GLIBS
15-10-2020
गौरेला में नामांकन रैली में शामिल हुए भाजपा के पदाधिकारी व कार्यकर्ता

रायपुर/बिलासपुर। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिहं ने भाजपा के मरवाही विधानसभा के नामांकन रैली को संबोधित करते कहा कि विकास के नाम पर सत्ता में आई कांग्रेस का विकास का पैमान दिल्ली से तय होता है। इसका छत्तीसगढ़ के विकास के कोई वास्ता नही रहा है। हमारी जब सरकार थी सबके भावना के मुताबिक विकास योजना को सब तक पहुंचाने में सफल रहे हैं।भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा कि क्षेत्र विकास के लिये कभी भी कांग्रेस और जोगी कांग्रेस संवेदनशील नहीं रही है। केवल सत्ता सुख के लिए दोनों दलों ने जनता की भावनाओं से खिलवाड़ किया है। उन्होंने कहा कि समाज के अंतिम व्यक्ति के विकास के लिये भाजपा के प्रत्याशी को विजय बनायें।नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि हमारे भाजपा के प्रत्याशी डॉ.गंभीर सिहं गंभीर उम्मीदवार है। क्षेत्र के विकास के लिये भी गंभीर है। आप सभी क्षेत्र के विकास के लिये चुनकर रायपुर भेजें। उन्होंने कहा कि जो सरकार कर्जमाफी के नाम पर सत्ता में आयी थी वो खुद ही कर्जा लेकर सरकार चला रही है। इस सरकार की मंशा कभी विकास की  नही रही है। भाजपा के वरिष्ठ नेता व पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि हमारी सरकार जब थी तब पूरे इलाके के विकास के लिये जो कार्य किया वह सबके लिये अनुकरणीय रहा है।  उन्होंने कहा कि जब से कांग्रेस की सरकार आयी है गड्डों की सरकार है।

 

पूर्व मंत्री व चुनाव प्रभारी अमर अग्रवाल ने कहा कि केंद्र सरकार की योजनाओं का लाभ  इलाके लोगों नही मिल रहा है। विकास से कोसों दूर क्षेत्र है, यही अवसर कांग्रेस के करारा जवाब देने का है।भाजपा प्रत्याशी डॉ.गंभीर सिंह ने कहा कि आप सबके आशीर्वाद और स्नेह से आपकी  सेवा के लिये आपके बीच हूं। क्षेत्र की समग्र विकास के लिये हमें मौका दें। इस मौके पर भाजपा प्रदेश महामंत्री व विधायक नारायण चंदेल, बिलासपुर सांसद अरूण साव, पूर्व मंत्री रामसेवक पैकरा, पूर्व विधायक रामदयाल उईके, समीरा पैकरा सहित अन्य वक्ता ने सभा को संबोधित किया। कार्यक्रम का संचालन प्रदेश महामंत्री भुपेंद्र सवन्नी ने किया।सभा से पूर्व भाजपा प्रत्याशी ने जिला कार्यालय में नामांकन दाखिल किया। इस दौरान भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ.रमन सिंह, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय, नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक मौजूद थे।

राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ने मनाया कार्यकर्ताओं  के साथ जन्मदिन
राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने अपना जन्मदिन कार्यकर्ताओं के साथ मनाया। क्षेत्र की जनता उन्हें  शुभ कामना देने पहुंची थी। प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा कि भाजपा प्रत्याशी की जीत का उपहार पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह को क्षेत्र की जनता देगी।

 

16-09-2020
Video : विकास ने शिक्षकों की भर्ती का रास्ता खोलने मुख्यमंत्री का माना आभार, पूर्व सरकार पर साधा निशाना

रायपुर। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता व सचिव विकास तिवारी ने प्रदेश सरकार की ओर से 14580 शिक्षकों की नियुक्ति का रास्ता खोलने पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और कांग्रेस सरकार का आभार व्यक्त किया है। विकास तिवारी ने कहा है कि, शिक्षकों की नियुक्ति के बाद लगातार प्रदेश में शिक्षा के स्तर में सुधार होगा और दूरस्थ क्षेत्रों में रहने वाले गरीब और मध्यवर्गी बच्चों को सीधा फायदा मिलेगा। साथ ही कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा है कि, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के इस आदेश के बाद पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह और भारतीय जनता पार्टी को प्रदेश की जनता से माफी मांगना चाहिए। विकास तिवारी ने कहा है कि, कांग्रेस  पार्टी ने चुनाव के समय यह वादा किया था कि, प्रदेश में रिक्त शिक्षक पदों में सीधी भर्ती की जाएगी और शिक्षा के स्तर और गुणवत्ता में सुधार के लिए कार्य किया जाएगा, जो कि इस आदेश के बाद द्रुत गति से संपादित होगा। 

कांग्रेस प्रवक्ता ने आरोप लगाया है कि, 15 वर्षों के कुशासन के कारण प्रदेश में लगातार शिक्षकों की कमी थी। इसके कारण कारण 2 लाख से अधिक गरीब और मध्यमवर्गीय बच्चों ने अपनी पढ़ाई लिखाई छोड़ दी थी। इसके लिए सीधा जिम्मेदार पूर्वर्ती रमन सरकार ही थी। शिक्षा विभाग में भारी घोटाला करने वाली पूर्ववर्ती रमन सरकार का एकमात्र धेय कमीशनखोरी करना था, जिसके कारण शिक्षकों की भर्ती को लटका कर रखा गया था। छत्तीसगढ़ राज्य शिक्षा के क्षेत्र में पिछड़ा रहा, इसका श्रेय भी पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और भारतीय जनता पार्टी को जाता है। भाजपा को बताना चाहिए कि, किन कारणों से पंद्रह सालों में हजारों पदों में शिक्षकों की नियुक्ति नहीं की गई थी? इसके कारण लाखों बच्चे स्कूल छोड़ने को मजबूर हो गए थे। कांग्रेस प्रवक्ता ने पूर्व मुख्यमंत्री व भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. रमन सिंह से मांग की है कि, अब समय आ गया है केंद्र में 30 लाख रिक्त पदों में कम से कम तीन लाख पदों पर प्रदेश के पढ़े-लिखे बेरोजगारों को रोजगार दिलाने की पहल करें। तत्काल प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर मोदी सरकार को भी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से सीख लेते हुए केंद्र में रिक्त पदों पर तत्काल नियुक्ति प्रारंभ करने कहें।

04-09-2020
खुशहाली के दांवे के बीच क्यों 233 कृषकों व खेतिहर ने आत्महत्या की : रमन सिंह 

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने वर्ष 2019 की नेशनल क्राइम ब्यूरो के रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया व्यक्त की हैं। उन्होंने राज्य सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल करते हुए छत्तीसगढ़ में आत्महत्या के बढ़ते मामलों को चिंताजनक बताया हैं। डॉ.सिंह ने कहा है कि राष्ट्रीय औसत 3.4 प्रतिशत हैं। वहीं आत्महत्या के मामलों में छत्तीसगढ़ में 8.3 प्रतिशत की वृद्धि प्रदेश सरकार की नीति और कार्यप्रणाली पर सवाल खड़ा करता हैं। रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2019 में 7629 लोगों का आत्महत्या किया जाना और छत्तीसगढ़ राज्य में आत्महत्य की दर में वृद्धि के साथ देश में नौवें स्थान पर आना प्रदेश सरकार की हर मोर्चे पर विफलताओं को प्रमाणित करता हैं। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ जैसे छोटे प्रदेश की तुलना में कई बड़े बड़े प्रदेशों की आत्महत्या की दर में गत वर्ष की तुलना में कमी दर्ज की गई हैं।

 प्रदेश में आत्महत्या के मामलों में वृद्धि प्रदेश में कांग्रेस सरकार से बढ़ती निराशा और हताशा का परिणाम हैं। पूर्व मुख्यमंत्री ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से पूछा है कि उनकी सरकार किसान हितैषी होने का दावा करती है। सीएम अपने आपको लगातार किसान पुत्र बताते हैं फिर क्यों किसान पुत्र के राज में छत्तीसगढ़ किसानों की आत्महत्या के मामले में देश में छठवें स्थान पर हैं?  किसानों की खुशहाली के दावे के बीच क्यों 233 कृषकों व खेतिहर ने आत्महत्या की? उन्होंने कहा है कि एक तरफ प्रदेश सरकार किसानों की खुशहाली का दावा करते नहीं थकती, किसानों के नाम पर लाई गई तमाम योजनाओं का ढिंढोरा पीटा जाता हैं। राजीव गांधी न्याय योजना से लेकर रोका छेका और गोबर खरीदी की बात की जाती हैं। विज्ञापन,होर्डिंग में खूब प्रचार होता हैं परंतु यह बड़ा दुर्भग्यपूर्ण हैं कि इन तमाम दावों की पोल छत्तीसगढ़ में किसान आत्महत्या के बढ़ते आंकड़ों से आज खुल चुकी हैं। उन्होंने कहा कि रोजगार देने का दावा करने वाले भूपेश बघेल और उनकी सरकार को बताना चाहिए कि प्रदेश में 1679 मजदूरों ने आत्महत्या क्यों कर ली? मजदूरों की आत्महत्या के मामले में छत्तीसगढ़ देश में आठवें स्थान पर कैसे पहुंच गया? क्या प्रदेश में बेरोजगारी की पीड़ा झेल रहे प्रदेश के युवाओं की आत्महत्या की जिम्मेदार भूपेश बघेल की सरकार नहीं हैं? कांग्रेस अध्यक्ष होने के नाते बेरोजगारी भत्ता का वादा करने वाले बघेल जी मुख्यमंत्री बनते ही क्या आपने बेरोजगारी भत्ता और रोजगार ना देकर प्रदेश के युवाओं को छला नहीं? छल और धोखे के चलते प्रदेश के कई युवाओं ने आत्महत्या का रास्ता अख्तियार कर लिया। उन्होंने भूपेश बघेल से पूछा, आप तो कर्मचारियों के हित में निर्णय की बात करते थे। प्रदेश सरकार के तानाशाही रवैये के चलते प्रदेश में शासकीय कर्मचारी व अधिकारी कितने दबाव में हैं वह पिछले वर्ष 66 शासकीय कर्मचारियों व अधिकारियों की आत्महत्या से प्रमाणित होता हैं।

30-08-2020
रमन सरकार के पास नवा रायपुर में बसाहट के लिए नहीं थी कोई योजना : सुशील आनंद शुक्ला

रायपुर। पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह के विधानसभा भवन के शिलान्यास के औचित्य पर सवाल खड़ा करने को कांग्रेस ने उनकी खीझ बताया है। प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा है कि पूर्ववर्ती रमन सिंह सरकार की अदूरदर्शिता के कारण वीरान पड़ी नई राजधानी को आबाद करने नवा रायपुर में नए भवनों,मंत्रियों के निवास,मुख्यमंत्री निवास और विधानसभा भवन बनाने की जरूरत महसूस की जा रही है। नई राजधानी में 7 से 8 हजार करोड़ खर्च बिना किसी योजना के तत्कालीन भाजपा सरकार ने खर्च कर दिया था। बड़े बड़े भवन बनाए गए। चौड़ी चौड़ी सड़कें बनाई गई,सड़कों के किनारे लैंड स्केपिंग करवाया गया,गार्डन बनाया गया,हाउसिंग बोर्ड के माध्यम से कॉलोनियां बनवा दी गई। इतना सब करने के बाद नई राजधानी में आबादी बढ़ाने और लोगों की बसाहट बढ़ाने का कोई प्रयास नहीं किया गया। हजारों करोड़ खर्च करने के बाद भी नया रायपुर वीरान पड़ा हुआ है। वहां बने सरकारी भवन खंडहर में तब्दील होने की कगार पर हैं। सरकार को खाली भवन ,सड़कों और गार्डनों के रख रखाव पर लाखों रुपए खर्च करने पड़ रहे हैं। यदि रमन सरकार थोड़ी दूरदर्शिता दिखाती तो नई राजधानी को पूर्ण कैपिटल कॉम्प्लेक्स के रूप में विकसित करती।

 

17-08-2020
छत्तीसगढ़ी को आठवीं अनुसूची में शामिल करने के लिए लिखा पत्र मुख्यमंत्री बघेल का एक और राजनीतिक छलावा : रमन सिंह

रायपुर। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने छत्तीसगढ़ी भाषा को आठवीं अनुसूची में शामिल करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे गए पत्र को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का एक और राजनीतिक धोखा कहा है। डॉ. सिंह ने कहा कि अपने दम पर कुछ सार्थक व रचनात्मक काम करने का पराक्रम दिखाने के बजाय बस घूम-फिरकर प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखने का नित-नया शिगूफा रचने में मशगूल मुख्यमंत्री बघेल की प्रदेश को भरमाने की राजनीति अब ज्यादा नहीं चलने वाली है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ी भाषा को आठवीं अनुसूची में शामिल करने की मांग कर रहे मुख्यमंत्री का मुखौटा अब उतर चुका है। केंद्र सरकार ने हाल ही जिस राष्ट्रीय शिक्षा नीति के प्रारूप को स्वीकृति दी है, उस नीति में बच्चों को मातृभाषा में शिक्षा देने की बात कही गई है लेकिन मुख्यमंत्री बघेल ने ही सबसे पहले इस शिक्षा नीति का न केवल विरोध किया, अपितु छत्तीसगढ़ी भाषा का घोर अपमान करते हुए यहाँ तक कहा कि छत्तीसगढ़ी में बच्चों की पढ़ाई संभव नहीं है, क्योंकि छत्तीसगढ़ी में पढ़कर प्रदेश के विद्यार्थी पिछड़ जाएंगे। डॉ. सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री अब प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर छत्तीसगढ़ी भाषा को आठवीं अनुसूची में शामिल करने की मांग करके प्रदेश को भरमाने में लगे हैं, लेकिन प्रदेश अब उनके झांसों में आने वाला नहीं है। रमन सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़िया, छत्तीसगढ़ी अस्मिता के नाम पर राजनीतिक लफ़्फाजी और जुबानी जमाखर्च करके कांग्रेस ने छत्तीसगढ़ के साथ छल किया, इसका शोषण किया, उपेक्षा, भुखमरी,अशिक्षा, पिछड़ापन,बेकारी,बेबसी को छत्तीसगढ़ की नियति बनाकर रख दिया था। पूर्व प्रधानमंत्री अटल जी ने एक राज्य के रूप में छत्तीसगढ़ को उसकी पहचान दी और 15 वर्षों के भाजपा के सुशासन ने छत्तीसगढ़ को देश-विदेश के मानचित्र में स्थापित कर छत्तीसगढ़ के गौरव और मान-सम्मान को बढ़ाने का काम किया, छत्तीसगढ़ी को राजभाषा का दर्जा दिया तो आज कांग्रेस वृथा गाल बजाकर अपने मुँह मियां मिठ्ठू बनने पर आमादा नजर आ रही है।

 

 

16-08-2020
अटल बिहारी बाजपेयी के विचार और आदर्श हमारा आज भी मार्ग प्रशस्त करते हैं : रमन सिंह

रायपुर। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी की पुण्यतिथि पर पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने उन्हें नमन किया है। रमन सिंह ने कहा कि आज अटल बिहारी बाजपेयी जी निसंदेह हमारे साथ नहीं है लेकिन उनके विचार व आदर्श हमारा आज भी मार्ग प्रशस्त कर रहे हैं। मुझे जैसे लाखों कार्यकर्ताओं का मार्गदर्शन उन्होंने किया। मुझे व्यक्तिगत रूप से उनका स्नेह मिला, वह मेरे पथप्रदर्शक रहे।  हृदय पटल पर उनकी स्मृतियां आज भी अटल हैं। पूर्व प्रधानमंत्री, भारत रत्न, श्रद्धेय अटल बिहारी बाजपेयी जी ने हम सब छत्तीसगढ़वासियों को अपना अलग राज्य व पहचान दी। वह राजनीतिक शुचिता, सादगी व सरलता की मिसाल थे। उनके पदचिन्हों पर चलकर ही मैंने राजनैतिक दायित्वों को समझा। ऐसे महान व्यक्तित्व की पुण्यतिथि पर शत-शत नमन।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804