GLIBS

GLIBS Exclusive
24-10-2020
CH / NEWS
08:27pm

दण्डकारण्य के प्रवेश द्वार धमतरी गंगरेल की सुरम्य वादियों में बिराजी है माँ अंगारमोती। माँ विन्द्य्वासिनी और माँ मनकेशरी की बहन अंगारमोती के दरबार से कोई भक्त खाली नहीं जाता 600 साल पहले चावर गाँव के बीहड़ में स्वयं प्रकट हुई थी माता बांध के डुबान में जब चावर गांव का अस्तित्व समाप्त हो गया। तब 1972 में भक्तों ने माता का दरबार नदी किनारे बना बना दिया तब से यहाँ आस्था की ज्योत जल रही है अनवरत तो देर किस बात की उठिये कर आइये दर्शन मोतियों से झोली भर देने वाली अंगारमोती के प्रेम से बोलो जय माता दी।

23-10-2020
CH / SHOWS
08:47pm

खरी-खरी| आईपीएल सट्टे का बुखार पूरे शहर पर छाया हुआ है। आईपीएल पर सट्टा कहां लगता है बच्चा बच्चा जानता है। बस एक पुलिस जान कर भी अंजान बनी हुई है। रातो रात करोड़पति बनने का सपना दिखाने वाले सटोरिए युवा पीढ़ी के साथ-साथ अब बच्चों को भी अपने जाल में फंसा चुके हैं। बेहद खतरनाक स्थिति में सट्टा पहुंच चुका है। बहुत से घर बर्बाद हो चुके हैं और बहुत से घर बर्बाद होने की कगार पर है। समय रहते अगर पुलिस नहीं जागी तो शहर में उन्होंने भी हो सकती है।

23-10-2020
CH / NEWS
08:45pm

2200 साल पुरानी है डोंगरगढ़ नगरी तब यह कामावती और कामाख्या नगरी के नाम से विख्यात थी। राजा कामसेन और विक्रमादित्य के युद्ध में यह नगरी नष्ट हुई थी। तब विक्रमादित्य ने मां विंध्यवासिनी की घोर तपस्या की और उनके प्रसन्न होने पर मां से यही निवास करने का वर मांगा। तब से मां विंध्यवासिनी यहां निवास करती है जिसका नाम कालांतर में बम्लाई और बमलेश्वरी मैया हुआ।प्रेम से बोलो जय बम्लेश्वरी मैया की।

22-10-2020
CH / SHOWS
08:10pm

सब्जियों के दाम आसमान छू रहे हैं मुनाफाखोरी हो रही है कालाबाजारी हो रही है और प्रशासन सोया हुआ है इस बार भी कुंभकरण ई प्रशासन को हंटर मार के जगाया है सीएम भूपेश बघेल क्योंकि वह सच्चे जनप्रतिनिधि हैं आम आदमियों के मुख्यमंत्री हैं और आम आदमी जैसे हैं इसलिए उन्हें आम आदमी की चिंता है और आम आदमी की चिंता सब्जियों के दाम को लेकर है यह उन्हें पता था लेकिन उनके साहब लोगों को नहीं अब सब्जियों के दाम का नियंत्रण करने के लिए भी सीएम को लिखना पड़ रहा है यानी हर काम सीएम ही करेंगे साहब लोगों के पास फुर्सत नहीं है महंगाई के बारे में सोचने की

22-10-2020
CH / NEWS
07:44pm

मां विंध्यवासिनी ने जब पहली बार दर्शन दिए थे तब उनके दरबार के आसपास दो काली बिल्लियों का डेरा था। कालांतर में मंदिर बना और दोनों बिल्लियां गायब हो गई। इसलिए विंध्यवासिनी मां का नाम पड़ा बिलाईमाता। बिलाईमाता के दरबार में जो कोई जाता है वह खाली हाथ नहीं लौटता। धमतरी के लोग तो बिलाईमाता को अपनी कुलदेवी मानते हैं जो पूरे शहर की रक्षा करती है। तो फिर देर किस बात की। कर आइए दर्शन बिलाई माता के। प्रेम से  बोलो जय माता की।

21-10-2020
CH / NEWS
07:38pm

रायपुर। आठवीं सदी सदी पहले का है महामाया मंदिर। इस मंदिर की खासियत यह है कि यह तांत्रिक रूप से प्रतिष्ठित है। दूसरे यहां देवी के सामने भैरवनाथ के दो-दो मंदिर है। बटुक भैरव और काल भैरव पूरे देश में सिर्फ इसी मंदिर में एक साथ स्थापित है। फिर महामाया मंदिर के परिसर में स्थित समलेश्वरी माता के चरणों पर उगते सूर्य की किरणें पड़ती है और सूर्य अस्त होते समय महामाया मैया की चरण वंदना करता है।दो दो भैरव नाथ के मंदिर होने से महामाया मैया का महत्व और प्रतिष्ठा अपने आप स्थापित हो जाती है। तो देर किस बात की चलिए दर्शन कर आइये महामाया मैया के। प्रेम से बोलो जय महामाया मैया की।

20-10-2020
CH / NEWS
07:25pm

आकाशवाणी के काली मंदिर का इतिहास बहुत चौंकाने वाला है। ट्रस्ट के फाउंडर सेक्रेट्री प्रोफेसर डीके दुबे की माने तो 1936 में कामरुप प्रदेश के नागा साधु कोलकाता की काली माई की आत्मा खोजने पूरे देश भर में घूम रहे थे। उन्हें काली माई की आत्मा जहां मिली वहां आज काली माता की प्रतिमा स्थापित है। बगल के भैरव बाबा जहां स्थापित है वहां तब नागा बाबा धूनी रमाया करते थे। है ना हैरान कर देने वाली  बात। क्या आपको पता है? नहीं ना? तो फिर चलिए कर आइये दर्शन आकाशवाणी के काली मंदिर के। प्रेम से बोलो जय काली माता की।

19-10-2020
CH / NEWS
07:50pm

चंडी माता विराजी हैं बागबाहरा के पास घुंचापाली की पहाड़ियों पर। बेहद खूबसूरत धानी चुनरिया ओढ़े धरती पर बलखाती सड़कों से घुंचापाली तक का सफर यादगार बन जाता है। मां चंडी का मंदिर बहुत पुराना है। डेढ़ सौ साल पहले यहां तांत्रिक तंत्र सिद्धि के लिए जुटा करते थे। कभी यहां मंदिर में महिलाओं का प्रवेश वर्जित हुआ करता था पर अब समय के साथ सब बदला है। मंदिर वैसे भी प्रसिद्ध था लेकिन आरती के समय भालूओ का वहां पहुंचना और भक्तों के हाथों प्रसाद खाना,इस बात ने मंदिर की प्रसिद्धि को देश के चारों कोने तक पहुंचा दिया है। अब सारे देश से भक्त यहां आते हैं। लेकिन कोरोनाकाल के असर से  मंदिर भी अछूता नहीं रहा है। तो फिर देर किस बात की। कर आइए दर्शन बागबाहरा के पास स्थित चंडी माता के। प्रेम से बोलो जय चंडी माता

17-10-2020
CH / NEWS
07:41pm

रायपुर। विश्व विख्यात पितांबरा पीठ मूलतः दतिया में स्थित है। पितांबरा माता भक्तों की मनोकामना पूरा करने वाली तो है ही साथ ही उनके शत्रुओं का शमन भी करती है।पितांबरा पीठ जबलपुर से सम्बद्ध है दुर्ग जिले के अमलेश्वर में खारुन नदी के किनारे स्थित पितांबरा पीठ। यहां साल भर भक्त अपनी मन्नत लेकर आते हैं और खाली हाथ नहीं लौटते। मां सबकी मुराद पूरी करती है।आप भी आइये दर्शन करिये और धन्य हो जाइए।प्रेम से बोलो जय माता दी।

16-10-2020
CH / SHOWS
09:00pm

खरी खरी।रायपुर ।पूरे प्रदेश में नकली गुटका धड़ल्ले से बिक रहा है। गुटके के पाउच पर मैन्युफैक्चर का उल्लेख तक नहीं है। ऐसे में एक्साइज ड्यूटी पटाने का तो सवाल ही नहीं उठता। दूसरी बात गुटके के पाउच पर न पान मसाला लिखा है और ना गुटका। यानी खुलेआम नकली गुटखा बेचा जा रहा है। पता नहीं उसके अंदर क्या है? क्या बना रहे है? कैसे बना रहे हैं? और क्या बना रहा है?गुटखा तस्कर सरकार को राजस्व का चूना तो लगा रही ही रहे हैं, लोगों की जान से खिलवाड़ भी कर रहे हैं और हमारी पुलिस जो गुटका नहीं पकड़ सकती वह दावा कर रही है कोकीन पकडेगी।

16-10-2020
CH / NEWS
08:24pm

ग्लिब्स एक्सप्रेस में आज देखिये कोरबा,महासमुंद, रायपुर की  खबर

15-10-2020
CH / SHOWS
08:37pm

खरी खरी। रायपुर कल दिन में पुलिस के आला अफसरों की अपराध नियंत्रण के लिए बंद कमरे में बैठक हुई और रात को डीडी नगर थाने के पास रिंग रोड पर खुलेआम कोकीन के लिए ग्राहक तलाशने वाला एक युवक पकड़ा गया। उसके बाद ढाई ग्राम कोकीन की पुड़िया बरामद हुई। आप बताइए थाने के करीब अगर कोई कोकीन के लिए तस्कर ग्राहक ढूंढ रहा है तो आप मान के चलिए कि तस्करों में पुलिस नाम की चिड़िया का डर नहीं है। ये हाल है राजधानी रायपुर का। रिंग रोड पर जहां हैवी ट्रैफिक रहता है वहां कोकीन के लिए ग्राहक ढूंढते हैं कोकीन बेचने वाले। ड्रग तस्करों पर काबू करने वाली बैठक कितनी असरदार हुई होगी इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है।