GLIBS

18-04-2021
कबीर बेदी की ऑटोबायोग्राफी को प्रियंका चोपड़ा करेंगी लॉन्च

मुंबई/रायपुर। कलाकार कबीर बेदी की ऑटोबायोग्राफी ‘स्टोरीज आई मस्ट टेलः द इमोशनल लाइफ ऑफ द एक्टर’  से जुड़ी एक खबर सामने आ रही है। एक्टर की इस किताब को एक्ट्रेस प्रियंका चोपड़ा लॉन्च करेंगी। बताया जा रहा है कि इनके बुक लॉन्च के लिए प्रियंका लंदन से वर्चुअल तौर पर जुड़ेंगी। इसका प्रीमियर कबीर के सोशल मीडिया और एक एंटरटेनमेंट पोर्टल पर 19 अप्रैल को शाम 6.30 बजे होगा। बता दें कि अपनी इस किताब के साथ एक्टर बतौर राइटर डेब्यू करने जा रहे हैं।

18-04-2021
हद है, लाशों को ढोने में भी लगा दी शिक्षकों की ड्यूटी, आखिर कब तक होती रहेगी हित की अनदेखी

रायपुर। छग शालेय शिक्षक संघ ने राज्यपाल, मुख्यमंत्री व प्रदेश के मुख्य सचिव के नाम एक ज्ञापन सौंंपा है। उन्होंने कहा है कि प्रदेश में बिना किसी कोविड प्रोटोकॉल सुरक्षा संसाधन दिए फ्रंटलाइन वॉरियर्स की श्रेणी में रखे बिना शिक्षकों की ड्यूटी राजस्व अमले ने कोरोना संक्रमण से मृत रोगियों के शव को लाने ले जाने लगाई है। कोरोना संक्रमित व्यक्तियों के बीच जाकर ट्रेसिंग करने,संक्रमण का माध्यम मोहल्ला क्लास चलाने जैसे अव्यवारिक आदेश का जमकर विरोध किया है। संघ ने तत्काल इस पर रोक लगाते हुए इन तुगलकी आदेशों के परिपालन में कोरोना संक्रमित हो अपनी जान गवां चुके दिवंगत शिक्षकों के परिवार को फ्रंटलाइन वॉरियर्स को दी जाने वाली 50 लाख की बीमा व उनके घर के आश्रित को शासकीय नौकरी देने की मांग की है। संघ के प्रांताध्यक्ष वीरेंद्र दुबे ने शिक्षकों की ड्यूटी गैर शैक्षणिक कार्यों में लगाने का कड़ा प्रतिकार करते हुए कहा कि कोरोना संक्रमित रोगियों के लाशों के परिवहन जैसे कार्यो में शिक्षकों की ड्यूटी लगाकर शिक्षक पद की गरिमा को ठेस पहुंचाया जा रहा है। ऐसे तुगलकी और अव्यवहारिक आदेशों को शीघ्र वापस लिए जाए।

अन्यथा प्रदेश के समस्त शिक्षक इस जैसे अव्यवहारिक आदेशों का सामूहिक बहिष्कार करने को बाध्य होगा। संगठन के महासचिव धर्मेश शर्मा, कार्यकारी प्रदेशाध्यक्ष चंद्रशेखर तिवारी एवं प्रदेश मीडिया प्रभारी जितेंद्र शर्मा ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट ने भी शिक्षकों को गैर शैक्षणिक कार्यों में संग्लन करने से मना किया है। इसके बावजूद स्थानीय शासन प्रशासन अनेक गैर शैक्षणिक कार्यों में जैसे चुनाव,जनगणना आदि में शिक्षकों की सेवाएं लेते रहा है। शिक्षक भी राष्ट्रहित का ध्यान रखते हुए इन कार्यों को सहर्ष करते आया है,किंतु अब कुछ  समय से शिक्षकों की ड्यूटी शिक्षक की गरिमा के प्रतिकूल कार्यों में भी लगाई जा रही है। इसके कारण प्रदेश से प्रतिदिन सैकड़ों शिक्षकों के कोरोना संक्रमित हो काल कवलित होने के समाचार आ रहे हैं। कोरोना संक्रमण की खतरनाक रफ्तार के बीच जब सारी दुनिया वर्क फ्रॉम होम,टेलीफोनिक,संचार अथवा अत्याधुनिक गैजेट्स के माध्यम से अपने कार्यों को कर रही है, ऐसे में प्रदेश के राजधानी समेत अन्य जिलों में विभिन्न कार्यों में बड़े पैमाने पर कर्मचारियों की अव्यवहारिक ड्यूटी लगाकर संक्रमण फैलने के लिए स्थिति पैदा की जा रही है। कोशिश यह होनी चाहिए कि कम से कम कर्मचारी जनसमूह के बीच जाएं ताकि संक्रमण और न फैलें। शासन प्रशासन ऐसे अव्यवहारिक आदेशों को तत्काल रद्द करें।

18-04-2021
बिलासपुर में 26 अप्रैल तक बढ़ा लॉकडाउन, कुछ सेवाओं को दी गई छूट

बिलासपुर। कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए बिलासपुर में भी लॉकडॉउन बढ़ाने का आदेश जारी किया गया है। कलेक्टर के जारी आदेश के अनुसार अब लॉकडाउन की अवधि 26 अप्रैल तक बढ़ा दी गई है। इस दौरान सशर्त कुछ छूट भी दी गई है। इसमें फल और सब्जी स्ट्रीट वैल्डर घर घर पहुंचाएंगे। दुकानों को खुलने की अनुमति नहीं दी गई है। मेडिकल और मिल्क शॉप निर्धारित समय पर पूर्वानुसार संचालित होगी। 

 

18-04-2021
प्यार में धोखा : प्रेमी ने बनाया प्रेमिका का अश्लील वीडियो, ऐंठे पैसे , महिला प्रोफेसर ने दर्ज कराई शिकायत

पटना। बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में महिला प्रोफेसर ने प्रेमी के ऊपर अश्लील वीडियो बनाने और फिर ब्लैकमेल करने का आरोप लगाया है। महिला ने मिठनपुरा थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई है। इसमें पटना फुलवारी के सैयद बाबर इमाम को आरोपित किया गया है। पुलिस का कहना है कि मामले को दर्ज कर जांच करके आगे की कार्रवाई की जा रही है। पीड़ित महिला प्रोफेसर यूपी के वाराणसी की रहने वाली बताई जा रही है, जिसका एक बच्चा भी है। महिला का कहना है कि साल 2012 में मुंबई के एक कारोबारी से उनकी शादी हुई थी। ससुरालवालों के रवैये से वह डिप्रेशन में चली गई थीं। पीड़िता का कहना है कि जब वह वाराणसी चली आई थीं तो उन्होंने बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी में पीएचडी की पढाई शुरू की। बीएचयू में पढने के दौरान ही उनकी मुलाकात एक युवक से हुई। इसे वह अपना दिल दे बैठीं। उस शख्स ने प्रेमजाल में फंसाकर महिला की आपत्तिजनक तस्वीर खींची और वीडियो बना लिया। साथ ही उसने इंटरनेट पर वायरल करने की धमकी देकर 2.50 लाख रुपये भी ऐंठ लिए। पीडिता का कहना है कि आरोपित अब ब्लैकमेल करते हुए शादी करने का दबाव दे रहा है। शादी नहीं करने पर अंजाम भुगतने की धमकी दी गई है। इससे वह डरी हुई है। थानाध्यक्ष मणि भूषण ने बताया कि मामला प्रेम प्रसंग से जुड़ा है. पुलिस छानबीन कर रही है।

18-04-2021
कोरोना संकट में मदद के लिए आगे आया जेएसपीएल, कोविड मरीजों के लिए  देगा ऑक्सीजन सिलेंडर

रायपुर। देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर के प्रकोप से अस्पतालोें में ऑक्सीजन की कमी हो गई है। ऐसे कठिन समय में जिंदल स्टील एंड पॉवर लिमिटेड ने एक बार फिर आगे बढ़कर जिम्मेदारी ली है। चेयरमैन नवीन जिंदल ने छत्तीसगढ़ और ओडिशा में समूह के संयंत्रों से 50 से 100 टन मेडिकल ऑक्सीजन की रोजाना आपूर्ति करने की घोषणा की है। कंपनी महामारी की शुरूआत से ही अपने रायगढ़ संयंत्र से मेडिकल कॉलेज को ऑक्सीजन की नियमित आपूर्ति कर रही है। कोविड-19 महामारी के कहर के साथ ही देश में इसके मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। इससे मेडिकल ऑक्सीजन की कमी हो गई है। संकट के इस समय में जेएसपीएल समूह ने मदद का हाथ बढ़ाते हुए छत्तीसगढ़ और ओडिशा में जरूरत पड़ने पर प्रतिदिन 50 से 100 टन मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति की घोषणा की हैै। शनिवार रात ही आपातकालीन स्थिति को देखते हुए रायगढ़ से 16-16 टन मेडिकल ऑक्सीजन की दो खेप रायपुर के लिए रवाना की गई। साथ ही जबलपुर के लिए भी 16-16 टन मेडिकल ऑक्सीजन के साथ दो वाहन रवाना किए गए। संयंत्र पहले से ही रायगढ़ मेडिकल कॉलेज को ऑक्सीजन की नियमित आपूर्ति कर रहा है। कोरोना वायरस की पहली लहर के समय से ही यहां लगातार ऑक्सीजन सिलेंडर भेजे जा रहे हैं। समूह के चेयरमैन नवीन जिंदल ने ऑक्सीजन की आपूर्ति की घोषणा करते हुए कहा कि संकट के समय समूह अपनी परंपरा के अनुसार देश के साथ खड़ा हुआ है। समूह की सोच हमेशा ‘पीपल फर्स्ट‘ की रही है और इस समय पहली प्राथमिकता आपातकालीन स्थिति में मरीजों तक ऑक्सीजन पहुंचाने की है। जेएसपीएल के सीओओ-छत्तीसगढ़ दिनेश कुमार सरावगी ने बताया कि महामारी को देखते हुए केंद्र एवं राज्य सरकार तथा जिला प्रशासन द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का पूरी तरह पालन करते हुए संयंत्र में कोरोना वायरस से बचाव के पुख्ता इंतजाम किये गये हैं। संयंत्र और कॉलोनी परिसर में कोविड प्रोटोकॉल का पूरी तरह पालन सुनिश्चित किया जा रहा है।

 

18-04-2021
''नर हो, न निराश करो मन को'' विशेष लेख- आईएएस तारन प्रकाश सिन्हा की कलम से...

नदी में स्नान के लिए उतरा एक व्यक्ति अचानक तेज धारा बहने लगा तो किनारे खड़े लोगों में चीख-पुकार मच गई। लोग कहने लगे, डूब गया, डूब गया। धारा बहुत तेज है। यह सुनकर बहते हुए व्यक्ति ने भी हाथ पैर डाल दिए। सबने सोचा कि डूब ही गया। लोगों की भीड़ तट पर ही थी कि कुछ  देर में वही व्यक्ति नदी के किनारे-किनारे एक साधु के साथ आता हुआ दिखाई पड़ा। लोगों ने पूछा-यह चमत्कार हुआ कैसे। तब साधु ने कहा कि यह बहकर दूर चला गया था। वहां प्रवाह कम था और इसे विचार आया कि बचा जा सकता है। उसके विचार ने उसे बचा लिया।

कई बार हम संकट में फंस जाते हैं, तब ऐसी ही नकारात्मक आवाजें हमारे संकट  को और गहरा कर देती हैं। इन आवाजों से यदि बचा जा सकें तो संकट से भी बचा जा सकता है। इस कोविड-काल में महामारी का संकट जितना बड़ा है, उससे बड़ा संकट नकारात्मकता का है। इस नकारात्मकता से हमारा मनोबल कमजोर होता जा रहा है। हमारे चारों और तमाम तरह के सूचना स्रोत तरह तरह की सूचनाएं परोस रहे हैं। इनमें थोड़ी ही काम की होती हैं। जैसे आवश्यकता से अधिक भोजन हमें बीमार कर देता है, उसी तरह अनर्गल सूचनाएं भी हमारे संकट को गहरा कर देती हैं।

इस समय, जबकि कोविड-19 की दूसरी लहर चरम की ओर है, सब ओर एक सामूहिक-हताशा नजर आती है। टेलीविजन पर, अखबारों में, सोशल मीडिया पर हम हर पल कोविड-19 से ही जुड़ी बातें देख-सुन रहे हैं। हम हर पल कोविड-19 के बारे में कुछ  न कुछ  नया जानना चाहते हैं। यह अलग बात है कि हम नया कुछ भी नहीं जान पाते। जब कोविड-19 की शुरूआत हुई थी, तभी से हमें पता था कि यह एक नई बला है, हमें यह भी पता था कि यह बला इतनी आसानी से टलने वाली नहीं, जब पहली लहर आई थी तब हमें पता था कि दूसरी लहर भी आएगी, और भी बहुत सारी बातें...। इन दिनों हमें जो सूचनाएं मिल रही हैं, उनमें इन्हीं की पुनर्रावृत्ति हो रही है। हम जिन बातों को जानते थे, उन्हें ही घटित होता देखकर निराश हो रहे हैं। सामूहिक हताशा घनी होती जा रही है।

तो क्या इस समय सब कुछ  बुरा ही बुरा घटित हो रहा है। जी नहीं, बहुत कुछ अच्छा भी हो रहा है। हर रोज लाखों लोग कोरोना को परास्त कर रहे हैं, हर रोज लाखों लोगों का वैक्सीनेशन हो रहा है, कोरोना के खिलाफ लड़ाई के लिए हर रोज संसाधनों का विस्तार हो रहा है, हर रोज लाखों योद्धा मैदान पर उतरकर कोविड से उपजी परिस्थितियों को आसान करने के लिए उसका मुकाबला कर रहे हैं। ये पौष्टिक-सूचनाएं हम तक उतनी तादाद में नहीं पहुंच पातीं, जितनी कि नकारात्मक-सूचनाएं। देखना यह होगा कि हम दिनभर में किन-किन माध्यमों से कितनी सूचनाएं ग्रहण कर रहे हैं। उन माध्यमों का चरित्र कैसा है। वे एक माध्यम होने के नाते अपनी नैतिकता को लेकर कितने सजग हैं। उनका उद्देश्य क्या है।

जो सूचनाएं हम तक पहुंचती हैं, उसी से हमारी मनोदशा तय होती है। हमारे मनोबल की मजबूती या कमजोरी तय होती है। मन और तन ये दोनों जुड़े हुए विषय हैं। मन अच्छा होगा तो तन अच्छा होगा, तन अच्छा होगा तो मन भी अच्छा होगा। कोविड-19 के खिलाफ सबसे बड़ा हथियार इम्युनिटी लेबल ही है, हमारे मन का अच्छा या बुरा होना भी हमारी इम्युनिटी तय करता है। कौन नहीं चाहेगा कि उसकी इम्युनिटी अच्छी हो।

यह संभव नहीं है कि हम तमाम सूचना माध्यमों से अचानक दूर हो जाएं अथवा उनमें आ रही नकारात्मक सूचनाओं को छान सकें, लेकिन यह अवश्य संभव है कि हम नकारात्मक सूचनाओं को स्वयं तक पहुंचने से रोकें और सकारात्मक चीजों को अपने वातावरण में ज्यादा स्थान थें। ज्यादातर शहरों में लॉकडाउन या लॉकडाउन जैसे हालात हैं। ज्यादातर लोगों का ज्यादातर समय घरों पर ही बीत रहा है। क्यों न हर सुबह की शुरूआत एक बढ़िया भजन, एक बढ़िया संगीत से की जाए। क्यों न अपने प्रिय गायकों के गाये गीत कतार से सुन लिए जाएं, क्यों न वह किताब पढ़ ही ली जाए जो न जाने कब से हमने अलमारी में सजा रखी है, क्यों न बच्चों के साथ कैरम खेल लिया जाए, क्यों न रसोई में कुछ नया सीखा जाए, क्यों न घर की दीवारों और दरवाजों को खुद ही चमका लिया जाए, क्यों न गमलों को थोड़ा व्यवस्थित कर लिया जाए, क्यों न कुछ  नए बीज डाल दिए जाएं, क्यों न छत पर उतरे किसी नए परिंदे को निहारा जाए, उस पर एक कविता ही लिख ली जाए । जब हम कुछ ऐसा कर रहे होंगे, तब भी कोविड के खिलाफ जंग उतनी ही शिद्दत के साथ लड़ी जा रही होगी, लेकिन तब उसमें ताकत नई  होगी। जीत ज्यादा करीब होगी।

रात भर का है मेहमान अंधेरा,
किस के रोके रूका है सवेरा।
रात जितनी भी संगीन होगी,
सुबह उतनी ही रंगीन होगी।

18-04-2021
अधिकारियों ने कराया वैक्सीनेशन, कहा- डरें नहीं, सुरक्षित है टीका

धमतरी। जिले के जनप्रतिनिधि, आमजनता के अलावा अधिकारी भी बढ़-चढ़कर टीकाकरण करवा रहे हैं। इसी क्रम में रविवार को लीड बैंक के जिला प्रबंधक प्रबीर कुमार रॉय तथा जिला शिक्षा अधिकारी डॉ. रजनी नेल्सन ने कोविशील्ड के दूसरे डोज का टीका लगवाया। प्रबीर कुमार रॉय ने जिला अस्पताल के पास स्थित केन्द्र में तथा डॉ. रजनी नेल्सन ने डॉ. शोभाराम देवांगन स्कूल में स्थापित टीकाकरण केन्द्र में जाकर वैक्सीनेशन कराया। उन्होंने कहा कि कोविड-19 वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए सभी पात्र लोगों को टीका अवश्य लगवाना चाहिए। इसमें डरने वाली कोई बात नहीं है, बल्कि यह बेहद सुरक्षित और सामान्य टीके की तरह है। अधिकारियों ने कहा कि वैश्विक महामारी का रूप ले चुके कोरोना वायरस से बचने का एकमात्र विकल्प वैक्सिनेशन है। इसलिए लोगों को टीकाकरण के लिए बिना किसी भय, झिझक के आगे आना चाहिए। जिले के स्थापित किए गए टीकाकरण केन्द्रों में ग्रामीण स्वयं सेंटर पहुंचकर टीकाकरण करवा रहे हैं। ज्यादातर गांवों में ग्रामीण कतार लगाकर वैक्सीनेशन के लिए अपनी बारी का इंतजार करते नजर आ रहे हैं। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. डी.के. तुरे ने बताया कि वृहत् टीकाकरण तथा आमजनता की सुविधा को ध्यान में रखते हुए जिला अस्पताल सहित जिले के चारों ब्लॉक में कुल 124 टीकाकरण केन्द्र स्थापित किए गए हैं। 

18-04-2021
इस शहर में शादियों में नहीं निकलेगी बारात, प्रशासन ने लगाया बैंड-बाजा पर बैन

इंदौर। वैवाहिक मुहूर्तों का सोमवार से शुरू होने वाले हफ्ते से प्रारंभ होने जा रहा है। लेकिन महामारी के घातक प्रकोप के कारण यहां प्रशासन ने फिलहाल विवाह समारोहों को मंजूरी देने से इनकार कर दिया है। नतीजतन सैकड़ों शादियां टल गई हैं और लोगों की बैंड-बाजा-बारात की योजना धरी की धरी रह गई है। जिलाधिकारी मनीष सिंह ने रविवार को को बताया, कोविड-19 के प्रकोप को देखते हुए हम अभी जिले में शादी समारोहों को अनुमति नहीं दे सकते। हमें आम लोगों की सेहत की चिंता है। गौरतलब है कि महामारी की ऊंची संक्रमण दर के मद्देनजर प्रशासन ने शनिवार को ही फैसला किया कि इंदौर के नगरीय क्षेत्रों में 12 अप्रैल से जारी कोरोना कर्फ्यू (आंशिक लॉकडाउन) 23 अप्रैल तक बरकरार रहेगा। इस बीच, इंदौर होटलियर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष सुमित सूरी ने बताया, अप्रैल और मई में स्थानीय होटलों तथा वैवाहिक हॉलों में करीब 1,500 शादियों की बुकिंग थी। लेकिन महामारी के प्रकोप के चलते लोगों ने अधिकांश बुकिंग निरस्त कर दी हैं। उन्होंने मोटे अनुमान के हवाले से बताया कि ये शादियां टलने से स्थानीय होटल उद्योग को कम से कम 200 करोड़ रुपये का नुकसान होगा। गौरतलब है कि इंदौर, सूबे में कोविड-19 से सबसे ज्यादा प्रभावित जिला है जहां महामारी की दूसरी लहर के घातक प्रकोप के बीच खासकर रेमडेसिविर दवा तथा मेडिकल ऑक्सीजन की किल्लत बनी हुई है। इसके साथ ही, मरीजों को अस्पतालों में एक अदद बिस्तर हासिल करने के लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ रही है। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि इंदौर जिले में 24 मार्च 2020 से लेकर अब तक महामारी के कुल 89,317 मरीज मिले हैं। इनमें से 1,047 लोगों की इलाज के दौरान मौत हो चुकी है।

18-04-2021
19 से 26 अप्रैल तक कांकेर जिले में लगा लॉकडाउन, आवश्यक सेवाओं को रहेगी छूट

कांकेर। कोरोना के बढ़ते संक्रमण के कारण जिले में 19 से 26 अप्रैल तक लॉकडाउन का आदेश कलेक्टर ने जारी किया है। विदित हो कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रकरणों को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है, ताकि जिले में कोरोना संक्रमण के प्रभाव से लोग घर में रहकर सुरक्षित रह सके। यह आदेश रविवार को जारी किया गया है। इसमें 19 से 26 अप्रैल तक जिले के अभी सीमा सील रहेगी। अतिआवश्यक वस्तुओं, सेवाओं को छोड़ सभी के लिए यह तत्काल प्रभाव से लागू व पालन किया जाएगा। इस संबंध में कलेक्टर चन्दन कुमार ने कहा कि परिस्थितियों को देखते हुए व कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों पर काबू पाने व जिले के लोगों की सुरक्षा के लिए यह निर्णय लिया गया है। जरा भी लक्षण आने पर घबराने की आवश्यकता नहीं है। तत्काल कोरोना टेस्ट करवाएं व खुद भी सुरक्षित रहे और परिवार व अपने आसपास के लोगों को भी नियमों का पालन कर सुरक्षित रहने की बात कही है।

 

18-04-2021
कोरोना के कारण टली जेईई मेन की परीक्षा, केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने की घोषणा

नई दिल्ली। कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए आईआईटी-जेईई की अप्रैल सेशन की परीक्षा टाल दी गई है। ये परीक्षाएं 27, 28 और 30 अप्रैल को होने वाली थी। इनके लिए एडमिट कार्ड भी जल्द जारी किए जाने थे। बहरहाल, अब परीक्षा के लिए संशोधित तारीखों की घोषणा बाद में और परीक्षा से कम से कम 15 दिन पहले की जाएगी। दूसरी ओर उत्तराखंड में भी 10वीं बोर्ड की परीक्षाओं को रद्द कर दिया गया है। साथ ही 12वीं की परीक्षा भी टाली गई है। केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने जेईई परीक्षा टाले जाने के संबंध में ट्वीट कर कहा, कोरोना की मौजूदा स्थिति को देखते हुए मैंने जेईई मेन 2021 (अप्रैल) परीक्षा को स्थगित करने का फैसला लिया है। मैं दोहराना चाहता हूं कि छात्रों की सुरक्षा और उनका करियर शिक्षा मंत्रालय और मेरी पहली प्राथमिकता है। बता दें कि इस साल दो सेशन के एग्जाम एजेंसी की ओर से लिए जा चुके हैं। पहला सेशन 23-26 फरवरी 2021 के बीच आयोजित किया गया था। दूसरा सेशन 16-18 मार्च 2021 तक आयोजित किया गया था। इससे पहले पिछले साल भी कोरोना का असर जेईई परीक्षा और दूसरे एंट्रेस परीक्षाओं पर पड़ा था। पिछले साल जेईई मेन, जेईई एडवांस्ड और नीट की परीक्षाएं सितंबर में आयोजित की गई थी।

18-04-2021
बीएसपी के ट्रैचिंग ग्राउड में लगी आग, क्षेत्र में फैली सनसनी

भिलाई। बीएसपी के ट्रैचिंग ग्राउड में आग लगने की खबर सामने आ रही है। यह ग्राउड मंत्रीबाग के कुछ दूरी पर है और 5 एकड़ में फैला हुआ है। आग लगने के कारण चोरो ओर धुंआ फैल गया है। इससे क्षेत्र में सनसनी फैल गई है। दमकल विभाग के कर्मचारी मौके पर पहुंचे हैं और आग पर काबू पाने की कोशिश में लगे हैं। आग लगने का कारण पता नहीं चल पाया है। 

 

Please Wait... News Loading