GLIBS
16-05-2020
रमन सिंह ने कहा, उड्डयन क्षेत्रों को लेकर किए फैसले केंद्र सरकार की सुलझी सोच का परिचायक

रायपुर। पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने कहा कि देश की सुरक्षा हमारी पहली और सर्वोच्च प्राथमिकता है और इस लिहाज से रक्षा क्षेत्र में किए गए बदलाव निसंदेह क्रांतिकारी हैं। रक्षा क्षेत्र के उत्पादन में मेक इन इंडिया पर जोर देकर केंद्र सरकार ने देश में हथियारों के उत्पादन को बढ़ावा देने और आयात पर निर्भरता को घटाने की दिशा में काम कर रही है। एफडीआई के तहत विदेशी निवेश को 49 फीसदी से बढ़ाकर 74 फीसदी करना, ऑर्डिनेंस फैक्ट्री के निगमीकरण का फैसला लेना केंद्र सरकार की सुलझी सोच का परिचय देते हैं।

रमन सिंह ने कहा कि इसी तरह नागरिक उड्डयन क्षेत्र में एयर स्पेस को बढ़ाने और छह हवाई अड्डों के पीपीपी मोड में सुधार के फैसले से निजी क्षेत्रों की ओर से 13 हजार करोड़ रुपए के निवेश तथा एयर स्पेस बढ़ने से 1 हजार करोड़ की बचत होगी। अंतरिक्ष क्षेत्र में निजी क्षेत्रों की सहभागिता बढ़ाने और मेडिकल आइसेटोप के लिए पीपीपी मोड में उत्पादन का प्रावधान भी स्गतेय है। युवा उद्यमियों को न्युक्लियर सिस्टम से जोड़कर युवा प्रतिभा के निखार का एक नया द्वार भी केंद्र सरकार ने खोलने का काम किया है।

22-04-2020
फेसबुक ने रिलायंस जियो के 9.9 फीसदी शेयर खरीदने का किया ऐलान..कितने के होंगे शेयर, जानकर उड़ जाएंगे होश...

नई दिल्ली। फेसबुक ने रिलायंस जियो के 9.9 फीसदी शेयर खरीदने का ऐलान किया है। रिलायंस जियो में 9.99 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने के लिए फेसबुक 5.7 बिलियन डॉलर यानी कि 43,574 करोड़ रुपए निवेश करेगा। फेसबुक भारत में जियो की परफॉर्मेंस से काफी उत्साहित है। फेसबुक ने ये शेयर रिलायंस इंडस्ट्री लिमिटेड में खरीदे हैं। इस डील पर रिलायंस का कहना है कि कंपनी के एक छोटे हिस्से पर किसी तकनीकी कंपनी का यह सबसे बड़ा निवेश है। यही नहीं भारत में तकनीक के क्षेत्र में एफडीआई के तहत यह अबतक का सबसे बड़ा निवेश है। वहीं इस डील के बारे में फेसबुक का कहना है कि यह निवेश भारत में हमारे विश्वास को दर्शाता है।

फेसबुक की ओर से कहा गया है कि जिस तरह से जियो ने भारत में जबरदस्त उत्साह लाया है, उसके बाद जियो में हमारा निवेश भारत में हमारे विश्वास को दर्शाता है। महज चार साल में ही जियो 388 मिलियन लोगों तक पहुंच गया है, जिसने व्यापार और कनेक्टिविटी के नए रास्ते खोल दिए हैं। हम जियो से साथ मिलकर भारत में अधिक से अधिक लोगों तक जुड़ने को लेकर आश्वस्त हैं। हमारा लक्ष्य है हर साइज के व्यापार को नए अवसर मुहैया कराए, लेकिन मुख्य रूप से हम 60 मिलियन छोटे बिजनेस को यह अवसर मुहैया कराना चाहते हैं। इस डील के साथ ही रिलायंस जियो की सबसे बड़ी शेयरहोल्डर कंपनी फेसबुक बन गई है। बता दें कि वर्ष 2016 में रिलायंस जियो को लॉन्च किया गया था। जियो देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी के रूप में उभरी और काफी तेजी से इसने बाजार पर अपनी धाक जमाई। रिलायंस ने ना सिर्फ टेलीकॉम बल्कि ब्रॉडबैंड से लेकर ई-कॉमर्स में भी अपना विस्तार किया। फेसबुक की बात करें तो अकेले भारत में कंपनी के 400 मिलियन यूजर्स हैं। भारत में वर्ष 2020 तक इंटरनेट इस्तेमाल करने वालों की संख्या 850 मिलियन हो जाएगी।

01-02-2020
बजट मध्यमवर्गीय परिवार के लिए निराशाजनक: कन्हैया अग्रवाल

रायपुर। कांग्रेस नेता कन्हैया अग्रवाल ने बजट को छलावा बताते हुए कहा कि आम बजट मध्यमवर्गीय परिवार के लिए घोर निराशाजनक है। उन्होंने कहा कि सबका साथ सबका विकास का दावा करने वाली सरकार अदानी के साथ अंबानी का विकास, भगौड़ों का विश्वास कायम कर रही हैं। उन्होंने कहा कि स्वदेशी की बात करने वाली सरकार का शिक्षा के क्षेत्र में एफडीआई लेकर आना ही सरकार की असफलता का मानक है। महंगाई पर नियंत्रण के मामले में सरकार को पूर्णतः असफल बताते हुए कहा कि डीजल पेट्रोल जैसे जरूरी उत्पाद के दाम पर सरकार नियंत्रण नहीं कर पा रही है। जिस देश की अर्थव्यवस्था नगद लेनदेन पर आधारित थी उस देश को जबरिया डिजिटल बनाने के प्रयास में देश को आर्थिक मंदी की चपेट में ले लिया है। उन्होंने कहा कि इस देश में चिकित्सा और शिक्षा के क्षेत्र में निजीकरण को हतोत्साहित करने और सरकारी सेवाओं को मजबूत करने की आवश्यकता थी पर कार्पोरेट घराने को मदद करने वाली मोदी सरकार ने शिक्षा और स्वास्थ्य जैसी मूलभूत सुविधा को निजी हाथों और विदेशी हाथों में देने का दुर्भाग्यपूर्ण फैसला लिया है जो सरकार की असफलता का परिचायक है। कर्पोरेट कंपनियों के लिए बड़े घरानों को लाभान्वित करने का फैसला सरकार ने किया है जो सरकार की प्राथमिकता को प्रदर्शित करता है। किसानों की आय दोगुनी करने वाली सरकार किसानों की उपज के समर्थन मूल्य के लिए स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू नहीं कर पा रही है। दो करोड़ रोजगार देने का वादा करने वाली सरकार रोजगार के अवसर पैदा करने की बात कर रही है ।

 

24-09-2019
भारतीय मजदूर संघ ने किया एफडीआई का विरोध किया

कोरिया। जिले के अलग अलग कोयला खदानों में भारतीय मजदूर संघ ने हड़ताल के माध्यम से एफडीआई के विरुद्ध प्रर्दशन किया। मजदूर संघ के नेताओं ने कहा कि सरकार को मजबूर कर दे कि यह निजीकरण से विनिवेश का विधेयक वापस ले। जैसा कि वर्तमान में देश से सभी 48 आर्डीनेस फैक्टरी को निजीकरण किया गया था किन्तु सभी कर्मचारियों ने एकजुटता का परिचय देते हुए एक माह की हड़ताल घोषित की और पांचवे दिन सरकार ने विधेयक वापस ले लिया।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804