GLIBS

वेंटिलेटर,ऑक्सीजन सहित 10 हजार बेड की तत्काल व्यवस्था रायपुर में हो : भाजपा

रविशंकर शर्मा  | 07 Apr , 2021 10:25 PM
वेंटिलेटर,ऑक्सीजन सहित 10 हजार बेड की तत्काल व्यवस्था रायपुर में हो : भाजपा

रायपुर। राजधानी में कोरोना के भयावह स्थिति पर बुधवार को भाजपा नेताओं ने कलेक्टर रायपुर से चर्चा की। रायपुर में हुए विस्फोटक स्थिति पर अपनी चिंता व्यक्त करते हुए सुझाव भी दिया। प्रशासन की ओर से पर्याप्त समय मिलने पर भी वेंटीलेटर, ऑक्सीजन, बेड की व्यवस्था नहीं हो पाने पर नाराजगी भी व्यक्त की। कहा कि राजधानी रायपुर को 10 हजार बेड की तत्काल आवश्यकता है। इस दिशा में काम किया जाना चाहिए। विधायक एवं पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल, सांसद सुनील सोनी, जिलाध्यक्ष व पूर्व विधायक श्रीचंद सुंदरानी, महामंत्री रमेश ठाकुर और नगर पालिक निगम रायपुर की नेता प्रतिपक्ष मीनल चौबे ने आज कलेक्टर से कोरोना के व्यवस्थाओं को लेकर चर्चा की। उन्होंने पुराने व्यवस्थाओं के तहत पूर्व में प्रारंभ हुए सभी 5 क्वारांटाइन सेंटर को तत्काल प्रारंभ करने कहा। प्रशासन ने आज तक इन सेंटरों को चालू करने के लिए कोई ठोस कार्यवाही नहीं की है। 5 सेंटर पहले चरण में खुला था और आज भीषण स्थिति है तब एक सेंटर आधा अधूरा चालू किया जा रहा है।
भाजपा नेताओं ने कहा कि कोविड की गंभीर स्थिति को देखते हुए केन्द्र सरकार ने रायपुर में 230 वेंटिलेटर उपलब्ध कराया है। पर आज महीनों बाद भी इन वेंटिलेटर का उपयोग प्रारंभ नहीं किया जा सका है, वेंटिलेटर आकार डिब्बा में बंद पड़ा हुआ है। प्रदेश में मरीज वेंटिलेटर के आभाव में दम तोड़ रहे हैं। जो दुर्भाग्यपूर्ण है। प्रतिनिधिमंडल ने कहा पूरे शहर में लोग इलाज के लिए भटक रहे हैं। मरीजों को बेड, ऑक्सीजन व वेंटिलेटर उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। मौतों का आंकड़ा हजारों में हो गया है, यह चिंतनीय स्थिति है। प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि शहर में स्थित कॉलेजों, स्कूलों के छात्रावासों, सामाजिक एवं सामुदायिक भवनों धर्मशालाओं को तत्काल कोविड केयर सेंटर के रूप में प्रारंभ करें। वहीं जैनम, लालपुर हॉस्पीटल मारूति मंगलम,माहेश्वरी भवन, पंजाब केसरी भवन में तत्काल ऑक्सीजन की व्यवस्था कर इन सभी सेंटरों को ऑक्सीजन के जरूरतमंद कोविड मरीजों के लिए तैयार करें। भाजपा नेताओं ने कहा कि अभी रायपुर में 10 हजार बेड की आवश्यकता है और प्रशासन के पास 1 अतिरिक्त बेड नहीं है। साल भर में हम तैयारी ही नहीं कर पाए। कमजोर लोगों-गरीब लोगों को जिनके पास पर्याप्त जगह नहीं है उसे घर की बजाय क्वारांटाइन सेंटर में रोका जाएं। इससे लोगो में दशहत कम हो सके।
भाजपा नेताओं ने शहर के 50 व 100 बेड के भी सभी अस्पतलों में कोविड के मरीजों के इलाज की व्यस्था करवाने कहा। इससे ज्यादा से ज्यादा मरीजों को बिस्तर व इलाज उपलब्ध हो सकें। वहीं पूर्व के भांति शहर के बड़े होटलों को कोविड सेंटर के रूप में हॉस्पिटलों के देखरेख में परिवर्तन कर देना चाहिए। ताकि अस्पतालों में आम लोगों को जगह मिल सके। जो लोग इन सेंटरों में जाकर इलाज करा सकते हैं वे वहां भी जाकर इलाज करवा सकें। भाजपा नेताओं ने कलेक्टर से कहा कि आपदा राहत, डीएमएफ स्मार्ट सिटी की योजनाओं की राशि से तत्काल इन सेंटरों से साफ सफाई, भोजन, दवा व स्टॉफ की व्यवस्था कर प्रांरभ करें। अगर प्रशासन को उनकी भी कोई जरूरत महसूस होती है और आवश्यकता है तो वे सभी भी हरसंभव सहयोग के लिए तैयार है।

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.