GLIBS
27-10-2020
जिला प्रशासन और विभिन्न औद्योगिक संघ में मध्य हुई बैठक, उद्योगों को मूलभूत सुविधाएं देने हुई चर्चा

दुर्ग। जिला प्रशासन द्वारा औद्योगिक संघ के प्रतिनिधियों की बैठक आयोजित की गई। इसमें औद्योगिक परिसरों में साफ सफाई और मेंटेनेंस की समुचित व्यवस्था,औद्योगिक कार्यों के लिए पर्याप्त नगर निगम द्वार कमर्शियल कनेक्शन प्रदाय करने के विषय में भी चर्चा हुई। बैठक में अपर कलेक्टर प्रकाश सर्वे ने कहा कि औद्योगिक संघ से हुई चर्चा पश्चात मिले सुझावों पर राज्य स्तर पर भी विस्तार से चर्चा की जाएगी। शासन के निर्देश थे कि कोविड संकट में श्रमिकों को काम से बाहर नहीं निकालना है अतः बैठक में आए प्रतिनिधियों से इस संबंध में जानकारी भी ली गई। इसके अलावा औद्योगिक क्षेत्रों (उद्योग विभाग व सीएसआईडीस के अधीन) में सड़कों को सुचारू रख-रखाव, निर्माण, संधारण की व्यवस्था के संबंध में औद्योगिक क्षेत्रों में जल निकासी व्यवस्था व साफ-सफाई के संबंध में नगर पालिका निगम क्षेत्रों में स्थित औद्योगिक क्षेत्रों में स्थापित इकाईयों द्वारा संपत्ति कर भुगतान व निगम द्वारा उपलब्ध कराई जा रही सुविधाओं के संबंध में, औद्योगिक क्षेत्रों में सड़कों पर स्ट्रीट लाईट व्यवस्था व रख-रखाव के संबंध में,औद्योगिक क्षेत्रों में वृक्षारोपण व्यवस्था के संबंध में,औद्योगिक क्षेत्र में स्थित व कार्यरत इकाई में पर्यावरण संरक्षण के लिए निर्धारित मानकों के पालन के संबंध में, औद्योगिक क्षेत्र में स्थापित उद्योगों में श्रम कानूनों के प्रबंधन की स्थिति के संबंध में,औद्योगिक क्षेत्रों में राज्य शासन के निर्देशानुसार अप्रयुक्त भूमि के सुचारू उपयोग के संबंध में और औद्योगिक क्षेत्रों में अवैध अतिक्रमण के संबंध में भी चर्चा की गई।

 

22-10-2020
बिना मास्क लगाए घूम रहे लोगों से वसूला गया अर्थदंड

राजनांदगांव। कोविड 19 की रोकथाम के जिला प्रशासन ने अभियान चलाकर नियमों का उल्लंघन करने वालों से जुर्माना वसूला। गुरुवार को पुलिस थाना बोरतलाव अन्तर्गत जिला पुलिस बल, राजस्व विभाग एवं ग्राम पंचायत बोरतलाव ने संयुक्त कार्यवाही करते हुए विशेष अभियान चलाया। चेकिंग कार्यवाही में बिना मास्क लगाए घूमने वालों व दुकानदारों पर चालानी कार्यवाही की गई है। इसमें कुल 38 लोगों से 3800 रुपये समन शुल्क वसूला गया। थाना प्रभारी ने बताया कि नवरात्रि समाप्त होने के बाद कोविड-19 के रोकथाम के लिए कार्यवाही जारी रहेगी।

 

22-10-2020
न्यायालय के आदेश पर हुई कार्यवाही, अवैध रूप से रेत निकालने बने रैम्प को जिला प्रशासन ने ढहाया  

कांकेर। ग्राम पंचायत नारा में अवैध रूप से रेत निकालने बने रैम्प को न्यायालय के आदेश पर जिला प्रशासन ने कार्यवाही करते हुए ढहा दिया। प्राप्त जानकारी अनुसार ग्राम पंचायत नारा महानदी पुल से लगाकर एक व्यक्ति ने ट्रैक्टर के माध्यम से हाइवा वाहनों में रेत डालने के लिए सीमेंट से रैम्प बनाया था। इसकी शिकायत मिलने पर गुरुवार को तहसीलदार, नायब तहसीलदार एवं पुलिस टीम ने रैम्प को तोड़ने की कार्यवाही की जा रही थी। तभी गांव के ही कुछ लोगों नेप्रशासन की कार्यवाही का विरोध किया। पुलिस को ने सख्ती बरतते हुए रैंप को तोड़ा। इस सबंध में कांकेर नायब तहसीलदार जीएल साहू ने बताया कि ग्राम पंचायत नारा में अवैध कब्जा कर रैम्प बनाया गया था। इसकी शिकायत हल्का पटवारी के किये जाने एवं हमारी जानकारी में आने के बाद न्यायालय में प्रकरण दर्ज होने के बाद विधिवत रूप से अवैध कब्जा को तोड़ा गया है। कार्यवाही में तहसीलदार मनोज मरकाम, एएसआई मनोज सेवता, पुलिस बल एवं पटवारी मौजूद रहे।

 

21-10-2020
जिले में अब तक 2200 से अधिक कोरोना मरीज स्वस्थ होकर लौटे घर

कोरिया। जिले में कोविड-19 के संक्रमण से रोकथाम एवं बचाव के लिए जिला प्रशासन सतत रूप से शासन के निर्देशों का पालन करते हुए कार्यरत है। कलेक्टर एसएन राठौर ने जिले के समस्त नागरिकों से कोविड-19 के संक्रमण से बचाव के नियमों का पालन करने एवं जिला प्रशासन का सहयोग करने की अपील की है। कलेक्टर के निर्देश पर जिले के स्वास्थ्य विभाग द्वारा प्रतिदिन मेडिकल बुलेटिन जारी किया जा रहा है। अब तक 2211 कोरोना मरीज पूरी तरह स्वस्थ होकर अपने घर लौट चुके हैं। जिले में अब तक कुल 2671 कोरोना पाजीटिव मरीजों की पहचान की गई है। वहीं आज की स्थिति में कुल 437 एक्टिव केस की पहचान की गई है, साथ ही 408 मरीजों का होम आइसोलेशन में उपचार किया जा रहा है।कोविड अस्पताल, बैकुण्ठपुर में 100 बेड एवं 7 आईसीयू, एचडीयू 10 आईसीयू, 6 वेंटीलेटर उपलब्ध हैं। आज की स्थिति में यहां भर्ती मरीजों की संख्या 28 तथा 72 बेड उपलब्ध हैं।

इसी तरह एसईसीएल हास्पिटल, चरचा में बेड की संख्या 50 है। यहां भर्ती मरीजों की संख्या 3 तथा 47 बेड उपलब्ध हैं। होम आईसोलेट किये गये कोरोना संक्रमित मरीजों को स्वास्थ्य विभाग के द्वारा निःशुल्क होम केयर आइसोलेशन किट का वितरण किया जा रहा है। इस किट में मरीजों को दवाइयों के साथ मास्क, ऑक्सीमीटर एवं थर्मामीटर दिया जा रहा है। साथ ही मरीजों से वीडियो कॉल के जरिए बातचीत कर उनकी देख-रेख की जा रही है।इसी कड़ी में जिले में 2 से 14 अक्टूबर तक कोरोना सघन सामुदायिक सर्वे भी संचालित किया गया। इसे वर्तमान में भी जिले में हर सोमवार जारी रखा गया है। उल्लेखनीय है कि जिले में अब तक जिले में आरटीपीसीआर के द्वारा 8133, ट्रूनाट के द्वारा 4704 तथा रैपिड एंटिजन के द्वारा 21784 टेस्ट किये जा चुके हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा कोरोना मरीजों को लाने के लिए एंबुलेंस की सुविधा भी दी जा रही है।

 

21-10-2020
अग्रगमन ने खोली सफलता की राह, नीट में मिली रंजीता को कामयाबी

कोरबा। जिला प्रशासन गरीब, मेधावी बच्चों के डाक्टर-इंजीनियर बनने के सपने को साकार कर रहा है। जिला प्रशासन द्वारा संचालित अग्रगमन कोचिंग योजना में इस वर्ष नीट परीक्षा की तैयारी करने वाली बैच में रंजीता बिंझवार ने पहला स्थान हासिल किया है। देश की सर्वोच्च मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट को रंजीता ने 385 अंकों के साथ क्वालीफाई किया है। रंजीता डाॅक्टर बनकर समाज और देश की सेवा करना चाहती है। नीट क्वालीफाई होने के बाद रंजीता ने अपनी सफलता का श्रेय जिला प्रशासन की अग्रगमन कोचिंग को दिया है। उन्होंने कहा कि अग्रगमन में रहकर पढ़ाई करने से ही मुझे कामयाबी मिल पाई। रंजीता ने बताया कि गांव के बच्चों के लिए उच्च स्तर के परीक्षा की तैयारी करना चुनौती भरा और कठिन रहता है। अग्रगमन के शिक्षकों द्वारा दी गई सही शिक्षा और लगातार पढ़ाई की बदौलत नीट परीक्षा क्वालीफाई होने में सफलता मिली। रंजीता ने बताया कि अग्रगमन में मुफ्त में रहने, खाने-पीने के साथ पढ़ाई का अच्छा माहौल भी प्रदान किया जाता हे। रंजीता ने अग्रगमन के शिक्षकों द्वारा लगातार विद्यार्थियों को परीक्षा के लिए प्रोत्साहित करने का भी नीट परीक्षा में कामयाबी का कारण बताया।विकासखंड कटघोरा के ग्राम मनगांव निवासी नीट परीक्षा में अग्रगमन से 28 क्वालीफाईड बच्चों में पहला स्थान प्राप्त करने वाली रंजीता बिंझवार ने बताया कि उनकी तीन बहन और दो भाई हैं। रंजीता के पिताजी एसईसीएल छुराकछार में कार्यरत हैं तथा उनकी मां गृहणी है। स्कूली कक्षाओं में अव्वल रहने वाली रंजीता ने कक्षा दसवीं में 88 प्रतिशत और कक्षा 12 वीं में 81 प्रतिशत अंकों के साथ उत्तीर्ण की है।

कक्षा दसवी पास करने के बाद रंजीता को जिला प्रशासन के अग्रगमन कोचिंग योजना के बारे में शिक्षकों से जानकारी प्राप्त हुई। रंजीता बताती है कि अग्रगमन में चयन होने से बड़े कोचिंग संस्थानों के महंगे फीस और रहने खाने की चिंता दूर हो गई। रंजीता ने बताया कि अग्रगमन में पढ़ाई का अच्छा माहौल और शिक्षकों द्वारा लगातार प्रोत्साहित करने के साथ खुद 10-11 घंटों की पढ़ाई के बदौलत नीट परीक्षा में कामयाबी मिल पाई। डाक्टर-इंजीनियर बनने के सपने के बीच गरीबी, आर्थिक स्थिति, पढ़ाई के संसाधन तथा पढ़ाई का उच्चतम माहौल आड़े आती है। अग्रगमन जिले के बच्चों के लिए मेडिकल-इंजीनियर की तैयारी के लिए बहुत ही अच्छा जरिया है। कोरबा जिला प्रशासन ऐसे गरीब, मेधावी बच्चों को इंजीनियर-डाक्टर बनाने के लिए सफलता की राह दिखा रहा है। अग्रगमन में दसवीं पास मेधावी विद्यार्थियों को रखकर मेडिकल और इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षाओं की तैयारी करवाई जा रही है। अग्रगमन में मुफ्त में रहने, खाने-पीने की व्यवस्था सुनिश्चित की जाती है। अग्रगमन में विषयवार शिक्षकों द्वारा प्रवेश परीक्षा की पूरी तैयारी करवाई जाती है। इस वर्ष नीट परीक्षा में अग्रगमन के 28 क्वालीफाइड बच्चों में पहला स्थान प्राप्त करने वाली रंजीता जिला प्रशासन द्वारा प्रदान की जाने वाली पढ़ाई की सुविधा से बेहद खुश है। उन्होंने नीट परीक्षा पास करने में अग्रगमन के शिक्षकों का बहुत बड़ा योगदान बताया। रंजीता कहती है कि अग्रगमन के शिक्षकों द्वारा विशेष रूप से तैयारी करवाने, लगातार लिये गये टेस्ट, नीट परीक्षा के लिए प्रश्न हल करने के तरीके, समय प्रबंधन के बताये गुर के कारण ही नीट जैसे अखिल भारतीय स्तर के परीक्षा को पास करने में सफलता हासिल कर पाई।

 

20-10-2020
अवैध रेत खनन और परिवहन पर फिर पकड़ाये दो ट्रैक्टर

कोरबा। रेत की अवैध खनन और परिवहन पर कलेक्टर किरण कौशल के निर्देश अनुसार जिला प्रशासन की टास्क फोर्स की कार्यवाही जारी है। नायब तहसीलदार पंचराम सलामे ने अवैध रेत परिवहन और खनन की सूचना पर करतला से लेकर कोरबा तक सघन निरीक्षण करते हुए दो ट्रैक्टर जब्त किये। करतला तहसील के सोन नदी क्षेत्र में पकरिया गांव के घाट से अवैध उत्खनन कर रेत भरे ट्रैक्टर- ट्राली क्रमांक सीजी 04 डीबी 1571 को जब्त किया। अवैध रेत परिवहन करते इस ट्रैक्टर को जब्त कर उरगा थाने में पुलिस अभिरक्षा में रखा गया है। इसी प्रकार कोरबा के ढेंगूरनाला क्षेत्र में बालको-रिस्दी मार्ग पर अवैध रेत का परिवहन करते एक अन्य ट्रैक्टर को भी जब्त किया गया है। इस ट्रैक्टर को जब्त कर रामपुर पुलिस चौकी में रखा गया है। दोनों ट्रेैक्टरों के चालकों द्वारा जांच के दौरान रेत के उत्खनन और परिवहन संबंधी कोई दस्तावेज प्रस्तुत नहीं किये गये। इसके साथ ही ट्रैक्टर और ट्राली के पंजीयन से संबंधित दस्तावेज भी मौके पर जांच अधिकारी के समक्ष प्रस्तुत नहीं किये गये। दस्तावेज प्रस्तुत नहीं करने पर जांच के बाद टैक्ट्रर तथा ट्राली में भरे रेत का अवैध रूप से उत्खनन एवं परिवहन सिद्ध होने पर नायब तहसीलदार ने उसे जब्त कर छत्तीसगढ़ गौण खनिज नियमावली 1966 के तहत कार्यवाही की है।

 

19-10-2020
कोविड 19 के मरीजों का पता लगाने 391392 घरों तक पहुंची सर्वे टीम, बिना थके काम कर रहे कोरोना वारियर्स

रायपुर/बिलासपुर। संकट के इस काल में लोगों की सेवा के लिए लगातार जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग कार्य कर रहे हैं। जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त तत्वाधान में कोविड-19 के लक्षण वाले मरीजों का पता लगाने के लिए 2 अक्टूबर से 12 अक्टूबर 2020 तक जिले में घर-घर जाकर सघन सामुदायिक सर्वे अभियान चलाया गया। सर्वे के दौरान 3 लाख 91 हजार 392 घरों का सर्वे किया गया। इस सर्वे में सभी स्वास्थ्य कार्यकर्ता, मितानिन, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, निगम कर्मचारियों का पूर्ण सहयोग व भागीदारी रही।

नोडल अधिकारी कोविड जिला बिलासपुर डाॅ. प्रशांत श्रीवास्तव, आयुक्त नगर निगम, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास, जिला कार्यक्रम प्रबंधक, शहरी कार्यक्रम प्रबंधक व अन्य अधिकारियों, कर्मचारियों द्वारा सर्वे का निरीक्षण किया गया। उल्लेखनीय है कि कोविड-19 संक्रमण के प्रसार श्रृंखला को तोड़ने के लिए छत्तीसगढ़ शासन के निर्देशानुसार राज्य के सभी जिलों के शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में घर-घर भ्रमण कर कोरोना सघन सामुदायिक सर्वे किया था।

16-10-2020
Breaking : रायपुर में 8 बजे के बाद भी खुली रहेंगी दुकानें और व्यवसायिक संस्थान,आदेश जारी 

रायपुर। कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम एवं नियंत्रण के लिए पूर्व में जारी आदेश में से जिला प्रशासन ने कुछ छूट दी है। 28 सितंबर को जारी आदेश में कहा गया था कि व्यावसायिक गतिविधियों के संचालन पर सामान्यत: कोई प्रतिबंध नहीं होगा। किंतु कोई भी दुकान या  व्यवसायिक संस्थान रात्रि 8:00 बजे के बाद संचालित नहीं होंगे। इसी तरह पेट्रोल पंप और मेडिकल दुकानें निर्धारित समय में ही खुलेंगे। रेस्टोरेंट व होटल संचालन और टेकअवे होम डिलीवरी की अनुमति रात्रि 10:00 बजे तक होगी। इन नियमों को विलोपित किया गया है। इस संबंध में शुक्रवार को अपर कलेक्टर एवं अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी ने आदेश जारी किया है। स्पष्ट किया गया है कि उपरोक्त आदेश और समय-समय पर जारी प्रतिबंध एवं दी गई छूट व आदेश की अन्य शर्ते यथावत रहेगी। यह आदेश तत्काल प्रभाव से प्रभावशील होगा।

 

15-10-2020
अवैध प्लाटिंग की जांच के लिए कलेक्टर ने बनाई टीम, एक कंपनी पर की कार्यवाही

दुर्ग। कलेक्टर डॉ.सर्वेश्वर भूरे ने शहर में होने वाले अवैध प्लाटिंग स्थलों की जांच के लिए दल का गठन किया गया है। शहर में होने वाले अवैध प्लाटिंग की जांच कर कार्यवाही की जाएगी । इसके अंतर्गत आज जिला प्रशासन एवं निगम प्रशासन द्वारा गुरुवार को टोल प्लाजा के पास मनोज ले-आउट प्राइवेट लिमि की अवैध प्लाटिंग स्थल पर कार्यवाही कर पंचनामा बनाया। गठित टीम ने मनोज ले-आउट प्राइवेट लिमिटेड की भूमि पर निर्माण किये गये मार्ग सरंचना व अन्य निर्माण को हटाने का निर्णय लिया। इस मौके पर निगम आयुक्त इंद्रजीत बर्मन, अनुविभागीय अधिकारी खेमलाल वर्मा, संयुक्त संचालक नगर तथा ग्राम निवेशा विभाग  विमल बगवैश्या, सहा. संचालक प्रतीक दीक्षित, एसआरए वर्षा दीवान मिश्रा, भवन अधिकारी प्रकाशचंद थवानी, निगम सहा. भवन अधिकारी गिरीश दीवान, भवन निरीक्षक विनोद मांझी, पटवारी रामस्वरुप पटेल, राजस्व निरीक्षक सुनीति निषाद और मनोज राजपूत उपस्थित थे।
उल्लेखनीय है कि दुर्ग शहर के अंतर्गत शहर के आउटर क्षेत्रों में अवैध प्लाटिंग किये जाने की शिकायत मिलने के बाद जिला कलेक्टर  द्वारा अवैध प्लाटिंग की जांच निगम आयुक्त दुर्ग, अनुविभागीय अधिकारी जिला प्रशासन, नगर तथा ग्राम निवेश विभाग संचालक का टीम गठन कर अवैध प्लाटिंग की जांच करने निर्देश दिये हैं। जिला प्रशासन एवं निगम प्रशासन के अधिकारियों ने आज टोल प्लाजा बायपास के पास मनोज राजपूत ले-आउट प्राइवेट लिमिटेड के स्थल की जांच किया गया। इस दौरान उपस्थित मनोज राजपूत ने जानकारी में बताया कि कालोनी निर्माण के लिए विकास किया गया है। ग्राम निवेश विभाग से ले-आउट अनुमोदित नहीं कराया गया है और ना ही नगर पालिक निगम दुर्ग से अनुमति प्राप्त नहीं की गई है। जबकि स्थल पर मार्ग संरचना व कार्यालय भवन निर्मित पाया गया तथा साथ ही प्लाटिंग के लिए सीमेंट पोल्स व बारबेड वायर फेसिंग पाया गया। स्थल पर ही सोलर स्ट्रीट लाईट पोल्स भी स्थापित है। भूखण्डों का चिन्हांकन एवं स्थल समतलीकरण पाया गया । किसी भी प्रकार की विधिवत अनुमति नहीं होना पाया गया। अतएव मार्ग संरचना हटाने का निर्णय टीम ने लिया है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804