GLIBS

छत्तीसगढ़ की बेटी पर खामोशी,कांग्रेस की यह मानसिकता निंदनीय : शालिनी राजपूत

रविशंकर शर्मा  | 01 Oct , 2020 08:56 PM
छत्तीसगढ़ की बेटी पर खामोशी,कांग्रेस की यह मानसिकता निंदनीय : शालिनी राजपूत

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष शालिनी राजपूत ने कांग्रेस नेताओं के दोहरे रवैये पर आक्रोश व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि एक तरफ कांग्रेस के नेता हाथरस पर शोर मचा रहे हैं, राजनीतिकरण कर रहे हैं। न्याय की बात करनी भी चाहिए,  हम भी  वहां की घटना से आहत हैं और वहां की सरकार न्याय कर रही है। कांगेस का बेटी-बेटी में फर्क कर न्याय की मांग करना कहां तक उचित हैं? शालिनी ने कहा कि जिस प्रकार से कांग्रेस के नेता छत्तीसगढ़ की बेटियों के साथ हुए घिनौने अपराध पर खामोश हैं, वह दुखद है। बेटी-बेटी में फर्क कर दुष्कर्म जैसे घिनौने अपराध पर कांग्रेस के केंद्रीय नेताओं से लेकर प्रदेश स्तर के नेता देशभर में भेदभाव करते नजर आना शर्मनाक है। शालिनी राजपूत ने कहा कि कांग्रेस के बेटी-बेटी में भेदभाव करने वाले नेता राहुल गांधी और प्रियंका वाड्रा हाथरस पैदल मार्च पर निकले हैं,उन्हें छत्तीसगढ़ भी आना चाहिए। क्या उन्हें प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने नहीं बताया कि छत्तीसगढ़ के सरगुजा में एक 13 साल की मासूम नाबालिग मूकबधिर आदिवासी बच्ची के साथ दुष्कर्म हुआ।

समाज के ठेकेदारों ने मामले को रफा-दफा कर उसका गर्भपात करा दिया। छत्तीसगढ़ के मुंगेली जिले के नावगांव घुटेरा  में 14 वर्षीय किशोरी के साथ दुष्कर्म का प्रयास किया गया। जब किशोरी ने इसका विरोध किया तो युवक ने उसे जिंदा जलाकर उसकी हत्या कर दी। छत्तीसगढ़ के लखनपुर में एक बेटी के साथ दुष्कर्म हुआ। घटना के 8 दिन बाद उसे होश आया। बिलासपुर के उसलापुर में 10 साल की बेटी की पानी में तैरती लाश मिली। शालिनी ने कहा कि ये सभी देश की बेटी हैं। दुष्कर्म, हत्या की हर घटना मानवता पर कलंक है। सभी बेटियों को न्याय मिलना चाहिए फिर वह कहीं की भी घटना हो। शालिनी ने कहा कि कांग्रेस के नेता बेटियों के लिए न्याय तभी मांगते हैं, पैदल मार्च तभी करते हैं, वीडियो जारी तभी करते हैं या यूं कहें कि शोर तभी मचाते हैं जब बेटी गैर कांग्रेस शासित राज्य से हो। तभी छत्तीसगढ़ की तमाम घटनाओं पर छत्तीसगढ़ कांग्रेस से लेकर राष्ट्रीय कांग्रेस के नेता मौन हैं। उन्होंने कहा कि यह शर्मनाक है कि जिस कांग्रेस की कमान लंबे समय से एक महिला के हाथ में है, वह कांग्रेस सिर्फ सियासत के लिए ऐसा भेदभाव करती है। ऐसी सियासत पर शर्म आनी चाहिए।  सोनिया गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा और राहुल गांधी छत्तीसगढ़ आएं और मेरे साथ उन बेटियों के परिजनों से मिलें।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.