GLIBS
22-10-2020
कोरोना से बचने मास्क का सुरक्षा कवच अनिवार्य,दो गज की दूरी जरूरी

रायपुर। प्रदेश में कोराना का संक्रमण पूर्व की तुलना में कम हुआ है, लेकिन खतरा बरकरार है। आम जनता को अभी भी कोविड अनुरूप व्यवहार नियमित रूप से करने की जरूरत है। इसके तहत मास्क सही तरीके से पहनना, दो गज की दूरी और हाथ साबुन पानी से धोते रहना शामिल हैं। त्यौहार के मौसम में लोग बेधड़क बिना मास्क पहने घूम रहे हैं, जो सबके लिए खतरा है। यह लापरवाही त्यौहार की खुशियों पर ग्रहण लगा सकती है। मास्क नहीं पहनने वालों को टोकना भी हमारा कर्तव्य है। विशेषज्ञ बार-बार चेतावनी भी दे रहे हैं कि ठंड और प्रदूषण से कोरोना वायरस और फैल सकता है। हमें इसे हल्के में नहीं लेना चाहिए। अपनी आदतें ,व्यवहार बदलना चाहिए । आईसीएमआर के नवीनतम निष्कर्षों के अनुसार एक बार जिसे संक्रमण हो गया हो ,उसे भी दोबारा संक्रमण का खतरा रहता है और पहले के संक्रमण से अधिक। इसलिए अभी सावधानी में ही समझदारी है।

20-10-2020
जिले में 83 नए वीएलई देंगे लोक सेवाएं,आम जनता को मिलेगी आधार कार्ड-राशन कार्ड-ड्राइविंग लाइसेंस बनाने की सुविधा

बीजापुर। जिले के अंतर्गत लोक सेवाओं को आम जनता तक पहुँचाने के लिए 83 नए विलेेज लेबल इंटरप्रीमर अपनी सेवाएं देंगे। इन नए वीएलई को ग्राम पंचायतों में इंटरनेट तथा अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएगी। इससे जनसाधारण को आधार कार्ड, राशन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, बैंक खाता खोलने सहित जाति, निवास प्रमाण पत्र बनाने इत्यादि सेवाएं उपलब्ध होगी।इस दिशा में कलेक्टर रितेश कुमार अग्रवाल ने नवीन चयनित विलेज लेबल इंटरप्रीमर से रूबरू चर्चा करते हुए कहा कि जनसाधारण को छोटे-छोटे कार्यों के लिए ब्लाक या जिला मुख्यालय तक आना नहीं पड़े और स्थानीय स्तर पर ग्राम पंचायत में ही उन्हे लोक सेवाएं सुलभ करायें। इससे आम जनता को सुविधा होगी। वहीं लोक सेवाओं के लिए एक निर्धारित शुल्क मिलने से स्थानीय युवाओं को आमदनी होगी।

कलेक्टर अग्रवाल ने सभी विलेज लेबल इंटरप्रीमर से कहा कि ग्रामीणों की जरूरत को देखते हुए उन्हे संवेदनशीलता के साथ त्वरित लोक सेवाएं उपलब्ध करायें। उन्होंने अधिकारियों को वीएलई के लिए आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराने कहा। इसके साथ ही उन्हे आवश्यक प्रशिक्षण प्रदान किये जाने अधिकारियों को निर्देशित किया। वहीं इन वीएलई को बैंकिंग सेवाएं यथा पेंशन, मजदूरी सहित अन्य शासकीय योजनाओं की सहायता राशि का नकद भुगतान आदि के लिए बैंकों से जोड़ने के निर्देश दिए।

 

19-10-2020
नवरात्रि में शहर को मिलेगी 36 लाख की सड़कों की सौगात, पटरीपार क्षेत्र के जर्जर सड़क का होगा नवनिर्माण

दुर्ग। पटरीपार क्षेत्र की आम जनता की वर्षों पुरानी मांग पर वार्ड क्रमांक 15 सिकोला बस्ती की जर्जर हो चुकी सड़क लंबे समय से उपेक्षित थी। इसे अब 25 लाख की अधोसंरचना मद से नवनिर्मित किया जाएगा। शहर विधायक अरुण वोरा से वार्डवासियों ने निगम द्वारा लगातार मांग किए जाने पर भी सड़क निर्माण नहीं किए जाने की शिकायत की जा रही थी। इसे संज्ञान में लेकर विधायक वोरा ने हस्तक्षेप पर पायल मेडिकल से एफसीआई के बाजू धमधा रोड तक 345 मीटर की 6 मीटर चौड़ी सड़क का सीमेंटीकरण करवाने महापौर से चर्चा की। अब उक्त सड़क का निर्माण किया जाएगा। इससे क्षेत्र की हजारों जनता को आवागमन में सुविधा होगी। इसके साथ ही वार्ड 28 के पांच बिल्डिंग क्षेत्र में 17 वर्षों से लंबित जर्जर सड़क के 11 लाख के डामरीकरण कार्य का भी आज आस पास के वार्डवासियों की मौजूदगी में महापौर धीरज बाकलीवाल के मुख्य आतिथ्य में लोक निर्माण विभाग द्वारा भूमिपूजन कर कार्य प्रारम्भ करवाया गया। महापौर बाकलीवाल ने कहा कि नवरात्रि के पर्व पर पांच बिल्डिंग एवं पटरी पार सिकोला बस्ती के नागरिकों को नई सड़कों की सौगात मिलने जा रही है। कोविड के कारण नगर निगम के निर्माण कार्यों में आई धीमी गति को अब पुनः तेजी से निष्पादित किया जाएगा व शहर में विकास नजर आने लगेंगे। उन्होंने लोगों को कोरोना के प्रति जागरूक रहने की अपील करते हुए मास्क, सैनिटाइजर का इस्तेमाल करने व दुर्गा पंडाल में दर्शनार्थियों को भी आग्रह किया है कि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन अवश्य करें। इस अवसर पर सभापति राजेश यादव, लोनिवि प्रभारी अब्दुल गनी, एमआईसी ऋषभ जैन, संजय कोहले, मनदीप भाटिया, निर्मला साहू, रत्ना नारमदेव, अजय गुप्ता, राजेश शर्मा सुमित वोरा, पार्षदगण अमित देवावंगन, विजयेन्द्र भारद्वाज, कांशीराम रात्रे, निर्मला साहू, एल्डरमेन रत्ना नारमदेव, कार्यपालन अभियंता राजेश पाण्डेय, पूर्व पार्षद राजेश शर्मा, सुमित वोरा, अजय शर्मा, आयुष शर्मा, सहा. अभियंता जगदीश केशरवानी, उपअभियंता श्वेता महलवार, गौरव सिंह, अमित कुमार, एवं अधिक संख्या में वार्ड नागरिक उपस्थित थे। इस दौरान उपस्थित पार्षद सहित वार्ड निवासियों ने इस विकास कार्य के लिए महापौर बाकलीवाल का आभार व्यक्त किये।

 

10-10-2020
सार्वजनिक स्थल पर थूकने,दुकानों में फिजिकल डिस्टेंस का पालन नहीं करने पर होगी दंडात्मक कार्रवाई

जांजगीर-चांपा। कोरोना संक्रमण पर प्रभावी रोकथाम के लिए जिला प्रशासन द्वारा आम जनता से सार्वजनिक स्थान पर नहीं थूकने, मास्क का अनिवार्य रूप से उपयोग करने, फिजिकल डिस्टेंस, आइसोलेशन के नियमों का अनिवार्य रूप से पालन करने की अपील की गई है। इन निर्देशों का उल्लंघन करने पर 15 अक्टूबर से दंडित करने की कार्रवाई की जाएगी।कोरोना संक्रमण वैश्विक महामारी से बचाव एवं रोकथाम के लिए राज्य एवं जिला स्तर पर प्रयास किया जा रहा है। कलेक्टर यशवंत कुमार ने इस संबंध में राजस्व अधिकारियो, जनपदों के सीईओ एवं नगरीय निकाय के मुख्य नगरपालिका अधिकारियों को पत्र जारी कर कोरोना वायरस की रोकथाम और बचाव के संबंध में जन जागरूकता के लिए व्यापक प्रचार-प्रसार करवाने के निर्देश दिए हैं। पत्र में कहा है कि कोविड-19 संक्रमण के  प्रसार श्रृंखला को तोड़ने के लिए समुदाय स्तर पर लक्षणात्मक मरीजों की पहचान कर उन्हें आइसोलेट करने एवं उपचार किया जाना आवश्यक है। कलेक्टर ने कहा है कि कोरोना से बचाव के उपाय के लिए दैनिक व्यवहार में परिवर्तन लाना जरूरी है। इसके लिए मास्क का उपयोग, 2 गज की दूरी का पालन करना,  बार-बार हाथ धोना जैसे तरीके हैं तथा इस दिशा में प्रभावी क्रियान्वयन आवश्यक है।

जिला प्रशासन ने आम जनता से  अपील करते हुए कहा है कि कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए उक्त निर्देशों का अनिवार्य रूप से पालन करें। वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए दैनिक व्यवहार में परिवर्तन लाएं। सार्वजनिक स्थल पर थूकने पर प्रतिबंध है, इसका कड़ाई से पालन करें। घर से बाहर निकलने पर मास्क जरूर लगाए। दुकानदार व ग्राहक मास्क अनिवार्य रूप से पहने। जब तक जरूरी न हो घर से बाहर न निकले। मुंह और नाक को ढककर रखें। इसके लिए कपड़े के मास्क का उपयोग करें। साबुन से बार-बार हाथ धोएं व सैनिटराइजर का उपयोग करें। आपस में कम से कम 2 मीटर की दूरी बनाए। छिंकते या खांसते समय मुंह एवं नाक को रुमाल या कपड़े से ढकें। बुखार, सर्दी, खांसी, सांस लेने में तकलीफ, शरीर में दर्द होना, उल्टी व दस्त, सूंघने या स्वाद की  शक्ति खत्म हो जाना कोरोना संक्रमण के  प्रमुख लक्षण है।  लक्षण आने पर 24 घंटे के भीतर निकटतम स्वास्थ्य केंद्र में जांच कराने के निर्देश दिए गए हैं। सब्जी,फल दुकान एवं अन्य दुकान के सामने शारीरिक दूरी बनाए रखने के लिए चूना, पेंट से गोल घेरा बनाने के  निर्देश दिए गए है। सार्वजनिक स्थल पर बिना मास्क लगाए जाने पर जुर्माना किया जावेगा। कलेक्टर ने निर्देशों का  तीन बार से ज्यादा उल्लंघन पर पुलिस को एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश दिए है। नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में उक्त निर्देशों का प्रतिदिन मुनादी कराने के निर्देश भी संबंधित अधिकारियों को दिए गए है।
 
ग्राम सभा के माध्यम से प्रचार-प्रसार एवं उंल्लघन पर अर्थदण्ड का प्रस्ताव

कलेक्टर ने कहा है कि ग्रामीण क्षेत्रों में ग्राम सभा का आयोजन कर कोरोना वायरस की रोकथाम के निर्देशों का पर्याप्त प्रचार-प्रसार किया जाए। इसके लिए जनप्रतिनिधियों का आवश्यक सहयोग भी लिया जा सकता है। निर्देशों के उल्लंघन पर अर्थदण का प्रस्ताव रखने के निर्देश दिए गए हैं। आम जनता में इसका व्यापक प्रचार-प्रसार करने कहा गया है। ज्यादा से ज्यादा दीवार लेखन कराने, प्रतिदिन मुनादी कराने के भी निर्देश दिए हैं। प्रचार प्रसार के बाद अर्थात 14 अक्टूबर के बाद इन निर्देशों के उल्लंघन पर अर्थदण्ड अधिरोपित किया जाएगा।  बार-बार उल्लंघन करने वाले के विरुद्ध यथोचित कार्रवाई की जाएगी। प्रतिदिन की कार्रवाई की जानकारी निर्धारित प्रारूप में जिला कार्यालय को प्रेषित करने के निर्देश दिए गए हैं।

09-10-2020
भोपालपटनम में एसडीएम कार्यालय लगने से आम जनता को हो रही है सहूलियत

बीजापुर। राज्य शासन तथा प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मंशानुरुप जिले के दूरस्थ क्षेत्र भोपालपटनम में अनुविभागीय अधिकारी राजस्व कार्यालय लगने के फलस्वरुप अब इलाके के लोगों को राजस्व सम्बन्धी कार्यों सहित समस्या-शिकायतों के त्वरित निराकरण के लिए सहूलियत हो रही है। वहीं क्षेत्र में विकास कार्यों को बढ़ावा मिल रहा है। राज्य शासन की मंशानुसार कलेक्टर रितेश कुमार अग्रवाल द्वारा जिले के दूरस्थ क्षेत्रों में प्रशासन की पहुँच सुनिश्चित करने सहित इन ईलाके के लोगों को मूलभूत सुविधाएं मुहैय्या कराये जाने प्राथमिकता के साथ पहल किया जा रहा है। इसी कड़ी में उन्होंने जिले के दूरस्थ क्षेत्र भोपालपटनम में एसडीएम ऑफिस को स्थायी रूप से लगाये जाने सार्थक प्रयास कर इलाके के लोगों को एक महत्ती सुविधा उपलब्ध कराया है। भोपालपटनम में एसडीएम ऑफिस लगने से अब आम जनता को राजस्व सम्बन्धी कार्यों के लिए जिला मुख्यालय बीजापुर तक आने-जाने की दिक्कत से निजात मिल गयी है। अब राजस्व प्रकरणों के निराकरण के साथ ही जाति प्रमाण पत्र आदि दस्तावेज बनाने के लिए सहूलियत हो रही है।

इसके साथ ही क्षेत्र के ग्रामीणों की छोटी-छोटी समस्या-शिकायतेें स्थानीय स्तर पर भोपालपटनम में निराकृत हो रही है। वहीं अब क्षेत्र में शिक्षा, स्वास्थ्य,पेयजल,बिजली आदि मूलभूत सुविधाएं सम्बन्धी विकास कार्यों को बढ़ावा मिल रहा है। इसके साथ ही निर्माण कार्यों को तेजी के साथ संचालित करने सहित जनकल्याणकारी योजनाओं का कारगर क्रियान्वयन किया जा रहा है। भोपालपटनम में एसडीएम कार्यालय लगने के फलस्वरूप आम जनता को हो रही सुविधा के बारे में अपनी खुशी व्यक्त करते हुए नगर पंचायत भोपालपटनम के अध्यक्ष कामेश्वर गौतम कहते हैं कि पहले बीजापुर में एसडीएम कार्यालय जाकर अपने राजस्व सम्बन्धी कार्यों को पूरा कराना पड़ता था। लेकिन अब भोपालपटनम में ही क्षेत्र की जनता को यह सुविधा मिलने से उनकी समय और धन दोनों की बचत हो रही है। उन्होंने बताया कि भोपालपटनम में एसडीएम कार्यालय लगने से अब आम जनता की समस्या-शिकायतों का त्वरित निराकरण हो रहा है। नगर पंचायत अध्यक्ष भोपालपटनम कामेश्वर गौतम ने इसके लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के प्रति कृतज्ञता प्रकट करते हुए कहा कि यह मुख्यमंत्री बघेल की दूरस्थ इलाके के लोगों को सुविधाएं मुहैय्या कराने के लिए सकारात्मक पहल है। भोपालपटनम के वरिष्ठ नागरिक ताटी नारायण एवं घनश्याम भारिया ने इसे क्षेत्र की जनता के लिए सौगात निरूपित करते हुए उक्त पहल के लिए राज्य शासन को धन्यवाद दिया।

 

05-10-2020
हटरी बाजार में मल्टी डीलक्स प्रसाधन का महापौर ने किया लोकार्पण  

दुर्ग। नगर पालिक निगम दुर्ग के ब्राम्हणपारा वार्ड 32 के अंतर्गत हटरी बाजार पटवा लाइन में अब शहर की आम जनता के साथ ही हटरी बाजार के दुकानदारों को पटवा लाइन में प्रसाधन की सुविधा प्राप्त होगी। लगभग 4.75 लाख की लागत से महापौर निधि एवं पूर्व पार्षद स्व.सोहन जैन की निधि से पटवा लाइन में महिलाओं और पुरुषों के लिए अलग-अलग मल्टी डीलक्स प्रसाधन का निर्माण किया गया। महापौर धीरज बाकलीवाल ने सोमवार को पटवा लाइन में प्रसाधन निर्माण लोकार्पण किया। इस दौरान सभापति राजेश यादव, एमआईसी प्रभारीगण ऋषभ जैन, दीपक साहू, जमुना साहू, भोला महोबिया, एल्डरमेन अजय गुप्ता, तथा निगम अधिकारी जितेन्द्र समैया, आरके जैन, नागरिक जवाहर जैन, दिलीप बाकलीवाल, अकरम सौदागर, अमोल जैन, चंदप्रकाश जेन, संजय बनकर व अन्य उपस्थित थे। इस मौके पर महापौर बाकलीवाल ने बताया विधायक अरुण वोरा के मार्गदर्शन में निरंतर विकास कार्य शहर में अब मूर्त रुप लेने लगा है। इस कड़ी में आज हटरी बाजार स्थित पटवा लाइन में मल्टी डीलक्स प्रसाधन का लोकार्पण किया गया। 

 

24-09-2020
जिले में आज से एक सप्ताह का सम्पूर्ण लॉक डाउन, चप्पे चप्पे पर पुलिस तैनात, बाहर निकले तो खैर नहीं

महासमन्द। कलेक्टर के आदेश के बाद गुरूवार से पूरे जिले में लॉक डाउन का असर दिखने लगा। जिले के सभी ब्लॉकों में आज सुबह से कोई दुकानें नहीं खुली। पुलिस ने कुछ स्थानों पर फ्लेग मार्च भी किया और कुछ स्थानी पर आज शाम तक पुलिस फ्लेग मार्च कर नगर का भ्रमण करेगी। जिले के व्यापारियों और अन्य संगठनों ने इस लॉक डाउन का स्वागत किया है। आज सुबह से ही पूरे जिले के बागबाहरा, पिथौरा, बसना, सरायपाली में बंद का व्यापक असर दिखा। किसी भी व्यापारी संगठन या अन्य संगठनों ने इस बंद का विरोध नहीं किया है ना ही आम जनता सुबह से घर से बाहर निकलने का प्रयास किया है। हालांकि इक्के दुक्के लोग शहर की सड़कों पर घुमते नजर आए, जिसे पुलिस ने समझाइश दे कर घर पर ही रहने कहा है। पूरे जिले में आपात सुविधा अस्पताल और मेडिकल स्टोर ही सुबह से खुले हैं। जिला पुलिस ने पूरे गश्त लगा रखी है साथ ही जिले से लगे सीमावर्ती क्षेत्र में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। बिना किसी कारण से लोगों को घर से निकलने मनाही है। हालांकि पहले लॉक डाउन की तरह पुलिस सख्ती नहीं बरत रही है लेकिन अकारण घर से बाहर निकल घुमने फिरने वालों पर पुलिस ने कड़ी नजर रखी हुई है।

शहर के मुख्य चौक नेहरू चौक, गांधी चौक, बरोंड़ा चौक, अम्बेडकर चौक सहित अन्य स्थानों पर पुलिस के जवान लॉक डाउन में दिन रात ड्यूटी पर तैनात रहेंगे। किसी भी आपात स्थित से निपटने के लिए जिला प्रशासन ने सभी प्रशासनिक अधिकारियों को सजग रहने के लिए कहा है। जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन का इस लॉक डाउन में प्रयास है कि अनावश्यक कोई भी व्यक्ति घर से बाहर ना निकले और इस संक्रमण को  खत्म किया जा सके। महासमुन्द की अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मेघा टेम्बूरकर ने बताया है कि पुलिस का गश्ती दल पूरे शहरी और ग्रामीण क्षेत्र में नजर बनाए हुए है। नेशनल हाइवे पर सभी होटल ढाबे बंद रहेंगे। बीमार या आपात स्थित में आने जाने वाले एम्बुलेंस को पुलिस पूरे जिले में किसी भी स्थान पर नहीं रोकने का आदेश दिया है। प्रावेइट वाहन से अगर कोई पेशेंट शहर के बाहर या किसी अस्पताल में जा रहा हो तो पुलिस जांच उन्हें भी कही नहीं रोकेगी। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने कहा है कि पूरे जिले में किसी भी व्यक्ति को कोई मदद की जरूरत है तो वह तत्काल पुलिस कंट्रोल रूम या 112 नम्बर पर डायल कर पुलिस की तत्काल मदद ले सकता है।

16-09-2020
कमिश्नर ने कलेक्टरों से कहा- मिल रही कई शिकायतें,इलाज के नाम पर अधिक वसूली होने पर पीड़ित परिवार को राशि वापस दिलाएं 

रायपुर। कमिश्नर रायपुर जीआर चुरेंद्र ने संभाग के सभी जिलों के कलेक्टरों को पत्र लिखकर सुझाव दिया है। उन्होंने कहा है कि, जिला, विकासखंड और अन्य स्तर पर जो भी निजी अस्पताल संचालित है, उनसे सेवा भावना के साथ इलाज का न्यूनतम चार्ज लिए जाने के लिए प्रेरित करें। समुचित कार्यवाही करें, जिससे आम जनता व कोविड बीमारी से पीड़ित परिवारों को राहत मिले। कमिश्नर ने अपने पत्र में ध्यान आकर्षित करते हुए लिखा है कि, जनता व प्रतिनिधियों की ओर से यह शिकायत आ रही है कि कोरोना संक्रमण काल के दौरान निजी अस्पतालों में भी मरीजों का इलाज हो रहा है,लेकिन कोविड टेस्ट के नाम पर विभिन्न बीमारियों से ग्रस्त मरीजों के त्वरित इलाज में विलंब हो रहा,इससे कई बार गंभीर रूप से बीमार व्यक्तियों का निधन भी हो जाता है। निजी अस्पताल संचालकों की ओर से समुचित प्रशासनिक नियंत्रण के अभाव में विभिन्न प्रकार के बीमारियों और कोविड के इलाज के नाम पर बड़ी राशि वसूलने की  शिकायत भी आ रही है।

कमिश्नर ने पत्र में कहा है कि, जिले के अंतर्गत जिन निजी अस्पतालों में कोविड -19 के मरीजों को उपचार करने की सुविधा दी गई है, ऐसे सभी अस्पतालों का सूचीकरण, उनकी ओर से मरीजों के किए जा रहे उपचार या लिए जा रहे उपचार राशि की जानकारी प्रतिदिन लेने की व्यवस्था बनाई जाए। मरीजों के परिवार से भी संपर्क कर इसकी पुष्टि की जाए। यदि कोविड 19 के बीमारी के इलाज के नाम पर अधिक राशि का वसूली की जानकारी प्राप्त होती है, तो वह राशि मरीज के परिवार को वापस कराई जाए। कश्मिर ने कहा है कि, सेवानिवृत्त हो चुके पेंशनधारी ,वरिष्ठ नागरिकों को भी सस्ता - सुलभ इलाज निजी या शासकीय अस्पतालों से कराए जाने की व्यवस्था करें। इसके लिए कलेक्टर की अध्यक्षता में निजी अस्पताल के संचालकों की प्रथम बैठक भी आयोजित करने को कहा है। इससे औचित्यपूर्ण दर पर निजी अस्पतालों से मरीजों की उपचार की व्यवस्था बनाई जाए। कमिश्नर ने कहा है कि, इसके लिए बनाई गई व्यवस्था को क्रियान्वित करने के दृष्टि से जिले स्तर पर एक टीम गठित किया जए, जिसका अध्यक्ष अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी या मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत को रखा जाए। उन्होंने कहा है कि, यह समिति समय -समय पर निजी अस्पतालों में मरीजों के उपचार गतिविधियों का आकलन करने निरीक्षण करेंगें, साथ ही निजी अस्पतालों के संचालकों की आवश्यकतानुसार मासिक बैठक लेकर समीक्षा करेंगें। मरीजों का औचित्यपूर्ण दर पर इलाज की व्यवस्था बनाएंगे। इसी तरह की समिति विकासखंड मुख्यालय या अन्य नगरीय क्षेत्र के लिए भी गठित कराकर कार्य कराने के निर्देश दिए हैं। पत्र पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

13-09-2020
एंटिजेन टेस्ट पॉजिटिव आने पर अन्य तरीकों से जांच के बजाए इलाज तत्काल शुरू करना आवश्यक : डॉ. सुंदरानी

रायपुर। कोविड 19 बीमारी चूंकि नई बीमारी है इसलिए इसके बारे में आम जनता में अनेक भ्रांतियां भी हैं। डॉ. भीमराव अंबेडकर स्मृति अस्पताल के चिकित्सक डॉ. सुंदरानी का कहना है कि, कोरोना का पता लगाने के लिए किए जाने वाला टेस्ट रैपिड एंटिजेन यदि पॉजिटिव आता है तो मरीजों को दोबारा आरटीपीसीआर या ट्रू नाट टेस्ट नहीं कराना चाहिए। उस टेस्ट का रिजल्ट आने का इंतजार करने में समय नहीं गंवाना चाहिए, बल्कि कोरोना का इलाज तत्काल चिकित्सक की देखरेख में शुरू करना चाहिए। इससे मरीज के स्वस्थ होने की संभावना भी बढ़ेगी और अनावश्यक संसाधन भी खर्च नहीं होगा। उसके स्थान पर किसी गंभीर मरीज का टेस्ट हो जाएगा। उनका कहना है कि, जब रैपिड टेस्ट का रिजल्ट निगेटिव आता है और फिर भी यदि मरीज में कोरोना के लक्षण दिख रहे हैं तो ही आरटीपीसीआर कराना चाहिए। यह भी अत्यंत आवश्यक है कि, टेस्ट कराने के बाद से रिजल्ट आते तक लोगों को घर पर ही रहना चाहिए। दूसरों से और घर के अन्य सदस्यों से भी मेल-जोल नहीं रखना चाहिए। तभी हम सब इस बीमारी के संक्रमण से बचे रहेंगे।

07-09-2020
कोरोना वारियर्स व आम जनता के उत्तम इलाज की हो व्यवस्था,अस्पताल प्रबंधन मरीजों को भटकने ना दें : वोरा

दुर्ग। जिले में कोरोना वायरस के बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए शहर विधायक अरुण वोरा ने सीएमएचओ गंभीर सिंह ठाकुर से विस्तार से चर्चा कर शहर में कोरोना वारियर्स एवं आम जनता के लिए शासन द्वारा उपलब्ध कराई जा रही स्वास्थ्य सुविधाओं की जानकारी ली। सीएमएचओ ने बताया कि वर्तमान में दुर्ग जिले में चंदूलाल चंद्राकर मेडिकल कॉलेज मचांदुर एवं शंकराचार्य मेडिकल कालेज जुनवानी में शासन द्वारा निःशुल्क इलाज की व्यवस्था कराई गई है व बिना लक्षण के मरीजों को निःशुल्क दवाइयों एवं डॉक्टरी मार्गदर्शन के साथ होम आइसोलेशन में रहने की सलाह दी जा रही है।

साथ ही जिला अस्पताल दुर्ग, शासकीय अस्पताल सुपेला सहित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में भी कोरोना जांच की व्यवस्था की गई है। विधायक वोरा ने कहा कि कोविड पॉजिटिव मरीजों को लगातार अपनी सेवाएं दे रहे कोरोना वारियर्स एवं आम जनता को इलाज के लिए भटकाव की स्थिति नहीं निर्मित होनी चाहिए। सभी का बेहतर इलाज सुनिश्चित करने की आवश्यकता है। उन्होंने लोगों से भी एक बार पुनः घरों पर रहने व खुद को सुरक्षित रखने की अपील की। गौरतलब है कि विधायक वोरा पहले लॉक डाउन से ही शहर में आम जनता की स्वास्थ्य सुविधाओं एवं राशन की उपलब्धता सुनिश्चित करने जुटे हुए हैं साथ ही विधानसभा में भी नगर निगम द्वारा कोरोना रोकथाम के लिए किए जा रहे कार्यों से संबंधित प्रश्न लगाया था जिसमें बताया गया कि निगम द्वारा टेक्नोस एग्रीकल्चर मशीन, सीकर मशीन एवं सोडियम ह्यपोक्लोराइड क्रय कर लगातार सेनेटाइजेशन का कार्य कराया जा रहा है।

 

07-09-2020
काढ़ा वितरण शुरू, बता रहे इस्तेमाल के तरीके भी, रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने मुख्यमंत्री ने दिए थे निर्देश

दुर्ग। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बीते दिनों आम जनता में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने काढे के इस्तेमाल को बढ़ावा देने के लिए निशुल्क काढ़ा वितरण के निर्देश अधिकारियों को दिए थे। इसके अनुपालन में दुर्ग जिले में काढ़ा वितरण का कार्यक्रम आरंभ हो गया है। काढा वितरण के लिए शिविर लगाए जा रहे हैं। कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ने बताया कि इस संबंध में सभी निगम अधिकारियों एवं आयुष विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया गया है। चिन्हांकित स्थानों पर शिविर लगाने आरंभ कर दिए गए हैं। नगर निगम भिलाई चरौदा में आज पदुम नगर के पास लगाए गए काढ़ा वितरण शिविर में बड़ी संख्या में नागरिकों ने हिस्सा लिया। काढा लेने आए राजेश श्याम कर ने बताया कि कोविड से बचाव के लिए हम लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं। मास्क लगा रहे हैं। व्यर्थ लोगों से मिलने जुलने को से बच रहे हैं। इसके साथ ही गर्म पानी का उपयोग कर रहे हैं।

अब चूंकि काढ़ा वितरण कार्य  जिला प्रशासन ने आरंभ कर दिया है इसलिए अब काढे को भी दिनचर्या में शामिल करेंगे।  राजेश ने बताया कि वह हमेशा से आयुर्वेदिक औषधियां लेते रहे हैं। आयुर्वेदिक औषधियों से लंबे समय के लिए प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। कोविड से बचने में प्रतिरोधक क्षमता की बहुत महत्वपूर्ण भूमिका होती है। ऐसे में हमारे परंपरागत आयुर्वेद को अपनाकर हम लोग गंभीर बीमारियों से बच सकते हैं या उनकी मारक क्षमता को कम कर सकते हैं। शिविर में आई निर्मला साहू ने बताया कि वह अपने पूरे परिवार के लिए काढ़ा ले जा रही हैं। इससे पहले उन्होंने काढ़ा रायपुर से मंगवाया था, अब स्थानीय रूप से से ही यह काढ़ा मिल रहा है। शिविर में मौजूद नगर निगम आयुक्त कीर्तिमान राठौर ने बताया कि अभी तक ढाई सौ नागरिकों को काढे का वितरण किया जा चुका है। हर दिन इस शिविर से लगभग 500 नागरिकों को काढ़े का वितरण किया जाएगा। काढे के वितरण के साथ ही आयुष विभाग द्वारा अन्य सावधानियों के संबंध में भी नागरिकों को जागरूक किया जा रहा है। इस संबंध में नागरिकों को पांपलेट भी वितरित किए जा रहे हैं। शिविर में मौजूद जिला आयुर्वेद अधिकारी डॉक्टर केके शर्मा ने बताया कि इस काढ़े में सोंठ, तुलसी, त्रिकुट जैसे तत्व हैं,जो प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में काफी उपयोगी होते हैं। आयुर्वेद में रोग टालने की दिशा में काम होता है। ऐसे तत्व जो शरीर को निरोगी रखते हैं। उनकी आपूर्ति जड़ी बूटी के सेवन के माध्यम से कराई जाती है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804