GLIBS
24-10-2020
केरन सेक्‍टर में दिखा पाकिस्‍तान का कॉडकॉप्‍टर, सेना ने मार गिराया

जम्‍मू। जम्‍मू-कश्‍मीर में सेना ने पाकिस्‍तान का एक कॉडकॉप्टर मार गिराया है। बताया जा रहा है कि यह पाकिस्‍तानी सेना के स्‍पेशल सर्विस ग्रुप का कॉडकॉप्टर है। यह कॉडकॉप्टर एलओसी पर 70 मीटर भारत की तरफ, केरन सेक्टर में गिरा।
रिपोर्ट के मुताबिक, सीमा पार से हथियारों और गोला-बारूद को ड्रोन के जरिए गिराना एक नया तरीका है, जिसके जरिए सीमा पार से आतंकवादियों के हैंडलर्स उनके लिए ये सामान भेज रहे हैं। पाकिस्‍तान की ओर से अनमैन्‍ड एरियल वीकल्‍स का इस्‍तेमाल सर्विलांस और आतंकियों को हथियार पहुंचाने के लिए होता रहा है। इसके अलावा ड्रोन्‍स, कॉडकॉप्‍टर या हेक्साकॉप्‍टर के जरिए हमले का खतरा भी है। इससे पहले शुक्रवार को जम्मू कश्मीर के पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा से लगे तीन सेक्टरों में स्थित अग्रिम क्षेत्रों एवं चौकियों पर पाकिस्तान की सेना की ओर से शुक्रवार को भारी गोलाबारी की गई। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। अधिकारियों ने कहा कि भारतीय सेना ने इसका मुंहतोड़ जवाब दिया।

24-10-2020
नियमित टीकाकरण है पोलियो का कारगर इलाज : डॉ. सिंह

रायपुर/बैकुठपुर। हर वर्ष 24 अक्टूबर को विश्व पोलियो दिवस मनाया जाता है। इस दिन लोगों को पोलिओ के बारे में जागरूक किया जाता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन 'डब्ल्यूएचओ' ने भारत को 27 मार्च वर्ष 2014 को पोलियो मुक्त घोषित किया है। छत्तीसगढ़ में 2002 के बाद कोई पोलिओ का केस नहीं मिल है। देश में पोलियो की रोकथाम बेहद जटिल थी, जो मज़बूत निगरानी प्रणाली, और गहन टीकाकरण अभियान के साथ सामाजिक गतिशीलता प्रयासों से संभव हुआ है। जब तक रोग समाप्त नहीं हो जाता है, भारत को सतर्क रहना होगा। अफगानिस्तान, नाइजीरिया और पाकिस्तान तीन देश हैं, ‘जहां वाइल्ड पोलियो वायरस का संचारण हो रहा है’।

वर्ष 1998 के बाद से पोलियो के मामलों में ज्यादा की कमी आई है। बाल्यावस्था में प्रतिरक्षा के उच्च स्तर को बनाए रखने के लिए समस्त देशों में राष्ट्रीय टीकाकरण दिवस के अवसर पर बच्चों को टीकाकरण किया जाता है। ज़िला टीकाकरण अधिकारी डॉ. एस एस सिंह ने बताया पोलियोमाइलाइटिस (पोलियो) अत्यधिक संक्रामक वायरल रोग है जो कि मुख्यत: छोटे बच्चों (पांच वर्ष से कम आयु) को प्रभावित करता है। विषाणु मुख्यत: मल-मौखिक मार्ग या दूषित पानी या आहार के माध्यम से व्यक्ति-से-व्यक्ति में फैलता है। यह संक्रामक वायरल रोग आंत में पनपता है, वहां से यह अपना सफर शुरू कर तंत्रिका तंत्र में पहुंच जाता है। पक्षाघात उत्पन्न करता है। शुरुआती लक्षणों में संक्रमित बच्चे को बुख़ार, थकान, सिरदर्द, उल्टी, गर्दन की अकड़न अंगों में दर्द है। दो सौ संक्रमणों में से एक संक्रमण आमतौर पर पैरों में अपरिवर्तनीय पक्षाघात उत्पन्न करता है। पक्षाघात से पीड़ितों पांच से दस प्रतिशत की मृत्यु हो जाती है, उनकी श्वास की मांसपेशियों ठीक से कार्य नहीं करती हैं।

इनएक्टिवेटेड पोलियो वैक्सीन और लाइव ओरल पोलियोवायरस वैक्सीन के उपयोग ने वर्ष 1988 में वैश्विक पोलियो उन्मूलन पहल (जीपीईआई) की स्थापना हुई थी। रोग नियंत्रण और रोकथाम के लिए रोटरी, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ), यूनिसेफ, सहित और अन्य देशों की सरकारे भी शामिल है। पोलियो की खुराक और टीकाकरण शासकीय अस्पतालों में निशुल्क किया जाता है। पोलियो का कोई उपचार नहीं है। लेकिन सुरक्षित एवं प्रभावी टीकाकरण के माध्यम से पोलियो से बचा जा सकता है। टीकाकरण कई बार किया जाता है।

टीकाकरण बच्चे के जीवन को सुरक्षित करता है। पोलियो खत्म करने की रणनीति, में संचारण समाप्त न हो जाएं तथा विश्व पोलियो मुक्त न हो जाएं, तब तक हर बच्चे को टीकाकरण के माध्यम से सुरक्षित कर सकते हैं। संक्रमण को रोकने के लिए दो प्रकार के टीके उपलब्ध होते हैं। ओपीवी (ओरल पोलियो वैक्सीन) यह वैक्सीन संस्थागत प्रसव पर जन्म के समय मौखिक रूप से दी जाती है, फिर प्राथमिक तीन खुराकों को छह, दस और चौदह सप्ताह तथा एक बूस्टर की खुराक सौलह से चौबीस महीने की आयु पर दी जाती है। इंजेक्टबल पोलियो वैक्सीन (आईपीवी) दो आंशिक खुराकें 6 सप्ताह और चौदह सप्ताह की आयु पर दाहिनी बांह के ऊपरी भाग में दी जाती है।

20-10-2020
पाकिस्तान से निकला अंतर्राष्ट्रीय ठग गिरोह का कनेक्शन, 5 गिरफ्तार

रायपुर/बिलासपुर। छत्तीसगढ़ की बिलासपुर जिला पुलिस ने ऑपरेशन-65 के जरिए अंतर्राष्ट्रीय ठग गिरोह का पर्दाफाश करने में बड़ी सफलता हासिल की है। गिरोह के पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है, जिनके तार पाकिस्तान से भी जुड़े हुए है। आरोपियों ने देश के कई शहरों में रहने वालों लोगों को इनाम, लॉटरी, गिफ्ट का झांसा देकर उनसे लाखों रुपयों की ठगी किया करते थे। आरोपियों से पुलिस ने 42 लाख रुपयों के अलावा 3 लेपटॉप, 13 मोबाइल, एटीएम कार्ड, पासबुक बरामद किया है। बिलासपुर आईजी दीपांशु काबरा और एसपी प्रशांत अग्रवाल के निर्देश पर इस ठग गिरोह के खिलाफ करीब 9 महीनों से तफ्तीश चल रही थी, जिसके बाद अब पुलिस ने शातिरों के इस गैंग को पकड़कर बड़ी सफलता हासिल करते हुए इसका खुलासा किया। गिरफ्तार आरोपियों में विराट सिंग 21 वर्ष निवासी सिरमोर जिला रीवा, शिवम ठाकुर 20 वर्ष इटामा जिला देवास, संजू चौहान 20 वर्ष इटावा जिला देवास, राजेश जायसवाल 55 वर्ष निवासी मुंबई, सीताराम गौड़ा 35 वर्ष निवासी गंजाम ओड़िशा शामिल है। इसके अलावा पुलिस ने इस गिरोह के कई सदस्यों की पहचान की गई जो पश्चिम बंगाल, गोपालगंज बिहार, पश्चिम गाजियाबाद, उत्तराखंड व उत्तरप्रदेश सहित अन्य राज्यों के शहरों में निवास करते हैं। पुलिस अधिकारियों ने सभी आरोपियों को जल्द गिरफ्तार करने की बात कहीं है।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि जनवरी 2020 में इसकी पहली शिकायत मिली थी। यह शिकायत बिलासपुर के जनकराम पटेल ने की थी। आरोपियों ने जनकराम को जनवरी-फरवरी के दौरान पाकिस्तानी नंबर से कॉल और व्हाट्सएप चैट के माध्यम से मुकेश अंबानी बनकर 25 लाख की लॉटरी जीतने का झांसा दिया था। वहीं केबीसी के भाग्यशाली विजेता के नाम पर 2 करोड़ रुपए जीतने की खबर दी गई। इन शातिरों ने प्रार्थी के खाते से फरवरी से लेकर अगस्त 2020 के बीच करीब 65 लाख रुपए जमा कराए। ये रकम अलग-अलग बैंकों में मंगाए जाते थे। ठगी का अहसास होने पर पार्थी ने इस मामले में बिलासपुर में शिकायत दर्ज कराई थी, जिसके बाद साइबर मितान कार्यक्रम के जरिए इसकी जांच पड़ताल शुरू की गई। जांच के दौरान ये बातें सामने आई कि ठग सिर्फ व्हाट्सएप के माध्यम से विडियो/ऑडियो काल तथा चैटिंग के माध्यम से बातचीत करते थे एवं अलग-अलग, खाता नंबर जो अलग-अलग ब्रान्चों के होते थे, में जीते हुए लॉटरी की रकम प्राप्त करने के लिए विभिन्न विभागीय प्रकिया के नाम पर अलग-अलग समय में अलग अलग खातों में रकम जमा करावाया जाता था। प्रार्थी को विभिन्न पाकिस्तानी नंबर एवं भारतीय नंबर सेकण्ड लाइन नम्बर जिनकी लोकेशन पाकिस्तान में पाई जाती थी, उसी नंबर से ऑडियो/विडियो काल आते थे, जिसमें प्रार्थी को उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्यप्रदेश, पश्चिम बंगाल, कोलकाता आदि का लगभग 12 विभिन्न खातों में रकम जमा करवाया था।

जांच के दौरान यह भी पता चला कि सर्वाधिक रकम लगभग 50 लाख रुपए मध्यप्रदेश के रीवा जिले के विराट सिंह के एसबीआई, पीएनबी, आईसीआई बैंक, इलाहाबाद बैंक, बैंक ऑफ इंडिया आदि के खातों में जमा कराए गए। इसे विराट सिंग द्वारा यूपीआई पेमेन्ट(फोन पे,पेटीएम) के माध्यम से वर्ली मुबंई निवासी राजेश सुखाउ जायसवाल एवं हर्ष राजेश जायसवाल के खातों ,डिजीटल पेमेंट सलूशन ओड़िशा एवं अन्य को ऑनलाइन रुपए ट्रॉन्सफर किया था। इस मामले में सबूतों के आधार पुलिस ने विराट को गिरफ्तार किया। इस दौरान गठित टीम में से एक टीम रीवा (म.प्र.)में कैंप कर आरोपी विराट सिंग को घेराबंदी कर पकड़ा आरोपी विराट ने बताया कि पाकिस्तान के छोटे मामू उर्फ असरफ, तथा बड़े मामूउर्फ असगर एवं सलीम के लिए काम करता है जो कि पाकिस्तान से है, जो विराट सिंग से व्हाट्सएप ऑडियो/विडियो कॉल एवं मैसेज के माध्यम से बातचीत होती है पाकिस्तानी ठगों द्वारा लोगों को लॉटरी की लालच देकर ठगी करने के दौरान विराट सिंग द्वारा उपलब्ध कराए गए, विभिन्न बैंकों के विभिन्न खातों में रकम जमा कराए जाता था जिसकी सूचना विराट को व्हाट्सएप चैट के माध्यम से दिया जाता था, जिसके पश्चात विराट सिंग द्वारा अपना कमीशन काट कर पाकिस्तानी ठग छोटे मामू उर्फ असरफ तथा बडे मामू उर्फ असगर एवं सलीम के द्वारा विराट सिंग को उपलब्ध कराए अन्य खातों में पेटीएम के माध्यम से रकम स्थानांतरित करने कहां जाता था, आरोपी विराट द्वारा अपने खाते के अतिरिक्त अन्य खातों की भी जानकारी एकत्रीत कर उन्हे जमा रकम की 3 प्रतिशत की लालच देकर अपने झांसे में लिया जाता था जिसमें से ज्यादातर मध्यप्रदेश के रीवा एवं देवास के खाता धारक हुआ करते थे। आरोपी विराट द्वारा उसके खाते में आए रकम को देशभर के अलग-अलग प्रांतों के तथा हैदराबाद, कर्नाटका, बेंगलोर, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, उडि़सा, उत्तर-प्रदेश, उत्तरा-खण्ड,आसाम,दिल्ली के खातो में ट्रान्सफर किया जाता था।

आरोपी विराट के खाते में प्रार्थी जनकराम पटेल द्वारा सर्वाधीक रकम लगभग 50 लाख रुपए फरवरी से सितम्बर तक जमा किया था जिसमें से अधिकांश रकम मुंबई वर्ली में ऑनलाइन ट्रान्सफर किया गया था। आरोपी विराट सिंग के निशादेही पर खाता धारक शिवम ठाकुर एवं संजू चैहान को मध्य प्रदेश के देवास से गिरफ्तार किया। इसके बाद पुलिस ने ऑपरेशन मुंबई का रूख किया। क्योंकि विराट सिंग द्वारा पाकिस्तानी छोटे मामू एवं बड़े मामू के द्वारा राजेश एवं हर्ष जायसवाल के खाते में अधिकांश रकम लगभग 45 लाख रुपए ट्रान्सफर किया था। लिहाजा एक टीम मुबंई जाकर राजेश अग्रवाल को हिरासत में लेकर पूछताछ किया। पूछताछ के दौरान राजेश जायसवाल के खातों का संचालन स्वयं करता है तथा इसके खाते में आए रकम को डिजिटल करेंशी बीट क्वाइन (बीटीएस ) तब्दील कर उपर भेजता है, जिसके संबंध में विस्तृत जानकारी हासिल की जा रही है तथा भारत के विभिन्न प्रांतों से इनके संबंधों के बारे में अनुसंधान जारी है। इसके बाद एक टीम उड़ीसा के लिए रवाना हुई। उड़ीसा से जाकर डिजिटल पेमेंट सालूशन के संचालक सीता राम गौडा को हिरासत में लिया जिसके निजी एवं डिजिटल पेमेंट सालुशन के नाम पर खोले गए खाते में जिसमें लगभग 15 लाख रुपए से उपर रकम जमा कराया था जिसे फ्रिज करा दिया है।

17-10-2020
वैश्विक भूख सूचकांक में नेपाल-बांग्लादेश और पाकिस्तान की हालत भारत से बेहतर, सूची में 94वें स्थान पर

नई दिल्ली। भारत वैश्विक भूख सूचकांक 2020 में 107 देशों की सूची में 94वें स्थान पर है और भूख की 'गंभीर' श्रेणी में है। विशेषज्ञों ने इसके लिए खराब कार्यान्वयन प्रक्रियाओं, प्रभावी निगरानी की कमी, कुपोषण से निपटने का उदासीन दृष्टिकोण और बड़े राज्यों के खराब प्रदर्शन को दोषी ठहराया। पिछले साल 117 देशों की सूची में भारत का स्थान 102 था। पड़ोसी बांग्लादेश, म्यामां और पाकिस्तान भी 'गंभीर' श्रेणी में हैं। लेकिन इस साल के भूख सूचकांक में भारत से ऊपर हैं। बांग्लादेश 75वें, म्यामां 78वें और पाकिस्तान 88वें स्थान पर हैं। रिपोर्ट के अनुसार, नेपाल 73वें और श्रीलंका 64वें स्थान पर हैं। दोनों देश 'मध्यम श्रेणी में आते हैं। चीन, बेलारूस, यूक्रेन, तुर्की, क्यूबा और कुवैत सहित 17 देश भूख और कुपोषण पर नजर रखने वाले वैश्विक भूख सूचकांक (जीएचआई) में शीर्ष रैंक पर हैं। जीएचआई की वेबसाइट पर शुक्रवार को यह जानकारी दी गयी है। रिपोर्ट के अनुसार भारत की 14 फीसदी आबादी कुपोषण की शिकार है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि पांच साल से कम उम्र के बच्चों की मृत्यु दर 3.7 प्रतिशत थी। इसके अलावा ऐसे बच्चों की दर 37.4 थी जो कुपोषण के कारण नहीं बढ़ पाते। बांग्लादेश, भारत, नेपाल और पाकिस्तान के लिए 1991 से अब तक के आंकड़ों से पता चलता है कि वैसे परिवारों में बच्चों के कद नहीं बढ़ पाने के मामले ज्यादा है,जो विभिन्न प्रकार की कमी से पीड़ित हैं। इनमें पौष्टिक भोजन की कमी, मातृ शिक्षा का निम्न स्तर और गरीबी आदि शामिल हैं। इस अवधि के दौरान भारत में पांच साल से कम उम्र के बच्चों की मृत्यु दर में कमी दर्ज की गई। रिपोर्ट में कहा गया है कि समय से पहले जन्म और कम वजन के कारण बच्चों की मृत्यु दर विशेष रूप से गरीब राज्यों और ग्रामीण क्षेत्रों में बढ़ी है। विशेषज्ञों का मानना है कि खराब क्रियान्वयन प्रक्रिया, प्रभावी निगरानी की कमी और कुपोषण से निपटने के लिए दृष्टिकोण में समन्वय का अभाव अक्सर खराब पोषण सूचकांकों का कारण होते हैं। अंतरराष्ट्रीय खाद्य नीति शोध संस्थान, दिल्ली में वरिष्ठ शोधकर्ता पूर्णिमा मेनन ने कहा कि भारत की रैंकिंग में समग्र परिवर्तन के लिए उत्तर प्रदेश, बिहार और मध्य प्रदेश जैसे बड़े राज्यों के प्रदर्शन में सुधार की आवश्यकता है। उन्होंने कहा,'राष्ट्रीय औसत उत्तर प्रदेश और बिहार जैसे राज्यों से बहुत अधिक प्रभावित होता है… जिन राज्यों में वास्तव में कुपोषण अधिक है और वे देश की आबादी में खासा योगदान करते हैं।'' उन्होंने कहा, 'भारत में पैदा होने वाला हर पांचवां बच्चा उत्तर प्रदेश में है। इसलिए यदि उच्च आबादी वाले राज्य में कुपोषण का स्तर अधिक है तो यह भारत के औसत में बहुत योगदान देगा। स्पष्ट है कि तब भारत का औसत धीमी होगा।" मेनन ने कहा अगर हम भारत में बदलाव चाहते हैं, तो हमें उत्तर प्रदेश, झारखंड, मध्यप्रदेश और बिहार में भी बदलाव की आवश्यकता होगी।

 

10-10-2020
आतंकवादी नदी के रास्ते पीओके से हथियारों की तस्करी का कर रहे थे  प्रयास, सेना ने पकड़ा

श्रीनगर। भारतीय सेना ने शनिवार को पाकिस्तान की तरफ से घुसपैठ की एक और कोशिशों को नाकाम कर दिया। रिपोर्ट के अनुसार,'सेना ने किशन गंगा नदी के तट पर मूवमेंट  का पता लगाया। आतंकवादी किशनगंगा नदी के रास्ते पीओके से हथियारों की तस्करी का प्रयास कर रहे थे। इसके तुरंत बाद जम्मू और कश्मीर पुलिस के साथ संयुक्त अभियान शुरू किया। सेना ने पाकिस्तान की तरफ से भेजे जा रहे भारी मात्रा में हथियार बरामद किए। सेना के जवानों ने चार एके 74 राइफल, आठ मैगजीन और 240 एके राइफल गोला बारूद जब्त किया। उत्तरी कश्मीर के केरन सेक्टर (Keren Sector) में तैनात सैनिकों ने निगरानी उपकरणों के साथ किशन गंगा नदी के तट पर पाकिस्तान सेना समर्थित आतंकवादियों के मूवमेंट का पता लगाया। उन्होंने देखा कि दो या तीन आतंकवादी नदी के दूर किनारे से रस्सी से बंधे ट्यूब में कुछ वस्तुओं को ले जाने की कोशिश कर रहे थे। सेना के जवानों और पुलिसकर्मियों द्वारा संयुक्त अभियान चलाया गया। उन्होंने मौके पर पहुंचकर भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद किए। लेफ्टिनेंट जनरल बीएस राजू (जीओसी चिनार कॉर्प्स) ने कहा, 'इस साल हम घुसपैठ को काफी हद तक नाकाम करने में सफल रहे हैं। उन्होंने कहा, "हमारे सतर्क सैनिकों ने निगरानी उपकरणों का उपयोग करते हुए इस पाकिस्तान के इरादों को फेल कर दिया। हम भविष्य में भी इसी तरह तैयार रहेंगे।

 

 

01-10-2020
पाकिस्तान ने किया सीजफायर का उल्लंघन, एलओसी पर की फायरिंग, तीन जवान शहीद, 5 घायल

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान ने एक बार फिर से गुरुवार को नापाक हरकत को अंजाम दिया है। दो अलग-अलग सीजफायर उल्लंघन की घटनाओं में भारत के तीन जवान शहीद हो गए हैं, जबकि पांच अन्य सैनिक घायल हैं।
जम्मू-कश्मीर के नौगाम सेक्टर में पाकिस्तानी सैनिकों ने बिना किसी उकसावे के सीजफायर का उल्लंघन किया। इसमें दो जवान शहीद हुए और चार घायल हो गए। इससे कुछ समय पहले, पाकिस्तान ने पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा के पास अग्रिम इलाकों में भारी गोलीबारी करके और मोर्टार के गोले दागकर संघर्षविराम समझौते का उल्लंघन किया था, जिसमें सेना का एक जवान शहीद हो गया और एक अन्य घायल हो गया।

पुंछ जिले में सीजफायर उल्लंघन की जानकारी देते हुए एक रक्षा प्रवक्ता ने बताया कि पाकिस्तान की सेना ने मनकोट एवं कृष्णा घाटी सेक्टरों में नियंत्रण रेखा के पास छोटे हथियारों से गोलीबारी कर और मोर्टार के गोले दागकर बिना किसी उकसावे के संघर्षविराम समझौते का उल्लंघन किया। उन्होंने बताया कि भारतीय सेना ने भी इसका मुंहतोड़ जवाब दिया। प्रवक्ता ने बताया कि सीमा पार से गोलीबारी में लांस नायक करनैल सिंह शहीद हो गए।

28-08-2020
पाकिस्तान आतंकवादियों पर कार्रवाई को लेकर गंभीर नहीं है: एस.जयशंकर

नई दिल्ली। आतंकवादी दाऊद इब्राहिम पर विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि कई मोस्ट वॉन्टेड आतंकवादी पाकिस्तान में मौजूद है। पाकिस्तान ने खुद आतंकवादियों की मौजूदगी की बात कबूल की है। आतंकवाद के कैंसर से सभी प्रभावित हैं।  पाकिस्तान आतंकवादियों को पनाह देता है और ट्रेनिंग देकर उन्हें भारत में भेजता है। उन्होंने आगे कहा, "पाकिस्तान आतंकवादियों पर कार्रवाई को लेकर गंभीर नहीं है। पाकिस्तान ने आतंकी संगठनों, मोस्ट वॉन्टेड व्यक्तियों पर कोई विश्वसनीय या निर्णायक कार्रवाई नहीं की। पाकिस्तान की नीयत पर सवाल खड़े होते हैं।

 

22-08-2020
पाकिस्तान ने 88 आतंकियों पर कड़े किए प्रतिबंध, लिस्ट में दाऊद इब्राहिम का नाम शामिल

 नई दिल्ली। पाकिस्तान ने आतंकवादी संगठनों से जुड़े 88 लोगों पर प्रतिबंध कड़े कर दिए हैं। जिन पर सख्ती बढ़ाई गई है उनमें हाफिज सईद, मसूद अजहर, दाउद इब्राहिम के नाम शामिल हैं। इनके संगठनों और सदस्यों पर कड़े वित्तीय प्रतिबंध लगाते हुए संपत्तियों को जब्त करने और बैंक खातों को सील करने के आदेश दिए गए हैं। पाकिस्तान की इस कार्रवाई को फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) की अक्टूबर में होने वाली मीटिंग से पहले ब्लैक लिस्ट होने से बचने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है। पाकिस्तान अभी ग्रे लिस्ट में है। पेरिस स्थित एफएटीएफ ने जून, 2018 में पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में डाला था और इस्लामाबाद को 2019 के अंत तक कार्ययोजना लागू करने को कहा था। बाद में कोरोना महामारी के चलते ये समय सीमा बढ़ा दी थी। पाकिस्तान की मीडिया के मुताबिक,इमरान सरकार ने हाल ही में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की ओर से जारी नई सूची के अनुपालन में आतंकवादी समूहों के 88 सदस्यों पर प्रतिबंध लगाए हैं। अधिसूचनाओं में घोषित प्रतिबंध जमात-उद-दावा, जैश-ए-मोहम्मद, तालिबान, दाएश, हक्कानी समूह, अलकायदा और अन्य पर लगाए गए हैं।

सरकार ने इन संगठनों और आकाओं की सभी चल और अचल संपत्तियों को जब्त करने और उनके बैंक खातों को सील करने के आदेश दिए है। हाफिज सईद, अजहर मसूद, मुल्ला फजलुल्ला, जकीउर रहमान लखवी, अब्दुल हकीम मुराद, नूर वली महसूद, उजबेकिस्तान लिबरेशन मूवमेंट के फजल रहीम शाह, तालिबान नेताओं जलालुद्दीन हक्कानीऔर उनके सहयोगी सूची में हैं। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा गया है कि हम यूएन चार्टर के हिसाब से कदम उठा रहे हैं। हमें उम्मीद है कि दूसरे देश भी पाकिस्तान के इस कदम का समर्थन करते हुए ऐसा ही करेंगे। पाकिस्तान ने पिछले साल मई में भी 8 आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई की थी।

 

22-08-2020
भारतीय सीमा में घुस रहे पांच घुसपैठिए को बीएसएफ ने मार गिराया

नई दिल्ली। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने शनिवार को पंजाब के तरनतारन जिले में पाकिस्तान की ओर से भारतीय सीमा पार करने की कोशिश कर रहे पांच घुसपैठियों को मार गिराया। बताया जा रहा है कि पाकिस्तान की तरफ से भिखीविंड सब-डिविजन के दल गांव के पास ये घुसपैठ की कोशिश हो रही थी। बीएसएफ को सर्च ऑपरेशन जारी है और उन्हें एक एके-47 व दो पिस्टल मिली हैं। बताया जा रहा है कि बीएसएफ  की 103 बटालियन ने पंजाब के तरनतारन में अंतर्राष्ट्रीय सीमा का कुछ संदिग्ध गतिविधियां देखी। इसके बाद जवानों ने घुसपैठियों को रुकने के लिए कहा लेकिन उन्होंने फायरिंग शुरू कर दी। इसके बाद बीएसएफ जवानों ने जवाबी कार्रवाई में फायरिंग की जिसमें 5 घुसपैठियों को मार गिराया। बीएसएफ को घटनास्थल से एक एके-सीरीज़ की राइफल और दो पिस्टल मिली है। एक बीएसएफ अधिकारी ने बताया कि यह घटना सुबह 4:45 बजे के आसपास हुई। इस बाद पूरे इलाके में गहन तलाशी अभियान चल रहा है। स्थानीय पुलिस मामले की जांच कर रही है और शव को अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर के करीब खेत से बरामद कर लिए गए हैं। बीएसएफ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया है कि सर्च ऑपरेशन अभी भी जारी है। अभी यह पता नहीं चल पाया है कि जिन लोगों को गोली मारी गई वे पाकिस्तानी हैं। एके-सीरीज़ राइफल और दो पिस्टल अब तक बरामद की गई है। उन्होंने कहा कि ऑपरेशन खत्म होने के बाद हम आरोपियों के मकसद के बारे में बता सकते हैं।

 

 

16-07-2020
भारतीय अधिकारियों से खुलकर बात नहीं कर सकें कुलभूषण जाधव,तनाव में आए नजर

नई दिल्ली। पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव के लिए भारत को दूसरे कॉन्सुलर एक्सेस की बात तो मान लिया लेकिन अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक जब भारतीय कॉन्सुलर अधिकारी कुलभूषण जाधव से मुलाकात करने पहुंचे तो उस वक्त पाकिस्तानी अधिकारी नजदीक ही मौजूद रहे। इस दौरान उनकी बातचीत को कैमरें में रिकॉर्ड करने की कोशिश भी की गई। वहीं इस दौरान कुलभूषण जाधव तनाव में नजर आ रहे थे। इस दौरान भारतीय कॉन्सुलर अधिकारियों ने खुलकर बात भी नहीं कर सकें। वहीं कुलभूषण से कॉन्सुलर अधिकारी उनके कानूनी अधिकारों को लेकर बात नहीं कर पाए। कानून सहायता उपलब्ध कराने के लिए उनकी सहमति लेने से भी रोका गया। पाकिस्तान की इन हरकतों के बाद कॉन्सुलर अधिकारी अच्छी तरह से समझ गए कि इस तरह के ऐक्सेस का कोई मतलब नहीं निकलता है। उन्होंने ने माना की ऐसी मुलाकात सार्थक नहीं है। इसके बाद कुलभूषण जाधव से मिलने गए कॉन्सुलर के अधिकारी अपनी शिकायत दर्ज करवाकर लौट आए। भारत ने पाकिस्तान से बिना रोकटोक कॉन्सुलर एक्सेस की मांग की थी। लेकिन कॉन्सुलर एक्सेस देने के बाद भी पाकिस्तान अपनी चाल चलता गया। बता दें कि इससे पहले पाकिस्तान ने दावा किया था कि सजा की समीक्षा याचिका दायर करने से भारतीय नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव ने इनकार कर दिया था। जिस पर भारत ने प्रतिकिया देते हुए इसे एक नाटक करार दिया था। गौरतलब हो कि कुलभूषण जाधव साल 2016 से पाकिस्तान की जेल में हैं। पाकिस्तान आरोप लगाता है कि कुलभूषण जाधव एक जासूस है। हालांकि, भारत की ओर से इस दावे को कई बार नकारा जा चुका है। पाकिस्तान ने मार्च 2016 में जाधव को गिरफ्तार किया था। साल 2017 में भारत ने इस मामले को आईसीजे में उठाया। 10 जुलाई को ही भारत ने जाधव मामले में कानूनी विकल्पों पर विचार करने की बात कही थी।

10-07-2020
पाकिस्तान ने किया संघर्ष विराम का उल्लंघन, गोलीबारी में एक जवान शहीद

श्रीनगर। पाकिस्तानी सेना ने राजौरी जिले के नौशहरा सेक्टर में भी शुक्रवार को संघर्ष विराम का उल्लंघन करते हुए भारी गोलीबारी की। पाकिस्तान की ओर से की गई इस गोलीबारी में भारतीय सेना का एक जवान शहीद हो गया है। पाकिस्तान की इस नापाक हरकत का भारतीय जवान भी करारा जवाब दिया। मिली जानकारी के अनुसार पाकिस्तानी सेना ने शुक्रवार को राजौरी जिले की नियंत्रण रेखा के साथ सटे नौशहरा सेक्टर में गोलीबारी शुरू की। इस दौरान पाकिस्तानी सेना ने सेक्टरों में स्थित भारतीय चौकियों तथा रिहायशी इलाकों को निशाना बनाकर मोर्टार के गोले भी दागे। गोलीबारी में भारतीय सेना का एक जवान गंभीर रूप से घायल हो गया। घायल जवान को तुरन्त अस्पताल पहुंचाया गया,जहां पर जवान ने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804