GLIBS
21-02-2020
युवा भविष्य को बेहतर बनाकर सशक्त प्रदेश का निर्माण करेंगे: कमलनाथ 

छिन्दवाडा। जिले के तामिया क्षेत्र को विशेष तरजीह दी जायेगी। इस अंचल से बहुत पुराना नाता रहा है। यहां के लोगों ने सदैव अपना विश्वास पिछले चार दशकों से बनाये रखा है जो हमेशा मुझे बल प्रदान करता है। मुख्यमंत्री कमलनाथ आज जिले के तामिया में आयोजित कार्यक्रम को मुख्यअतिथि के रूप में संबोधित कर रहे थे।  मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि वर्तमान आवश्यकता युवा पीढ़ी को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराना है। कौशल विकास केन्द्रों के द्वारा जिले के तामिया और हर्रई के युवाओं को रोजगार प्रदान किये जा रहे है। यहां के युवा भविष्य को बेहतर बनाकर सशक्त प्रदेश एवं राष्ट्र निर्माण में अपनी महती भूमिका निभायेंगे। उन्होंने कहा कि पर्यटन की अपार संभावनाओं को देखते हुये इस क्षेत्र में आर्थिेक गतिविधियों को बढ़ाया जा रहा है । इससे स्थानीय युवाओं को रोजगार मिलेंगे और उनकी आर्थिक स्थिति बेहतर हो सकेगी ।

उन्होंने तामिया विकासखंड के ग्राम अनहोनी में अनहोनी माता का मंदिर एवं जुन्नारदेव विकासखंड में नागदेव मंदिर, ताल खमरा का मंदिर और जुन्नारदेव विशाला मंदिर को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने के लिये चार करोड़ रूपये की राशि सांसद नकुलनाथ की मांग पर सहर्ष स्वीकृत की। उन्होंने कहा कि पातालकोट के लोगों का संबंध पूर्व में बाहरी दुनिया से नहीं था। आज की युवा पीढ़ी ने पुराना छिन्दवाड़ा नहीं देखा। विकास की इन 40 वर्षो की यात्रा में अलग-अलग पड़ाव आते रहे । इनमें उनकी पहली प्राथमिकता छिन्दवाड़ा जिले को बेहतर और विकसित बनाना रही है। कार्यक्रम को संबोधित करते हुये जिले के सांसद  नकुल नाथ ने कहा कि पर्यटन, रोजगार एवं वैश्विक संबंधों की आधारशिला है। इसके लिये तामिया में पर्यटन को बढ़ाने के लिये होटलों की श्रृंखला भी खोली जा रही है। कार्यक्रम में प्रदेश के लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी एवं जिले के प्रभारी मंत्री सुखदेव पांसे, प्रदेश के लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री तुलसी सिलावट, विधायकगण सुनील उइके, सुजीत चौधरी व निलेश उइके सहित अन्य जनप्रतिनिधि, कलेक्टर डॉ.श्रीनिवास शर्मा, पुलिस अधीक्षक  विवेक अग्रवाल, जिला प्रशासन के अन्य अधिकारी, पत्रकार एवं बड़ी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित थे।

 अरविंद वर्मा की रिपोर्ट

21-02-2020
दिल्ली से देहरादून के बीच चलेगी हाई स्पीड तेजस, रेल मंत्री ने दी सैद्धांतिक मंजूरी

नई दिल्ली। दिल्ली से देहरादून के बीच हाई स्पीड तेजस ट्रेन चलेगी। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शुक्रवार को नई दिल्ली में रेल मंत्री पीयूष गोयल को इसका प्रस्ताव दिया। रेल मंत्री ने प्रस्ताव पर सैद्धांतिक मंजूरी प्रदान कर दी है। रेल मंत्री ने हरिद्वार कुंभ के लिए प्रयागराज की तर्ज पर विशेष रेल व्यवस्था शुरू करने का आश्वासन भी दिया। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि उत्तराखंड की रेल परियोजनाओं के लिए बजट की कमी नहीं आने दी जाएगी। दिल्ली से देहरादून के बीच तेजस ट्रेन पाथवे उपलब्ध होते ही शुरू हो जाएगी। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल परियोजना पर काम तेजी से हो रहा है। ढाई वर्ष में श्रीनगर गढ़वाल तक रेल पहुंचा दी जाएगी। कुंभ मेले के लिए देहरादून और हरिद्वार स्टेशनों की सुरक्षा बढ़ाई जाएगी। इसके साथ दून रेलवे स्टेशन का आधुनिकीकरण इस वर्ष नवंबर तक हो जाएगा। बैठक में रेल मंत्रालय और उत्तराखंड के वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद रहे।

कर्णप्रयाग रेल परियोजना में तेजी
मुख्यमंत्री ने रेल मंत्री को बताया कि 126 किलोमीटर लंबी ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेलवे लाइन के लिए वन भूमि परिवर्तन को मंजूरी मिल गई है। 167 हेक्टेयर निजी भूमि का अधिग्रहण हो गया है। परियोजना के लिए जियो टेक्निकल इंवेस्टिगेशन भी पूरा कर लिया है। एक आरयूबी (रोड अंडर ब्रिज) एवं एक आरओबी (रोड ओवर ब्रिज) तैयार हो चुका है।

दून-हरिद्वार के बीच डबल रेल लाइन
मुख्यमंत्री ने हरिद्वार-देहरादून के मध्य डबल रेल लाइन का प्रस्ताव दिया। उन्होंने कहा कि ऋषिकेश में भारी माल लादने व उतारने और कंटेनरों से लदे रेल वैगनों के रुकने के लिए एक रेल कंटेनर डिपो स्थापित किया जाना चाहिए। देहरादून व ऋषिकेश स्टेशन के बीच सीधी रेल सेवा उपलब्ध कराने के लिए लक्सर की भांति रायवाला स्टेशन से पहले डाइवर्जन लाइन का निर्माण भी होना चाहिए।

तीन नई रेल लाइनों की रखी मांग
मुख्यमंत्री ने रेल मंत्री से लालकुंआ-खटीमा, टनकपुर-बागेश्वर और काशीपुर-धामपुर में नई रेल लाइनें स्वीकृत करने की मांग की। उन्होंने कहा कि तीनों रेल लाइनों का पर्वतीय क्षेत्र के विकास और सामरिक दृष्टि से काफी महत्व है। उन्होंने लालकुआं- शक्तिफार्म- सितारगंज- खटीमा रेल परियोजना निर्माण के लिए शत प्रतिशत फंडिंग की मांग केंद्र से की। 

 

21-02-2020
छत्तीसगढ़ में पान की खेती की संभावनाओं पर दो दिवसीय कृषक प्रशिक्षण हुआ  

रायपुर। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के पादप कार्यिकी विभाग छत्तीसगढ़ में पान की खेती की संभावनाएं द्वारा ‘‘छत्तीसगढ़ में पान की खेती की संभावनाएं’’ विषय पर दो दिवसीय कृषक प्रशिक्षण एवं प्रदर्शन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसमें छत्तीसगढ़, बिहार एवं झारखंड राज्य के 75 किसान शामिल हुए थे। प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के निदेशक विस्तार डॉ. एससी मुखर्जी द्वारा किया गया। उन्होंने झारखंड, बिहार एवं छत्तीसगढ़ से आये पान उत्पादक किसानों से चर्चा की एवं छत्तीसगढ़ में पान के उत्पादन की बढ़ती संभावनाओं पर विचार-विमर्श किया। यह प्रशिक्षण कार्यक्रम इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, रायपुर में राष्ट्रीय बागवानी मिशन के अंतर्गत संचालित पान परियोजना के तहत आयोजित किया गया।

प्रशिक्षण कार्यक्रम के प्रथम दिन परियोजना अन्वेषक डॉ. एलिस तिर्की एवं उनके सहयोगी डॉ. अंबिका टंडन एवं टी. तिर्की ने पान की खेती की विस्तृत जानकारी सभी पहलुओं में दी गई। बरेजा की नेट हाऊस में पान की खेती करने की सलाह दी गई साथ ही अतिरिक्त आय लेने के लिए ओस्टर मशरूम तथा पान की छोटे एवं सड़े, धब्बे, पत्तों से तेल निकालने में उपयोग किया जा सकता हैं इसका प्रदर्शन किया गया। पान में जैविक प्रबंधन की जानकारी भी दी गयी। अंतिम दिन प्रक्षेत्र भ्रमण कराया गया तथा कंटिग के माध्यम से पौध तैयार करने की तकनीक सिखाई गई। कृषि महाविद्यालय में उगाई जा रही पान की 15 प्रजातियों के औषधीय गुण, पोषक तत्व तथा उपज की जानकारी दी गई। किसानों को पान की नई प्रजातियों जैसे कारापाकु, बाईचीगुड़ी, मघई आदि को लगाने की सलाह दी गई। प्रक्षेत्र भ्रमण के दौरान अधिष्ठाता डॉ. एसएस राव ने कृषकों का हौसला बढ़या। प्रशिक्षण के समापन में डॉ. आरती गुहे, डॉ. एसएस टुटेजा, डॉ. एके गेड़ा, डॉ. एलिस तिर्की, डॉ. अंबिका टंडन एवं डॉ. टी. तिर्की उपस्थित थीं।

 

21-02-2020
छत्तीसगढ़ अद्भुत है, यहां तीजनबाई-हबीब तनवीर जैसे कलाकार हुए  : हिमानी शिवपुरी

रायपुर। 200 से ज्यादा फिल्मों में काम कर चुकी, फिल्म और टेलीविजन ही नहीं मूलत: रंगमंच से जुड़ी अदाकारा हिमानी शिवपुरी, कुमार प्रशांत वरिष्ठ पत्रकार एवं गांधी विचारक, ध्रुव शुक्ल वरिष्ठ कवि एवं पत्रकार शुक्रवार दोपहर रायपुर प्रेस क्लब, मोतीबाग में पत्रकारों से रूबरू हुए। हिमानी शिवपुरी ने कहा कि जहां तीजनबाई जैसी कलाकार है, वह भूमि वाकई में अद्भुत है। हबीब तनवीर को उन्होंने अपने गुरू जैसा बताया। उन्होंने कहा कि नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा में ट्रेनिंग के बाद सीधा रंगमंच से जुड़ाव हुआ। मुंबई में फिल्म करने के दौरान हबीब साहब के साथ एक नाटक में काम करने का मौका मिला। उनके साथ काम करने का अनुभव अच्छा रहा।

ध्रुव शुक्ल ने कहा कि छत्तीसगढ़ की लोक संस्कृति से उनका परिचय बहुत पुराना है। अविभाजित मध्यप्रदेश के समय से जुड़ाव रहा है। छत्तीसगढ़ी करुणा का प्रदेश है। यहां के संगीत में, यहां के गायक और उनके संगीत में करूणा है। हबीब तनवीर का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि उन्होंने ऐसा नाटक लिखा जिसकी स्क्रिप्ट नहीं होती थी। वह इमर्ज रहा करता था। लोकतंत्र का ऐसा स्वभाव है कि उसे इमर्ज होना चाहिए, कोई पहले से उसकी स्क्रिप्ट ना लिखें।
कुमार प्रशांत ने कहा कि आप सही तरीके से अपनी कलम चलाना जानते हैं, अपने आसपास की घटनाओं को पैनी नजर से देखते हैं, तो भाषा पर पकड़ और तथ्यों की जानकारी होती है। पत्रकारों की दुनिया बहुत बड़ी होती है। आजकल स्पेशलाइजेशन का जमाना हो गया है जो पत्रकारिता के लिए बहुत खतरनाक है। उन्होंने सीएए और एनआरसी के मुद्दों पर कहा कि भारत की धरती में जन्मा हर व्यक्ति भारत का नागरिक है। जो व्यक्ति भारत की धरती पर नहीं जन्मा है, वो भारत में रहने का आवेदन कर सकता है। संविधान भी यह भी कहता कि जो लोग भारत की धरती पर नहीं जन्मे हैं और भारत में रहने के आकांक्षी हैं तो वे भारत की नागरिकता के लिए आवेदन कर सकते हैं।  उस तारीख की सरकार संविधान में लिखी गई शर्तों के आधार पर नागरिकता के अधिकार पर विचार करेगी और उसको स्वीकार करेगी या अस्वीकार करेगी। अस्वीकार करने का कोई भी आधार संविधान मैं लिखित पांच आधार के बाहर नहीं होना चाहिए, जिसका संविधान जिक्र करता है। जाति के नाम पर धर्म के नाम पर देश के नाम पर उस आवेदन को अस्वीकार नहीं किया जा सकता, अगर किया जाएगा तो न्यायालय में चुनौती दी जा सकती है।



 

21-02-2020
माघी पुन्नी मेले का हुआ समापन, चरणदास महंत ने कहा - राजिम के रग-रग में एक नया भाव पैदा होता है  

रायपुर। छत्तीसगढ़ का प्रयाग राज कहे जाने वाले पवित्र त्रिवेणी संगम के तट पर 09 फरवरी से 21 फरवरी तक 15 दिनों तक चलने वाले राजिम माघी पुन्नी मेला-2020 का भव्य समापन शुक्रवार को महाशिवरात्रि को शाम 7 बजे विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत के मुख्य आतिथ्य में सम्पन्न हुआ। कार्यक्रम की अध्यक्षता धर्मस्व तथा लोक निर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू ने की। राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद थे। समारोह में महामंडलेश्वर ईश्वरदास महाराज-ऋषिकेश, योगीराज स्वामी ज्ञानस्वरूपानंद (अक्रिय) महाराज-जोधपुर, महंत रामसुन्दरदास महाराज, महंत साध्वी प्रज्ञा भारती, महंत जालेश्वर महाराज-अयोध्या, महंत गोवर्धन शरण महाराज, संत विचार साहेब, नवापारा एवं अन्य विशिष्ट साधु-संतों की मौजूदगी रही। इस अवसर पर राजिम विधायक अमितेश शुक्ल, अभनपुर विधायक धनेन्द्र साहू, सिहावा विधायक डॉ. श्रीमती लक्ष्मी ध्रुव के विशेष आतिथ्य में एवं पूर्व विधायक गुरुमुख सिंह होरा, नगर पालिका परिषद् गोबरा नवापारा के अध्यक्ष धनराज मध्यानी और नगर पंचायत राजिम की अध्यक्ष रेखा राजू सोनकर एवं कमिश्नर  जी.आर. चुरेन्द्र, कलेक्टर श्याम धावड़े, पुलिस अधिक्षक एम. आर. अहिरे सहित स्थानीय जनप्रतिनिधि और बड़ी संख्या में श्रद्धालुगण की उपस्थिति रही।

सभी अतिथियों ने भगवान श्री राजीव लोचन की प्रतिमा में दीप प्रज्वलित कर पूजा अर्चना की। इसके पूर्व महानदी की आरती में शामिल होकर प्रदेश की खुशहाली और समृद्धि की कामना की। इस अवसर पर मुख्य अतिथि छत्तीसगढ़ विधानसभा के अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत ने कहा कि राजिम कहने से ही रग रग में एक नया भाव उतपन्न हो जाता है। जिस तरह बसन्त ऋतु के आने से प्रकृति में एक नया संचार होता है उसी तरह साधु संतों के आगमन से मन में अनुपम भाव पैदा होता है। इनके आगमन से आत्मिक आनंद मिल जाता है। उन्होंने कहा कि राजिम ने अनेक विभूति को जन्म दिया है। राज्य में एक नया विश्वास और अपनापन पैदा हो रहा है। आज राज्य में जो गढ़ा जा रहा है उसमें सबका सहयोग और भागीदारी है। राजिम की महिमा का उन्होंने बखान किया। मिट्टी के बर्तन के उपयोग पर उन्होंने कहा कि मिट्टी को कैसे भूल जाएं। प्रसाशन ने जिस तरह मिट्टी के बर्तन का उपयोग किया वह सराहनीय है। उन्होंने अमेरिका के अनुभव को भी साझा किया। बताया कि अमेरिका में बसे छत्तीसगढ़ के लोगों के मन मे आज भी यहां की मिट्टी की महक है। डॉ. महंत ने कहा कि देश के साधु संतों को वृहद स्तर पर राजिम में आमंत्रित किया जाए ताकि पुन्नी मेला की गरिमा और भव्यता और बढे।

 

21-02-2020
राजधानी में किसानों का लगेगा महाकुंभ, 23 फरवरी से तीन दिवसीय राष्ट्रीय कृषि मेला 

रायपुर। राष्ट्रीय कृषि मेला का आयोजन राजधानी रायपुर के तुलसी बाराडेरा स्थित फल सब्जी उपमंडी प्रांगण में 23 से 25 फरवरी 2020 तक किया जाएगा। इस तीन दिवसीय मेले में किसानों को बहुत सी नई आधुनिक तकनीक की जानकारी मिलेगी। इस आयोजन में देश भर के हजारों किसानों के भाग लेने के मद्देनजर सभी आवश्यक तैयारियां की जा रही है। बत्तीस  एकड़ में फैले मेला स्थल पर कृषि उद्यानिकी, पशुपालन, मछलीपालन, ग्रामोद्योग विभाग से संबंधित प्रदर्शनी भी लगाई जाएगी। मेले में किसानों को कृषि और उनसे जुड़े विभिन्न गतिविधियों के उन्नत तकनीकों की जानकारी मिलेगी। इस मेले में कृषि उपज से संबंधित विभिन्न सामग्रियों की प्रदर्शनी सह बिक्री के स्टाल लगाए जाएंगे।

नरवा, गरूवा, घुरवा, बाड़ी का होगा जीवंत प्रदर्शन     

 छत्तीसगढ़ शासन की महत्वाकांक्षी योजना नरवा, गरूवा, घुरवा, बाड़ी पर आधारित जीवंत झांकी का प्रदर्शन मेले में किया जाएगा। इसमें योजना के लागू होने से पशुधन के संरक्षण, संवर्धन तथा ग्रामीण अर्थव्यवस्था में हो रही वृद्धि के बारे में विस्तार से अवगत कराया जाएगा। साथ ही पशुधन से प्राप्त होने वाले गोबर तथा गो-मूत्र इत्यादि से तैयार की जाने वाली उत्पादों का प्रदर्शन किया जाएगा। इसके अलावा कृषि उपज से संबंधित विभिन्न सामग्रियों, सुगंधित किस्मों के चावल, कोदो, कुटकी, दूग्ध महासंघ के विभिन्न उत्पाद, वनांचलों से चार, चिरौंजी, ईमली, शहद सहित वन विभाग द्वारा उप्तादित विभिन्न वनौषधि, महिला समूहों के द्वारा बनाई जा रही विभिन्न परम्परागत सामग्री प्रदर्शित की जाएगी।

एरेटर और एक्वेरियम हाउस

इस मेले में मछलीपालन विभाग द्वारा तालाब में मछलीपालन की नवीन तकनीक का प्रदर्शन किया जाएगा। प्रदर्शनी स्थल पर मछली उत्पादन के लिए ऑक्सीजन प्रदान करने वाले यंत्र एरेटर और एक्वेरियम हाउस का भी प्रदर्शन किया जाएगा। मछलीपालन विभाग के स्टॉल में मत्स्य कृषकों को ऋण अनुदान पर ऑटो, मोटरसायकिल तथा एरेटर भी वितरित किया जाएगा। एक्वेरियम हाउस में रंगीन मछलियां प्रदर्शित की जाएंगी।

डिजाईनर कोसा

रायगढ़ एवं चांपा के कोसा वस्त्र, कोसा साड़ी, कोसा धोती, कोसा शॉल, कोसा गमछा, कोसा स्टोल, कोसा दुपट्टा, कोसा रेडिमेड शर्ट, कोसा कुर्ता, कोसा ब्लाउज इत्यादि के साथ-साथ कॉटन के रेडिमेड शर्ट, कुर्ता, बैग इत्यादि का प्रदर्शन तथा विक्रय हाथकरघा संघ द्वारा किया जाएगा।

ग्राफ्टेड पौधे

राष्ट्रीय कृषि मेला में प्रदर्शित सब्जियों के ग्राफ्टेड पौधे आकर्षण के केन्द्र होंगे। मेले में किसान ग्राफ्टेड पौधों से खेती एवं पौध तैयार करने की तकनीक भी सीख सकेंगे। बैगन, टमाटर, आलू, मिर्च एवं अन्य ग्राफ्टेड सब्जियों में विशेष गुण होने के कारण इसे बढ़ावा दिया जा रहा है। मेले में पौधों की बडिंग-ग्राफ्टिंग की जीवंत प्रदर्शनी भी लगायी जाएगी। ग्राफ्टेड सब्जियों के पौधे उद्यानिकी विभाग के स्टॅाल से प्राप्त किये जा सकते हैं।

जैम, जेली एवं अचार

उद्यानिकी विभाग के अंतर्गत रायपुर में फल परिरक्षण एवं प्रशिक्षण केन्द्र द्वारा निर्मित टमाटर सॉस, टमाटर प्यूरी, मिक्स फ्रूट जैम, ऑंवला-मुरब्बा, आंवला कैण्डी, आम अचार (खट्टा-मीठा), नीबू आचार, हरी मिर्च अचार, लाल मिर्च का अचार, आंवला अचार, लहसून अचार, गाजर अचार, अदरक$हरी मिर्च$लहसून आचार, इमली चटनी, जिंजर नेक्टर के उत्पाद मेला में उपलब्ध करायी जाएगी, ये उत्पाद विक्रय हेतु भी उपलब्ध रहेंगे।

शुगरकेन हार्वेस्टर

राष्ट्रीय कृषि मेला में नवीन कृषि यंत्र शुगरकेन हार्वेस्टर का प्रदर्शन किया जाएगा। शुगरकेन हार्वेस्टर की कीमत करीब 1 करोड़ रूपये है। इस मशीन को कस्टम हायरिंग हब में शामिल कर इकाई लागत का 40 प्रतिशत अनुदान का लाभ ले सकते हैं। किसान मेले में कृषि यंत्रों के स्टॉल में आवेदन दे सकते है। मेला स्थल पर इसकी बुकिंग कर सकते है। ये अनुदान बैंक के माध्यम से किसान को प्राप्त होगा। मेले में किसानों को कृषि उपकरणों के प्रदर्शन देखने के साथ-साथ क्रय करने और अनुदान लेने की सुविधा भी मिलेगी।

दुग्ध प्रसंस्करण तकनीक

राष्ट्रीय किसान मेला में कृषि विज्ञान केन्द्र कोरिया के मार्गदर्शन में गठित कोरिया एग्रो प्रोड्यूसिंग कंपनी लिमिटेड के स्टॉल में दुग्ध प्रसंस्करण तकनीक का प्रदर्शन किया जाएगा। दूध से घी, खोवा एवं पनीर आदि उत्पाद तैयार किए जा रहे हैं। मेले में पशुधन उत्पादों का विक्रय भी किया जाएगा। कृषि मेले में पशुधन विकास से संबंधित विभिन्न उत्पादों को न्यूनतम मूल्यों पर बेचा जाएगा। इन उत्पादों में ए-2 दूध (बीटा केसिन प्रोलीन), देशी घी, बकरे (बीटल, सिरोही, बरबरी नस्ल), कड़कनाथ मुर्गा, बत्तख (खाकी, केम्पबेल, व्हाइट पैकिन), जापानी बटेर, खरगोश (चिनचिला कोट), देशी मुर्गी (बैकयार्ड), देशी मुर्गी अण्डा, बत्तख अंडा, गोमूत्र अर्क, गोनाइल, गोबर की मूर्ति सहित अनेक उत्पाद बिक्री के लिए उपलब्ध रहेंगे।

अण्डे सेने के लिए इनक्यूबेटर

कृषि विज्ञान केंद्र कोरबा के स्टॉल में वहां के स्थानीय कृषक श्री मनमोहन यादव द्वारा निर्मित कम लागत के इनक्यूबेटर को प्रदर्शित किया जाएगा। उन्होंने महज डेढ़ हजार रूपये की लागत से अंडे सेने के लिए किफायती इनक्यूबेटर बनाया है। इनक्यूबेटर कम लागत का होने के साथ ही आकार में छोटा होने के कारण इसे एक स्थान से दूसरे स्थान पर आसानी से लाया-ले जाया जा सकता है। इनक्यूबेटर में एक बार में 35 अंडे को सेने का कार्य किया जा सकता है। इनक्यूबेटर से 21 दिनों के भीतर अंडे से चूजे प्राप्त किया जा सकते हैं।

21-02-2020
इस बार नहीं चला आयुष्मान का जादू, जाने कैसा रहा ‘शुभ मंगल ज्यादा सावधान’ का पहला दिन

मुंबई। पिछले कुछ सालों से अभिनेता आयुष्मान खुराना अपना ‘#आयुष्मानमैजिक’ बॉक्स ऑफिस पर दिखाते आ रहे हैं। लेकिन, उनका यह सिलसिला फिल्म ‘शुभ मंगल ज्यादा सावधान’ के साथ थमता नजर आ रहा है। पिछली ज्यादातर सफल फिल्मों में आयुष्मान के किरदारों का अपना एक अलग व्यक्तित्व रहा है। लेकिन, फिल्म ‘शुभ मंगल ज्यादा सावधान’ में आप कार्तिक में थोड़ा ‘बाला’ का बालमुकुंद शुक्ला देखेंगे। थोड़ा ‘ड्रीम गर्ल’ का करम सिंह और थोड़ा ‘बधाई हो’ का नकुल कौशिक देखेंगे। आयुष्मान की इस फिल्म ‘शुभ मंगल ज्यादा सावधान’ में आपको ‘स्पार्क’ की कमी दिखेगी। हां, इतना जरूर कहा जा सकता है कि इस फिल्म को देखरकर आपको ‘एक लड़की को देखा तो ऐसा लगा’ की याद आ जाएगी।

‘शुभ मंगल ज्यादा सावधान’ कहानी है कार्तिक (आयुष्मान खुराना) और अमन (जितेंद्र कुमार) की। दोनों प्यार में हैं और दिल्ली में साथ रहते हैं। मुश्किलें तब शुरू होती हैं जब कार्तिक के चाचा (मनुऋषि चड्ढा) की बेटी गॉगल (मानवी गागरू) की शादी में शिरकत करने ये दोनों इलाहाबाद जाते हैं और वहां इनके समलैंगिक संबंध का राज सबके सामने आ जाता है। अमन के पिता शंकर त्रिपाठी (गजराज राव) और मां सुनयना त्रिपाठी (नीना गुप्ता) सहित पूरे परिवार को यह बात जानकर झटका लगता है। अब अमन और कार्तिक के सामने चुनौती है कि वे सबको अपने रिश्ते को स्वीकारने के लिए मनाएं। हितेश केवल्य ने इस फिल्म की कहानी लिखी है और इसका निर्देशन भी किया है और ये दोनों ही इसकी सबसे कमजोर कड़ियां हैं। सधे हुए तरीके से शुरू होने के बाद फिल्म निर्देशक के हाथ से फिसलती है और फिल्म खत्म होने तक आप इंतजार ही करते रह जाते हैं कि अब यह सही ट्रैक पकड़ेगी, पर ऐसा हो नहीं पाता।

एक्टिंग के लिहाज से सबसे उल्लेखनीय काम किया है अमन के चाचा बने मनुऋषि चड्ढा और चाची बनी सुनीता राजवर ने। ये दोनों ही अपने-अपने किरदारों में सबसे ज्यादा सहज लगे हैं। कई दृश्यों में तो ये नीना-गजराज की जोड़ी पर भी भारी पड़ते नजर आए। नीना-गजराज ने वैसे तो अच्छा काम किया है, पर काफी हद तक वे अपने ‘बधाई हो’ वाले तेवर को ही दोहराते नजर आए। जितेंद्र कुमार अपनी सादगी और मासूमियत के चलते अमन के किरदार में एकदम सटीक बैठे हैं, पर उनकी संवाद अदायगी और अदाकारी में कई जगह आत्मविश्वास की कमी नजर आई। 

फिल्म के संवाद कहीं-कहीं तो कमाल के हैं, पर कहीं-कहीं बेहद औसत हैं। ‘रोज हमें लड़ाई लड़नी पड़ती है जिंदगी में, पर जो लड़ाई अपने परिवार या अपनी फैमिली के साथ लड़नी पड़ती है, वह सबसे ज्यादा खतरनाक होती है...’ आयुष्मान का यह संवाद इसकी एक बानगी है। इस सिरीज की पिछली फिल्म ‘शुभ मंगल सावधान’ में ‘इरेक्टाइल डिस्फंक्शन’ जैसी बीमारियों से जुड़ी भ्रांतियों की परतों को बेहद प्रभावशाली अंदाज में दिखाया गया था। इसमें कॉमेडी और असल मुद्दे के बीच एक अच्छा संतुलन था। ‘शुभ मंगल ज्यादा सावधान’ में समलैंगिक संबंधों का असल मुद्दा काफी हद तक दब कर रह गया है। छोटे शहरों के समलैंगिकों को किस तरह की समस्याएं झेलनी पड़ती है, यह समझाने में, उनका दर्द दर्शकों को महसूस करवाने में यह फिल्म नाकाम रहती है। यह मुद्दे को ढेर सारी कॉमेडी के आवरण में पेश करने की कोशिश करती है, पर मुश्किल तब होती है, जब कॉमेडी भी कमजोर निकल जाती है और हंसा नहीं पाती। आयुष्मान और जितेंद्र की जोड़ी अच्छी जमी है। कहानी का साथ मिलता तो यह फिल्म एक अलग ही स्तर पर जा सकती थी। प्रभावी सितारों और एक अच्छे संदेश के साथ बनी इस फिल्म का लड़खड़ाना, बिखरना आपको अखरता है, कचोटता है।



 

21-02-2020
बेस्ट फिल्म चुनी गई  'सुपर 30', ऋतिक रोशन को मिला बेस्ट एक्टर का अवॉर्ड

मुंबई। गुरुवार को मुंबई में दादासाहेब फाल्के इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल अवॉर्ड्स 2020 घोषित किए गए। इस दौरान ऋतिक रोशन को उनकी फिल्म 'सुपर 30' के लिए बेस्ट एक्टर का अवॉर्ड दिया गया। वहीं, विकास बहल के निर्देशन में बनी 'सुपर 30' बेस्ट फिल्म चुनी गई।  गौरतलब है कि यह फिल्म जुलाई 2019 में रिलीज हुई थी। फिल्म में ऋतिक ने बिहार के गणितज्ञ और सुपर 30 के फाउंडर आनंद कुमार की भूमिका निभाई थी। सेरेमनी में किच्चा सुदीप को मोस्ट प्रोमिसिंग एक्टर के खिताब से नवाजा गया तो वहीं, बेस्ट टीवी एक्ट्रेस दिव्यांका त्रिपाठी और बेस्ट टीवी एक्टर हर्षद चोपड़ा चुने गए। 

सेरेमनी में ऋतिक रोशन, दिव्यांका त्रिपाठी, रश्मि देसाई, दीया मिर्जा और मलाइका अरोड़ा समेत कई सेलेब्स शामिल हुए थे। ऋतिक को न केवल उनके प्रदर्शन के लिए सराहा गया है बल्कि वास्तविक जीवन के शिक्षक आनंद कुमार ने खुद अभिनेता की सराहना की है। आनंद कुमार ने ऋतिक की तारीफ में कहा कि उन्हें विश्वास नहीं हो रहा था कि वह स्क्रीन पर खुद को देख रहे हैं या ऋतिक को देख रहे हैं। अभिनेता ने सुपर 30 में अपने किरदार के साथ स्क्रीन पर एक बहुत ही मजबूत कहानी पेश की है। फिल्म के डायलॉग "एक राजा का बेटा राजा नहीं बनेगा, राजा वो ही बनेगा जो हकदार होगा" जैसे डायलॉग ने खूब सुर्खियां बटोरी। फिल्म की शूटिंग के दौरान उनका ट्रांसफॉर्मेशन इंटरनेट पर चर्चा में था। ऋतिक के करियर की तरफ रुख करें तो दो बैक टू बैक रिलीज के साथ वर्ष 2019 उनके लिए खास रहा। ऋतिक रोशन की पिछली फिल्म वॉर उनकी अब तक की सबसे अधिक कमाई करने वाली फिल्म है।




 

21-02-2020
अमित शाह ने केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, हरसिमरत कौर और जयशंकर से की मुलाक़ात

नई दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शुक्रवार को विदेश मंत्री एस जयशंकर, कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी और खाद्य प्रसंस्करण मंत्री हरसिमरत कौर बादल से मुलाकात की। हालांकि बैठक में हुई बातचीत का फिलहाल ब्योरा नहीं मिला। एक अधिकारी के मुताबिक गृह मंत्री ने अपने नॉर्थ ब्लॉक स्थित कार्यालय में तीनों मंत्रिमंडलीय सहयोगियों से मुलाकात की।

अमित शाह ने मालदीव के गृह मंत्री से मुलाकात की
वहीं, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शुक्रवार को मालदीव के गृह मंत्री शेख इमरान अब्दुल्ला से विस्तृत बातचीत की जिसमें उन्होंने दोनों देशों के बीच संबंधों को और मजबूत करने के तरीकों पर चर्चा की। अब्दुल्ला गुरूवार से चार दिन की भारत यात्रा पर हैं। शाह ने बैठक के बाद ट्वीट किया, मालदीव गणराज्य के गृह मंत्री शेख इमरान अब्दुल्ला से मुलाकात की। भारत और मालदीव के बीच संबंधों को और गहरा करने तथा मजबूत करने के तरीकों पर विस्तार से विचार-विमर्श किया। समझा जाता है कि दोनों मंत्रियों ने द्विपक्षीय सुरक्षा सहयोग से जुड़े मुद्दों पर चर्चा की। भारत और मालदीव पुरातन काल से जातीय, भाषाई, सांस्कृतिक, धार्मिक और वाणिज्यिक संबंध साझा करते हैं। केवल फरवरी 2012 से नवंबर 2018 के बीच की अवधि को छोड़कर दोनों देशों के बीच संबंध करीबी, सौहार्दपूर्ण तथा बहुआयामी रहे हैं।

 

21-02-2020
निजी क्षेत्र के सहयोग से पर्यटन विकास की नई इबारत लिखी जाएगी: कमलनाथ

छिन्दवाडा। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शुक्रवार को जिले के प्रख्यात पर्यटन स्थल पातालकोट के नजदीक तामिया में सेरेन्डिटीपिटी लेक्स एंड रिसोर्ट का शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि निजी क्षेत्र के सहयोग से पर्यटन विकास की नई इबारत लिखी जा सकती है। राज्य सरकार ऐसे निवेश को प्रोत्साहित करेगी। उन्होंने कहा कि अब इस क्षेत्र की विशेषताएं अन्य इलाकों के लोग भी जान सकेंगे। मध्यप्रदेश के लोग पहले मध्यप्रदेश को जाने तब तो देश भी मध्यप्रदेश को जान पाएगा। मध्यप्रदेश में आर्थिक गतिविधियों के विकास के लिए इस तरह के प्रयास बहुत आवश्यक हैं। तामिया में इस रिसोर्ट के शुरू होने से निश्चित ही इस अंचल के लोगों की संस्कृति भी सामने आएगी और स्थानीय उत्पाद भी नजर आएंगे। क्षेत्र की तस्वीर बदलेगी। .

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि तामिया क्षेत्र में शीघ्र ही मंत्री परिषद की बैठक के लिए विचार कर यहां बैठक आयोजित किया जाएगा। इस अवसर पर सांसद नकुलनाथ, प्रदेश के लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी एवं जिले के प्रभारी मंत्री सुखदेव पांसे, प्रदेश के लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री तुलसी सिलावट, विधायक सुनील उइके,सुजीत चौधरी सहित अन्य जनप्रतिनिधि, कलेक्टर डॉ.श्रीनिवास शर्मा, पुलिस अधीक्षक विवेक अग्रवाल, जिला प्रशासन के अन्य अधिकारी, म.प्र.पर्यटन विकास निगम के अधिकारी, पत्रकार एवं बड़ी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित थे।

अरविन्द वर्मा की रिपोर्ट 

21-02-2020
देवांगन समाज ने निकाली माँ परमेश्वरी की शोभायात्रा, पालिका अध्यक्ष ने की पूजा

महासमुंद। देवांगन समाज द्वारा शुक्रवार को नगर में माँ परमेश्वरी की शोभायात्रा निकाली गई। इस अवसर पर नगर पालिका अध्यक्ष प्रकाश चंद्राकर ने एकता चौक पहुंचकर माँ परमेश्वरी महापुराण की पूजा अर्चना की। इस दौरान पालिका अध्यक्ष चंद्राकर ने पांच दिवसीय माँ परमेश्वरी देवी महापुराण के आयोजन के लिए देवांगन समाज के पदाधिकारियों को बधाई दी। इस मौके पर पालिका अध्यक्ष चंद्राकर ने कहा महासमुंद देवी, देवताओं का गढ़ माना जाता है। यहां के लोगों में अपार भक्ति भावना है। उन्होंने कहा इसलिए महासमुंद में देवी, देवताओं की पूजा बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। बता दें कि 17 फरवरी से देवांगन समाज द्वारा इमलीभाठा में माँ परमेश्वरी महापुराण का आयोजन किया गया, जिसकी शोभायात्रा शुक्रवार को परमेश्वरी भवन से निकाली गई। महामाया तालाब में मूर्ति विसर्जन किया जाएगा। वहीं पालिका अध्यक्ष चंद्राकर ने महाशिवरात्री के पावन वेला पर नगर के विभिन्न देवालयों में जा कर शिवलिंग पर गंगाजल एवं पंचामृत से अभिषेक किया। उन्होंने नगरवासियों के लिए सुख, समृद्धि एवं स्वास्थ्य रहने की कामनाएं की। इस अवसर पर सभापति संदीप घोष, प्रहलाद यादव, द्वारिका साहू, सुखचंद देवांगन, गौतम बुंदेल, नरेश नायक, शुभम सेन, अमन मक्कड़ आदि उपस्थित थे। 

 

21-02-2020
मुख्यमंत्री कमलनाथ के साथ छात्राओं ने ली सेल्फी

छिन्दवाड़ा। मुख्यमंत्री कमलनाथ गत दिवस छिंदवाड़ा के राजमाता सिंधिया स्नातकोत्तर कन्या महाविद्यालय के वार्षिक स्नेह सम्मेलन में शामिल हुए।  इस दौरान महाविद्यालय की छात्राओं ने मुख्यमंत्री कमलनाथ नाथ के साथ सेल्फी ली। मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा सहज रूप से सेल्फी खिंचवाने पर छात्राओं में प्रसन्नता दिखाई दी ।

अरविन्द वर्मा की रिपोर्ट 

Please Wait... News Loading
GLIBS Ads