GLIBS
11-08-2020
महापौर और आयुक्त ने जोनवार की समीक्षा,प्रतिदिन 100 घरों का सर्वे करने दिए निर्देश 

रायपुर। महापौर एजाज ढेबर और आयुक्त सौरभ कुमार ने कोरोना के जोनवार सर्वे की बैठक लेकर समीक्षा की। उन्होंने जोन कमिश्नर, जोनवार नियुक्त इंसीडेंट कमांडर, जोन पर्यवेक्षक, सहायक पर्यवेक्षक को आवश्यक निर्देश दिए। बैठक में आयुक्त ने कहा कि नगर निगम में बनाए गए 870 ग्रिड में, प्रत्येक ग्रिड में आने वाले 500 से 600 मकानों में प्रत्येक मकान का सर्वे दूसरे चरण के सर्वे में तत्काल प्रारंभ किया जाए।  प्रत्येक टीम प्रतिदिन 100 मकानों का सर्वे करें। 5 दिनों में राउंड पूरा कर फिर से उस घर पर सर्वे करें,जहां से सर्वे टीम ने प्रारंभ किया हो। इससे उक्त घर में आने वाला बदलाव जानकारी में सर्वे टीम के सामने आ सकेगा। यह समय पर सही और त्वरित उपचार की दृष्टि से सहायक रहेगा। 870 ग्रिड में दूसरे राउंड के कोरोना सर्वे में 1800 आंगनबाड़ी कार्यकत्ताओं,शिक्षकों को लगाया गया है। आयुक्त ने विशेष तौर पर बुजुर्गों,गर्भवती महिलाओं और सांस संबंधित रोगों से पीड़ित लोगों की दूसरे चरण के सर्वे में पहचान प्राथमिकता के आधार पर करने के निर्देश दिए। आयुक्त ने कहा है कि,कोई मकान छूटने ना पाएं, यह सर्वे टीम तय कर ले। महापौर ने बैठक में कहा कि, सभी को कोरोना के लक्षण और बचाव की जानकारी दी जाए। सभी नागरिक निगम की सर्वे टीम को सही जानकारी दें ताकि कोरोना से रायपुर में शीघ्र निजात मिल सके। जिस घर में कोरोना पॉजिटिव मरीज निकल रहे हैं, उनको सहयोग दें ना कि उनका सामाजिक बहिष्कार करें। कारण कि बचाव अधिक आवश्यक है ना कि सामाजिक बहिष्कार।

19-05-2020
ग्रीन आर्मी ने बूढ़ातालाब जलकुंभी मुक्त अभियान में किया श्रमदान, 25 मई तक प्रतिदिन करने लिया प्रण

रायपुर। नगर पालिक निगम की ओर से निरंतर 11 मई से जारी ऐतिहासिक बूढातालाब को जलकुंभी,गाद मुक्त करने के अभियान में मंगलवार को ग्रीन आर्मी के 25 सदस्यों ने श्रमदान किया। महापौर एजाज ढेबर के नेतृत्व में 25 मई तक प्रतिदिन श्रमदान करने का प्रण लिया। महापौर एजाज ढेबर ने निगम आयुक्त सौरभ कुमार के साथ सफाई कार्य की प्रगति और व्यवस्था का निरीक्षण किया। इस दौरान एमआईसी सदस्य सुरेश चन्नावार, पूर्व पार्षद मनोज कंदोई, जोन 7 कमिश्नर विनोद पाण्डेय, जोन कार्यपालन अभियंता रधुमणी प्रधान मौजूद थे। महापौर और आयुक्त ने निगम जोन 7 अधिकारियों को सफाई कार्य प्राथमिकता के साथ 25 मई तक पूर्ण करवाने के निर्देश दिए।जोन 7 अधिकारियों ने बताया कि नगर निगम जोन 7 स्वास्थ्य विभाग, निगम मुख्यालय स्वास्थ्य विभाग, निगम मुख्यालय महापौर स्वच्छता हेल्प लाइन विशेष गैंग के 85 सफाई मित्रों सहित 30 सफाई मित्रों की अतिरिक्त विशेष टीम को मिलाकर 115 सफाई मित्रों और 50 विशेषज्ञ मछुआरों,इस प्रकार 165 श्रमिकों की सहायता से निरंतर कार्य अत्यंत तेज गति से किया जा रहा है। अब तक 550 डम्पर से अधिक मात्रा में जलकुंभी व गाद तालाब से निकालकर परिवहन किया जा रहा है। 11 ट्रकों और 7 पोकलेन मशीनों से प्रतिदिन सुबह 8 बजे से दोपहर 1 बजे तक और शाम 4 बजे से 5 बजे तक कार्य किया जा रहा है। महापौर ढेबर पार्षदों सहित प्रतिदिन महाभियान का निरीक्षण कर प्रगति की समीक्षा कर रहे हैं। प्रतिदिन श्रमदान भी कर रहे हैं।

 

19-04-2020
यूट्यूब ने अपने एंड्राइड ऐप में किया ये बदलाव...सोशल मीडिया पर किया जा रहा है ट्रोल

मुंबई। वीडियो शेयरिंग कंपनी यूट्यूब ने अपने एंड्राइड ऐप में कुछ बदलाव किए हैं। दुनियाभर में हो रहे दिन प्रतिदिन बदलाव को देखते हुए यहा परिवर्तन किया गया है। भारतीय उपभोक्ताओं को लुभाने के लिए यूट्यूब ने अपने एंड्राइड ऐप में वीडियो के देखे जाने वालों की गिनती को अब मिलियन और बिलियन से हटाकर लाख और करोड़ में दिखाना शुरू कर दिया है। हालांकि मिलियन और बिलियन के आदी हो चुके भारतीयों को यूट्यूब का यह नया बदलाव बिल्कुल भी गले नहीं उतर रहा है और वह सोशल मीडिया पर लगातार इसकी बुराई कर रहे हैं। यूट्यूब के दुनियाभर में लगभग 200 करोड़ उपभोक्ता हैं, उनमें से लगभग 26 करोड़ पचास लाख उपभोक्ता अकेले भारत में पाए जाते हैं। एक बड़ी संख्या को उनकी ही क्षेत्रीय भाषा में लुभाने के लिए यूट्यूब ने यह बड़ा कदम उठाया है। हालांकि बिलियन और मिलियन से लाख और करोड़ में हुआ यह बदलाव अभी सभी भारतीयों को दिखाई देना शुरू नहीं हुआ है।

यूट्यूब ने बहुत छोटे पैमाने पर यह प्रयोग कुछ मुट्ठी भर एंड्राइड ऐपधारियों के ऊपर करके देखा है। इस प्रयोग के अंतर्गत किसी भी वीडियो के देखने वालों की संख्या ही नहीं, बल्कि किसी यूट्यूब चैनल के सब्सक्राइबर्स की संख्या को भी लाख और करोड़ में ही दिखाया जाएगा। अगर यह प्रयोग सफल रहता है तो यूट्यूब इसे सभी प्लेटफार्म के लिए लागू कर सकता है। जैसे ही इस बदलाव की खबर फैली, वैसे ही सोशल मीडिया पर लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया देना शुरू कर दिया। जिन लोगों के एंड्राइड ऐप पर यह बदलाव हुए हैं, उन्होंने अपने फोन से स्क्रीनशॉट लेकर फेसबुक, इंस्टाग्राम और टि्वटर पर साझा करना शुरू कर दिया। ज्यादातर लोगों ने इस बदलाव को बहुत ही खराब बताया। उनका मानना है कि वे अब मिलियन और बिलियन में गिनती करने के आदी हो गए हैं इसलिए लाख और करोड़ में किसी भी संख्या को गिनना हजम नहीं होता।

14-04-2020
दीनदयाल रसोई से वितरित किए जा रहे प्रतिदिन हजारों पैकेट भोजन

रायपुर। भाजपा हेल्प डेस्क की ओर से दीनदयाल रसोई के माध्यम से प्रतिदिन हजारों पैकेट गरम भोजन राजधानी के विभिन्न गरीब, जरुरतमंद बस्तियों, अस्पतालों में बाहर से आए मजदूर परिवारों में वितरित किए जा रहे हैं। मंगलवार को संविधान निर्माता बाबा साहेब अंबेडकर की जयंती पर उनकी फोटो पर माल्यार्पण किया गया। बाबा साहेब के योगदान का स्मरण किया गया। इस दौरान छगनलाल मूंदड़ा, अंजय शुक्ला, किशोर महानंद, अमरजीत सिंह छाबड़ा, अमित मैशेरी, गोविंदा गुप्ता, रितेश मोहरे, राजेश गुप्ता, पप्पू दावड़ा,अनूप खेलकर सहित अन्य उपस्थित थे।

 

12-04-2020
 कोरोना आपदा प्रबंधन समिति प्रतिदिन दे रहे गरीबों, निशक्तजनों को भोजन

 अंबिकापुर। शहीद भगत सिंह वार्ड में गठित कोरोना आपदा प्रबंध समिति द्वारा गरीब व निशक्तजनों को प्रतिदिन चावल,सब्जी,दाल निशुल्क उपलब्ध कराया जा रहा है। वार्ड पार्षद की अगुवाई में समिति के सदस्यों द्वारा अपने खर्च से गरीब एवं असहाय लोगों को बीते 15/20 दिनों से जब से लॉक डाउन हुआ है तब से भोजन के लिए राशन उपलब्ध कराया जा रहा है।   इसी कड़ी में राशन दुकान के सदस्य ने एक अच्छा सुझाव दिया। उस सुझाव को समिति के सदस्यों द्वारा जब अपनाया गया तो गरीबों को खाद्य पदार्थ देना और आसान हो गया है।    राशनकार्डधारी,जो बीपीएल हो या एपीएल किसी को 35 किलो तो किसी को 70 किलो चावल मिलता है में उनके पास समिति के सदस्य के द्वारा जाकर निवेदन किया गया कि अपने चावल में से अपनी इच्छा से उन गरीबो के लिए जो सहयोग करना चाहते हैं इस बोरे में डाल दे। ये बात सुनकर किसी ने न नही कहा। किसी ने 2 किलो तो किसी ने 5 किलो तो किसी ने 10 किलो चावल देकर सहयोग किया। ऐसे समिति के पास लगभग एक सोसायटी से 61 किलो चावल जमा हो गया। समिति द्वारा प्रतिदिन 52 लोगों को 52 किलो चावल,दाल और सब्जी दिया जाता है। सोमवार को समिति के सदस्य उचित मूल्य की दुकानों में जाएंगे और गरीबो के लिए मदद मांगेगे। समिति द्वारा प्रतिदिन उतना ही चावल,दाल, सब्जी दिया जाता है जितना प्रतिदिन लगता है। इसमे बाहर से आए किरायदार छात्र, बाई, रिक्शा वाले जरुरतमंद लोग इसका लाभ ले रहे हैं। समिति के सदस्य विकास वर्मा,मनोज कंसारी,अनुज मिश्रा,प्रदीप शर्मा(टिक्कू),अनिल थॉमस, लवकुश शर्मा, मनोज सिन्हा,छोटू थॉमस, मार्कण्डेय तिवारी , अभिमन्यु अपना योगदान दे रहे हैं। 

08-04-2020
कोरोना संकट : प्रदेश में जरूरतमंद, गरीब, निराश्रित लोगों को प्रतिदिन दिया जा रहा नि:शुल्क भोजन, सेनिटाईजर और मास्क  

रायपुर। कोरोना महामारी के नियंत्रण के लिए देश और प्रदेश में किए गए लाॅकडाउन के दौरान जरूरतमंद लोगों को किसी भी तरह से भोजन एवं राशन की समस्या न हो इसके लिए बड़े पैमाने पर व्यवस्था की गई है। प्रदेश में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश पर सभी जिलों में गरीबों, मजदूरों और निराश्रितों को निःशुल्क भोजन के साथ ही निःशुल्क राशन वितरण भी किया जा रहा है। इसके लिए प्रदेशभर में जगह-जगह राहत शिविर भी लगाए गए हैं। प्रदेश में विगत 7 अप्रैल को 1 लाख 47 हजार 643 जरूरतमंदों, श्रमिकों एवं निराश्रितों को निःशुल्क भोजन व राशन उपलब्ध कराया गया। इनमें 42 हजार 572 लोगों को भोजन, 64 हजार 394 लोगों को राशन वितरण और 40 हजार 677 लोगों को स्वयंसेवी संस्थाओं की ओर से भोजन एवं खाद्यान्न वितरण शामिल है। कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए मास्क, सेनेटाइजर एवं दैनिक जरूरत का सामान भी जिला प्रशासन, रेडक्रॉस तथा स्वयंसेवी संस्थाओं की सहयोग से जरूरतमंदों को मुहैया कराया जा रहा हैं। स्वयंसेवी संस्थाओं की मदद से दो लाख 35 हजार 499 मास्क एवं सेनेटाईजर, साबुन आदि का वितरण जरूरतमंदों को किया गया हैं। उल्लेखनीय है कि कोरोना संक्रमण की वजह से लाॅकडाउन के कारण जिलों में प्रशासन द्वारा समाजसेवी संस्थाओं एवं दान-दाताओं के सहयोग से शुरू किए गए राहत शिविरों के माध्यम से छत्तीसगढ़ में अब तक 13 लाख 2 हजार 337 लोगों को निःशुल्क भोजन एवं खाद्यान्न सामग्री उपलब्ध कराई गई है। स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से कोरोना संक्रमण के बचाव के लिए 13 लाख 33 हजार 66 मास्क सेनेटाइजर एवं अन्य सामाने उपलब्ध कराए है।

07-04-2020
विदेश से आए व्यक्तियों के स्वास्थ्य की प्रतिदिन जानकारी उपलब्ध कराने कलेक्टर ने दिए निर्देश

कांकेर। नोवल कोरोना वायरस के रोकथाम एवं बचाव के लिए दूसरे देश अथवा प्रदेश से आये व्यक्तियों को 28 दिन होम क्वारेंटीन में रहने के लिए निर्देशित किया गया है, जिनके स्वास्थ्य एवं लक्षणों के संबंध में प्रतिदिन जानकारी उपलब्ध कराने के लिए कलेक्टर केएल चौहान द्वारा निर्देशित किया गया है। कलेक्टर चौहान की अध्यक्षता में जिला स्तरीय कोर कमेटी की बैठक सिविल सर्जन सह अस्पताल अधीक्षक के कार्यालय में आज आयोजित की गई, जिसमें बताया गया कि 2383 व्यक्ति होम आइसोलेशन में रखे गये हैं तथा उनकी नियमित रूप से मानिटरिंग की जा रही है। कलेक्टर ने लॉक डाउन की स्थिति में जिले में खाद्य पदार्थो की उपलब्धता, राहत शिविरों में भोजन, आवास की व्यवस्था, अत्यावश्यक वस्तुओं का परिवहन इत्यादि की समीक्षा करते हुए व्यवस्था बनाये रखने के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया। बैठक में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कीर्तन राठौर, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जेएल उईके, सिविल सर्जन डॉ.सीएस ठाकुर, डॉ. डीके रामटेके, उपायुक्त आदिवासी विकास विभाग विवेक दलेला, डिप्टी कलेक्टर डॉ.कल्पना ध्रुव, जिला शिक्षा अधिकारी राकेश पाण्डे, डीपीएम डॉ.निशा मौर्य सहित जिला चिकित्सालय के स्टॉफ मौजूद थे।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804