GLIBS
19-08-2020
रिलायंस की बड़ी डील, डिजिटल फार्मा कंपनी नेटमेट्स की खरीदी बड़ी हिस्सेदारी

नई दिल्ली। मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने एक बड़ी डील की जानकारी दी है। इसके मुताबिक मुकेश अंबानी ने अपने रिटेल कारोबार के लिए एक बड़ा सौदा किया है। रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के मुताबिक उसकी सहायक रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड ने डिजिटल फार्मा मार्केट प्लेस नेटमेड्स के मेजॉरिटी शेयर का अधिग्रहण कर लिया है। रिलायंस इंडस्ट्रीज ने ऑनलाइन फार्मेसी कंपनी नेटमेड्स में 620 करोड़ रुपए का निवेश किया है। रिलायंस ने विटालिक हेल्थ और उसकी सब्सिडियरी कंपनियों में करीब 60 फीसदी हिस्सेदारी ली है,जिन्हें सामूहिक रूप से नेटमेड्स के रूप में जाना जाता है। रिलायंस ने सहायक कंपनियों त्रिसारा हेल्थ प्राइवेट लिमिटेड, नेटमेड्स मार्केट प्लेस लिमिटेड और दाधा फार्मा डिस्ट्रिब्यूशन प्राइवेट लिमिटेड में 100 फीसदी हिस्सेदारी खरीदी है। रिलायंस की रिटेल डायरेक्टर ईशा अंबानी ने एक बयान में कहा कि यह निवेश हमारी उस प्रतिबद्धता के अनुरूप ही है,जिसमें हमने भारत में हर व्यक्ति तक डिजिटल पहुंच की बात की है। नेटमेड्स के अधिग्रहण से अब रिलायंस रिटेल लोगों को अच्छी क्वालिटी और किफायती हेल्थ केयर प्रोडक्ट और सेवाएं मुहैया करा सकेगा। नेटमेड्स ने जिस तरह से बहुत कम समय में देशव्यापी डिजिटल फ्रेंचाइजी विकसित की है उससे हम प्रभावित हुए हैं।

 

22-07-2020
पांच दिन की तेजी के बाद गिरावट के साथ बंद हुआ शेयर बाजार,रिलायंस के शेयर 2000 रुपए के पार

मुंबई। सप्ताह के तीसरे कारोबारी दिन बुधवार को दिनभर के कारोबार के बाद शेयर बाजार गिरावट पर बंद हुआ। जबकि इससे पहले लगातार पांच कारोबारी दिनों से शेयर बाजार तेजी पर बंद हो रहा था। आज शेयर बाजार की शुरुआत हरे निशान पर हुई थी। सेंसेक्स 25.68 अंक यानी 0.07 फीसदी ऊपर 37956.01 के स्तर पर खुला था। वहीं निफ्टी 0.06 फीसदी यानी 7.10 अंकों की मामूली बढ़त के साथ 11169.40 के स्तर पर खुला था।वही मुकेश अंबानी के नेतृत्व वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज का शेयर आज पहली पर 2000 रुपये के स्तर के पार चला गया। घरेलू शेयर बाजार में कमजोरी के बावजूद आरआईएल के शेयर में तेजी आई। यह 32.45 अंक (1.65 फीसदी) बढ़कर 2004 के स्तर पर बंद हुआ। मार्च माह में 867.82 रुपये के निचले स्तर से रिलायंस के शेयरों में 130 फीसदी की तेजी आई है। जबकि शुरुआती कारोबार में यह 1983 के स्तर पर खुला था और पिछले कारोबारी दिन 1971.55 के स्तर पर बंद हुआ था। बाजार पूंजीकरण की बात करें, तो इस लिहाज से यह देश की सबसे बड़ी कंपनी है। 13 लाख करोड़ रुपये के मार्केट कैप को पार करने वाली यह भारत की पहली कंपनी है। अभी कंपनी का मार्केट कैप 13.17 लाख करोड़ रुपये है।

 

23-04-2020
फेसबुक-जियो डील से एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति बने मुकेश अंबानी, चीन के जैक मा को छोड़ा पीछे

नई दिल्ली। रिलायंस इंडस्ट्रीज के मुखिया मुकेश अंबानी फिर से एशिया के सबसे अमीर आदमी बन गए है। फेसबुक और रिलायंस जियो के बीच हुई करीब 44 हजार करोड़ की डील के बाद अंबानी एशिया के सबसे रईस शख्स बन गए हैं। दुनियाभर के अरबपतियों की लिस्ट में अब  मुकेश अंबानी 16वें स्थान पर हैं, जबकि इंडेक्स में जैक मा 20वें स्थान पर हैं। अमेजन के सीईओ जेफ बेजोस अभी भी 14300 करोड़ डॉलर के साथ पहले नंबर पर हैं। बता दें कि फेसबुक के साथ 43,574 करोड़ रुपए की डील से मुकेश अंबानी एशिया के सबसे बड़े अमीर हो गए हैं। इस डील के बाद रिलायंस इंडस्ट्रीज के मुखिया मुकेश अंबानी की दौलत में बड़ा इजाफा हुआ है। उन्होंने जैकमा को इस मामले में पीछे कर दिया है। ब्लूमबर्ग बिलेनियर इंडेक्स के मुताबिक अंबानी की नेटवर्थ में एक दिन में 469 करोड़ डॉलर या करीब 34 हजार करोड़ का इजाफा हुआ है। मिली जानकारी के अनुसार मुकेश अंबानी के पास कुल 4920 करोड़ डॉलर यानी 3.71 लाख करोड़ की दौलत थी, वहीं एक दिन में उनकी दौलत में 469 करोड़ डॉलर यानी करीब 22975 करोड़ रुपए का इजाफा हुआ।

वहीं, जैक मा के पास इस दौरान कुल 4600 करोड़ डॉलर यानी करीब 3.47 लाख करोड़ की दौलत थी। इस साल कोरोना वायरस के कारण मुकेश अंबानी की दौलत अबतक 937 करोड़ डॉलर यानी करीब 70744 करोड़ रुपए घट गई है। पिछले दिनों रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयरों में कोरोना संकट के चलते जमकर गिरावट आई थी और शेयर 900 रुपए के नीचे चला गया। वहीं जैक मा की बात करें तो उनकी दौलत में इस साल सिर्फ 4455 करोड़ रुपए कह कमी आई है। बता दें कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक ने बुधवार सुबह रिलायंस जियो में बड़ा निवेश का ऐलान किया कि कंपनी जियो में 5.7 बिलियन डॉलर (43,574 करोड़ रुपये) का निवेश करेगी। इस तरह फेसबुक रिलायंस जियो की 9.99 फीसदी हिस्सेदारी खरीद ली है।

22-04-2020
फेसबुक ने रिलायंस जियो के 9.9 फीसदी शेयर खरीदने का किया ऐलान..कितने के होंगे शेयर, जानकर उड़ जाएंगे होश...

नई दिल्ली। फेसबुक ने रिलायंस जियो के 9.9 फीसदी शेयर खरीदने का ऐलान किया है। रिलायंस जियो में 9.99 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने के लिए फेसबुक 5.7 बिलियन डॉलर यानी कि 43,574 करोड़ रुपए निवेश करेगा। फेसबुक भारत में जियो की परफॉर्मेंस से काफी उत्साहित है। फेसबुक ने ये शेयर रिलायंस इंडस्ट्री लिमिटेड में खरीदे हैं। इस डील पर रिलायंस का कहना है कि कंपनी के एक छोटे हिस्से पर किसी तकनीकी कंपनी का यह सबसे बड़ा निवेश है। यही नहीं भारत में तकनीक के क्षेत्र में एफडीआई के तहत यह अबतक का सबसे बड़ा निवेश है। वहीं इस डील के बारे में फेसबुक का कहना है कि यह निवेश भारत में हमारे विश्वास को दर्शाता है।

फेसबुक की ओर से कहा गया है कि जिस तरह से जियो ने भारत में जबरदस्त उत्साह लाया है, उसके बाद जियो में हमारा निवेश भारत में हमारे विश्वास को दर्शाता है। महज चार साल में ही जियो 388 मिलियन लोगों तक पहुंच गया है, जिसने व्यापार और कनेक्टिविटी के नए रास्ते खोल दिए हैं। हम जियो से साथ मिलकर भारत में अधिक से अधिक लोगों तक जुड़ने को लेकर आश्वस्त हैं। हमारा लक्ष्य है हर साइज के व्यापार को नए अवसर मुहैया कराए, लेकिन मुख्य रूप से हम 60 मिलियन छोटे बिजनेस को यह अवसर मुहैया कराना चाहते हैं। इस डील के साथ ही रिलायंस जियो की सबसे बड़ी शेयरहोल्डर कंपनी फेसबुक बन गई है। बता दें कि वर्ष 2016 में रिलायंस जियो को लॉन्च किया गया था। जियो देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी के रूप में उभरी और काफी तेजी से इसने बाजार पर अपनी धाक जमाई। रिलायंस ने ना सिर्फ टेलीकॉम बल्कि ब्रॉडबैंड से लेकर ई-कॉमर्स में भी अपना विस्तार किया। फेसबुक की बात करें तो अकेले भारत में कंपनी के 400 मिलियन यूजर्स हैं। भारत में वर्ष 2020 तक इंटरनेट इस्तेमाल करने वालों की संख्या 850 मिलियन हो जाएगी।

19-03-2020
अनिल अंबानी पहुंचे ईडी के दफ्तर, यस बैंक से संबंधित मनी लांड्रिंग मामले में होगी पूछताछ

नई दिल्ली। रिलायंस समूह के अध्यक्ष अनिल अंबानी मुंबई में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) दफ्तर पहुंच गए हैं। उनसे यस बैंक से संबंधित मनी लांड्रिंग मामले में पूछताछ होगी। अनिल अंबानी को मनी लॉन्ड्रिंग मामले में जबकि तीन अन्य उद्योग समूहों के प्रमुखों को खराब कर्ज के मामले में गुरुवार को पेश होने के लिए कहा गया था। इससे पहले जारी समन के मुताबिक अंबानी को सोमवार को व्यक्तिगत तौर पर पेश होना था, परंतु उन्होंने निजी कारणों का हवाला देते हुए इससे छूट मांगी थी।

अंबानी ने मांगी थी निजी कारणों से छूट

इससे पहले प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने यस बैंक के प्रवर्तक राणा कपूर एवं अन्य के खिलाफ जारी मनी लॉन्ड्रिंग जांच के संबंध में रिलायंस समूह के चेयरमैन अनिल अंबानी को समन जारी किया था। अधिकारियों ने सोमवार को कहा था कि यस बैंक से लिए गए कर्ज में से जो खाते गैर-निष्पादित परिसंपत्ति (एनपीए) में तब्दील हो गए, उनमें अनिल अंबानी के समूह की कंपनियां बड़े कर्जधारकों में हैं। इस कारण उन्हें ईडी के मुंबई कार्यालय में सोमवार को उपस्थित होने को कहा गया।

अधिकारियों ने बताया कि अंबानी ने कुछ निजी कारणों से उपस्थित होने से छूट की मांगी थी। इसके बाद अंबानी को ईडी की ओर से ताजा समन में नई तारीख दे दी गई है। बता दें कि अनिल अंबानी की कंपनियों द्वारा यस बैंक से लिए गए कर्ज में 12,800 करोड़ रुपये एनपीए हो गए हैं। अधिकारियों के अनुसार, इन सभी बड़ी कंपनियों के प्रमोटरों को बुलाया गया है जिनको दिए गए लोन एनपीए में तब्दील हुए। मामले में अधिकारियों ने कहा कि अनिल अंबानी का बयान प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत दर्ज किया गया है।

 

16-03-2020
ईडी ने यस बैंक मनी लॉन्ड्रिंग मामले में अनिल अंबानी को भेजा समन

नई दिल्ली। यस बैंक के फाउंडर राणा कपूर और अन्य के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग मामले की जांच कर रहे प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने सोमवार को रिलायंस समूह के चेयरमैन अनिल अंबानी को समन भेजा है। जानकारी के अनुसार, अंबानी ने जांच एजेंसी से स्वास्थ्य के आधार पर छूट मांगी है और उन्हें एक नई तारीख जारी की जा सकती है। रिलायंस समूह की कंपनियों ने बैंक से तकरीबन 12,800 करोड़ रुपये कर्ज लिया था, जो एनपीए हो गया। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने छह मार्च की प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि अनिल अंबानी ग्रुप, एस्सेल, आईएलएफएस, डीएचएफएल और वोडाफोन आदि ग्रुप ने यस बैंक से कर्ज लिया था। अधिकारियों ने कहा कि उन सभी बड़ी कंपनियों के प्रमोटर्स को पूछताछ के लिए बुलाया है, जिन्होंने कर्ज लिया और वापस नहीं कर सके।

बता दें कि यस बैंक पर रिजर्व बैंक की ओर से लगाई गई रोक 18 मार्च को हट जाएगी। सरकार ने शनिवार को अधिसूचना जारी की है। सरकार ने जानकारी देते हुए कहा था कि मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं प्रबंध निदेशक प्रशांत कुमार की अगुवाई वाला निदेशक मंडल इस महीने के अंत तक पदभार संभाल लेगा। सरकार ने शुक्रवार को देर शाम यस बैंक पुनर्गठन योजना 2020 को अधिसूचित किया था। योजना के तहत एसबीआई तीन साल तक यस बैंक में अपनी हिस्सेदारी को 26 प्रतिशत से कम नहीं कर सकेगा। वहीं, अन्य निवेशक और मौजूदा शेयरधारकों को यस बैंक में अपने 75 प्रतिशत निवेश को तीन साल तक कायम रखना होगा। हालांकि, 100 से कम शेयरधारकों के लिए इस तरह की कोई रोक या लॉक इन की अवधि नहीं होगी। 

31-12-2019
बढ़ सकती है अमेजन और फ्लिपकार्ट की मुश्किलें, रिलायंस ने शुरू किया 'जियो मार्ट'

मुंबई। भारत में ऑनलाइन खरीदारी का चलन तेजी से बढ़ रहा है। लोग अमेजन और फ्लिपकार्ट से जमकर सामान खरीद रहे हैं। लेकिन साल 2020 में इन दिग्गज ई-कॉमर्स कंपनियों को चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि भारत के सबसे अमीर शख्स मुकेश अंबानी के स्वामित्व वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की रिलायंस रिटेल लिमिटेड ने 'जियो मार्ट' की शुरुआत कर दी है। जियो मार्ट में रजिस्ट्रेशन के लिए कंपनी ने जियो टेलीकॉम यूजर्स को आमंत्रण भी भेजना शुरू कर दिया है। जियो मार्ट को कंपनी ने 'देश की नई दुकान' कहा है। इसकी शुरुआत मुंबई के नवी मुंबई, ठाणे और कल्याण से होगी।

जल्द लॉन्च होगी जियो मार्ट एप

रिलायंस रिटेल ने आधिकारिक रूप से इसकी लॉन्चिंग की घोषणा कर दी है और कहा है कि आने वाले समय में इसका विस्तार किया जाएगा। इस संदर्भ में एक अधिकारी ने कहा है कि, 'हमने जियो मार्ट को लॉन्च कर दिया है। इसके लिए जियो यूजर्स को डिस्काउंट के लिए रजिस्टर करने के लिए आमंत्रित भी किया गया है। मौजूदा समय में यह तीन जगह पर ही उपलब्ध है, लेकिन जल्द ही इसका विस्तार किया जाएगा। जियो मार्ट एप भी जल्द ही लॉन्च की जाएगी।'

एजीएम में बताई थी कंपनी की योजना

इससे पहले 12 अगस्त को हुई एजीएम में मुकेश अंबानी ने कहा था कि रिलायंस जल्द ही किराना बाजार की सूरत बदलने जा रही है। रिलायंस की योजना है कि देश में दुनिया का सबसे बड़ा ऑनलाइन-टू-ऑफलाइन ई-कॉमर्स बाजार बनाया जाए। रिलायंस ने इसे न्यू कॉर्मस का नाम दिया है। रिलायंस के नए रिटेल प्लान के तहत हाई स्पीड डिजिटल प्लेटफॉर्म को किराना स्टोर्स से जोड़ा जाएगा, जिसका इस्तेमाल ग्राहकों को ऑर्डर सप्लाई के लिए भी किया जा सकेगा। देश में लगभग तीन करोड़ किराना दुकानदार या व्यापारी हैं, जो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तौर पर 20 करोड़ लोगों के जीवनयापन से जुड़े हुए हैं, और यही लोग देश का कॉमर्स इको-सिस्टम तैयार करते हैं। 

01-11-2019
बीएसएनएल ने दिया जिओ को बड़ा झटका, कॉल करने पर ग्राहकों को देगा पैसा

नई दिल्ली। रिलायंस जिओ ने हाल में अन्य नेटवर्क पर कॉल करने पर 6 पैसे प्रति मिनट चार्ज (आईयूसी) की घोषणा की। इसके बाद एयरटेल और वोडाफोन ने इसे मौके की तरह लेते हुए ग्राहकों से आईयूसी न लेने का ऐलान किया। अब सरकारी कंपनी बीएसएनएल ने इससे भी एक कदम आगे की घोषणा की है। बीएसएनएल अपने यूजर्स को हर 5 मिनट की वॉइस कॉल पर 6 पैसे देगा।

बीएसएनएल ने कहा है कि वह प्रत्येक 5 मिनट की वॉइस कॉल के लिए ग्राहक के खाते में 6 पैसे क्रेडिट करेगा। कंपनी से यह कैशबैक देश भर में सभी बीएसएनएल वायरलाइन, ब्रॉडबैंड और एफटीटीएच ग्राहकों को मिलेगा। बीएसएनएल ने यह घोषणा ऐसे समय में की है, जब आईयूसी का मामला चल रहा है। ऐसे में माना जा रहा है कि इससे कंपनी को नए ग्राहकों के रूप में फायदा मिल सकता है।

रिलायंस जियो को एक बार फिर झटका

बीएसएनएल की इस घोषणा के बाद रिलायंस जियो को एक बार फिर झटका लगा है। अग्रेसिव ऑफर की वजह से पिछले दो साल से ज्यादा समय से देश के टेलिकॉम मार्केट में जियो का दबदबा रहा। हालांकि, हाल में जियो से अन्य नेटवर्क पर कॉल करने के पर प्रति मिनट 6 पैसे आईयूसी की घोषणा के बाद इसके काफी ग्राहकों में नाराजगी देखने को मिली है। जियो की आईयूसी की घोषणा के बाद एयरटेल और वोडाफोन ने यह चार्ज नहीं लगाने का ऐलान किया। रिपोर्ट्स में कहा गया है कि आईयूसी लगाने के बाद जियो के काफी प्रीपेड कस्टमर्स अन्य नेटवर्क के साथ चले गए हैं। अब बीएसएनएल की इस नई घोषणा से जियो के ग्राहक इस नेटवर्क के साथ आ सकते हैं।

18-03-2019
आरकॉम कंपनी ने समय से पहले किया बकाया भुगतान

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट द्वारा निर्धारित समय से एक दिन पहले ही अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस कम्युनिकेशंस ने स्वीडिश टेलीकॉम कंपनी एरिक्सन को बकाया 462 करोड़ रुपए का भुगतान कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक बकाया भुगतान के लिए आखिरी तिथि 19 मार्च थी।  सूत्रों ने बताया है कि आरकॉम पहले ही एरिक्सन को 118 करोड़ रुपए का भुगतान कर चुकी है। सुप्रीम कोर्ट के अनुसार आरकॉम कंपनी को यह राशि  मंगलवार तक भुगतान करना था। कंपनी द्वारा भुगतान नहीं किए जाने पर  आरकॉम के चेयरमैन अनिल अंबानी को तीन महीने जेल की सजा काटनी पड़ सकती थी। सुप्रीम कोर्ट ने कंपनी को आदेश दिया था कि वह या तो चार हफ्ते के भीतर एरिक्सन के बकाये का भुगतान करे या अंबानी तीन माह जेल का कारावास भुगतें। सूत्र के अनुसार आरकॉम ने एरिक्सन को 458.77 करोड़ रुपए का भुगतान कर दिया है। 

16-09-2018
Rafale Deal : राफेल खरीदी में देशहित को दांव पर लगाकर सरकारी खजाने को पहुंचाई गई क्षति : TS सिंहदेव

अम्बिकापुर। भारत के सबसे बड़े रक्षा सौदे यानी डसाल्ट एविएशन फ्रांस से 36 राफेल लड़ाकू जहाज की खरीदी में देशहित को दांव पर लगाकर सरकारी खजाने को नुकसान पहुंचाने और अपने पूंजीपतियों मित्रों को फायदा पहुंचाने का काम मोदी सरकार ने किया है। यह बातें आज विधानसभा नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने प्रेस वार्ता के दौरान कही।

राफेल डील मुद्दे कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व के साथ अब राज्यों में भी कांग्रेस नेताओं ने मोदी सरकार पर हमले तेज कर दिए हैं।शनिवार को विधानसभा नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने मोदी सरकार पर कई आरोप लगए। उन्होंने कुछ पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाने का आरोप लगाते हुए जांच की मांग की है।

जिसमें उन्होंने मोदी सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि न खाऊंगा न खाने दूंगा कहकर चुनाव प्रचार करने वाले व्यक्ति पर देश के लोगों ने भरोसा कर लिया। ये लोग पहरेदार नहीं हिस्सेदार हैं। सिंहदेव ने अनिल अंबानी की कम्पनी को लाभ पहुंचाने का आरोप लगाते हुए कहा कि हिंदुस्तान एरोनॉटिकल लिमिटेड जैसी सरकारी कम्पनी की बजाय रिलायंस की उस कम्पनी से सौदा कर लिया गया, जिसका पंजीयन सौदे से मात्र 10 दिन पहले ही किया गया था।

उन्होंने कहा कि 36 राफेल लड़ाकू जहाज की खरीदी में देशहित को दांव पर लगाकर सरकारी खजाने को नुकसान पहुंचाया है। साथ ही अपने नजदीकी पूंजीपति मित्रों को लाभ दिया गया है। लड़ाकू विमान की खरीदी को टीएस सिंहदेव ने चाय की प्याली बेचने की तर्ज पर बताया है कि जिस तरीके से मोदी चाय बेचते थे ठीक उसी तरह मोदी सरकार ने लड़ाकू विमानों की खरीदी कर देश की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ किया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस आगामी विधानसभा के साथ-साथ लोकसभा चुनाव में मोदी सरकार के खिलाफ देशव्यापी मुद्दा बनाएगी।

 इस दौरान जिला अध्यक्ष बालकृष्ण पाठक, कांग्रेस कमेटी उपाध्यक्ष अजय अग्रवाल, लुण्ड्रा विधायक चिंतामणि महाराज सीतापुर विधायक अमरजीत भगत, प्रदेश महासचिव सफी अहमद नगर निगम महापौर डॉ अजय तिर्की, जे पी श्रीवास्तव सहित कई कांग्रेस कार्यकर्ता उपस्थित थे।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804