GLIBS
27-10-2020
बोल्टू के बोल माध्यम से चल रही है मोहल्ला क्लास पढ़ई तुंहर द्वार के जरिए बच्चों को पढ़ाई से जोड़े रखी है भूपेश सरकार

रायपुर/बेमेतरा। कोविड 19 के कारण बंद पढ़ाई के बीच बच्चों को शिक्षा से जोड़े रखने पढ़ई तुंहर दुआर अंतर्गत मोहल्ला क्लास में बोल्टू के बोल आदि माध्यमों से क्लास संचालित किया जा रहा है और बच्चों को शिक्षा दिया जा रहा है। कोविड-19 के निर्देशानुसार आडियो के माध्यम से बच्चों को पढ़ाया जा रहा है। बोल्टू के बोल में बेमेतरा जिले के कुल 46 शिक्षकों का योगदान 141 कुल हाट बाजार, 353 लोगों को कुल सामग्री भेजे गए एवं 2672 कुल सामग्री लोगों को भेजे गए हैं। इस प्रकार बोल्टू के बोल के माध्यम से अध्यापन कार्य में बेमेतरा जिला पूरे छत्तीसगढ़ में दूसरे स्थान पर है। जो एक गौरव की बात है। कुछ दिनों में यह प्रयास प्रथम आने का रहेगा। इस प्रकार शिक्षा विभाग के निर्देशानुसार विभिन्न माध्यमों का उपयोग कर बच्चों को अध्यापन कार्य कराया जा रहा है।

17-10-2020
लोक शिक्षण संचालनालय का आदेश, 19 तक कर सकते हैं दावा आपत्ति आमंत्रित

रायपुर/सुकमा। लोक शिक्षण संचालनालय के आदेश के तहत् 5 अक्टूबर तक दो वर्ष और दो वर्ष से अधिक की सेवा पूर्ण कर चुके शिक्षक (पंचायत), संवर्ग के शिक्षकों का स्कूल शिक्षा विभाग में संविलियन किया जाना है। जिला पंचायत से प्राप्त जानकारी के अनुसार जिला के ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र में कार्यरत दो वर्ष की सेवा पूर्ण कर चुके शिक्षक संवर्ग की वरिष्ठता सूची जारी की गई हैं। इस सूची में किसी प्रकार की आपत्ति होने पर 19 अक्टूबर तक अपना दावा आपत्ति जिला पंचायत सुकमा में प्रमाण सहित प्रस्तुत कर सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए संबंधित कार्यालय के सूचना पटल एवं जिले की वेबसाइट सुकमा डॉट जोव्ही डॉट इन का अवलोकन किया जा सकता है।

15-10-2020
अनुकम्पा आदेश किया गया जारी, आश्रितों को मिला रोजगार

 

धमतरी। जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय धमतरी में शिक्षा विभाग के तहत शिक्षक/कर्मचारियों की असमय मृत्यु के बाद दिवंगत कर्मचारियों के आश्रित सदस्यों को शासन द्वारा अनुकंपा नियुक्ति दिए जाने का प्रावधान है। जिला शिक्षा अधिकारी धमतरी द्वारा वर्तमान में तीन अनुकंपा नियुक्ति दिवंगत शासकीय सेवक के आश्रित को दी गई।  इनमें 17 सितंबर 2020 को अनुकम्पा नियुक्ति प्राप्त करने वालों में नगरी विकासखण्ड के शासकीय हाईस्कूल गढ़डोंगरी के प्रधानपाठक स्व. सुरेश कुमार यादव के पुत्र खिलेन्द्र कुमार यादव, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय सांकरा के सहायक शिक्षक एल.बी. स्व. मुक्तानंद देव की पत्नी गायत्री देव और कुरूद विकासखण्ड के शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बालक के सहायक शिक्षक एल.बी. स्व. पुरूषोत्तम लाल ध्रुव के पुत्र खिलेश कुमार ध्रुव को भृत्य पद पर अनुकम्पा नियुक्ति दी गई है।

बताया गया है कि पूर्व में अनुकम्पा नियुक्ति के चार प्रकरणों के आदेश जारी किए गए। इनमें मगरलोड विकासखण्ड के शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बेलौदी के सहायक शिक्षक एल.बी.स्व. छम्मनलाल साहू की पत्नी मोनिका साहू, विकासखण्ड कुरूद के शासकीय हाईस्कूल सिलघट के सहायक ग्रेड-02 स्व. जितेन्द्र कुमार साहू के पुत्र लोमश कुमार साहू, जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय धमतरी के उच्च वर्ग शिक्षक स्व. संतोष कुमार कुंभकार के पुत्र गजेन्द्र कुंभकार और शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय भखारा के प्रधानपाठक स्व. नरेन्द्र कुमार ध्रुव के पुत्र रूपेन्द्र कुमार ध्रुव को भृत्य के पद पर अनुकंपा नियुक्ति के लिए आदेश जारी किया गया है। इस तरह कुल सात प्रकरण में अनुकम्प नियुक्ति चतुर्थ श्रेणी के पद पर दी गई है।इसके अलावा जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा जिला स्तर के लिपिक संवर्ग के 10 और भृत्य संवर्ग के 62 कर्मचारियों का प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय समयमान वेतनमान जारी किया गया है। साथ ही शिक्षक संवर्ग ई एवं टी का प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय समयमान वेतनमान प्रस्ताव संभागीय संयुक्त संचालक शिक्षा संभाग रायपुर को भेजा गया था, जिसमें जिले के 190 शिक्षकों को समयमान वेतनमान लाभ दिए जाने के लिए आदेश जारी किया गया है।

08-10-2020
Breaking : भूपेश कैबिनेट की महत्वपूर्ण बैठक आज, कई महत्वपूर्ण बिंदुओं पर चर्चा

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में गुरुवार को राज्य मंत्रिपरिषद की बैठक रखी गई है। इस बैठक में धान खरीदी, नए कृषि कानून सहित कई विषयों पर चर्चा की जा सकती है। बैठक में स्वास्थ्य और शिक्षा विभाग आदि विभागों की योजनाओं के साथ-साथ प्रदेश में कोरोना की स्थिति और मरीजों को दी जा रही सुविधाओं आदि पर भी चर्चा की जाएगी।

04-10-2020
पढ़ई तुंहर पारा पर हुआ राज्य स्तरीय बेबीनार,अलग-अलग कक्षाओं में बच्चों को अध्ययन कराने पर हुई चर्चा

रायपुर। राज्य में संचालित नवाचार कार्यक्रम ‘पढ़ई तुंहर दुआर‘ कार्यक्रम के अंतर्गत ऑनलाइन कक्षाएं प्रारंभ की गई। किंतु जिन बच्चों के पास स्मार्टफोन इंटरनेट नहीं होने के कारण कुछ बच्चे ऑनलाइन कक्षाओं का लाभ नहीं ले पा रहे थे। इसे दृष्टिगत रखते हुए शिक्षा विभाग द्वारा 'पढ़ई तुहर पारा' सामुदायिक विद्यालय प्रारंभ किए गए। सामुदायिक विद्यालयों में चुनौतियों को ध्यान में रखकर राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) द्वारा शिक्षकों के लिए राज्य स्तरीय बेबीनार का आयोजन किया गया।

स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव डॉ. आलोक शुक्ला के मार्गदर्शन और संचालक राहुल वेंकट के निर्देशन में आयोजित इस वेबीनार का संयोजन अतिरिक्त संचालक आरएन सिंह, संयुक्त संचालक डॉ. योगेश शिवहरे द्वारा किया गया। उन्होंने ‘पढ़ाई तुहर पारा‘ में अलग-अलग कक्षाओं में बच्चों को अनुशासित ढंग से किस प्रकार अध्ययन कराना है इस पर सारगर्भित चर्चा की। क्रियान्वयन में शिक्षक, सारथी शिक्षक, प्रधान पाठक, शाला प्रबंधन समिति, प्रोफेशनल लर्निंग कम्युनिटी को सक्रिय रूप से सहभागिता सुनिश्चित करते हुए बच्चों को शिक्षक से जोड़ने पर बल दिया। वेबीनार में स्टेट मीडिया सेंटर के नोडल अधिकारी प्रशांत पांडे, मॉनिटरिंग प्रभारी ए.के. सारस्वत एवं सलाहकार सत्यराज अय्यर भी उपस्थित थे। एससीईआरटी के सहायक प्राध्यापक साहू ने सामुदायिक सहभागिता विषय पर चर्चा करते हुए कहा कि बच्चों की गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए समुदाय और विद्यालय का परस्पर एवं जीवंत सहयोग आवश्यक है। बच्चों में दक्षता विकसित करने के उपाय बच्चों को समझाने के लिए सुनना, बोलना, पढ़ना, लिखना के बारे में विद्या चंद्राकर ने बताया। गतिविधि आधारित शिक्षण विषय पर शैक्षिक खेल क्वीज अंताक्षरी समस्या आधारित अधिगम के बारे में भी जानकारी दी। नीलम अरोरा ने वर्कशीट के उपयोग और उपकरण के आंकलन, बच्चों को किस प्रकार कराया जाए इस पर विस्तार से जानकारी दी। स्थानीय सांस्कृतिक गतिविधियों द्वारा विद्यालय पाठ्यक्रम का निर्माण किस प्रकार किया जाए इस विषय पर प्रीति सिंह ने विस्तार से चर्चा की।

 

24-09-2020
Breaking: चिकित्सा शिक्षा विभाग में तबादले,डॉ.तृप्ति नागरिया को सिम्स डीन का प्रभार,आदेश जारी  

रायपुर। भूपेश सरकार ने चिकित्सा शिक्षा विभाग में तबादले किए हैं। प्रशासनिक आधार पर तीन चिकित्सा शिक्षकों को स्थानांतरित कर आगामी आदेश तक पदस्थ किया गया है। इस संबंध में विभाग के अवर सचिव राजीव अहिरे ने गुरुवार को आदेश जारी किया है। बता दें कि, 21 सितंबर को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सिम्स की अव्यवस्थाओं पर कड़ा एक्शन लिया था। उन्होंने तत्काल प्रभाव से सिम्स के डीन डॉ. पीके पात्रा और बिलासपुर जिला अस्पताल से सिविल सर्जन को हटाने का निर्देश दिया गया था। इसके बाद आज डॉ तृप्ति नागरिया को रायपुर से बिलासपुर भेजा गया है।

डॉ. नागरिया प्राध्यापक (प्रसुति एवं स्त्री रोग)पंडित जवाहर लाल नेहरू स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय रायपुर को डीन छत्तीसगढ़ आयुर्विज्ञान संस्थान (सिम्स)बिलासपुर के पद पर पदस्थ किया गया है। वहीं सिम्स के डीन पीके पात्रा को संचालक सह प्राध्यापक,पंडित जवाहर लाल नेहरू स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय रायपुर पदस्थ किया गया है। इसी तरह शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय अंबिकापुर डॉ रमणेश मूर्ति प्राध्यापक (माइक्रोबायलॉजी) को शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय अंबिकापुर का प्रभारी डीन बनाया गया है। डॉ. पीके निगम प्रभारी डीन शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय अंबिकापुर को वापस पंडित जवाहर लाल नेहरू स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय रायपुर में पदस्थ किया गया है।

 

19-09-2020
डीईओ कार्यालय में ताला, शिकायतों को लेकर भटक रहे हैं पालक

रायपुर। कोरोना महामारी के कारण बढ़ते मरीजों की संख्या और शिक्षा विभाग में पॉजिटिव लोगों की बढ़ती संख्या के कारण कार्यालय को बंद कर दिया गया है, लेकिन यह एक समय है जब पालकों और प्रायवेट स्कूलों के बीच टकराव चरम सीमा पर है। पालक परेशान है क्योंकि प्रायवेट स्कूलों के द्वारा उनके बच्चों को ऑनलाइन क्लासेस से बाहर किया जा रहा है। नेता, अधिकारी और प्रायवेट स्कूलों के बीच हुए समझौते सिर्फ अखबारों की सुर्खियां बन कर रहा गया है, लेकिन पालकों और उनके बच्चों को कोई राहत नहीं मिल पाया। पालक अब इन नेताओं, अधिकारी के चक्कर काट रहे हैं, लेकिन अब कोई सुनने को तैयार नहीं है, क्योंकि अभी भी सिर्फ आश्वासन दिया जा रहा है कि सब कुछ ठीक हो जाएगा। जिम्मेदार शिक्षा अधिकारी नेताओं के साथ फोटो खिचाने के बाद से लापता है, क्योंकि उनके कार्यालय में अब ताला लग चुका है और पालक अपनी शिकायत लेकर भटक रहे हैं। कानून और कई सख्त कार्यवाही करने के संबंध में जारी पत्र अब भी बच्चों को ऑनलाइन शिक्षा दिलाने में नाकाफी साबित हो रहे हैं।

ट्यूशन फीस को लेकर परेशान पालक अब तक नहीं समझ पाए है कि प्रायवेट स्कूलों द्वारा मांगी जा रही फीस क्या सिर्फ ट्यूशन फीस ही है, क्योंकि प्रायवेट स्कूलों के द्वारा वही फीस अब ट्यूशन फीस के नाम से लिया जा रहा है जो बीते वर्ष कई मदों में लिया जा रहा था। परिवहन शुल्क माफ कर दिया गया यही फीस में छुट में अब पालकों को दिया जा रहा जबकि स्कूल बस तो वैसे भी स्कूल बंद होने के कारण इस्तेमाल नहीं किया जा रहा है। कुल मिलकार प्रायवेट स्कूलों को सरकार का मौन समर्थन है और इसका कारण अब कोरोना बताया जा रहा है, जिसके कारण प्रायवेट स्कूलों पर कार्यवाही नहीं किया जा सकता है। अधिकारी संक्रमित हो गए है और कर्मचारी भी संक्रमित हो रहे है, कार्यालय में कर्मचारी नहीं है, इस कोरोना का खतरा बढ़ते जा रहा है। इसलिए अब कार्यालय में ताला जड़ दिया गया है। पालक और उनके बच्चे अब भगवान भरोसे हैं, जिनके पास पैसा है वही पढ़ेगा और ऐसा ही बढ़ेगा इंडिया।

16-09-2020
भूपेश सरकार के निर्णय से शिक्षक अभ्यर्थियों के चेहरों पर लौटी रौनक, शिक्षा विभाग ने जारी किया आदेश

रायपुर। भूपेश सरकार ने शिक्षक अभ्यर्थियों के मुरझाए चेहरों पर  रौनक लौटा दी है। वित्त विभाग से प्राप्त सहमति के आधार पर व्यापम की ओर से आयोजित परीक्षा के लिए विज्ञापित 14580 शिक्षकों के पदों पर नियुक्ति की अनुमति दे दी है। 8 बिंदुओं पर निर्धारित शर्तों के साथ शिक्षा विभाग ने नियुक्ति के संबंध में आदेश जारी किया है।  बता दें कि लोक शिक्षण संचनालय से विभिन्न संवर्गों के शिक्षकों की नियुक्ति के लिए व्यापम की ओर से परीक्षा ली गई थी। विभिन्न संवर्ग के कुल 14580 शिक्षकों के रिक्त पदों पर नियुक्ति की जानी थी। व्यापम की ओर से परीक्षा के परिणाम 30 सितंबर 2019 और 22 नवंबर 2019 को घोषित किए गए थे।

व्यापम की ओर से जारी की गई प्रावीण्य सूची के आधार पर नियुक्तियां की जानी थी। मार्च में कोरोना वायरस के कारण लॉक डाउन होने के बाद वित्त विभाग की ओर से यह निर्देश जारी किए गए थे कि, विभागों में प्रचलित नियुक्तियों की प्रक्रिया जारी रहेगी, परंतु नियुक्ति आदेश जारी करने के पूर्व वित्त विभाग से सहमति प्राप्त करना आवश्यक होगा। भर्ती प्रक्रिया अटकने से अभ्यर्थी खासे नाराज हो गए थे। लगातार प्रक्रिया पूरी कर भर्ती करने की मांग कर रहे थे।  अभ्यर्थियों ने हरसंभव प्रयास जारी रखा। ज्ञापन से लेकर प्रदर्शम किए गए। विगक्त दिनों अभ्यर्थियों ने राजधानी में सांकेतिक प्रदर्शन किया था। इसके बाद हालही में बड़ी संख्या में एकजूट होकर अभ्यर्थियों ने आंदोलन किया था। मंगलवार को जारी आदेश के बाद के बाद जरूर अभ्यर्थियों ने राहत की सांस ली होगी।

 

07-09-2020
भूपेश बघेल ने कहा- जल्द पूरी करें भर्ती प्रक्रिया,स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारियों को रिपोर्ट देने 1 सप्ताह का समय

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कोरोना संकट काल में बेरोजगार युवाओं को राहत देने के लिए उनके हित में एक और बड़ा कदम उठाया है। उन्होंने स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारियों को 14 हजार 580 पदों पर भर्ती की प्रक्रिया पर एक सप्ताह के भीतर रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने शिक्षा विभाग की ओर से विज्ञापित पदों की भर्ती में हो रहे विलंब को गंभीरता से लिया है। उन्होंने विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को तलब कर कड़ी अप्रसन्नता जाहिर की है। उन्होंने कहा है कि, छत्तीसगढ़ के युवाओं को रोजगार देना सरकार की प्राथमिकता में शामिल है। उन्होंने शिक्षा विभाग के अधिकारियों से कहा है कि, विज्ञापित पदों पर भर्ती के संबंध में पूरी रिपोर्ट एक सप्ताह के भीतर उनके समक्ष प्रस्तुत की जाए।


मुख्यमंत्री ने कहा है कि, शिक्षा विभाग के विज्ञापित पदों पर शीघ्र भर्ती प्रक्रिया पूर्ण की जाए। उन्होंने अधिकारियों से कहा है कि भर्ती की प्रक्रिया में अनावश्यक विलंब और लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने बताया कि इन पदों के लिए व्यापम द्वारा ली गई परीक्षा के रिजल्ट की वैधता में एक वर्ष की अतिरिक्त वृद्धि की गई है। इस सबंध में मंत्रालय से आदेश जारी कर किए जा चुके हैं। उल्लेखनीय है कि, लोक शिक्षण संचालनालय ने 9 मार्च 2019 को 14 हजार 580 पदों पर सीधी भर्ती के लिए विज्ञापन जारी किया गया था। इस विज्ञापन की कण्डिका में यह उल्लेख था कि, व्यापम से प्राप्त परीक्षाफल सूची, परीक्षाफल जारी होने के दिनांक से एक वर्ष तक वैद्य होगी। कोरोना महामारी से उत्पन्न स्थिति के कारण वर्तमान में भर्ती की कार्रवाई पूर्ण नहीं हो सकी है, इसलिए विशेष परिस्थिति को ध्यान में रखते हुए राज्य शासन की ओर से व्यापम से प्राप्त परीक्षाफल की सूची की वैधता को एक वर्ष और बढ़ा दिया गया है।

 

04-09-2020
नए इंग्लिश मीडियम स्कूल का शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव ने लिया जायजा, बच्चों के बनाए आर्ट की तारीफ

भिलाई। सेक्टर 6 में बन रहे नए इंग्लिश मीडियम स्कूल का निरीक्षण शुक्रवार को स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव डॉ.आलोक शुक्ला ने किया। इस दौरान जिले के कलेक्टर डॉ.सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे एवं आयुक्त ऋतुराज रघुवंशी उपस्थित रहे। सेक्टर 6 इंग्लिश मीडियम स्कूल के लिए किए जा रहे मॉडिफिकेशन कार्य का जायजा उन्होंने लिया! निरीक्षण में उन्होंने पेंटिंग कार्य, शौचालय, खिड़की, दरवाजे, खेल मैदान, पार्किंग एरिया आदि का जायजा लेकर अधिकारियों को निर्देश दिए। उन्होंने  प्राइमरी स्कूल के बच्चों के द्वारा बनाए गए शिक्षा संबंधी प्रेरणादायक आर्ट को देखकर इसकी तारीफ की। उल्लेखनीय है कि भिलाई में दो इंग्लिश मीडियम स्कूल खोले जाने हैं खुर्सीपार के अंडा चौक स्थित स्कूल एवं सेक्टर 6 स्कूल का मोडिफिकेशन किया गया है।

सेक्टर 6 स्थित स्कूल में फिजिक्स, केमेस्ट्री, बायोलॉजी लैब को एक नए रूप में तैयार किया गया है ताकि विद्यार्थी आसानी से अपने प्रैक्टिकल कार्य यहां पर कर सकें! लैब में गैस कनेक्शन, प्लेटफार्म, वाटर सप्लाई, इक्विपमेंट को सुरक्षित रखने के लिए छोटे-छोटे खंड तैयार किए गए है। लाइब्रेरी में विद्यार्थियों की क्षमता बढ़ाने के लिए इसमें पूर्व से लगे हुए पार्टीशन को हटाया गया है। पहले छतों से सीपेज की शिकायत प्राप्त होती थी जिसे फ्लोरिंग कर ठीक किया गया है। स्कूल को आकर्षक बनाने के लिए बरामदा में पेंटिंग की गई है। बच्चे बारिश में भी प्रार्थना कर सकें इसके लिए बरामदा में लाइट लगाई गई है। स्कूल के पीछे पहले कचरा पसरा रहता था और टूटी हुई सेप्टिक टैंक थी,जिसे सफाई करा कर इसे खेल मैदान के रूप में विकसित किया जा रहा है, पानी जमा होने के कारण बीएसपी के मेन सीवर लाइन से जोड़ा गया है,जिसके कारण यह क्षेत्र खेल मैदान के लिए तैयार हो रहा है! शौचालयों का संधारण कर दरवाजा इत्यादि को व्यवस्थित कर दिया गया है। क्लास रूम में बैठक के लिए कुर्सी टेबल की उचित व्यवस्था की गई है।


 

04-09-2020
एक क्लास ऐसी भी,ग्राम मोतेसरा की क्लास में पढ़ाई के साथ मिट्टी के खिलौने बनाना भी सीख रहे है

रायपुर/बेमेतरा। कोरोना वायरस के संक्रमण के समय जब सभी स्कूल बन्द हैं तो बच्चों को अध्ययन अध्यापन, पढ़ाई से जोड़े रखने के लिए  मोहल्ला क्लास संचालित किया जा रहा है। ग्राम मोतेसरा में शिक्षा विभाग के दिशा निर्देश से शिक्षिका बसंती निर्मलकर व शिक्षक मनहरण अध्यापन कार्य करा रहे है साथ ही साथ बच्चों को पोर्टफोलियो बनाना मिट्टी के खिलौने बनाना सिखा रही है। मोहल्ला क्लास में 15 बच्चे उपस्थित रहते हैं और मन लगाकर अध्ययन कर रहे हैं। स्कूल की ओर से सभी बच्चों के लिए मास्क एवं सैनिटाइजर की व्यवस्था की गई है और सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए अध्ययन कर रहे हैं। बच्चों को कोरोना महामारी के समय कैसे सावधानी से रहना है और साफ सफाई में रहना है, किसी भीड़ वाले जगह में नहीं जाना है तथा नियमित क्लास आना है आदि जानकारी भी दी जा रही है। इस कार्य में ग्रामवासी भी सहयोग प्रदान कर रहे हैं।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804