GLIBS
30-11-2020
छत्तीसगढ़ में समर्थन मूल्य पर 2305 धान खरीदी केन्द्रों में धान खरीदी का महाअभियान 1 दिसंबर से

रायपुर। छत्तीसगढ़ में धान उत्पादक किसानों से समर्थन मूल्य पर धान खरीदी का महा अभियान एक दिसम्बर से शुरू होगा। राज्य सरकार द्वारा इसके लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि धान खरीदी के दौरान किसानों को किसी प्रकार की असुविधा न हो। किसानों की सहूलियत का पूरा ध्यान रखा जाए। मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में इस माह की 28 तारीख को आयोजित केबिनेट की बैठक में समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी 1 दिसम्बर से 31 जनवरी 2021 तक और मक्का की खरीदी 1 दिसम्बर से 31 मई 2021 तक करने के निर्देश दिए गए हैं। 1 दिसम्बर से प्रदेश में 2 हजार 305 धान खरीदी केन्द्रों में समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी शुरू की जाएगी। इस वर्ष 257 नए धान खरीदी केन्द्र बनाए गए हैं। राज्य सरकार की किसान हितैषी नीतियों से खेती-किसानी छोड़ चुके 2 लाख से अधिक किसान खेतों की ओर लौटे हैं, जिससे खेती के रकबे में वृद्धि हुई है। खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में पिछले वर्ष की तुलना में 2 लाख 49 हजार ज्यादा किसानों ने धान बेचने के लिए पंजीयन कराया है। इन्हें मिलाकर इस वर्ष समर्थन मूल्य पर धान बेचने के लिए कुल 21 लाख 29 हजार 764 किसानों ने पंजीयन कराया है। इन किसानों द्वारा बोये गए धान का रकबा 27 लाख 59 हजार 385 हेक्टेयर से अधिक है। दो सालों में धान बेचने वाले किसानों का रकबा 19.36 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 22.68 लाख हेक्टेयर और किसानों की संख्या 12 लाख 6 हजार बढ़कर 18 लाख 38 हजार हो गई है। इस प्रकार देखा जाए तो रकबे में 3 लाख 32 हजार हेक्टेयर तथा समर्थन मूल्य पर धान बेचेने वाले किसानों की संख्या में 6.32 लाख बढ़ोत्तरी हुई है।

पिछले दो वर्षाें में समर्थन मूल्य पर खरीदे गए धान की मात्रा में उल्लेखनीय वृद्धि दर्ज की गई है। वर्ष 2017-18 में छत्तीसगढ़ राज्य में समर्थन मूल्य पर 56.85 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी हुई थी। दो सालों के दौरान धान खरीदी का यह आंकड़ा 83.94 लाख मीट्रिक टन पहुंच गया। इस साल धान बेचने के लिए पंजीकृत किसानों की संख्या और धान की रकबे को देखते हुए समर्थन मूल्य पर बीते वर्ष की तुलना में ज्यादा खरीदी का अनुमान है। इसको लेकर राज्य शासन द्वारा हर संभव व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जा रही है। धान उपार्जन के लिए बारदाने की कमी के बावजूद भी सरकार इसके प्रबंध में जुटी है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने धान खरीदी के दौरान सीमावर्ती राज्यों से लाए जाने वाले धान पर कड़ाई से रोक लगाने के निर्देश जिला प्रशासन के अधिकारियों को दिए हैं। उन्होंने कहा है कि अवैध धान परिवहन करते पाए जाने पर तत्काल कार्रवाई की जाए। इसकी जिम्मेदारी सभी जिलों के जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन और संबंधित विभाग को सौंपी गई है। सीमावर्ती जिलों की सीमा से लगे 3-3 खरीदी केन्द्रों में विशेष निगरानी रखने, चेक पोस्ट लगाकर जांच करने के निर्देश दिए गए हैं। भूपेश बघेल ने यह निर्देश भी दिए हैं कि राज्य के भीतर एक से दूसरे जिलों से धान लाने ले जाने वाले किसानों को अनावश्यक रूप से परेशान नहीं किया जाए।

मुख्यमंत्री ने निर्देश पर धान खरीदी के लिए समुचित संख्या में बारदानों की व्यवस्था की जा रही है। धान उपार्जन के लिए 4 लाख 75 हजार गठान बारदानों की आवश्यकता संभावित है। छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा धान खरीदी के लिए भारत सरकार ने छत्तीसगढ़ को केवल एक लाख 43 हजार गठान बारदानों की ही आपूर्ति की स्वीकृति दी है तथा इसमें से मात्र 56 हजार गठान बारदाने प्राप्त हुए हैं। बारदानों की कमी की पूर्ति के लिए राज्य शासन द्वारा 70 हजार गठान प्लास्टिक के बारदाने खरीदी जा रही है। बारदानों की कमी से धान खरीदी प्रभावित न हो, इसके लिए राज्य में पीडीएस बारदानों का संकलन एवं मिलर के पुराने बारदानों का सत्यापन किया जा रहा है। छत्तीसगढ़ सरकार ने वर्ष 2018-19 में 15.71 लाख किसानों से 80.38 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई थी। वर्ष 2019-20 में 18.38 लाख किसानों से 83.94 लाख मीट्रिक टन धान की रिकॉर्ड खरीदी की गई थी। राज्य में दो सालों में पंजीकृत किसानों की तुलना में धान बेचने वाले कृषकों के प्रतिशत में भी बढ़ोत्तरी हुई है। वर्ष 2017-18 में 76.47 प्रतिशत किसानों ने धान बेचा था। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा प्रदेश की बागडोर संभालते ही वर्ष 2018-19 में यह आंकड़ा 92.61 प्रतिशत हो गया है। बीते विपणन वर्ष 2019-20 में राज्य में 94.02 प्रतिशत किसानों ने समर्थन मूल्य पर धान बेचा था।

 

30-11-2020
Breaking: छत्तीसगढ़ के नए मुख्य सचिव बने आईएएस अमिताभ जैन, आदेश जारी

रायपुर। छत्तीसगढ़ के नए मुख्य सचिव की जिम्मेदारी अमिताभ जैन को दी गई है। अमिताभ जैन 1989 बैच के आईएएस अधिकारी है। मुख्य सचिव आरपी मंडल आज सेवानिवृत्त हो रहे हैं, उनकी जगह मुख्य सचिव का पद अमिताभ जैन संभालेंगे। अमिताभ जैन छत्तीसगढ़ कैडर के चौथे आईएएस हैं, जो मुख्य सचिव बनेंगे। इससे पहले विवेक ढांढ, अजय सिंह और आरपी मंडल मुख्य सचिव का पद संभाल चुके हैं।  

29-11-2020
वाल्मिकी समाज की हुई राज्यस्तरीय बैठक,सामूहिक विवाह के विषय में की गई चर्चा

धमतरी। अखिल भारतीय वाल्मिकी महासभा छत्तीसगढ़ प्रदेश की राज्यस्तरीय बैठक राजधानी रायपुर में हुई। इसमें समाज को प्रगति की ओर ले जाने के लिए सभी जिलों के जिलाध्यक्ष व पदाधिकारीयों से विचार विमर्श किया गया। इसमें सफाई आयोग का गठन करना सुनिश्चित किया गया व महर्षि वाल्मिकी जयंती मे शासकीय अवकाश घोषित व सामूहिक विवाह जैसे महत्वपूर्ण विषय में चर्चा की गई। बैठक में प्रदेश के वाल्मिकी समाज के जिला अध्यक्ष व पदाधिकारी उपस्थित थे। इसमें धमतरी निवासी प्रदेश अध्यक्ष संजय डागोर व बिलासपुर से जिला अध्यक्ष विकास सिहोते व पदाधिकारी व भाटापारा से अध्यक्ष संदीप डागोर व पदाधिकारी,धमतरी के जिलाध्यक्ष अविनाश मारोठे व पदाधिकारी,कांकेर से अध्यक्ष सूरज वाल्मिकी व पदाधिकारी, बेमेतरा जिला से उपाध्यक्ष योगेश ङग्गर व पदाधिकारी, दुर्ग से उपाध्यक्ष शुभम गोईर व पदाधिकारी, कवर्धा से अध्यक्ष प्रेमसिंह राठौर व पदाधिकारी,रायपुर से जिला अध्यक्ष जयदिप ऐदवान और पदाधिकारी तिलक चौहान, मनीष महरोलिया, रामकुमार कछवाह,योगेश चौहान, अमित कछवाह,सुदेश सारसर, गजानन गोदरे, बेनी लाल सिहोते, अनिल डागोर, शिव राठौर, सुरेन्द्र ङागोर सहित छत्तीसगढ़ वाल्मिकी समाज के कार्यकर्ता उपस्थित थे।

 

29-11-2020
छत्तीसगढ़ लघु वेतन कर्मचारियों ने संसदीय सचिव से की मुलाकात, नियमितीकरण सहित तीन सूत्रीय मांगों के लिए सौंपा ज्ञापन

जगदलपुर। छत्तीसगढ़ लघु वेतन कर्मचारी संघ के पदाधिकारियों ने संसदीय सचिव रेखचंद जैन से  मुलाकात की। कर्मचारी संघ ने अपनी 3 सूत्री मांगों को लेकर संसदीय सचिव को ज्ञापन सौंपा। इसमें नियमितीकरण की मांग प्रमुख थी। संसदीय सचिव ने कहा कि वे इस मांग को लेकर राज्य सरकार को अवगत कराएंगे। इसके लिए व्यक्तिगत तौर पर पहल भी की जाएगी। इस दौरान बस्तर संभाग अध्यक्ष राजेंद्र सिंह के नेतृत्व में शंकु कर्मा, देवलाल सिंह नेताम, मंगलू उसेंडी, संगीता कोरोटी, महेश्वर जैन, केशव मरकाम, बजरंग नाग, मोहनलाल ठाकुर, कैलाश कड़ियम और मेहतु कर्मा उपस्थित थे।

28-11-2020
छत्तीसगढ़ के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी के निर्देशानुसार सरगुजा जिले में पुनरीक्षण कार्य जारी

रायपुर/अम्बिकापुर। प्रदेश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी के निर्देश के अनुसार पुनरीक्षण 2021 कार्यक्रम सम्पन्न कराया जा रहा है। सरगुजा जिले में इस कार्यक्रम के कारगर क्रियान्वयन के लिए फोटोयुक्त निर्वाचक नामावलियों का विशेष पुनरीक्षण के विशेष प्रचार-प्रसार, पढ़ना लिखना अभियान की तैयारी के लिए समीक्षा की जाएगी। उप जिला निर्वाचन अधिकारी ने जिले के समस्त विकासखण्ड परियोजना अधिकारियों एवं विकासखण्ड के लोक शिक्षा समिति के पदाधिकारियों, समस्त शासकीय एवं अशासकीय महाविद्यालय के प्राचार्य, तहसीलदारों व जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को बैठक की सूचना देते हुए आवश्यक तैयारियों के साथ बैठक में उपस्थित रहने कहा है। यह बैठक जन शिक्षण संस्थान डाईट छात्रावास के पीछे स्थित कार्यालय में 2 दिसम्बर 2020 को दोपहर 1 बजे आयोजित की गई है।  

 

28-11-2020
प्रदेश की राजनीतिक परिस्थितियों पर चर्चा आज, पीएल पुनिया रहेंगे मौजूद

रायपुर। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कार्यालय राजीव भवन में शनिवार को राजनीतिक परिस्थितियों पर चर्चा होनी है। पूर्व मुख्यमंत्री अजित जोगी के गढ़ मरवाही में जीत के बाद राज्य की राजनैतिक हालत पर कांग्रेस के अग्रिम पंक्ति के नेता इस बैठक में मंथन करेंगे। बैठक में शामिल होने छत्तीसगढ़ कांग्रेस प्रभारी पीएल पुनिया और सचिव डाॅ. चंदन यादव आज शाम रायपुर पहुंचेंगे। इसके बाद शाम 6 बजे बैठक में सम्मिलित होंगे। संगठन के नेताओं की नजर इस बार पार्टी के अंदर बेहतर तालमेल के साथ कार्यक्रम करने और हर स्तर पर सबकी सहमति से काम हो सके पर होगी। बैठक में पार्टी के नए रणनीतियों को लेकर भी चर्चा होगी।

27-11-2020
सीएम भूपेश बघेल छत्तीसगढ़ी राजभाषा दिवस पर छत्तीसगढ़ सेवियों का करेंगे सम्मान

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 8वें छत्तीसगढ़ी राजभाषा दिवस पर 28 नवम्बर को सुबह साढ़े 11 बजे अपने निवास से छत्तीसगढ़ सेवियों का सम्मान करेंगे। इस मौके पर संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत मौजूद रहेंगे। जिन छत्तीसगढ़ी सेवियों का सम्मान किया जाएगा,उनमें नंदकिशोर शुक्ला बिलासपुर, वैभव पाण्डेय बेमेतरिहा, रायपुर, चितरंजन कर रायपुर, मुकुंद कौशल दुर्ग, डॉ.परदेशीराम वर्मा भिलाई, रामेश्वर वैष्णव रायपुर, संजीव तिवारी भिलाई, व्याख्यता, संजीव तिवारी दुर्ग, डॉ.राजन यादव खैरागढ़, देवेश तिवारी और सुधा वर्मा रायपुर शामिल है।

 

27-11-2020
छत्तीसगढ तृतीय वर्ग कर्मचारी संगठन ने अपनी मांगो के लिए राज्य और केंद्र सरकार के नाम सौंपा ज्ञापन

जांजगीर चांपा। छत्तीसगढ तृतीय वर्ग कर्मचारी संगठन और उससे संबंधित संगठनों ने धरना प्रदर्शन कर राज्य और केंद्र सरकार के नाम जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा। तृतीय वर्ग कर्मचारी संघ के अध्यक्ष अर्जुन सिंह क्षत्रिय ने बताया कि केंद्र सरकार से जुडी मांग और राज्य सरकार द्वारा पूर्व में कर्मचारियों की मांग पर किए गए वायदे को पूरा करने के लिए धरना प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सरकार बनने से पहले कांग्रेस के पदाधिकारियों ने सचिव, आंगनबाडी कार्यकर्ता सहायिका और पुलिस के साथ तृतीय  वर्ग कर्मचारियो की लंबित मांगो को पूरा करने का भरोसा दिया था। सरकार का 2 साल कार्यकाल पूरा होने जा रही है लेकिन सरकार ने कर्मचारियो के हित में कोई फैसला नही किया । जांजगीर चांपा जिला के तृतीय वर्ग कर्मचारी संघ के पदाधिकारियो आंदोलन के लिए बाद्धय होने की चेतावनी दी। 

27-11-2020
छत्तीसगढ़ में 1 दिसंबर से होगी धान खरीदी, कांग्रेस सरकार किसानों से किए वादे पर अडिग : शैलेश नितिन त्रिवेदी 

रायपुर। छत्तीसगढ़ में किसानों से धान खरीदी 1 दिसंबर से शुरू होगी। प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि कांग्रेस सरकार ने किसानों से अपना वादे पर अडिग है। छत्तीसगढ़ में 1 दिसंबर से धान खरीदी शुरू होने जा रही है। टोकन पहले से दिए जा रहे है। ये टोकन 7 दिन के लिए वेलिड होंगे। यदि कोई किसान अपने टोकन पर धान नहीं बेच पाया तो उसे फिर से टोकन जारी दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि धान बिचौलियों और धान दलालों और धान खरीदी में गड़बड़ियों कर किसानों को परेशान करने वालों को कोई प्रश्रय नहीं मिलेगा।

प्रदेश के बाहर का धान नहीं, छत्तीसगढ़ के किसानों का उगाया हुआ धान छत्तीसगढ़ के सोसाइटियों में 2500 रुपए में खरीदा जाएगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार ने धान का दाम 2500 रुपए देते हुए पहले साल 80 लाख टन से अधिक और दूसरे साल 83 लाख टन धान की खरीदी की है। भाजपा की 15 साल की सरकार में तो 12 लाख किसानों से ही औसत 50 लाख टन धान ही प्रतिवर्ष खरीदा गया। त्रिवेदी ने कहा है कि इस साल 21 लाख 50 हजार से अधिक किसानों का पंजीयन हो चुका है, जिनसे कांग्रेस सरकार 2500 रुपए में धान खरीदने जा रही है। धान का रकबा भी बढ़ा है, किसानों की संख्या भी बढ़ी है। धान खरीदी भी लगातार बढ़ रही है।

25-11-2020
28 नवम्बर से शुरू होगी 10वीं और 12वीं की पूरक परीक्षा

रायपुर। छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल की हाईस्कूल, हायर सेकेण्डरी, हायर सेकेण्डरी व्यावसायिक पूरक परीक्षा 2020 और डीएलएड प्रथम वर्ष मुख्य परीक्षा 28 नवम्बर को प्रारंभ हो रही है। परीक्षा में लगभग 87 हजार छात्र सम्मिलित होंगे। छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मण्डल के सचिव प्रोफेसर वीके गोयल ने बताया कि कोरोना महामारी के मद्देनजर इस वर्ष मान्यता प्राप्त सभी संस्थाओं को परीक्षा केन्द्र बनाया गया है। समस्त परीक्षा केन्द्रों को कोविड-19 महामारी के बचाव के लिए शासन द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करने के लिए निर्देशित किया गया है। उन्होंने बताया कि परीक्षा संबंधी सभी व्यवस्थाएं पूरी की जा चुकी है। परीक्षा में सम्मिलित छात्र-छात्राओं के प्रवेश पत्र संबंधित स्कूलों में भेजे जा चुके हैं। इसके अतिरिक्त प्रवेश पत्र मण्डल की वेबसाइट www.cgbse.nic.in पर अपलोड किए गए हैं। छात्र मण्डल की वेबसाइट से भी अपलोड कर अपना प्रवेश पत्र प्राप्त कर सकते हैं। 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804