GLIBS
17-10-2020
किसान की मौत की वजह खुदखुशी या कुछ और, पूर्व मंत्री चंद्रशेखर साहू ने कहा- परिवार का मजाक न बनाएं

रायपुर/राजिम। किसान की मौत के बाद शव की रिपोर्ट कोविड पॉजिटिव आई है। वहीं ग्रामीणों और परिवार वालों का कहना है कि किसान की किसी बीमारी से मौत नहीं हुई हैं। उन्होंने फांसी लगाकर खुदखुशी की है। गौरतलब है कि शुक्रवार को अभनपुर के ग्राम दादरझोरी में किसान ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। उसकी लाश फांसी के फंदे पर झूलती मिली थी। परिजनों के मुताबिक फसल के खराब हो जाने के बाद से किसान तनाव में था। शुक्रवार को उसने खुदकुशी कर ली है। फिलहाल किसान की मौत की वजह स्पष्ट नहीं हो पाई है। वहीं इस मामले में पूर्व मंत्री चंद्रशेखर साहू ने कहा है कि मृतक की अंत्येष्टि की तैयारी चल रही है। शासन के गाइडलाइन में ही नहीं है कि एक स्वस्थ व्यक्ति जिसने खुदखुशी की हो उसकी कोविड टेस्ट कराइ जाएं। सरकार मृतक के परिवार का मजाक न बनाया जाएं। उन्होंने कहा कि 14 साल की बच्ची अपने पिता कां ढ़ूंढ़ते हुए खेत में पहुंची थी। जहां उसके पिता की लाश लटकी हुई मिली।

16-09-2020
कमिश्नर ने कलेक्टरों से कहा- मिल रही कई शिकायतें,इलाज के नाम पर अधिक वसूली होने पर पीड़ित परिवार को राशि वापस दिलाएं 

रायपुर। कमिश्नर रायपुर जीआर चुरेंद्र ने संभाग के सभी जिलों के कलेक्टरों को पत्र लिखकर सुझाव दिया है। उन्होंने कहा है कि, जिला, विकासखंड और अन्य स्तर पर जो भी निजी अस्पताल संचालित है, उनसे सेवा भावना के साथ इलाज का न्यूनतम चार्ज लिए जाने के लिए प्रेरित करें। समुचित कार्यवाही करें, जिससे आम जनता व कोविड बीमारी से पीड़ित परिवारों को राहत मिले। कमिश्नर ने अपने पत्र में ध्यान आकर्षित करते हुए लिखा है कि, जनता व प्रतिनिधियों की ओर से यह शिकायत आ रही है कि कोरोना संक्रमण काल के दौरान निजी अस्पतालों में भी मरीजों का इलाज हो रहा है,लेकिन कोविड टेस्ट के नाम पर विभिन्न बीमारियों से ग्रस्त मरीजों के त्वरित इलाज में विलंब हो रहा,इससे कई बार गंभीर रूप से बीमार व्यक्तियों का निधन भी हो जाता है। निजी अस्पताल संचालकों की ओर से समुचित प्रशासनिक नियंत्रण के अभाव में विभिन्न प्रकार के बीमारियों और कोविड के इलाज के नाम पर बड़ी राशि वसूलने की  शिकायत भी आ रही है।

कमिश्नर ने पत्र में कहा है कि, जिले के अंतर्गत जिन निजी अस्पतालों में कोविड -19 के मरीजों को उपचार करने की सुविधा दी गई है, ऐसे सभी अस्पतालों का सूचीकरण, उनकी ओर से मरीजों के किए जा रहे उपचार या लिए जा रहे उपचार राशि की जानकारी प्रतिदिन लेने की व्यवस्था बनाई जाए। मरीजों के परिवार से भी संपर्क कर इसकी पुष्टि की जाए। यदि कोविड 19 के बीमारी के इलाज के नाम पर अधिक राशि का वसूली की जानकारी प्राप्त होती है, तो वह राशि मरीज के परिवार को वापस कराई जाए। कश्मिर ने कहा है कि, सेवानिवृत्त हो चुके पेंशनधारी ,वरिष्ठ नागरिकों को भी सस्ता - सुलभ इलाज निजी या शासकीय अस्पतालों से कराए जाने की व्यवस्था करें। इसके लिए कलेक्टर की अध्यक्षता में निजी अस्पताल के संचालकों की प्रथम बैठक भी आयोजित करने को कहा है। इससे औचित्यपूर्ण दर पर निजी अस्पतालों से मरीजों की उपचार की व्यवस्था बनाई जाए। कमिश्नर ने कहा है कि, इसके लिए बनाई गई व्यवस्था को क्रियान्वित करने के दृष्टि से जिले स्तर पर एक टीम गठित किया जए, जिसका अध्यक्ष अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी या मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत को रखा जाए। उन्होंने कहा है कि, यह समिति समय -समय पर निजी अस्पतालों में मरीजों के उपचार गतिविधियों का आकलन करने निरीक्षण करेंगें, साथ ही निजी अस्पतालों के संचालकों की आवश्यकतानुसार मासिक बैठक लेकर समीक्षा करेंगें। मरीजों का औचित्यपूर्ण दर पर इलाज की व्यवस्था बनाएंगे। इसी तरह की समिति विकासखंड मुख्यालय या अन्य नगरीय क्षेत्र के लिए भी गठित कराकर कार्य कराने के निर्देश दिए हैं। पत्र पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

30-06-2020
कंटेनमेंट जोन और क्वारेंटाइन सेंटरों में ड्यूटी करने वालों का होगा कोविड टेस्ट: कलेक्टर

कोरिया। कलेक्टर एसएन राठौर की अध्यक्षता में मंगलवार को जिला कलेक्ट्रोरेट में बैठक हुई। इसमें कलेक्टर ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी से कोविड अस्पताल में रखे गये मरीजों तथा क्वारेंटाइन सेंटरों की जानकारी लेते हुए भेजे गये सैंपल की जांच रिपोर्ट के संबंध में चर्चा की। उन्होंने एक्टिव क्वारेंटाइन सेंटर की जानकारी ली तथा जो क्वारेंटाइन सेंटर बंद हो गये हैं वहां जिन कर्मचारियों की ड्यूटी लगायी गयी थी, उन्हें शीघ्र रिलिव करने संबंधित अधिकारियों से कहा। उन्होंने कहा कि जिन अधिकारी-कर्मचारियों की ड्यूटी कंटेनमेंट जोन एवं क्वारेंटाइन सेंटरों में लगी थी, उनका अनिवार्य रूप से कोविड टेस्ट करना है। बैठक में कलेक्टर ने कहा कि जिले में पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं। अमृतधारा में पर्यटकों के ठहरने की व्यवस्था के लिए 3 काटेज शीघ्र ही तैयार कर लिये जायेंगे तथा आनलाइन बुकिंग की सुविधा दी जायेगी और सैलानियों के लिए कैंटीन आदि की भी व्यवस्था होगी। उन्होंने झुमका डेम तथा अमृतधारा में हाईमास्क सोलर लगाने पर चर्चा की।
इस अवसर पर अपर कलेक्टर सुखनाथ अहिरवार, जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी तूलिका प्रजापति, डिप्टी कलेक्टर सहित विभिन्न विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804