GLIBS

कांकेर घटना की जांच करेगी पत्रकारों की उच्च स्तरीय समिति,प्रेसक्लब रायपुर की मांग पर मुख्यमंत्री ने दिए निर्देश

रविशंकर शर्मा  | 01 Oct , 2020 09:58 PM
कांकेर घटना की जांच करेगी पत्रकारों की उच्च स्तरीय समिति,प्रेसक्लब रायपुर की मांग पर मुख्यमंत्री ने दिए निर्देश

रायपुर। कांकेर में वरिष्ठ पत्रकार कमल शुक्ला के साथ हुई मारपीट की जांच पत्रकारों की उच्च स्तरीय समिति की ओर से की जाएगी। यह निर्देश गुरुवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रेस क्लब रायपुर के प्रतिनिधिमंडल से चर्चा के दौरान दिए। प्रेस क्लब रायपुर के अध्यक्ष दामू आम्बेडारे के नेतृत्व में पत्रकारों के एक प्रतिनिधिमंडल ने शाम को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से उनके निवास में मुलाकात की। प्रतिनिधि मंडल से चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने पत्रकारों से जुड़े सभी मामलों में संवेदनशीलता प्रकट की। उन्होंने कहा कि राज्य शासन पत्रकारों के हित संरक्षण के लिए कृत संकल्पित है। उन्हें जैसे ही इस घटना की जानकारी मिली, उन्होंने तत्काल दोषियों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कर कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए थे। मुख्यमंत्री बघेल ने यह भी बताया कि जांच उपरांत यदि आवश्यकता हुई तो भारतीय दण्ड संहिता की अन्य धाराएं जोड़ी जाएगी। चर्चा के दौरान पत्रकारों के हित में राज्य शासन के निर्णयों की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि विकासखंड स्तर पर पत्रकारों को अधिमान्यता देने, अधिमान्यता कोटे में वृद्धि, पत्रकार सम्मान निधि में राशि 5 हजार से बढ़ा कर 10 हजार प्रतिमाह करने का कार्य किया जा चुका है। पत्रकार सुरक्षा कानून निर्माण अंतिम चरण पर है। कानून के प्रारूप पर सुझाव आमंत्रित किए गए हैं। इसके बाद शीघ्र की इसे अंतिम रूप दे कर लागू किया जाएगा।

पत्रकार प्रतिनिधिमंडल ने राज्य शासन की ओर से पत्रकार हित में लिए गए निर्णयों की सराहना करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री स्वयं आगे बढ़ कर पत्रकारों की हर समस्या का निदान करने के लिए तत्पर हैं। कांकेर की घटना पर भी पत्रकारों से स्वयं आगे होकर चर्चा कर रहे हैं, ऐसी दशा में पत्रकारों की ओर से धरना प्रदर्शन किए जाने की आवश्यकता नहीं है। पत्रकार हित में सब मिलजुल कर उनकी समस्याओं के निराकरण के लिए प्रयास करना चाहिए। प्रतिनिधि मंडल ने पत्रकारों को कमल विहार में भवन निर्माण के लिए राज्य शासन की ओर से विशेष छूट दिए जाने का आग्रह किया। जिस पर मुख्यमंत्री ने सहानुभूतिपूर्वक विचार करने का आश्वासन दिया। इसी तरह प्रतिनिधिमंडल की ओर सेअधिमान्यता दिए जाने की आवेदन प्रक्रिया में आने वाली कठिनाईयों की ओर भी मुख्यमंत्री का ध्यानाकृष्ट किया। जिस पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने उन समस्याओं के त्वरित निराकरण के निर्देश आयुक्त जनसंपर्क तारन प्रकाश सिन्हा को दिए। प्रतिनिधिमंडल में पत्रकार शगुफ्ता सिरीन,संजय शुक्ला,अनिल द्विवेदी, जियाउल हसन, पंकज स्वामी,मनोज नायक,दीपक पाण्डेय शामिल थे।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.