GLIBS

रेणु जोगी बहू ऋचा के साथ पहुंची राजभवन,राज्यपाल से किए शिकायत

रविशंकर शर्मा  | 08 Oct , 2020 11:14 PM
रेणु जोगी बहू ऋचा के साथ पहुंची राजभवन,राज्यपाल से किए शिकायत

रायपुर। रेणु जोगी और ऋचा जोगी ने गुरुवार को राज्यपाल से मुलाकात कर जाति मामले में शिकायत की है। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के अध्यक्ष अमित जोगी की पत्नी डॉ. ऋचा जोगी ने उनकी जाति पर छिड़े विवाद पर कहा है कि जाति प्रमाण पत्र बनवाते समय जो पता उन्होंने दिया था, न ही उस पते पर और न ही उनके आधार कार्ड में दर्ज पते पर मुंगेली कलेक्टर ने कोई नोटिस भेजा है। उनके जाति प्रमाण पत्र के विरुद्ध की गई शिकायत की प्रति भी उन्हें उपलब्ध नहीं करवाई गई है। डॉ.ऋचा जोगी ने कहा है कि मुंगेली कलेक्टर की ओर से जारी किए गए तथाकथित नोटिस की सूचना उन्हें विभिन्न समाचार पत्रों से मिली है। ऐसा प्रतीत होता है कि राज्य सरकार की मनमर्जी के मुताबिक द्वेषपूर्ण तरीके से उन्हें अंधेरे में रख के उनके विरुद्ध कार्रवाई की जा रही है। डॉ.ऋचा जोगी ने मुंगेली कलेक्टर से मांग की है कि उन्हें यह तथाकथित नोटिस और उनके जाति प्रमाण पत्र के विरुद्ध की गई शिकायत की प्रति उपलब्ध करवाई जाए। जिसका अध्यन कर वे अपना पक्ष रख सकें। 24 सितंबर को जारी किए गए नोटिफिकेशन के नियम 14 (1) के तहत राज्य सरकार को सात सदस्यीय जिला स्तरीय प्रमाणपत्र छानबीन समिति का गठन करना है। इस समिति का गठन अभी तक नहीं हुआ है। 24 सितंबर को जारी किये गए संशोधन के नियम 22 (1) के तहत फॉर्म 6 इ के पैराग्राफ 3 के तहत "क्यों न आपका जाति प्रमाणपत्र रद्द कर दिया जाए" जैसा नोटिस देने का अधिकार केवल हाई पावर प्रमाणपत्र स्क्रूटिनी कमिटी को ही है। इसलिए जिला स्तरीय प्रमाणपत्र छानबीन समिति और उसके द्वारा जारी किया गया तथाकथित नोटिस दोनों ही गैर कानूनी हैं।

डॉ.ऋचा जोगी ने कहा कि इन सबके बावजूद वे उन सभी दस्तावेजों की प्रति जिला छानबीन समिति को भेज रही हैं, जिन दस्तावेजों के तहत उन्हें कांग्रेस की इसी राज्य सरकार की ओर से यह जाति प्रमाण पत्र जारी हुआ था। इन दस्तावेजों में परिवार वालों के जाति प्रमाण पत्र जिनके द्वारा उन्होंने सरकारी नौकरी की है, भूमि राजस्व रिकॉर्ड, वंश वृक्ष आदि शामिल हैं। यदि यह जाति प्रमाण पत्र गलत जारी हुआ है तो यह राज्य सरकार की पूर्ण रूप से अक्षमता को दर्शाता है। डॉ.ऋचा जोगी ने कहा कि चूंकि हाल ही में उन्होंने एक पुत्र को जन्म दिया है, जिन्हें ब्रेस्ट फीड और माता की निरंतर देखभाल की जरुरत है। साथ ही कोरोना महामारी को देखते हुए वे पूर्ण रूप से होम आइसोलेशन में हैं। इस वजह से वे 8 अक्टूबर को व्यक्तिगत रूप से मुंगेली में छानबीन समिति के समक्ष मौजूद नहीं हो पा रही हैं। डॉ. ऋचा जोगी ने कहा कि नोटिस और अन्य दस्तावेज मिलने के बाद जब भी छानबीन समिति उन्हें बुलाएगी वे सुनवाई में उपस्थित हो जाएंगी।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.