GLIBS

25-10-2020
4 इनामी माओवादी सहित 32 नक्सलियों ने किया आत्मसमर्पण

 दंतेवाड़ा। जिले में चलाए जा रहे नक्सल विरोधी अभियान के तहत 25 अक्टूबर को लोन वर्राटू योजना से प्रभावित होकर बारसूर, आमदई घाटी, हांदावाड़ा क्षेत्र के अंतर्गत सक्रिय 4 इनामी माओवादी सहित 32 नक्सलियों ने आत्मसमर्पण किया। इसमें ग्राम बाकेली से 19, उदेनार से 3, कोरकोट्टी से 4, तुमरीगुण्डा से 3, मटासी से 3 ने लोन वर्राटू योजना से प्रभावित होकर एवं माओवादियों के खोखले विचारधारा से तंग आकर समाज के मुख्यधारा में जुड़ने के उद्देश्य से पुलिस अधीक्षक दंतेवाड़ा डॉ.अभिषेक पल्लव, 195वीं वाहिनी सीआरपीएफ के कमांडेंड वी.पी. सिंह, 2 lC सौरभ कुमार, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक दंतेवाड़ा यू उदय किरण(भापुसे) एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक दंतेवाड़ा राजेन्द्र जायसवाल के समक्ष थाना बारसूर जिला दक्षिण बस्तर दंतेवाड़ा में आत्मसर्पण किया।

छत्तीसगढ़ शासन के पुनर्वास नीति के तहत आत्मसमर्पण पश्चात समाज के मुख्यधारा में जुड़ने के बाद आत्मसमर्पित माओवादियों को 10-10 हजार रुपए प्रोत्साहन राशि दी गई। आत्मसमर्पित नक्सली अतिसंवेदनशील ग्राम के निवासी हैं, नक्सली खतरे को देखते हुए गोपनीयता बनाये रखने के लिएनाम उजागर नहीं किए गए है।

 

25-10-2020
विजयदशमी पर की गई रक्षित केंद्र में अस्त्र-शस्त्र की पूजा, पुलिस अधीक्षक रहे उपस्थित  

धमतरी। विजयदशमी पर रक्षित केंद्र धमतरी में अस्त्र-शस्त्र की पूजा की गई। इसमें पुलिस अधीक्षक बीपी राजभानु ने रविवार को रक्षित केंद्र में अन्य पुलिस अधिकारियों एवं जवानों के साथ मिलकर अस्त्र-शस्त्र की पूजा-अर्चना की। पुलिस दशहरा पर शस्त्र पूजा निभाती आ रही है। इस दौरान पुलिस अधीक्षक बीपी राजभानु ने आज रक्षित केंद्र धमतरी में अन्य पुलिस अधिकारियों एवं जवानों के साथ मिलकर अस्त्र-शस्त्र की पूजा की। उसके बाद सभी अधिकारी कर्मचारियों को विजयदशमी की शुभकामनाएं दी गई। इस दौरान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मनीषा ठाकुर रावटे, उप पुलिस अधीक्षक मुख्यालय अरुण जोशी, उप पुलिस अधीक्षक अजाक सारिका वैद्य, रक्षित निरीक्षक के देव राजू, थाना प्रभारी- कोतवाली, अर्जुनी, रुद्री एवं अन्य अधिकारी कर्मचारी उपस्थित रहे।

25-10-2020
24 पंचायतों में बनेगी देवगुड़ी, संसदीय सचिव जारी की पहली किश्त

रायपुर।  जगदलपुर विधानसभा क्षेत्र के 24 पंचायतों में देवगुडी निर्माण एवं जीर्णोद्धार के लिए जगदलपुर विधायक एवं संसदीय सचिव रेखचंद जैन ने स्वीकृत 1-1 लाख की राशि में से प्रथम किश्त की राशि जारी की। इसमें आज 40 हजार रुपए पंचायतों को दिए गए। संसदीय सचिव रेखचंद जैन ने कहा कि वर्तमान कोरोना महामारी के समय में विपरीत परिस्थितियों में भी बस्तर की संस्कृति एवं सभ्यता के संवर्धन के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल कृत संकल्पित हैं। आदिवासी संस्कृति के प्रमुख केंद्र ग्राम देवगुडी के जीर्णोद्धार के लिए एक एक लाख रुपए स्वीकृत किया गया है। इसमें से प्रथम किस्त की राशि 40 हजार आज प्रदान किया जा रहा है। इस अवसर पर विधायक कार्यालय में  नगरनार ब्लाक अध्यक्ष लैखन बघेल,जनपद सदस्य जिशान कुरैशी, नगरनार सरपंच विरेन्द्र साहनी,विधि विभाग के जिलाध्यक्ष अवधेश कुमार झा, विजय नाग सहित क्षेत्र के सरपंच, उप सरपंच, पंच एवं सिरहा गुनिया पुजारी पटेल उपस्थित रहे।

सुभाष रतनपाल की रिपोर्ट

 

25-10-2020
दशहरा पर पांच राउंड हवाई फायर कर एसएसपी ने की शस्त्र पूजा

रायपुर। दशहरा पर शस्त्र पूजा की परंपरा है। हर साल की तरह पुलिस लाइन में शस्त्र पूजा की गई। पुलिस अधिकारियों की मौजूदगी में सभी शस्त्रों की पूजा की गई। एसएसपी ने 5 बार हवाई फायर करके पुरानी परंपरा का निर्वहन किया। इस मौके पर एसएसपी अजय यादव समेत अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे।

25-10-2020
27 अक्टूबर से शुरू हो रहे भारत सरकार के सतर्कता जागरूक अभियान का इस बार विषय होगा सतर्क भारत समृद्ध भारत

रायपुर/सूरजपुर। भारत सरकार, केन्द्रीय सतर्कता आयोग, नई दिल्ली के मार्गदर्शन में 27 अक्टूबर से 2 नवम्बर  तक सर्तकता जागरूकता सप्ताह मनाया जाएगा। इसका विषय सर्तक भारत समृद्ध भारत है। इस संबंध में जिले के समस्त जिला कार्यालय प्रमुखों को सर्तकता जागरूकता सप्ताह के प्रथम दिवस अर्थात् 27 अक्टूबर को सुबह 11:00 बजे कोविड-19 महामारी के संक्रमण के संबंध में भारत सरकार द्वारा जारी दिशा निर्देश का पालन करते हुए आयोजन किए जाने कहा है।

25-10-2020
पूर्व विधायक राजमाता शशिप्रभा देवी के निधन पर दुख प्रकट किया राज्यपाल ने 

रायपुर। राज्यपाल अनुसुईया उइके ने पूर्व विधायक और कवर्धा रियासत की राजमाता शशिप्रभा देवी के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है। राज्यपाल ने उनकी आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है और उनके शोक संतप्त परिजनों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है।

25-10-2020
Breaking : डोंगरगढ़ मां बम्लेश्वरी मंदिर के पट दर्शनार्थियों के लिए खुले, समय तय और रोप वे भी शुरू

डोंगरगढ़। राजनांदगांव जिले के डोंगरगढ़ में विश्व प्रसिद्ध मां बम्लेश्वरी मंदिर के पट रविवार से आम श्रद्धालुओं के लिए खुल गए हैं। दोपहर दो बजे से दर्शनार्थियों के मंदिर प्रवेश में लगी रोक को हटा दिया गया है। अब दर्शनार्थी माता के दर्शन सुबह 6 बजे से रात 10 बजे तक कर सकेंगे। दर्शनार्थियों के लिए रोप वे का संचालन भी शुरू किया है। सुबह 7 बजे से शाम 7 बजे तक रोप वे का संचालन किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए नवरात्र पर्व पर मंदिर में दर्शनार्थियों के प्रवेश पर प्रशासन ने रोक लगा दी थी।

25-10-2020
श्रीराम चौक का 20 लाख की लागत से होगा सौंदर्यीकरण, विधायक ने किया भूमिपूजन

भिलाई। महापौर व भिलाई नगर विधायक देवेंद्र यादव ने रविवार को विजयादशमी पर खुर्सीपार के क्षेत्रवासियों को बड़ी सौगात दी है। श्रीराम चौक (अंडा चौक) के सौंदर्यीकरण कार्य का भूमि पूजन कर कार्य की शुरुआत की। लंबे समय से चौक के सौंदर्यीकरण की बाट जोह रहे लोगों को अब यहां पर गुजरने से अलग ही नजारा देखने को मिलेगा। यह चौक श्रीराम मय नजर आएगा। महापौर ने भूमि पूजन के दौरान कहा कि अधर्म पर धर्म की जीत, अन्याय पर न्याय की विजय का यह विजयादशमी पर्व भगवान श्रीराम की गौरव गाथा और उनके आदर्शों पर चलने की सीख देता है। उन्होंने भिलाई सहित प्रदेश वासियों को दशहरा पर्व की बधाई दी।

इस पर्व को यादगार बनाने के लिए अब श्रीराम चौक का कायाकल्प होगा। श्रीराम की धनुषधारी म्यूरल बनाई जाएगी। विधायक यादव ने विधायक निधि से 20 लाख रुपए इस कार्य के लिए दिए हैं। भिलाई निगम क्षेत्र में विकास की तेज रफ्तार के साथ ही अब यह कार्य भी सम्मिलित हो गया है। क्षेत्रवासियों की काफी वर्षों पुरानी मांग को महापौर ने कार्य की शुरुआत करके पूरी कर दी। विधायक ने अधिकारियों से कहा है कि अब कार्य जल्द ही प्रारंभ कर दें। जोन के अधिकारियों ने कहा कि कार्य आदेश जारी कर दिया गया है। जल्द कार्य प्रारंभ कर दिया जाएगा। श्रीराम चौक के दोनों तरफ के खाली स्थानों पर सौंदर्यीकरण कार्य किया जाएगा। सड़क हाई मास्क की जगमग लाइटों से रोशन होगा। दोनों ओर हरियाली होगी।

लैंडस्केप कार्य के साथ ही आकर्षक पौधे लगाए जाएंगे। दीवारों पर भित्ति चित्र की कलाकृति उकेरी जाएगी। पाथवे निर्माण किया जाएगा। चौक के समीप ही चारों तरफ हरियाली की चादर से ढकी हुई फ्लडलाइट युक्त ग्राउंड भी तैयार किया है, जिसने चौक की तस्वीर बदल दी है। अब श्री राम चौक का सौंदर्यीकरण होने से यह चौक एक अलग ही स्वरुप में नजर आएगा। भूमि पूजन के दौरान जोन आयुक्त, जोन क्रमांक 4 अमिताभ शर्मा, कार्यपालन अभियंता संजय बागड़े, सहायक अभियंता अखिलेश चंद्राकर, उप अभियंता नितेश मेश्राम, चंद्रकांत साहू, डी कॉम राजू, एल्डरमैन बबीता भैसारे, डी नागमणि, मुरलीधर, अरुण राय, श्रीनिवास गोस्वामी, रामा राव, जन्मेजय चौधरी, विवेक पाल, मुन्नी सिंह, पवन कोसले, मार्तंड सिंह मनहर एवं काली प्रसाद मौजूद थे।

25-10-2020
सर्व आदिवासी समाज ने थाने के सामने दिया धरना, तीन दिन के भीतर मांग पूरी नहीं होने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी 

कोंडागांव। सर्व आदिवासी समाज ने थानेदार और दो सहायक उपनिरीक्षक को सेवा से पृथक कर उन पर आपराधिक मामला दर्ज करने की मांग को लेकर धरना प्रदर्शन किया। सर्व आदिवासी समाज की अगुवाई में विश्रामपुरी में इकट्ठा होकर रैली निकाली गई। पुलिस थाना के सामने धरना प्रदर्शन करते हुए चक्का जाम किया गया। प्रदर्शनकारियों को पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी मनाते रहे पर अधिकारियों की मनमनोवल्ल का कोई असर नहीं हुआ। बीते शाम 10 सूत्रीय मांग पत्र सौंपकर और तीन दिन के भीतर मांग पूरा न होने पर फिर से धरना प्रदर्शन और आंदोलन करने की चेतावनी देकर आदिवासी समाज ने धरना प्रदर्शन स्थगित किया। 

दरअसल थानेदार भापेंद कुमार व दो अन्य सहायक उपनिरीक्षक पर ग्राम मछली निवासी एक सेवानिवृत्त शिक्षक के घर बिना वारंट देर शाम घुसकर अपशब्दों का उपयोग करने व थाना ले जाकर उनसे एक लाख रुपए ऐंठ लेने का आरोप है। इसकी जानकारी समाज प्रमुखों को मिलने पर दो दिन पहले ही कलेक्टर और एसपी के नाम तहसीलदार को ज्ञापन दिया था। मांग की गई थी कि आरोपी पुलिस अधिकारियों को 48 घंटे के भीतर बर्खास्त करके उन पर ऐक्ट्रो सिटी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया जाए, नहीं तो धरना देकर चक्का जाम किया जाएगा। ज्ञापन में यह भी उल्लेखित किया था कि यदि उनपर कोई कार्रवाई निर्धारित समय पर नहीं की जाती है तो उग्र आंदोलन किया जाएगा। इसके बाद ही बड़ी संख्या में समाज के लोग इकट्ठा हुए। जुलूस निकालकर बस स्टैण्ड तक जाकर पुलिस थाना के सामने सड़क पर बैठ गए। बड़ी संख्या में सड़क पर लोगों के बैठ जाने से आवागमन स्वत: बंद हो गया। पुलिस अधिकारी दल बल सहित सतर्क बने रहे और प्रदर्शन कारियों को समझा बुझाकर शांत कर धरना प्रदर्शन समाप्त कराने की कोशिश में जुटे रहे।

25-10-2020
नवरात्रि में कन्याभोज के लिए हलवा पूरी के साथ बनाए प्रसाद वाले सूखे काले चने प्रोटीन फाइबर से भरपूर और स्वादिष्ट भी

रायपुर। नवमी का पर्व युवा लड़कियों की 'कन्या पूजा' के साथ मनाया जाता है, जिन्हें देवी के नौ अवतार के रूप में पूजा जाता है। कन्या भोज के मौके पर ये सूजी के हलवे और पूरी के साथ प्रसाद वाले सूखे काले चने बनाए जाते हैं। बिना टमाटर-प्याज वाली इस सब्जी को भोग के रूप माता को प्रसाद भी चढ़ाया जाता है। सूखे काले चने खाने में बड़े स्वादिष्ट, प्रोटीन और फाइबर से भरपूर पौष्टिक होते हैं। 

ऐसे बनाए प्रसाद वाले सूखे काले चने :
-साफ पानी से काले चने दो से तीन बार धोएं और पानी में रातभर या कम से कम 4-5 घंटे के लिए भिगोकर रख दे। 
- फिर चने को उबाल ले, एक बड़ी कड़ाही में दो बड़े चम्मच तेल या घी डालें।
- इसमें जीरा डाल दे , जैसे ही यह चटकना बंद करें, वैसे ही अदरक और हरी मिर्च डाल दे। 
- अब इसमें धनिया पाउडर, हल्दी और लाल मिर्च डालें।
- अब चने इस मसाले में डालें और अच्छी तरह मिक्स कर लें। 
- करीब दो मिनट तक धीमी आंच पर इसे पकने दें। 
- इसके बाद अमचूर, चाट मसाला और गरम मसाला डालें और अच्छी तरह मिक्स करने के बाद कुछ देर धीमी आंच पर पकने के लिए छोड़ दें। 
- अगर हल्के नम चने बनाने हों तो 5 मिनट में गैस बंद कर दें। 
- एकदम सूखे चने बनाने के लिए गैस को मध्यम आंच पर रखें और चने अच्छी तरह सुखाए। 
- अब हरा धनिया डाल दे। लीजिए चने तैयार है।

25-10-2020
किस्मत के दरवाजे खुल जाते हैं दशहरे के दिन खंजन यानी नीलकंठ के दर्शन से

रायपुर। ‘विजयदशमी’ जिसे असत्य पर सत्य की जीत का प्रतीक कहा जाता है। दहशहरा के दिन खंजन, यानी नीलकंठ पक्षी के दर्शन करना बड़ा ही शुभ माना जाता है। दशहरे के दिन इसका दर्शन करना अपनी किस्मत के दरवाजे खोलने के समान है। अगर आज के दिन आपको कहीं भी नीलकंठ के दर्शन हो जाए तो उसे देखते हुए कहना चाहिए। दशहरे पर इसका दिखना आपके अच्छे समय की शुरुआत होने के संकेत जैसा है। भगवान राम ने इस पक्षी को देखने के बाद ही रावण को पराजित किया था। दशहरे पर नीलकंठ पक्षी के दर्शन होने से घर के धन-धान्य में वृद्धि होती है और फलदायी एवं शुभ कार्य घर में अनवरत्‌ होते रहते हैं। सुबह से लेकर शाम तक किसी वक्त नीलकंठ दिख जाए तो वह देखने वाले के लिए शुभ होता है। दशहरे पर नीलकंठ के दर्शन की परंपरा बरसों से जुड़ी है।

Please Wait... News Loading