GLIBS
20-10-2020
लॉक डाउन चला गया लेकिन वायरस नहीं गया, जब तक वैक्सीन नहीं तब तक ढिलाई नहीं बरते: नरेंद्र मोदी

नई दिल्ली। देशवासियों को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन भले ही चला गया हो लेकिन वायरस नहीं गया है। उन्होंने कहा कि बीते सात आठ महीने में हर भारतीय प्रयास से आज देश जिस संभली स्थिति में है उसे बिगड़ने नहीं देना है और अधिक सुधार करना है। मोदी ने कहा कि देश में आज रिकवरी रेट अच्छी है, मृत्युदर कम है। उन्होंने कहा कि प्रति दस लाख पर पांच हजार लोगों को कोरोना हुआ है। जबकि अमेरिका और ब्राजील जैसे देशों में यह आंकड़ा 25 हजार के पास है। भारत में प्रति दस लाख पर मौत 83 है जबकि अमेरिका सहित अन्य देशों में यह 600 के पार है। प्रधानमंत्री ने कहा कि अगर बिना मास्क निकल रहे हैं तो अपने परिवार को, अपने बुजुर्गों की जान को खतरे में डाल रहे हैं। उन्होंने कहा, संत कबीरदास ने कहा है- पक्की खेती देख के, गरब किया किसान, अजहू जोला बहुत है, गर आवे तब जान।

कई बार हम पक्की हुई फसल देखकर ही अति आत्मविश्वास से भर जाते हैं कि अब तो काम हो गया। लेकिन, जब तक फसल घर न आ जाए तब तक काम पूरा नहीं मानना चाहिए। यानी, जब तक सफलता नहीं जाए लापरवाही नहीं करना चाहिए। जब तक इसकी वैक्सीन नहीं मिल जाती, कोरोना के खिलाफ लड़ाई को कमजोर नहीं पड़ने देना है। उन्होनें कहा कि मानव को बचाने के लिए पूरी दुनिया लगी हुई है। भारत में अभी कोरोना वैक्सीन पर कई काम चल रहा है। कोरोना की वैक्सीन जब भी आएगी, प्रत्येक भारतीय तक जल्द कैसे पहुंचे इसकी तैयारी जारी है। इसके लिए तेजी के साथ काम हो रहा है।

 

17-10-2020
छत्तीसगढ़ ने लॉक डाउन में प्रवासी श्रमिकों को दी बेहतर सुविधाएं, आईएसएसआरएफ के सर्वे में देशभर में अव्वल

रायपुर। लॉक डाउन के दौरान लौटे प्रवासी श्रमिकों को सुविधाएं देने के मामले में छत्तीसगढ़ देश में अव्वल राज्य रहा है। यह निष्कर्ष इंटरफेरेंशियल सर्वे स्टेटिक्स एंड रिसर्च फाउंडेशन (आईएसएसआरएफ) की ओर से किए गए सर्वे में सामने आया है। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल पर राज्य में प्रवासी श्रमिकों को विभिन्न प्रकार की सुविधा देने के लिए तेजी से कदम उठाए और अनेक श्रमिक हितैषी निर्णय लिए गए। इंटरफेरेंशियल सर्वे स्टेटिक्स एंड रिसर्च फाउंडेशन ने देश के 6 प्रमुख प्रवासी श्रमिकों की वापसी वाले राज्यों छत्तीसगढ़, बिहार, झारखंड, ओडिशा, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल में सर्वे किया। जो लॉक डाउन के दौरान प्रवासी श्रमिकों को उपलब्ध कराई गई आजीविका, शिक्षा, स्वास्थ्य सहित विभिन्न बुनियादी सुविधाओं पर केन्द्रित रहा। 

छत्तीसगढ़ में लौटे शत-प्रतिशत प्रवासी श्रमिकों को क्वारेंटाइन की सुविधा उपलब्ध कराई गई। 97.80 प्रतिशत प्रवासी श्रमिकों को पात्रतानुसार नि:शुल्क और रियायती दरों पर राशन दिया गया। इसी तरह श्रमिक परिवारों को एलपीजी कनेक्शन, नगद सहायता, कृषि और मनरेगा में रोजगार और कृषि ऋण जैसी सुविधाएं उपलब्ध कराई गई। छत्तीसगढ़ श्रमिकों को नि:शुल्क एलपीजी कनेक्शन देने के मामले में सर्वेक्षित राज्यों में पहले स्थान पर है। यह सर्वे बिलासपुर, दंतेवाड़ा, जशपुर, महासमुंद और राजनांदगांव की 99 ग्राम पंचायतों में किया गया। इसमें 5 सौ से अधिक प्रवासी श्रमिकों को शामिल किया गया है। छत्तीसगढ़ में किए गए सर्वे में बिलासपुर जिले की 28, दंतेवाड़ा की 15, जशपुर की 20, महासमुंद की 19 और राजनांदगांव की 17 ग्राम पंचायतें शामिल हैं। इन ग्राम पंचायतों में 30 जून से 28 जुलाई के बीच सर्वेक्षण किया गया। 

सर्वे के अनुसार छत्तीसगढ़ के श्रमिकों को दो श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है। पहली श्रेणी में गैर कृषि कार्य में संलग्न श्रमिक, जो 52.98 प्रतिशत स्किल्ड हैं और दूसरी श्रेणी में आयरन और वेल्डिंग, फेब्रीकेशन कार्यों में 40.43 प्रतिशत स्किल्ड हैं। कुशल श्रमिकों में छत्तीसगढ़ का योगदान एक तिहाई है। छत्तीसगढ़ से 63.94 प्रतिशत श्रमिक कंस्ट्रक्शन, पाइंप कटिंग वर्क में स्किल्ड हैं। आईएसएसआरएफ की ओर से ऑन माइग्रेन वर्कस विषय पर किए गए सर्वे में शहरों से गांव में लौटने वाले प्रवासी श्रमिकों पर लॉक डाउन के दौरान उनकी आजीविका और उनकी स्थित पर पड़ने वाले प्रभावों का छत्तीसगढ़, बिहार, झारखंड, ओडिशा और पश्चिम बंगाल के 34 जिलों में अध्ययन किया गया। सर्वे रिपोर्ट देखने यहां क्लिक करें...

 

15-10-2020
राजधानी में अपराधियों का राज, राज्य में कानून व्यवस्था चरमराई :  भगवानू नायक 

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश प्रवक्ता अधिवक्ता भगवानू नायक ने प्रदेश में बढ़ती हुई बलात्कार, महिला अपराध, हत्या, चाकूबाजी के साथ राजधानी में ड्रग्स, कोकीन, गांजा, शराबखोरी, सट्टा के अवैध कारोबार पर सरकार को आईना दिखाया है। भगवानू ने  कहा है कि छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर अब अपराध और अपराधियों का केंद्र बनते जा रही है। यहां पर शहर के हृदय स्थल में खुलेआम हत्या हो जाती है। लॉक डाउन में जहां आम जनता को दवा और दूध के लिए नियमों का भय दिखाया जाता है, वहीं रसूखदारों की ओर से नशे की पार्टी मनायी जाती है।  खुलेआम गोली चलाई जाती है। चाकूबाजी की घटना तो आम हो गई, कब किसी निहत्थे पर चाकू चल जाए और उसकी जान चली जाए कोई बड़ी बात नहीं रह गई है। 
भगवानू नायक ने कहा है कि प्रदेश में कानून व्यवस्था बुरी तरह चरमरा गई है, सुबह अखबार में किसी बड़े अपराध घटित होने के हेडलाइन की खबर के साथ दिन की शुरुवात होती है, जिससे आम जनता में खौफ का माहौल बना हुआ कि कब किसके साथ कोई आपराधिक दुर्घटना घट जाए ? कब  किसी बहन बेटी की अस्मत  लूट जाए ? ऐसे में आज आम चर्चा का विषय बना हुआ है। राज्य की जनता जोगी राज को याद कर रही है, जब स्व. जोगी ने अपराध और अपराधियों को ठीक कर दिया था। जोगी राज में किसी अपराधी का किसी बहन या बेटी के साथ दुष्कर्म करने का दु:साहस तो दूर, बुरी नजर से देखने तक कि हिम्मत नहीं थी। भगवानू ने कहा है कि जल्द से जल्द  कानून व्यवस्था को चुस्त दुरुस्त नहीं किए जाने पर जनता कांग्रेस सड़क से लेकर सदन तक धरना , प्रदर्शन और आंदोलन करेगी।

15-10-2020
रमेश वल्यार्नी ने मंत्री टीएस सिंहदेव से की मुलाकात,वाणिज्यिक कर संबंधी मामलों पर दिए सुझाव

रायपुर। कोरोना काल में लॉक डाउन के कारण उद्योग-व्यापार की गतिविधियां लगभग बंद रही। अनलॉक होते ही व्यापारी-उद्योगपति अपने-अपने व्यापार-उद्योग को पटरी पर लाने में लग गए। इस दौरान जीएसटी संबंधी कंपलायांस के साथ ही वेट के पुराने प्रकरणों के निवृतन से भी उन्हें जूझना पड़ रहा है। लॉक डाउन के कारण राज्य शासन का राजस्व भी गंभीर रूप से प्रभावित हुआ है। अत: वाणिज्यिक कर विभाग ने पुरानी बकाया वसूली और वेट-प्रकरणों के निपटान के लिए भी दबाव बनाया है। इन सबसे व्यापारी-उद्योगपति विचलित और परेशान हैं। कोरोना काल में उपजी इन समस्याओं के निदान के लिए प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता व पूर्व विधायक रमेश वल्यार्नी ने वाणिज्यिक कर मंत्री टीएस सिंहदेव से उनके निवास में मुलाकात की। मंत्री सिंहदेव को वेट प्रकरणों के निवृतन, बकाया वसूली, रिफंड आदि को लेकर कुछ  व्यवहारिक सुझाव सौंपे ताकि इनका निराकरण हो सके। इस दौरान वाणिज्यिक कर विभाग की प्रमुख सचिव मनिन्दर कौर द्विवेदी भी उपस्थित थीं।

बैंक-खाते को सीज करने की विभागीय कार्रवाई को न्यायसंगत बनाया जाए
वल्यार्नी ने वाणिज्यिक कर की बकाया वसूली को लेकर व्यवसायी के बैंक-खाते को सीज करने की विभागीय कार्रवाई को न्यायसंगत बनाने कहा है। इस पर उन्होंने सुझाव दिया है कि जिन प्रकरणों की नियमित सुनवाई में अतिरिक्त मांग सृजित हुई है उनकी वसूली के लिए अंतिम विकल्प के रूप में बैंक खाता सीज किया जाए,लेकिन वर्तमान परिस्थिति में यह कार्रवाई दीवाली के बाद की जाए। क्योंकि तब तक नगद तरलता की स्थिति में सुधार आएगा,लेकिन एकपक्षीय कर निर्धारण आदेश में सृजित मांग को लेकर, बैंक खाता सीज करने की कार्रवाई नहीं की जाए, क्योंकि एकपक्षीय आदेश में अनेक छूट प्रमाण के अभाव में नहीं दिए जाने से, मनमानी कर राशि और पेनाल्टी सृजित हो जाती है जबकि वास्तविक मांग उतनी नहीं होती है। उन्होंने कहा कि ऐसे मामलों में स्व-प्रेरणा से या व्यवसायी आवेदन दिए जाने पर त्वरित कार्यवाही करते हुए विभाग को ऐसे प्रकरणों को पुन: सुनवाई के लिए रिमांड करना चाहिए।

रिफंड मामलों का त्वरित निपटारा किया जाए
वल्यार्नी ने कोरोना काल में व्यापार-उद्योग को राहत प्रदान करने के लिए उनके रिफंड मामलों का त्वरित निपटारा किए जाने का आग्रह किया। उन्होंने इनकम टैक्स विभाग का उदाहरण देते हुए कहा है कि उन्होंने आनलाइन रिफंड देने में तेजी दिखलाई है, लेकिन विभाग अभी भी पुरानी लीक पर चल रहा है और स्क्रूटनी के नाम पर रिफंड को महीनों लटकाए रखा जाता है जो सही नहीं है। कोरोना संकट के समय प्रकरण वर्ष 2015-16 के प्रकरणों में दीवाली के त्यौहारी सीजन को देखते हुए नवंबर माह तक कोई एकपक्षीय आदेश जारी नहीं किए जाए। साथ ही उन्होंने मांग की कि नवा रायपुर स्थित सहायक आयुक्तों को प्रकरणों के निवृतन के लिए सप्ताह में दो दिन सिविल लाइंस स्थित वाणिज्यिक कर भवन में उपस्थित रहने निर्देशित किया जाए। वाणिज्यिक कर मंत्री टीएस सिंहदेव ने इन सुझावों को गंभीरता से लेते हुए कार्यवाही करने आश्वस्त किया। 

 

15-10-2020
भाजपा पार्षदों ने की पीडीएफ चावल जल्द देने की मांग, सहायक खादय अधिकरी को सौंपा ज्ञापन

कोरबा। भारतीय जनता पार्टी के पार्षदों ने जिले में सितम्बर के पीडीएफ चावल जल्द दिए जाने की मांग को लेकर सहायक खाद्य अधिकारी को ज्ञापन सौंपा। पार्षदों ने कहा कि सितंबर के अंतिम सप्ताह में लॉक डाउन होने के कारण कोरबा जिले के बीपीएल एवं एपीएल परिवार के कम से कम 30 से 35 प्रतिशत लोग अपना पीडीएफ चावल एवं अन्य सामान नहीं ले पाए थे। उनको सितम्बर माह का चावल एवं अन्य सामग्री देने के लिए जिला सहायक खादय अधिकारी को ज्ञापन दिया गया। पार्षदों ने कहा कि चावल नहीं मिलने की स्थिति में उनके सामने राशन की समस्या उत्पन हो गई है। पार्षदों ने जल्द से जल्द समस्याओं का निदान करने का निवेदन खाद्य विभाग से किया है।

 

13-10-2020
आकस्मिक मृत्यु हो जाने वाले व्यक्ति के परिजनों को 2 लाख के बीमा का मिला लाभ

कोरबा। आकस्मिक मृत्यु हो जाने वाले व्यक्ति के परिजनों को 2 लाख का प्रधानमंत्री जीवन ज्योति योजना का लाभ कोरोना काल में लॉक डाउन के समय किया गया।यह राशि छत्तीसगढ़ राज्य ग्रामीण बैंक की तत्परता से 15 दिवस के भीतर किया गया। छत्तीसगढ़ राज्य ग्रामीण बैंक में संचालित खातों में महज 330 वार्षिक प्रीमियम पर यह बीमा कराया गया था। मृत्यु के बाद जब मृतक की पत्नी बैंक पहुंची तब बैंक प्रबंधक द्वारा न केवल उसे बीमा की जानकारी दी गई बल्कि त्वरित कार्यवाही करते हुए 15 दिवस के भीतर क्लेम भी प्राप्त किया गया। रामाधीन सिंह निवासी उड़ान की मृत्यु बीमारी के चलते हो गई थी। उनका बचत खाता छत्तीसगढ़ राज्य ग्रामीण बैंक शाखा पाली में संचालित था। इसमें उनके द्वारा 2 लाख का प्रधानमंत्री जीवन ज्योति योजना कराया गया था।

मृत्यु उपरांत जब मृतक की पत्नी मृतक के खाते में बची राशि निकालने बैंक पहुंची तो उन्हें बीमा संबंधित में जानकारी शाखा प्रबंधक द्वारा मिली। उनके द्वारा वांछित दस्तावेज उपलब्ध कराने के मात्र 15 दिन के भीतर क्लेम सेटेलमेंट करवा दिया गया तथा नॉमिनी सुमित्रा बाई को दो लाख की राशि का भुगतान दिया गया। छत्तीसगढ़ राज्य ग्रामीण बैंक शाखा पाली में शाखा प्रबंधक प्रियांश पाठक व विकास कुमार देहारी, तोरण राम निषाद उपस्थित रहे। इस अवसर पर शाखा कर्मियों द्वारा बैंक में उपस्थित ग्राहकों को बैंक की विभिन्न योजनाओं जैसे कार ऋण आवास ऋण ,व्यवसाय ऋण ,कृषी ऋण, पर्सनल लोन तथा गोल्ड लोन के बारे में जानकारी देते हुए अन्य बीमा उत्पाद जैसे व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस तथा शासन द्वारा चलित प्रधानमंत्री जीवन ज्योति योजना, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना,अटल पेंशन योजना, कराने के लिए प्रोत्साहित किया गया।

30-09-2020
लॉक डाउन का उल्लंघन करने वालों से वसूला गया जुर्माना

भिलाई। नगर पालिक निगम आयुक्त ऋतुराज रघुवंशी के निर्देश पर राजस्व विभाग की टीम ने लॉक डाउन का उल्लंघन करने वाले 17 लोगों से 2600 रुपए जुर्माना वसूला। कुछ दुकानदार लाकडाउन में दुकान खोलकर खाद्य सामग्री बेच रहे थे। छूट प्राप्त कुछ दुकानदार बिना मास्क के ग्राहकों को दवाइयां दे रहे थे। उन सभी दुकानदारों के खिलाफ चालानी कार्रवाई की गई। जोन-1 की टीम ने 10 लोगों से 5000 रुपए जुर्माना लगाया। जोन-2 की टीम ने सार्वजनिक स्थान पर मास्क नहीं पहनने पर एक व्यक्ति से 100 रुपए, जोन -4 की टीम ने दो लोगों से 1100 रुपए और जोन-5 की टीम ने चार लोगों से 900 रुपए जुर्माना वसूला। निगम की टीम द्वारा विभिन्न क्षेत्रों का निरीक्षण किया गया, टोटल लॉकडाउन में दुकानें बंद पाई गई।

 

30-09-2020
लॉक डाउन के कारण बीएएसएलपी पाठ्यक्रम में प्रवेश की तारीख बढ़ी,10 अक्टूूबर तक आवेदन पहुंचाना अनिवार्य

रायपुर। पं.जवाहरलाल नेहरु स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय रायपुर के नाक, कान, गला रोग विभाग (ईएनटी) के अंतर्गत संचालित बैचलर ऑफ ऑडियोलॉजी स्पीच लैंग्वेंज पैथोलॉजी (बीएएसएलपी) पाठ्यक्रम में प्रवेश अब 10 अक्टूबर तक होंगे। आवेदन फार्म जमा करने की तिथि 10 अक्टूबर तक बढ़ा दी गई है। 22 से 28 सितंबर  तक संपूर्ण लॉक डाउन रहने के कारण आवेदन फार्म जमा करने की तिथि में आगे बढ़ाने का निर्णय लिया गया है। पाठ्यक्रम में प्रवेश संबंधी विवणिका और आवेदन पत्र वेबसाइट सीजीडीएमई डॉट को डॉट इन (https://www.cgdme.co.in/) में उपलब्ध है। प्रवेश संबंधित नियम, आवेदन प्रारुप और अन्य जानकारी के लिए उपरोक्त वेबसाइट का अवलोकन कर सकते हैं।
बताया गया कि आवेदन पत्र स्पीड पोस्ट/रजिस्टर्ड पोस्ट या सामान्य डाक से 10 अक्टूबर तक कक्ष क्रमांक 244 सेकंड फ्लोर, डिपार्टमेंट ऑफ ईएनटी ऑडियोलॉजी एंड स्पीच थेरेपी यूनिट, डॉ. बीआर अंबेडकर हॉस्पिटल रायपुर के पते पर पहुंच जाना चाहिए।

प्रत्यक्ष रूप से उपस्थित होकर जमा किए जाने वाले आवेदन (By hand) और कोरियर से भेजे जाने वाले आवेदन स्वीकार्य नहीं किए जाएंगे। बीएएसएलपी में प्रवेश वर्ष 2020 की प्रथम आबंटन सूची 13 अक्टूबर को जारी की जाएगी, जिसकी सूची वेबसाइट सीजीडीएमई डॉट को डॉट इन https://www.cgdme.co.in/)में देखी जा सकती है। प्रवेश से संबंधित अन्य जानकारी के लिए दूरभाष क्रमांक 07712890137 पर कार्यालयीन समय पर संपर्क किया जा सकता है। इस पाठ्यक्रम को भारतीय पुनर्वास परिषद (आरसीआई) से मान्यता प्राप्त है।

 

29-09-2020
लॉक डाउन में एक ऑटो में 13 लोग सवार,यातायात पुलिस ने की कार्यवाही

दुर्ग। निगम की लचर व्यवस्था के चलते शहर की साफ सफाई में सुबह से लगे कर्मचारियों की सुध लेने वाला कोई नहीं है। इसका एक नजारा दुर्ग स्थित पटेल चौक में देखने को मिला,जहां ट्रैफिक पुलिस ने एक ऑटो में 13 महिलाओं सहित ऑटो चालक को पकड़ा और जब उनसे पूछताछ की गई तो कोई भी कुछ कहने की स्थिति में नहीं था। जब ऑटो चालक से बातचीत की गई तो ठीक-ठाक जवाब नहीं दे पाया। वहीं ऑटो में सवार निगम के सफाई कर्मचारियों में एक कर्मचारी ने कहा उन लोगों से कार्य तो पूरा लिया जाता है लेकिन उन लोगों को कोई अलग से भत्ता नहीं दिया जाता। बल्कि यदि संडे के दिन काम ना दिया जाए तो उसके चार संडे के हिसाब से हजार रुपए काट लिया जाता।

उन लोगों की मजबूरी है कि उन्हें इस तरह संक्रमण के माहौल में जाना पड़ता है। वहीं इस पूरे मामले में ट्रैफिक दुर्ग टीआई श्रुति सिंह से बातचीत की गई तो उन्होंने बताया कि अभी तक अलग-अलग मोर्चे पर पुलिस बल तैनात किया गया है,जो अपना कार्य बखूबी कर रही है। इसी दौरान पुलिस को चेकिंग में एक ऑटो में निगम की  सफाई  महिला कर्मचारी एक ही ऑटो में 2 से ज्यादा सवारी पाई गई। इन पर मोटर व्हीकल एक्ट के तहत कार्रवाई की गई। वही सफाई ठेकेदार को बुलाकर समझाया गया और जनता को भी बिना आवश्यक कार्य ना होने पर घरों से ना निकलने की बात कही।

 

29-09-2020
Video : लॉक डाउन हटते ही बाजारों में पहुंचे कलेक्टर और एसएसपी,नियमों का पालन करने दिए समझाइश

रायपुर। राजधानी में लॉक डाउन हटने के पहले दिन मंगलवार को कलेक्टर डॉ. एस. भारती दासन और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सड़क पर उतरे। कोविड-19 की रोकथाम व नियंत्रण के लिए कलेक्टर और एसएसपी के साथ कोरोना योद्धाओं का दलजारी  जागरुकता महाअभियान के तहत शहर के विभिन्न बाजारों में पहुंचा। कलेक्टर, एएसएसपी और कोरोना वारियर्स की टीम ने संक्रमण से बचाव के लिए मास्क पहनने, दूरी बनाए रखने व भीड़-भाड़ में जाने से बचने की समझाइश लोगों को दी।  उन्होंने कहा कि, इन सामूहिक प्रयासों से रायपुर के व्यवसायी अपनी जिम्मेदारी निभाते हुए अपने-अपने दुकानों में बिना मास्क के आने पर रोक-टोक करें। दुकानों पर रस्सियों के सहारे बेरिकेटिंग कर सामाजिक दूरी के नियम का पालन तय करने के निर्देश भी दिए। जिला पुलिस, नगर निगम की संयुक्त टीम को लगातार चौक-चौराहों पर चालानी कार्रवाई कर लोगों को सजग करने कहा। कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन करने वालो पर एपेडिमिक एक्ट के तहत कार्रवाई करने के निर्देश दिए।
 

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय यादव ने कोरोना संक्रमण के रोकथाम और नियंत्रण के लिए शहर के सभी चौक-चौराहों पर निगरानी रखने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि, बिना मास्क बाइक में सड़कों पर निकलने वालों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। दोपहिया वाहनों पर बिना मास्क के घूमने वालों पर आईटीएमएस के हाइटेक कैमरों से निगरानी की जा रही है। समझाइश के बाद भी लापरवाही बरतने वालों को यातायात पुलिस नोटिस भेज रही है। लोग जागरूक हो और नियमो का पालन करें। बताया गया कि, नगर निगम कमिश्नर सौरभ कुमार के निर्देशन में सभी जोन कमिश्नर और उनके साथ संलग्न स्व-सहायता समूह की महिलाएं और नगर निगम का दस्ता पूरे शहर में घूम कर नियमों का उल्लंघन करने वालों पर जुर्माने कार्रवाई करेगा। जिला पंचायत के सीईओ डॉ. गौरव कुमार सिंह के नेतृत्व में लोगों को जागरूक करने इस महा-अभियान से सामाजिक संस्थाओं के साथ वेलफेयर एसोसिएशन, मोहल्ला समिति अपनी बड़ी भूमिका निभा रहा है। इसी कड़ी में अनलॉक के पहले दिन कोरोना योद्धाओं का दल मंगलवार को कई सब्जी बाजारों में पहुंचा। लोगों को कोरोना से बचाव के लिए जागरूक किया। जिला प्रशासन,नगर निगम व पुलिस अधिकारियों का दस्ता ने शास्त्री बाजार, बीटीआई बाजार, लोधीपारा सब्जी बाजार,संजय गांधी बाजार रेलवे स्टेशन और खमतराई बाजार पहुंचा था।

29-09-2020
कलेक्टर और एसपी ने एक सप्ताह के लॉक डाउन का पालन करने पर जनता का जताया आभार, कहा अनावश्यक बाहर न निकले

रायपुर। कलेक्टर डॉ.एस भारतीदासन और पुलिस अधीक्षक अजय यादव ने राजधानी के लोगों से अपील की है कि वे अनावश्यक अपने घर से बाहर न निकले। किसी काम से बाहर जाने पर मास्क पहन कर जाए और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। उन्होंने एक सप्ताह के लॉक डाउन का पालन करने पर आम नागरिकों का आभार माना है। कलेक्टर और एसपी ने अपने अपील में कहा है कि कोरोना संक्रमण की श्रृंखला को बाधित करने हेतु एक सप्ताह का लॉक डाउन लगाया गया था। इसमें आप सभी का भरपूर सहयोग रहा है और उम्मीद है कि इसके सकारात्मक परिणाम आएंगे, लेकिन हम सभी की जिम्मेदारी और ज्यादा बढ़ गई है क्योंकि लॉक डाउन हटने के बाद प्रशासनिक नियंत्रण में ढील होने के बाद हमें आत्म नियंत्रण एवं जागरूकता के माध्यम से कोरोना के संक्रमण से बचना होगा।

उन्होंने कहा है कि आपकी थोड़ी सी असावधानी आपके हंसते खेलते परिवार एवं अतिप्रियजनों के लिए अत्यंत घातक हो सकती है एवं जानलेवा हो सकती है। जैसा कि आप जानते हैं कि यह महामारी शरीर की प्रतिरोधक क्षमता से जुड़ी हुई है। कमजोर प्रतिरोधक क्षमता एवं असाध्य बीमारी से पीड़ित लोगों के लिए यह महामारी जानलेवा सिद्ध हो रही है। अतः अपने परिवार एवं समाज की बेहतरी के लिए अभी भी उतना ही घर से बाहर निकले जितना कि अत्यंत आवश्यक हो और पूर्ण सुरक्षा के साथ ही निकले। मास्क पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग ही वर्तमान में कोरोना से बचाव के साधन है। कलेक्टर डॉ. भारतीदासन और एसपी यादव ने आम नागरिकों से कहा है आपके सहयोग से ही इस महामारी पर हम विजय प्राप्त करेंगे इसलिए व्यक्तिगत एवं समाज हित में आप सभी आत्म नियंत्रण के साथ प्रशासन का सहयोग करें। शासन एवं प्रशासन के सभी अंग सदैव आपकी सेवा एवं सुरक्षा के लिए कटिबद्ध है।

28-09-2020
Video: कलेक्टर और एसएसपी ने की अपील : लॉक डाउन स्थायी हल नहीं,कोरोना से बचने आत्मनियंत्रण और जागरुकता जरूरी 

रायपुर। कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन और और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय यादव ने जिलेवासियों से अपील की है। उन्होंने कहा है कि, अनावश्यक घर से बाहर न निकलें। किसी काम से बाहर जाने पर मास्क पहनकर जाएं और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। उन्होंने एक सप्ताह के लॉक डाउन का पालन करने के लिए नागरिकों का आभार माना है। कलेक्टर ने गत दिनों भी वीडियो संदेश जारी कर कहा था कि,लॉक डाउन हो या कंटेनमेंट जोन, ये स्थायी हल नहीं है। लॉकडाउन अवधि समाप्त होने के बाद भी आत्मनियंत्रण को जीवन का हिस्सा बनाना पड़ेगा। बाहर निकलने पर मास्क पहनना और बाहर से घर लौटने पर  हाथ धोना और सामाजित दूरी के नियम का पालन करना होगा। 
कलेक्टर और एसपी ने संयुक्त अपील कर कहा कि,कोरोना संक्रमण की श्रृंखला को बाधित करने के लिए एक सप्ताह का लॉक डाउन लगाया गया था। इसमें जिलेवासियों का भरपूर सहयोग रहा है और उम्मीद है कि, इसके सकारात्मक परिणाम आएंगे। उन्होंने कहा है कि, हम सभी की जिम्मेदारी और ज्यादा बढ़ गई है क्योंकि लॉक डाउन हटने के बाद प्रशासनिक नियंत्रण में ढील होने के बाद हमें आत्म नियंत्रण एवं जागरुकता के माध्यम से कोरोना के संक्रमण से बचना होगा।
उन्होंने कहा है कि,थोड़ी सी असावधानी हंसते खेलते परिवार और अतिप्रियजनों के लिए अत्यंत घातक हो सकती है। जानलेवा हो सकती है। जैसा कि सभी जानते हैं कि, यह महामारी शरीर की प्रतिरोधक क्षमता से जुड़ी हुई है। कमजोर प्रतिरोधक क्षमता और असाध्य बीमारी से पीड़ित लोगों के लिए यह महामारी जानलेवा सिद्ध हो रही है। अत: अपने परिवार और समाज की बेहतरी के लिए अभी भी उतना ही घर से बाहर निकले जितना कि अत्यंत आवश्यक हो और पूर्ण सुरक्षा के साथ ही निकले। मास्क पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग ही वर्तमान में कोरोना से बचाव के साधन है।  कलेक्टर और एसपी ने आमनागरिकों से कहा है कि,सभी के सहयोग से ही इस महामारी पर हम विजय प्राप्त करेंगे। इसलिए व्यक्तिगत और समाज हित में सभी आत्म नियंत्रण के साथ प्रशासन का सहयोग करें। शासन और प्रशासन के सभी अंग सदैव आपकी सेवा और सुरक्षा के लिए कटिबद्ध है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804