GLIBS
21-10-2020
मोदी को सिर्फ धन्यवाद ही न दें भूपेश बघेल,दुष्प्रचार के लिए माफी भी मांगें: संजय श्रीवास्तव

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने मुख्यमंत्री की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर एथेनॉल उत्पादन की दर निर्धारित करने के लिए धन्यवाद देने का स्वागत किया है। श्रीवास्त ने कहा है कि शक्ति उपासना के अवसर पर मुख्यमंत्री बघेल को आई सदबुद्धि स्थायी हो। उन्होंने कहा है कि प्रदेश के मुख्यमंत्री सिर्फ धन्यवाद ही न दें,बल्कि अब तक प्रधानमंत्री मोदी और केंद्र सरकार के खिलाफ छत्तीसगढ़ के साथ सौतेले व्यवहार का दुष्प्रचार करने के लिए माफी भी मांगें। केंद्र सरकार ने बिना किसी राजनीतिक पक्षपात के छत्तीसगढ़ को हर कदम पर उसकी अपेक्षा से अधिक ही सहायता मुहैया कराई है।श्रीवास्तव ने कटाक्ष किया है कि राहुल गांधी ने कभी एथेनॉल को लेकर भाजपा की केंद्र सरकार का मखौल यह कहकर उड़ाया था कि लोगों के पास खाने के लिए चावल नहीं है और भाजपा की सरकार चावल से एथेनॉल बनाने की सोच रही है।

अब इसी एथेनॉल के लिए छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री बघेल ने प्रधानमंत्री के धन्यवाद पत्र भेजा है। भाजपा की प्रार्थना है कि जो सद्बुद्धि मुख्यमंत्री बघेल को मिली है, वही सद्बुद्धि कांग्रेस नेता राहुल गांधी को मिले,ताकि अंध राजनीतिक विरोध से उबरकर वे भी सर्वकल्याणकारी राजनीतिक चिंतन से जुड़ें। कांग्रेस नेता केवल विरोध के लिए विरोध की संकीर्ण राजनीति से उबरकर और एक स्वस्थ व सकारात्मक विपक्ष की भूमिका निभाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व केंद्र सरकार के खिलाफ कोरे दुष्प्रचार से बाज आएं। मौजूदा प्रदेश सरकार राजनीतिक प्रतिशोधवश शुरू से ही केंद्र सरकार के साथ टकराव की नीति पर चल रही है। अब उम्मीद की जानी चाहिए कि प्रदेश सरकार और कांग्रेस झूठ और दुष्प्रचार की राजनीति से उबरेंगे।

18-10-2020
प्रधानमंत्री मोदी ने डॉ. जोसेफ मार थोमा के निधन पर जताया दुख

नई दिल्ली। केरल के पथानामथिट्टा के मशहूर मारथोमा चर्च के प्रमुख डॉ. जोसेफ मार थोमा के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को शोक व्यक्त किया है। डॉ. जोसेफ 90 वर्ष के थे। उम्रदराज के बीमारी के कारण वह यहां एक स्थानीय निजी अस्पताल में भर्ती थे जहां आज करीब 2.30 बजे अंतिम सांस ली। पीएम मोदी ने जोसेफ मारथोमा के निधन का गहरा दुख व्यक्त करते हुए ट्वीट कर शोक संदेश में कहा, "डॉ. जोसेफ मार थोमा मेट्रोपॉलिटन एक धनी और उल्लेखनीय व्यक्तित्व के थे जिन्होंने ताउम्र मानवता की सेवा की और गरीबों और दलितों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए पूरी लग्न और मेहनत से जुटे रहे। लोगों के मन में उनके प्रति अपार सहानुभूति, विनम्रता और श्रद्धा का भाव था। उनके नेक आदर्शों को हमेशा याद किया जाएगा। विनम्र श्रद्धांजलि..."

17-10-2020
प्रधानमंत्री ने कहा, कोरोना संक्रमण की वृद्धि दर में आ रही गिरावट, वैक्सीन वितरण पर कहीं यह बात...

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कोविड-19 महामारी की स्थिति और वैक्सीन के वितरण को लेकर बैठक की। कोविड-19 महामारी स्थिति और टीके के वितरण तथा प्रबंधन की तैयारी की समीक्षा के लिए एक बैठक की अध्यक्षता करते हुए प्रधानमंत्री ने प्रतिदिन के मामलों और वृद्धि दर में लगातार गिरावट का उल्लेख किया।पीएम मोदी ने निर्देशित किया है कि वैश्विक समुदाय की मदद करने का प्रयास करना चाहिए और पड़ोस में अपने प्रयासों को सीमित नहीं करना चाहिए। पीएम ने कहा कि वैक्सीन वितरण प्रणाली के लिए टीके, दवाइयां और आईटी प्लेटफॉर्म प्रदान करने के लिए पूरी दुनिया तक पहुंचना चाहिए। पीएम ने निर्देश दिया कि देश के सभी कोनों और वहां स्थितियों को देखते हुए वैक्सीन की पहुंच तेजी से पहुंचाई जानी चाहिए। पीएम ने जोर देकर कहा कि लॉजिस्टिक्स, डिलीवरी और एडमिनिस्ट्रेशन में हर कदम को सख्ती से लागू किया जाना चाहिए।

उन्होंने त्यौहारों के आगामी मौसम में विशेष तौर पर कोविड-19 दिशा-निर्देशों का पालन किये जाने का अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि लोगों को इस महामारी के खिलाफ कोई ढिलाई नहीं बरतते हुए मास्क लगाना चाहिए, नियमित रूप से हाथों को धोना चाहिए और साफ-सफाई का ध्यान रखना चाहिए।बैठक में केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन, प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव, नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य), प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार, वरिष्ठ वैज्ञानिक, प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) के अधिकारी और विभिन्न अन्य विभागों के अधिकारी शामिल हुए। पीएमओ ने एक बयान में कहा कि भारत में तीन टीके विकसित होने के उन्नत चरणों में है, जिनमें से दो टीके दूसरे चरण में और एक टीका तीसरे चरण में है।

16-10-2020
खाद्य एवं कृषि संगठन की 75वीं वर्षगांठ पर नरेंद्र मोदी ने किया 75 रुपए का सिक्का जारी

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को खाद्य एवं कृषि संगठन की 75वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में 75 रुपए का स्मारक सिक्का जारी किया। इस दौरान उन्होंने हाल ही में विकसित 8 फसलों की 17 जैव-संवर्धित किस्में राष्ट्र को समर्पित की। इस दौरान उन्होंने वल्र्ड फूड डे की शुभकामनाएं देते हुए कुपोषण के खिलाफ भारत के प्रयासों को बताया। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, दुनियाभर में जो लोग कुपोषण को दूर करने के लिए लगातार काम कर रहे हैं, मैं उन्हें भी बधाई देता हूं। इन सभी के प्रयासों से ही भारत कोरोना के इस संकटकाल में भी कुपोषण के खिलाफ मजबूत लड़ाई लड़ रहा है। भारत के हमारे किसान साथी, हमारे अन्नदाता, हमारे कृषि वैज्ञानिक, हमारे आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, कुपोषण के खिलाफ आंदोलन का आधार हैं।इन्होंने अपने परिश्रम से जहां भारत का अन्न भंडार भर रखा है, वहीं दूर-सुदूर, गरीब से गरीब तक पहुंचने में ये सरकार की मदद भी कर रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि खाद्य एवं कृषि संगठन (एफएओ) के वल्र्ड फूड प्रोग्राम को इस वर्ष का नोबल शांति पुरस्कार मिलना भी एक बड़ी उपलब्धि है।

भारत को खुशी है कि इसमें भी हमारी साझेदारी और हमारा जुड़ाव ऐतिहासिक रहा है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, 2014 के बाद देश में नए सिरे से प्रयास शुरू किए गए। हम इंटीग्रेटेड और होलिस्टिक अप्रोच लेकर आगे बढ़े। तमाम अवरोधों को समाप्त करके हमने एक मल्टी डायमेंशनल रणनीति पर काम शुरू किया। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि बीते कुछ महीनों में पूरे विश्व में कोरोना संकट के दौरान भुखमरी-कुपोषण को लेकर अनेक तरह की चचार्एं हो रही हैं। बड़े-बड़े एक्सपर्ट्स अपनी चिंताएं जता रहे हैं कि क्या होगा, कैसे होगा? इन चिंताओं के बीच, भारत पिछले 7-8 महीनों से लगभग 80 करोड़ गरीबों को मुफ्त राशन उपलब्ध करा रहा है। इस दौरान भारत ने करीब-करीब डेढ़ लाख करोड़ रुपए का खाद्यान्न गरीबों को मुफ्त बांटा है।

 

10-10-2020
विष्णुदेव साय ने कहा-भूपेश सरकार 72 घंटे में भुगतान के केंद्रीय कानून को लागू करने से डर रही

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कांग्रेस की वर्चुअल किसान रैली पर जम कर निशाना साधा हैं। उन्होंने कहा कि देशभर में कांग्रेस केंद्रीय कृषि कानून को ले कर भ्रम फैलाने के काम में प्रत्यक्ष रूप से विफल रही हैं। साय ने कहा है कि प्रदेश के मुख्यमंत्री केंद्रीय कानून से भयभीत हैं। उन्हें डर सता रहा है कि केंद्र की मोदी सरकार की ओर से लाया गया केंद्रीय कृषि कानून किसान भाइयों के हित में है। कृषि कानून में स्पष्ट प्रावधान है कि किसान भाइयों को किसान हितैषी कृषि कानून के तहत 72 घंटे में भुगतान करना ही होगा। साय ने प्रदेश के मुख्यमंत्री को खुली चुनौती देते हुए कहा है कि एमएसपी और मंडी बंद होने का भ्रम फैलाने वाले भूपेश बघेल यदि दम हैं तो शपथ पत्र दे कर न्यायालय में जा कर बताएं आपके झूठ और भ्रम में कितना दम हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री बघेल से पूछा हैं कि केंद्रीय कृषि कानून में कहां लिखा है एमएसपी बंद होगी, मंडी बंद होने की बात कहां लिखी हैं दम हैं तो बताएं मुख्यमंत्री बघेल।
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार में दम हैं,तभी उन्होंने किसानों के हित में निर्णय लिया और किसान हितैषी कृषि कानून पास किया जिसे देश व प्रदेश का माटी पुत्र किसान सहर्ष स्वीकार कर रहा हैं। दम तो कांग्रेस का निकल रहा है। अपने आपको किसान हितैषी बताने वाली कांग्रेस और कांग्रेस के और कथित सोफा युक्त ट्रैक्टर पर सवार किसान नेताओं को बताना चाहिए कि किसान हितैषी कानून से उनके पेट में दर्द क्यों हो रहा है? एक देश एक बाजार जैसे कानून से किसानों को मिली आजादी से कांग्रेस को क्यों पीड़ा हो रही है? वर्षों तक किसानों का शोषण करने वाली, किसानों को उनके अधिकारों से वंचित रखने वाली कांग्रेस किसानों की आजादी से क्यों भयभीत व चिंतित नजर आ रही है? साय ने जनता और किसानों का विश्वास खो चुके मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और कांग्रेस नेताओं के प्रति अपनी सहानुभूति प्रकट की है।  ईश्वर से उन्हें सद्बुद्धि देने व इस भ्रम से शीघ्र अति शीघ्र बाहर आने की प्रार्थना की है।

09-10-2020
राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने रामविलास पासवान के घर पहुंचकर दी श्रद्धांजलि

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का बीते कल निधन हो गया। शुक्रवार सुबह उनके शव को दिल्ली स्थित उनके आवास पर लाया गया। इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राम विलास पासवान के पार्थिव शरीर पर उनके आवास पर पहुंचकर श्रद्धांजलि अर्पित की और दुखी परिवार को ढांढस बंधाया। इस समय प्रधानमंत्री मोदी के साथ मौके पर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा व भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद भी मौजूद थे। पीएम मोदी के श्रद्धांजलि अर्पित करने के कुछ ही देर बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद भी रामविलास पासवान को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए पहुंचे। इस दौरान उन्होंने परिवार को ढांढस बंधाया। राष्ट्रपति कोविंद के साथ रामविलास पासवान को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए बिहार से उनके साथी नेता रहे केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे भी पहुंचे। उन्होंने भी श्रद्धांजलि अर्पित कर परिवार से मिलकर सांत्वना दिया।

लोजपा नेता रामविलास पासवान के निधन पर पीएम मोदी ने लिखा, 'मैं शब्दों के परे दुखी हूं। देश में यह एक ऐसा शून्य है, जो कभी नहीं भर पाएगा। रामविलास पासवान का निधन मेरे लिए निजी क्षति है। मैंने अपना दोस्त, सहयोगी खो दिया। वहीं राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शोक व्यक्त करते हुए लिखा, ''केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के निधन से देश ने एक दूरदर्शी नेता खो दिया है। उनकी गणना सर्वाधिक सक्रिय तथा सबसे लंबे समय तक जनसेवा करने वाले सांसदों में की जाती है। वे वंचित वर्गों की आवाज़ मुखर करने वाले तथा हाशिए के लोगों के लिए सतत संघर्षरत रहने वाले जनसेवक थे।''

03-10-2020
नरेंद्र मोदी ने किया हाइवे टनल 'अटल सुरंग' का उद्घाटन, कहा-अटलजी का सपना पूरा हुआ

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुनिया की सबसे लंबी हाइवे टनल 'अटल सुरंग' का उद्घाटन किया। अब यह टनल आम लोगों की आवाजाही के लिए खुल जाएगी। इस मौके पर रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और हिमाचल प्रदेश के मुख्‍यमंत्री जयराम ठाकुर भी मौजूद रहे। बता दें कि समुद्र तल से 10,000 फीट ऊंचाई में बनी यह सुरंग लेह को मनाली से जोड़ती है। यह सुरंग भारत और चीन की सीमा से ज्‍यादा दूर नहीं है इसलिए रणनीतिक रूप से भी बेहद महत्‍वपूर्ण है।उदघाटन अवसर पर मोदी ने कहा, "आज सिर्फ अटलजी का ही सपना नहीं पूरा हुआ है,आज हिमाचल प्रदेश के करोड़ों लोगों का भी दशकों पुराना इंतजार खत्म हुआ है। मेरा सौभाग्य है कि मुझे आज अटल टनल के लोकार्पण का अवसर मिला है।" पीएम मोदी ने कहा कि 'इस टनल से मनाली और केलॉन्ग के बीच की दूरी 3-4 घंटे कम हो ही जाएगी। पहाड़ के मेरे भाई-बहन समझ सकते हैं कि पहाड़ पर 3-4 घंटे की दूरी कम होने का मतलब क्या होता है।'मोदी ने कहा कि पिछली सरकार की उपेक्षा के बावजूद उनकी सरकार ने तेजी दिखाई। उन्‍होंने कहा, "अटल टनल के काम में 2014 के बाद, अभूतपूर्व तेजी लाई गई। नतीजा ये हुआ कि जहां हर साल पहले 300 मीटर सुरंग बन रही थी,उसकी गति बढ़कर 1400 मीटर प्रति वर्ष हो गई। सिर्फ 6 साल में हमने 26 साल का काम पूरा कर लिया।"उन्‍होंने कहा कि 'हमारी सरकार के फैसले साक्षी हैं कि जो कहते हैं, वो करके दिखाते हैं।

देश हित से बड़ा, देश की रक्षा से बड़ा हमारे लिए और कुछ नहीं।' उन्‍होंने कहा, "देश में ही आधुनिक अस्त्र-शस्त्र बने, मेक इन इंडिया हथियार बनें, इसके लिए बड़े रिफॉर्म्स किए गए हैं। लंबे इंतज़ार के बाद चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ अब हमारे सिस्टम का हिस्सा है। देश की सेनाओं की आवश्यकताओं के अनुसार प्रोक्‍योरमेंट और प्रॉडक्‍शन, दोनों में बेहतर समन्वय स्थापित हुआ है।"रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि सेना पर तैनात हमारे जवानों के लिए राशन, सप्‍लाई और अन्‍य लॉजिस्टिक्‍स सप्‍लाई करने में आसानी होगी। उन्‍होंने कहा कि यह टनल बिल्‍कुल दो देशों की सीमा पर बना हुआ है। उन्‍होंने कहा कि यह सुरंग देश की जनता के अलावा, सीमा पर सुरक्षा करने वाले जवानों और सीमावर्ती क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को समर्पित है। सिंह ने सुरंग के निर्माण में योगदान देने वालों को धन्‍यवाद दिया।अटल सुरंग बनने से पहले यह घाटी भारी बर्फबारी के कारण लगभग छह महीने तक संपर्क से कटी रहती थी। सामरिक रूप से महत्वपूर्ण यह सुरंग हिमालय की पीर पंजाल श्रृंखला में औसत समुद्र तल से 10,000 फीट की ऊंचाई पर अति-आधुनिक विशिष्टताओं के साथ बनाई गई है। इस सुरंग से मनाली और लेह के बीच की दूरी 46 किलोमीटर कम हो जाएगी और यात्रा का समय भी चार से पांच घंटे कम हो जाएगा। अटल सुरंग को अधिकतम 80 किलोमीटर प्रति घंटे की गति के साथ प्रतिदिन 3000 कारों और 1500 ट्रकों के यातायात घनत्‍व के लिए डिजाइन किया गया है।

 

26-09-2020
संयुक्त राष्ट्र की 75वीं महासभा को नरेेंद्र मोदी ने किया संबोधित,कहा- यूएन में बदलाव की जरूरत

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को संयुक्त राष्ट्र 75वीं महासभा को संबोधित किया। पीएम मोदी ने साफ शब्दों में कहा कि यूएन में बदलाव की जरूरत है। इसके अलावा पीएम मोदी ने दो टूक शब्दों में पूछा कि आखिर यूएन में भारत की निर्णायक भूमिका कब?कोरोना महामारी के चलते पीएम ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने एक तरफ संयुक्त राष्ट्र के स्वरूप में बदलाव की मांग जोरदार तरीके से उठाई।दूसरी तरफ आतंकवाद और विस्तारवाद के बहाने नाम लिए बिना पाकिस्तान और चीन पर निशाना भी साधा। पीएम मोदी ने कहा कि भारत दुनिया को अपना परिवार मानता है और मानवता के लिए काम कर रहा है।पीएम मोदी ने संयुक्त राष्ट्र की उपलब्धियों और नाकामियों का जिक्र करते हुए कहा कि, 'कहने को तो ठीक है कि तीसरा विश्वयुद्ध नहीं हुआ। लेकिन इस बात को नहीं नकार सकते कि अनेक युद्ध हुए, गृहयुद्ध हुए। आतंकी हमलों ने विश्व को थर्रा दिया। खून की नदियां बहती रहीं।

इन हमलों में जो मारे गए वे हमारी तरह इंसान ही थे। वे लाखों बच्चे जिन्हें दुनिया में छा जाना था वे दुनिया छोड़कर चले गए। कितने ही लोगों को अपने जीवनभर की पूंजी गंवानी पड़ी। उस समय और आज भी संयुक्त राष्ट्र के प्रयास क्या पर्याप्त थे? पिछले 8-9 महीने से पूरा विश्व कोरोना महामारी से संघर्ष कर रहा है। इस महामारी से निपटने में संयुक्त राष्ट्र कहां है? संयुक्त राष्ट्र के स्वरूप में बदलाव आज समय की मांग है।''
पीएम ने चीन पर निशाना साधते हुए कहा, ''भारत जब किसी से दोस्ती का हाथ बढ़ाता है तो किसी तीसरे के खिलाफ नहीं होती। भारत जब विकास की साझेदारी मजबूत करता है तो उसके पीछे किसी साथी देश को मजबूर करने की साजिश नहीं होती। हम अपनी विकास यात्रा से मिले अनुभव को साझा करने में कभी पीछे नहीं रहे।' माना जा रहा है कि पीएम का इशारा चीन की कर्जजाल नीति की ओर था, जिसके तहत उसने कई छोटे देशों पर पहले कर्ज लाद दिया और फिर उन्हें अपनी शर्तें मानने के लिए मजबूर कर रहा है।पीएम मोदी ने कहा कि महामारी के इस मुश्किल समय में भारत ने 150 देशों को जरूरी दवाएं भेजी हैं।

विश्व के सबसे बड़े वैक्सीन उत्पादक देश के तौर पर मैं वैश्विक समुदाय को आश्वासन देना चाहता हूं कि भारत की वैक्सीन उत्पादन क्षमता मानवता को इस संकट से बाहर निकालने में काम आएगी। हम भारत और अपने पड़ोस में फेज 3 क्लिनिकल ट्रायल की ओर बढ़ रहे हैं। वैक्सीन डिलिवरी के लिए कोल्ड चेन बनाने में भारत सभी की मदद करेगा। अगले साल जनवरी से भारत सुरक्षा परिषद के अस्थायी सदस्य के तौर पर अपना दायित्व निभाएगा। दुनिया के अनेक देशों ने भारत पर जो अपना विश्वास जताया है उसके लिए आभार जताता हूं। विश्व के सब से बड़े लोकतंत्र होने की प्रतिष्ठा और इसके अनुभव को हम विश्व हित के लिए उपयोग करेंगे। हमारा मार्ग जनकल्याण से जगकल्याण का है। भारत की आवाज़ हमेशा शांति, सुरक्षा, और समृद्धि के लिए उठेगी। भारत की आवाज़ मानवता, मानव जाति और मानवीय मूल्यों के दुश्मन- आतंकवाद, अवैध हथियारों की तस्करी, ड्रग्स, मनी लॉन्ड्रिंग के खिलाफ उठेगी।

 

26-09-2020
केन्द्र सरकार ने बढ़ाया छत्तीसगढ़ के चावल का कोटा,मुख्यमंत्री खुले मन से दें धन्यवाद : विष्णुदेव साय

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार की ओर से अब केंद्रीय पूल में छत्तीसगढ़ से 60 लाख मीट्रिक टन चावल लेने के फैसले का स्वागत किया है। साय ने प्रदेश भाजपा की ओर से केंद्र सरकार का आभार व्यक्त किया है। साय ने कहा कि केंद्र सरकार ने कृषि क्षेत्र में क्रांतिकारी सुधारों वाला विधेयक पारित कराने के बाद छत्तीसगढ़ के किसानों के हित में एक और कल्याणकारी कदम बढ़ाया है। इस निर्णय के परिप्रेक्ष्य में आभार व्यक्त करते हुए प्रदेश की जनता की ओर से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी पत्र लिखकर केंद्र सरकार का खुले मन से धन्यवाद ज्ञापित करें। साय ने कहा है कि प्रदेश सरकार ने पिछले वर्ष राजनीतिक प्रलाप कर अपने किसान विरोधी फैसलों का ठीकरा केंद्र सरकार पर फोड़ने की शर्मनाक व नाकाम कोशिश की थी। बावजूद इसके केंद्र सरकार ने इस खरीफ सत्र में प्रदेश के चावल का कोटा बढ़ाकर छत्तीसगढ़ के हित को राजनीतिक आग्रहों से ऊपर रखा है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा है कि केंद्र सरकार ने चालू खरीफ सत्र के लिए लगभग 495 लाख मीट्रिक टन चावल खरीदी का लक्ष्य रखा है,जिसमें छत्तीसगढ़ से अब 43.58 लाख मीट्रिक टन के बजाय केंद्र सरकार केंद्रीय पूल में 60 लाख मीट्रिक टन चावल लेगी।

जो पिछले साल से 17 लाख मीट्रिक टन ज्यादा है। केंद्र सरकार की ओर से 40 प्रतिशत ज्यादा चावल लेने के फैसले के बाद अब प्रदेश की कांग्रेस सरकार किसानों का पूरा धान खरीदने के अपने वादे पर अमल करें, जो उसने प्रदेश के किसानों से किया है।भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने प्रदेश सरकार से अब किसानों का दाना-दाना धान खरीदने का अपना वादा पूरा करने की मांग की है। प्रदेश सरकार चालू खरीफ सत्र में अपने धान खरीदी के लक्ष्य को बढ़ाकर 1.20 करोड़ मीट्रिक टन करें और किसानों से प्रति एकड़ 20 क्विंटल के हिसाब से धान खरीदें। केंद्र सरकार ने छत्तीसगढ़ और यहां के किसानों के हितों का ध्यान रखते हुए,जो फैसला किया है, उसके लिए मुख्यमंत्री बघेल राजनीतिक आग्रहों और मिथ्या प्रलाप से ऊपर उठकर चिठ्ठी लिखकर सार्वजनिक रूप से केंद्र सरकार को धन्यवाद देने की राजनीतिक शिष्टता भी दिखाएं,यूं भी केंद्र सरकार को चिठ्ठियां लिखने में वे काफी मुस्तैदी दिखाते रहे हैं।

 

 

25-09-2020
कांग्रेस अपने फैलाए झूठ का रायते से खुद बार-बार फिसलकर औंधे मुंह गिर रही : विष्णुदेव साय

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार की ओर से पारित कृषि सुधार से संबंधित तीन विधेयकों को लेकर कांग्रेस के दुष्प्रचार की निंदा की है। उन्होंने इसे निंदनीय बताते हुए कहा है कि, कांग्रेस को हर उस सुधार से तकलीफ हो रही है,जिससे उसकी कमीशनखोरी और भ्रष्टाचार से होने वाली काली कमाई पर नकेल कसती हो। मध्यप्रदेश में मंडी टैक्स खत्म करने के लिए चलाए जा रहे बिचौलियों-दलालों के आंदोलन का समर्थन किए जाने और छत्तीसगढ़ में मंडी टैक्स खत्म करने पर मौन साधे जाने पर साय ने कटाक्ष किया है। साय ने कहा है कि एक ही बार में कांग्रेस अपनी राजनीतिक सुविधा के मुताबिक किसी मुद्दे पर दोहरे चरित्र का प्रदर्शन करके अपनी ही जगहंसाई करा रही है। आज भाजपा की केंद्र सरकार किसानों को लाभकारी मूल्य दिलाने और मंडी टैक्स से राहत दिलाने की क्रांतिकारी पहल कर रही है तो कांग्रेस किसानों को गुमराह करने पर उतारू है। कांग्रेस झूठ की राजनीति करके ही किसानों को बरगला रही है। इस बार कांग्रेस अपने झूठ का रायता इतना फैला चुकी है कि अब खुद इस पर बार-बार फिसलकर औंधे मुंह गिर रही है।

25-09-2020
भाजपा नेताओं ने पं.दीनदयाल उपाध्याय को किया याद, साय ने कहा-सादगी, शुचिता और सरलता के थे प्रतीक 

रायपुर। पं.दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर भाजपा नेताओं व कार्यकर्ताओं ने अपने-अपने निवास पर तैलचित्र पर माल्यार्पण कर उनकी सेवा भावना को याद किया। उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। इस दौरान भाजपा के लोगों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा का संबोधन सुना। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने भी अपने राजधानी स्थित निवास पर पं. दीनदयाल उपाध्याय के तैलचित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा कि पं. दीनदयाल उपाध्याय का पूरा जीवन राष्ट्र को समर्पित था। वे शुचिता और सरलता के प्रतीक थे। राष्ट्रवाद और अंतयोदय की जो अलख पं. दीनदयाल उपाध्याय ने जगायी, आज भाजपा उसी के आलोक में श्रेष्ठ भारत के निर्माण में लगी है। उनके इन्हीं विचार पर पार्टी की सरकारें काम कर रही है। राज्यसभा सांसद रामविचार नेताम ने अपने दिल्ली स्थित निवास पर पं.उपाध्याय के तैलचित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें याद किया। सांसद पाण्डेय ने कहा कि पं. दीनदयाल उपाध्याय हमारे आदर्श हैं, वो बेहद साधारण जीवन जीने वाले नेता थे। उन्हीं के पदचिन्हों पर चलते हुए भाजपा के कार्यकर्ता तन-मन और समर्पण भाव से देश के विकास के लिए काम कर रहे हैं और आगे भी करते रहेंगे।
संगठन महामंत्री पवन साय ने भाजपा प्रदेश कार्यालय कुशाभाऊ ठाकरे परिसर में पुष्पांजलि अर्पित कर पं. उपाध्याय का पुण्य स्मरण किया और श्रद्धांजलि दी। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा का उद्बोधन भी भाजपा प्रदेश कार्यालय में सुना।

रायपुर लोकसभा सांसद सुनील सोनी ने पं. दीनदयाल उपाध्याय को नमन कर श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने कहा कि एकात्म मानववाद और अंत्योदय के प्रणेता पंडितजी का जीवन एक संदेश है। प्रत्येक कार्यकर्ता उनके जीवन से बहुत कुछ सीख सकता है। उनके विचारों में मुझे क्या मिला नहीं बल्कि मैने राष्ट्र के प्रति क्या समर्पित किया मुख्य है।  विधायक व पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने पं.दीनदयाल उपाध्याय को श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने कहा कि पंडित उपाध्याय एक प्रखर राष्ट्रवादी विचारक थे। उन्होंने अपने विचारों व कर्तव्य निष्ठा से भारतीय राजनीति में अद्वितीय आदर्श स्थापित किया। उन्होंने देश को अंत्योदय व एकात्म मानववाद जैसी प्रगतिशील विचारधारा देने का काम किया है। उनका संपूर्ण जीवन देश की संस्कृति और देश की अखंडता के लिए समर्पित रहा है। देश को अंत्योदय का मंत्र देते हुए उन्होंने पंक्ति में अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति को पंक्ति में खड़े प्रथम व्यक्ति तक लाने की परिकल्पना की,जिसके लिए उनका संपूर्ण जीवन समर्पित रहा। पूर्व मंत्री महेश गागड़ा ने कहा कि पं. उपाध्याय एक ऐसे युगद्रष्टा थे,जिनके बोये गए विचारों व सिद्धांतों के बीज ने देश को एक वैकल्पिक विचारधारा दी। उनकी विचारधारा सत्ता प्राप्ति के लिए नहीं बल्कि राष्ट्र पुनर्निर्माण के लिए थी। भाजपा नेता सच्चिदानंद उपासने, सुभाष राव, शिवरतन शर्मा, संजय श्रीवास्तव, नलिनीश ठोकने, नरेश गुप्ता, संदीप शर्मा, राजीव कुमार अग्रवाल, प्रफुल्ल विश्वकर्मा, सत्यम दुवा, गौरीशंकर श्रीवास, संजुनारायन सिंह ठाकुर, अनुराग अग्रवाल, राजीव चक्रवर्ती, उमेश घोरमोड़े, अमित चिमनानी, सहित भाजपा नेताओं व कार्यकर्ताओं ने श्रद्धांजलि अर्पित की।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804