई है। कोरोना संक्रमितों को अस्पताल पहुंचाने, इलाज बाद स्वस्थ्य व्यक्तियों को घर तक पहुंचाने और प्राथमिक रूप से कोरोना संक्रमित के संपर्क में आए व्यक्तियों को क्वारेंटाइन सेन्टर तक पहुंचाने के लिए वाहनों की पर्याप्त व्यवस्था की गई है। इसके लिए पहले से उपलब्ध रायपुर एम्बुलेंस सर्विस की 6 बस,108 नंबर की 5 वाहनों के अतिरिक्त अब छत्तीसगढ़ एम्बुलेंस सेवा संघ की 10 और 25 अन्य बसों की मरीजों के परिवहन के लिए व्यवस्था की गई है। उन्होंने कहा कि जिले में कोरोना संक्रमितों को अब अस्पताल तक पहुंचाने में देरी नहीं होगी। मरीजों को यथाशीघ्र चिकित्सा प्रदान की जा सकेगी। शहर के सभी जोन में 1 बस और 1 एम्बुलेंस,बिरगांव को 4 बस और एम्स,मेकाहारा,माना हॉस्पिटल,लालपुर हॉस्पिटल और इन्डोर स्टेडियम हॉस्पिटल से स्वस्थ्य मरीजों को घर तक पहुंचाने के लिए अलग से 4 बस की व्यवस्था की गई है।

20-05-2020
दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य योजना ‘आयुष्मान भारत’ के लाभार्थियों की संख्या 1 करोड़ के पार, पीएम मोदी ने दी बधाई

नई दिल्ली। आयुष्मान भारत ने एक करोड़ लाभार्थियों का आंकड़ा पार कर लिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आयुष्मान भारत योजना के तहत एक करोड़ लाभार्थियों का आंकड़ा पार करने पर खुशी जाहिर की। अभियान की कामयाबी पर पीएम मोदी ने डॉक्टर, नर्स, हेल्थकेअर स्टाफ की तारीफ की। उन्होंने कहा कि 2 साल से भी कम समय में आयुष्मान भारत ने बहुत बड़ी कामयाबी हासिल की है। यह योजना विश्व की सबसे बड़ी स्वास्थ्य योजना है। इस अभियान का कई जिंदगियों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा है। बता दें कि  मोदी ने सितंबर 2018 को प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना-आयुष्मान भारत की शुरूआत की थी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को कहा कि आयुष्मान भारत योजना के लाभार्थियों की संख्या एक करोड़ को पार कर गई है। प्रधानमंत्री ने अपने ट्वीट में कहा, 'यह प्रत्येक भारतीय के लिए गर्व का विषय है कि आयुष्मान भारत के लाभार्थियों की संख्या एक करोड़ को पार कर गई है। दो वर्ष से भी कम समय में इस कार्यक्रम ने काफी संख्या में लोगों के जीवन पर सकारात्मक प्रभाव डाला है। उन्होंने इस योजना के सभी लाभार्थियों और उनके परिवार के लोगों को शुभकामनाएं दी और उनके अच्छे स्वास्थ्य की कामना की। उन्होंने आयुष्मान भारत से जुड़े सभी डॉक्टरों, नर्सो, स्वास्थ्य कर्मियों एवं अन्य लोगों की सराहना करते हुए कहा कि उनके प्रयासों ने ही इसे दुनिया का सबसे बड़ा स्वास्थ्य सेवा कार्यक्रम बनाया है। मोदी ने कहा, 'इस योजना ने अनेक भारतीयों का भरोसा जीता है जिसमें खासतौर पर गरीब एवं पिछड़े वर्ग के लोग शामिल हैं।' उन्होंने कहा कि आयुष्मान भारत योजना का सबसे बड़ा फायदा इसकी सुगमता है। उन्होंने बताया, 'लाभाथिर्यों को गुणवत्तापूर्ण और सस्ती चिकित्सा सेवा न केवल पंजीकृत स्थान पर बल्कि भारत के किसी भी हिस्से में उपलब्ध हो सकती है।' उन्होंने कहा कि इससे उन लोगों को भी मदद मिलती है जो घर से दूर होते हैं या ऐसे स्थान पर पंजीकृत होते हैं जहां से वे संबंधित नहीं हैं।

26-03-2020
पशु आहार और चिकित्सा सेवा लाॅक डाउन के पहरे से बाहर

रायपुर। प्रदेश में पशुआहारों पर किसी प्रकार की कोई रोक नहीं होगी। बता दें कि कृषि उत्पादन आयुक्त एवं प्रमुख सचिव डाॅ.मनेन्द्र कौर द्विवेदी द्वारा सचिव, सामान्य प्रशासन विभाग को पत्र लिखा है कि कुक्कुट आहार एवं फिश फिड एवं पशु चिकित्सा सेवाओं को लाॅकडाउन से मुक्त रखा जाए। इस संबंध में सभी जिलों के कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों को निर्देश दिए गए हैं।
कृषि उत्पादन आयुक्त के पत्र में भारत सरकार के पशुपालन,डेयरी विभाग,गृह मंत्रालय एवं छत्तीसगढ़ शासन के सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा जारी पत्रों में पशु चिकित्सा सेवाएं,अति आवश्यक सेवाएं होने, डेयरी, मिल्क बूथ,मिट,फिश एवं पशु चारा दुकानों को लाॅक डाउन से मुक्त रखने एवं आवश्यक सामग्रियों से परिवहन में छूट होने का उल्लेख करते हुए पशु, कुक्कुट आहार एवं फिश फिड तथा आहार के घटक-मक्का, सोया, राइस ब्रान खली, चूनी, सूखा, हरा चारा, लाइम स्टोन प्रिन्ट, रोल ग्रिड, हाई कैल्सियम फाॅस्फेट, दवाई, वैक्सीन, दुग्ध पेकिंग और वितरण सामग्री को लाॅक डाउन से मुक्त रखते हुए प्रदेश में व अन्य राज्यों से परिवहन की अनुमति देने के साथ ही पशु चिकित्सा विभाग के स्टाॅफ को भी परिवहन में छूट देने के संबंध में लिखा गया है।

18-02-2020
मरीजों का ऑपरेशन के लिए लंबा इंतजार हुआ खत्म, एम्स में अब 10 नए ओटी की सुविधा

रायपुर। मरीजों को बेहतर चिकित्सा सेवा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से उनकी सुविधाओं को देखते हुए एम्स में 10 ओटी बन कर पूरी तरह तैयार है। पहले यहां महीने में एक सर्जन को दो दिन सर्जरी के लिए मिलते थे, लेकिन अब सप्ताह में एक से दो दिन सर्जरी होने लगी है। एम्स में पहले की तुलना वर्तमान में सुविधाएं काफी बढ़ गई है। यहां अब ओपीडी दो शिफ्टों में चल रही है, जिसमे लगभग 2700 से तीन हजार मरीजों का इलाज किया जा रहा है। अब एम्स 1000 बेड का अस्पताल हो गया है। नए ब्लॉक बनने के बाद ओपीडी अलग-अलग ब्लॉक में है जहां मरीजों का इलाज किया जा रहा है। अब हर विभाग के पास अपने अलग ओटी बन गए है जिससे मरीजों की परेशानी काफी हद तक कम हो गई है।

 

07-01-2020
सुलेमानी के अंतिम संस्कार में उमड़ा जन सैलाब, भगदड़ में 35 से अधिक की मौत, कई घायल

तेहरान। इराक में अमेरिकी हवाई हमले में मारे गए ईरान के सैन्य कमांडर कसिम सुलेमानी की यहां केरमन शहर में शव यात्रा के दौरान भगदड़ मचने से कम से कम 35 से अधिक लोगों की मौत हो गई और कई घायल हो गए। स्थानीय मीडिया ने यह जानकारी दी। इराक की राजधानी बगदाद में अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे के पास पिछले शुक्रवार को हुए अमेरिकी हवाई हमले में सुलेमानी की मौत हो गई थी। अलजजीरा के अनुसार, ईरान के कुद्स फोर्स के प्रमुख सुलेमानी के अंतिम संस्कार में शामिल होने हजारों लोग इकट्ठा हुए थे। ऑनलाइन पोस्ट किए गए शुरुआती वीडियो में लोगों को सड़क पर असहाय पड़े और अन्य कई लोगों को रोते हुए और उनकी सहायता करने का प्रयास करते हुए देखा गया है। ईरान की आपात चिकित्सा सेवा के प्रमुख पीरहुसैन कौलीवंद ने इससे पहले फोन पर देश की सरकारी टीवी से भगदड़ की पुष्टि की। उन्होंने कहा कि बदकिस्मती से अंतिम संस्कार के दौरान भगदड़ के कारण हमारे कुछ हमवतन साथी घायल हो गए और कुछ लोगों की मौत हो गई है। तेहरान में इससे एक दिन पहले सड़कों पर जुलूस निकला था, जिसमें लगभग 10 लाख लोग शामिल हुए थे। इस दौरान तेहरान यूनिवर्सिटी के सामने नमाजे जनाजा की अगुआई कर रहे ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खामेनी सबके सामने रोते हुए देखे गए थे। 

 

15-11-2019
मिशन 'गगनयान' के लिए तैयार हुआ भारत, चुना गया 12 यात्रियों को

नई दिल्ली। भारत के अंतरिक्ष में पहले मानव मिशन गगनयान के लिए 12 संभावित यात्रियों को चुना गया है। वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने गुरुवार को कहा कि इसरो के पहले मानव मिशन गगनयान के लिए अंतरिक्ष यात्रियों का चुनाव पेशेवर तरीके से किया जा रहा है। बंगलूरू में आयोजित इंडियन सोसाइटी फॉर एयरोस्पेस मेडिसिन (आईएसएएम) के 58वें वार्षिक सम्मेलन के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए एयर चीफ मार्शल ने कहा कि संभावित अंतरिक्ष यात्रियों के चयन की प्रक्रिया जारी है। मेरा मनना है कि यह बहुत ही पेशेवर तरीके से किया जाएगा। इसरो के साथ बढ़ते संवाद से स्वयं चयन प्रक्रिया के प्रति समझ बढ़ी है।

भारतीय वायुसेना की भूमिका के बारे में भदौरिया ने कहा कि टीम इसरो के साथ समन्वय कर रही है और अंतरिक्ष यान के डिजाइन के पहलुओं को देख रही है जैसे कि जीवन रक्षक प्रणाली, कैप्सूल का डिजाइन, साथ ही विमानन चिकित्सा प्रकोष्ठ यह सुनिश्चित कर रहा है कि इसरो चुनौती का सफलतापूर्वक सामना कर सफलता प्राप्त करे। सम्मेलन को संबोधित करते हुए वायुसेना के चिकित्सा सेवा के महानिदेशक एयर मार्शल एमएस बुटोला ने बताया कि गगनयान के लिए यात्रियों के चयन का पहला चरण पूरा हो गया है और संभावित अंतरिक्ष यात्रा के लिए वायुसेना के चुने गए कुछ चालक दल सदस्यों का रूस में प्रशिक्षण भी पूरा हो गया है। उन्होंने कहा कि जो काम उन्हें दिया गया था उसे समयबद्ध तरीके से पूरा किया गया है। 

एक अधिकारी के मुताबिक, वायुसेना के 12 लोगों को गगनयान परियोजना के लिए संभावित यात्री के रूप में चुना गया है और इनमें से सात प्रशिक्षण के लिए रूस गए हैं। पहचान जाहिर नहीं करते हुए अधिकारी ने कहा कि रूस गए सात संभावित अंतरिक्ष यात्रियों के वापस आने के बाद चुने गए शेष संभावित यात्रियों को प्रशिक्षण के लिए भेजा जाएगा। गगनयान भारत का पहला मानव अंतरिक्ष मिशन है जिसे इसरो द्वारा दिसंबर 2021 तक प्रक्षेपित करने का लक्ष्य रखा गया है। इसरो भारतीय वायुसेना के साथ मिलकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सपने को पूरा करने के लिए काम कर रहा है। अंतरिक्ष यात्रियों को पृथ्वी की निचली कक्षा में भेजा जाएगा और यान में पर्याप्त ऑक्सीजन और गगनयान के यात्रियों के लिए जरूरी अन्य सामान के साथ कैप्सूल जुड़ा होगा। पहले गगनयान यात्रियों के लिए अधिकतम आयु सीमा 30 साल रखी गई थी लेकिन इस आयु वर्ग का कोई भी पायलट शुरुआती परीक्षा उत्तीर्ण नहीं कर सके जिसके बाद अधिकतम उम्र 41 साल कर दी गई।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804