GLIBS
17-10-2020
मोबाइल चोर पकड़ाए, खरीदने वाला भी धरा गया

धमतरी। नगरी के बाजार से मोबाइल चोरी करने के आरोप में पुलिस ने शनिवार को धमतरी और दुर्ग जिले के तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया। मिली जानकारी के अनुसार बीते 6 जून को शनिचरी बाजार नगरी से निर्मल कुमार पटेल का एंड्राइड मोबाइल अज्ञात व्यक्ति ने चुरा लिया था। उनकी रिपोर्ट पर धारा 379 के तहत जुर्म दर्ज कर पुलिस घटना की जांच में जुटी हुई थी।
साइबर सेल धमतरी की मदद लेकर नगरी पुलिस ने मोबाइल चोरी के आरोप में शेख रहमत निवासी कसारडीह दुर्ग, दमेश कुमार देवार निवासी पौव्वारा दुर्ग और बलवंत गौरैया निवासी भटगांव धमतरी को बीते दिनों गिरफ्तार कर जेएमएफसी न्यायालय नगरी में पेश किया। यहां से सभी को जेल भेजा गया। थाना प्रभारी विनय कुमार ने बताया कि शनिचरी बाजार नगरी में चोरी करने की नीयत से बलवंत और दमेश पहुंचे थे। चोरी करने के बाद उसे दुर्ग के शेख रहमत को बेच दिया था।

19-04-2020
यूट्यूब ने अपने एंड्राइड ऐप में किया ये बदलाव...सोशल मीडिया पर किया जा रहा है ट्रोल

मुंबई। वीडियो शेयरिंग कंपनी यूट्यूब ने अपने एंड्राइड ऐप में कुछ बदलाव किए हैं। दुनियाभर में हो रहे दिन प्रतिदिन बदलाव को देखते हुए यहा परिवर्तन किया गया है। भारतीय उपभोक्ताओं को लुभाने के लिए यूट्यूब ने अपने एंड्राइड ऐप में वीडियो के देखे जाने वालों की गिनती को अब मिलियन और बिलियन से हटाकर लाख और करोड़ में दिखाना शुरू कर दिया है। हालांकि मिलियन और बिलियन के आदी हो चुके भारतीयों को यूट्यूब का यह नया बदलाव बिल्कुल भी गले नहीं उतर रहा है और वह सोशल मीडिया पर लगातार इसकी बुराई कर रहे हैं। यूट्यूब के दुनियाभर में लगभग 200 करोड़ उपभोक्ता हैं, उनमें से लगभग 26 करोड़ पचास लाख उपभोक्ता अकेले भारत में पाए जाते हैं। एक बड़ी संख्या को उनकी ही क्षेत्रीय भाषा में लुभाने के लिए यूट्यूब ने यह बड़ा कदम उठाया है। हालांकि बिलियन और मिलियन से लाख और करोड़ में हुआ यह बदलाव अभी सभी भारतीयों को दिखाई देना शुरू नहीं हुआ है।

यूट्यूब ने बहुत छोटे पैमाने पर यह प्रयोग कुछ मुट्ठी भर एंड्राइड ऐपधारियों के ऊपर करके देखा है। इस प्रयोग के अंतर्गत किसी भी वीडियो के देखने वालों की संख्या ही नहीं, बल्कि किसी यूट्यूब चैनल के सब्सक्राइबर्स की संख्या को भी लाख और करोड़ में ही दिखाया जाएगा। अगर यह प्रयोग सफल रहता है तो यूट्यूब इसे सभी प्लेटफार्म के लिए लागू कर सकता है। जैसे ही इस बदलाव की खबर फैली, वैसे ही सोशल मीडिया पर लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया देना शुरू कर दिया। जिन लोगों के एंड्राइड ऐप पर यह बदलाव हुए हैं, उन्होंने अपने फोन से स्क्रीनशॉट लेकर फेसबुक, इंस्टाग्राम और टि्वटर पर साझा करना शुरू कर दिया। ज्यादातर लोगों ने इस बदलाव को बहुत ही खराब बताया। उनका मानना है कि वे अब मिलियन और बिलियन में गिनती करने के आदी हो गए हैं इसलिए लाख और करोड़ में किसी भी संख्या को गिनना हजम नहीं होता।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804